🙏🌹🌿🙏🌹🌿🙏🌹🌿🙏🌹🌿🙏🌹🌿🙏🌹🌿🙏🌹🌿 जय श्री कृष्णा राधे जी🙏🌹🌿🙏🌹🌿🙏🌹🌿🙏🌹🌿🙏🌹🌿🙏🌹🌿🙏🌹🌿🙏🌹 शुभ प्रभात वंदन जी🙏🌹🌿🙏🌹🌿🙏🌿🙏🌹🌿🙏🌹🌿🙏🌹🌿🙏🌹🌿🙏🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🙏🙏🌹🌹🌹🙏🌹🌹

+107 प्रतिक्रिया 25 कॉमेंट्स • 20 शेयर

कामेंट्स

💫 Minakshi Tiwari💫 Sep 17, 2020
🌹🌹🕉️नमो भगवते वासुदेवाय नमः 🕉️🌹🌹 *(((( सुप्रभात ))))* 💠वंदना 💠 *"पानी में गिरने से किसी की मृत्यु नहीं होती,* *मृत्यु तभी होती है जब तैरना नहीं आता,* *परिस्थितियां कभी समस्या नहीं बनती,* *समस्या तभी बनती हैं जब उनसे निपटना नहीं आता.."* 🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔🔔 *🌹🙏आपका दिन शुभ हो🙏🌹*

Kavita Sant Sep 17, 2020
Jay Shree Krishna 🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌹👋🌹👋🌹👋🌹👋🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹🌿🌹

B K Patel Sep 17, 2020
जय श्री राधे कृष्ण जय श्री राधे श्याम जय सीताराम शुभ दोपहर स्नेह वंदन भाई जी धन्यवाद 🌹🌹🙏🙏👌👌👍👍🕉️🌄

Seema Sharma. Himachal (chd) Sep 17, 2020
ओम् नमो भगवते वासुदेवाय 🙏🌹 नारायण नारायण नारायण 🌷🌷🌷🌹🌹🌞 सुबह की शुरुआत थोड़ा मुस्कुरा कर कीजिए 😊😊😊 शुभ प्रभात जी 🙏 राम राम जी 🙏🌹🙏 thanks ji 🙏

Girish chandra srivastva Sep 17, 2020
@लड्डू3 जय श्री राधे कृष्णा जी🌹 धन्यवाद गौरी जी आप का🌹 जय भोले नाथ की🌹 शुभ दोपहर वंदन जी,🌹🙏🙏

Lalan Singh Sep 17, 2020
जय श्री राधे कृष्णा 🌿🙏 शुभ संध्या जी 🙏🌹🙏

कुसुम सेन Sep 17, 2020
⛳🙏🕉️🙏🥀🌹राम रामजी भाई जी शुभ संध्या वंदन भाई जी आपका हर दिन हर पल शुभमंगलमय हो शुभकामनाएं भाई जी🌹🕉️🌹⛳⛳⛳

Babita Sharma Sep 18, 2020
सुप्रभात वंदन भाई 🙏 आपका दिन शुभ एवं मंगलमय हो 🙏 जय माता दी 🚩🚩 🌹‼जय श्री कृष्ण‼🌹पुरुषोत्तम मास की हार्दिक शुभकामनाएं।

sintu kasana Sep 23, 2020

+5 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+79 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 14 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Shanti Pathak Sep 23, 2020

*जय श्री राधे कृष्णा* *शुभरात्रि वंदन* ❗भगवान श्री कृष्ण का जीवन परिचय❗ 🚩भगवान् श्री कृष्ण को अलग अलग स्थानों में अलग अलग नामो से जाना जाता है। 🚩उत्तर प्रदेश में कृष्ण या गोपाल गोविन्द इत्यादि नामो से जानते है। 🚩राजस्थान में श्रीनाथजी या ठाकुरजी के नाम से जानते है। 🚩महाराष्ट्र में बिट्ठल के नाम से भगवान् जाने जाते है। 🚩उड़ीसा में जगन्नाथ के नाम से जाने जाते है। 🚩बंगाल में गोपालजी के नाम से जाने जाते है। 🚩दक्षिण भारत में वेंकटेश या गोविंदा के नाम से जाने जाते है। 🚩गुजरात में द्वारिकाधीश के नाम से जाने जाते है। 🚩असम ,त्रिपुरा,नेपाल इत्यादि पूर्वोत्तर क्षेत्रो में कृष्ण नाम से ही पूजा होती है। 🚩मलेसिया, इंडोनेशिया, अमेरिका, इंग्लैंड, फ़्रांस इत्यादि देशो में कृष्ण नाम ही विख्यात है। 🚩गोविन्द या गोपाल में "गो" शब्द का अर्थ गाय एवं इन्द्रियों , दोनों से है। गो एक संस्कृत शब्द है और ऋग्वेद में गो का अर्थ होता है मनुष्य की इंद्रिया...जो इन्द्रियों का विजेता हो जिसके वश में इंद्रिया हो वही गोविंद है गोपाल है। 🚩श्री कृष्ण के पिता का नाम वसुदेव था इसलिए इन्हें आजीवन "वासुदेव" के नाम से जाना गया। श्री कृष्ण के दादा का नाम शूरसेन था.. श्री कृष्ण का जन्म उत्तर प्रदेश के मथुरा जनपद के राजा कंस की जेल में हुआ था। 🚩श्री कृष्ण के भाई बलराम थे लेकिन उद्धव और अंगिरस उनके चचेरे भाई थे, अंगिरस ने बाद में तपस्या की थी और जैन धर्म के तीर्थंकर नेमिनