"गौ सेवा का फल"

"गौ सेवा का फल"

#ज्ञानवर्षा
"गौ सेवा का फल"
अयोध्या के राजा दिलीप बड़े त्यागी, धर्मात्मा, प्रजा का ध्यान रखने वाले थे। उनके राज्य में प्रजा संतुष्ट और सुखी थी। राजा की कोई संतान नहीं थी। अतः एक दिन वे रानी सुदक्षिणा सहित गुरु वसिष्ठ के आश्रम में पहुंचे और उनसे निवेदन किया कि भगवन् ! आप कोई उपाय बतायें, जिससे मुझे कोई संतान हो।
गुरु वसिष्ठ ने ध्यानस्थ होकर कुछ देखा और फिर वे बोले - राजन, यदि आप मेरे आश्रम में स्थित कामधेनु की पुत्री नन्दिनी गौ की सेवा करें, तो उसकी सेवा से आपको संतान अवश्य प्राप्त होगी।
राजा ने अपने सेवकों को अयोध्या वापस भेज दिया और स्वयं रानी सुदक्षिणा सहित महर्षि के तपोवन में गौ सेवा करने लगे। प्रतिदिन वे और सुदक्षिणा गाय की पूजा करते थे। राजा गाय को चरने के लिए स्वछन्द छोड़ देते थे। वह जिधर जाना चाहती, उधर उसके पीछे-पीछे छाया की तरह रहते, उसके जल पीने के पश्चात ही राजा जल पीते थे। उसे स्वादिष्ट घास खिलाते, नहलाते-धुलाते और उसकी समर्पित भाव से सेवा करते थे। संध्या के समय आश्रम में रानी सुदक्षिणा द्वार पर खड़ी उनकी प्रतिक्षा करती रहती थी। आते ही गौ को तिलक करती, गौदोहन के पश्चात राजा-रानी गाय की सेवा करते, स्थान की सफाई करते, उसके सो जाने पर सोते और प्रातः उसके जागने से पूर्व उठ जाते थे।
राजा और रानी 21 दिन निरन्तर छाया की भांति गौ सेवा कर चुके थे। 22 दिन जब राजा गौ चरा रहे थे, तब कहीं से आकर अचानक एक शेर गाय पर टूट पड़ा। तुरंत राजा ने धनुष-बाण चढ़ाकर सिंह को खदेड़ने का प्रयास किया पर उनके हाथ की अंगुलियां बाण पर चिपक गईं। उनके आश्चर्य की कोई सीमा न रही, जब सिंह मनुष्य की वाणी में राजा को चकित करते हुए बोला - "राजन, तुम्हारा बाण मुझ पर नहीं चल सकता है। मैं भगवान शंकर का सेवक कुम्भोदर हूं। इन वृक्षों की सेवा के लिए भगवान शिव ने मुझे यहां नियुक्त किया है और कहा है कि जो भी जीव आएगा, वहीं तुम्हारा आहार होगा। आज मुझे यह गाय आहार मिली है, अतः तुम लौट जाओ।"
राजा ने कहा- "सिंहराज, जैसे शंकर जी के प्रिय इस वृक्ष की रक्षा करना आपका कर्तव्य है, उसी प्रकार गुरुदेव की गौ की रक्षा करना हमारा कर्तव्य है। आपको आहार चाहिए, उसके लिए मैं गौ के स्थान पर अपना शरीर समर्पित करता हूं। आप मुझे खाकर अपनी भूख शांत करें। गौ को छोड़ दें। इसका छोटा बछड़ा इसकी प्रतीक्षा कर रहा होगा।’
सिंह ने राजा को बहुत समझाया, पर राजा ने एक न सुनी। वे अस्त्र-शस्त्र त्याग कर सिंह के समक्ष आंखे बंद करके बैठ गए। राजा मृत्यु की प्रतिक्षा कर रहे थे, पर उन्हें नन्दिनी की अमृतवाणी सुनाई दी- "वत्स, उठो, तुम्हारी परीक्षा समाप्त हो चुकी है। मैं तुम पर प्रसन्न हूं, वरदान मांगो।"
राजा ने आंखे खोली तो सामने गौ माता को खड़ी देखा, सिंह का कोई अता-पता नहीं था। राजा ने वंश चलाने के लिए पुत्र की याचना की। गौमाता ने कहा-‘मेरा दूध दुहते ही तुम दूध पी लेना। तुम्हें पुत्ररत्न की प्राप्ति होगी।’
राजा ने कहा- ‘माता, आपके दूध का प्रथम अधिकार आपके बछड़े को है। उसके पश्चात गुरुदेव को, बिना गुरुदेव की आज्ञा के मैं दूध-पान नहीं कर सकता। आप क्षमा करें।’
राजा की बात सुन कर गौमाता प्रसन्न हुईं।
सायंकाल आश्रम में लौटकर राजा ने गुरुदेव को सारी घटना बतायी। गुरुदेव ने गौदोहन के पश्चात अपने हाथों से राजा और रानी को आशीर्वाद के साथ दूध पीने को दिया।
गौसेवा एवं दूधपान के पश्चात राजा और रानी राजमहल लौट आए। रानी गर्भवती हुई। उनके पुत्र रघु का जन्म हुआ। राजा के पुत्र रघु के नाम पर ही आगे चल कर सूर्यवंश को ‘रघुवंश’ कहा जाने लगा।
॥ जय श्री राम ॥

+443 प्रतिक्रिया 23 कॉमेंट्स • 310 शेयर

कामेंट्स

Sanjay Gupta Aug 21, 2017
अती सुंदर जय श्री राम

Shankar Singh Aug 22, 2017
अति सुंदर एवं ज्ञानवर्धक रघुवंश की कथा जय श्री राम

9911020152, 7982311549 👇🌼👇🌼👇🌼👇🌼👇🌼👇 सोते समय ध्यान रखें ये बातें, वरना हो सकते हैं कई नुकसान हमारे सोने का तरीका और हमारा बेड भी कई तरह की अच्छी और बुरी बातों का कारण बन सकता है। वास्तु में बेड पर सोने के लिए भी कुछ नियम बताए गए हैं, जिनका पालन न करने पर हमें कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। उन सभी परेशानियों और बीमारियों के बचने के लिए ध्यान रखें ये 8 नियम। 1- बेड के बीचों-बीच कोई लैम्प, पंखा या इलैक्ट्रानिक उपकरण आदि नहीं होना चाहिए। ऐसे बेड पर सोने वाले का पाचन अधिकतर खराब रहता है। 2- घड़ी को कभी भी सिर के नीचे या बेड के पीछे रखकर नहीं सोना चाहिए। घड़ी को बेड के सामने भी नहीं लगाना चाहिए वरना उस बेड पर सोने वाला हमेशा चिन्ता या तनाव में रहता है। घड़ी को बेड के बाएं या दाएं ओर ही लगाना चाहिए। 3- जिस बेड पर आप सोते हैं, उस पर सिंपल डिजाइन वाले तकिए और चादर रखने चाहिए, ज्यादा डिजाइन वाले या रंग- बिरंगी तकिए और चादरों से बचें। 4- बेड रूम में मन्दिर या पूर्वजों की तस्वीरें नहीं लगानी चाहिए। 5- बेड रूम में युद्ध वाले, डरावने और हिंसक जानवरों के चित्र नहीं लगाने चाहिए। सादे और सुन्दर चित्र या पेंटिंग लगाना शुभ माना जाता है। 6- बेड रूम में हल्के गुलाबी रंग का प्रकाश होना चाहिए जिससे पति व पत्नी में अपसी प्रेम बना रहता है। 7- बेड रूम के दरवाजे के सामने पैर करके नहीं सोना चाहिए ऐसा करना अशुभ माना जाता है। 8- वास्तु के अनुसार, हमेशा दक्षिण दिशा में सिर और उत्तर दिशा में पैर करके सोना चाहिए, ऐसा करने से मनुष्य को गहरी नींद और लम्बी उम्र मिलती है

+26 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 63 शेयर

👇🌼👇🌼👇🌼👇🌼👇🌼👇 सोते समय ध्यान रखें ये बातें, वरना हो सकते हैं कई नुकसान हमारे सोने का तरीका और हमारा बेड भी कई तरह की अच्छी और बुरी बातों का कारण बन सकता है। वास्तु में बेड पर सोने के लिए भी कुछ नियम बताए गए हैं, जिनका पालन न करने पर हमें कई तरह की परेशानियों का सामना करना पड़ सकता है। उन सभी परेशानियों और बीमारियों के बचने के लिए ध्यान रखें ये 8 नियम। 1- बेड के बीचों-बीच कोई लैम्प, पंखा या इलैक्ट्रानिक उपकरण आदि नहीं होना चाहिए। ऐसे बेड पर सोने वाले का पाचन अधिकतर खराब रहता है। 2- घड़ी को कभी भी सिर के नीचे या बेड के पीछे रखकर नहीं सोना चाहिए। घड़ी को बेड के सामने भी नहीं लगाना चाहिए वरना उस बेड पर सोने वाला हमेशा चिन्ता या तनाव में रहता है। घड़ी को बेड के बाएं या दाएं ओर ही लगाना चाहिए। 3- जिस बेड पर आप सोते हैं, उस पर सिंपल डिजाइन वाले तकिए और चादर रखने चाहिए, ज्यादा डिजाइन वाले या रंग- बिरंगी तकिए और चादरों से बचें। 4- बेड रूम में मन्दिर या पूर्वजों की तस्वीरें नहीं लगानी चाहिए। 5- बेड रूम में युद्ध वाले, डरावने और हिंसक जानवरों के चित्र नहीं लगाने चाहिए। सादे और सुन्दर चित्र या पेंटिंग लगाना शुभ माना जाता है। 6- बेड रूम में हल्के गुलाबी रंग का प्रकाश होना चाहिए जिससे पति व पत्नी में अपसी प्रेम बना रहता है। 7- बेड रूम के दरवाजे के सामने पैर करके नहीं सोना चाहिए ऐसा करना अशुभ माना जाता है। 8- वास्तु के अनुसार, हमेशा दक्षिण दिशा में सिर और उत्तर दिशा में पैर करके सोना चाहिए, ऐसा करने से मनुष्य को गहरी नींद और लम्बी उम्र मिलती है

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 13 शेयर

+88 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 142 शेयर
M.S.CHAUHAN Dec 3, 2019

+22 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 30 शेयर
Rammurti Gond Dec 3, 2019

+10 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 29 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB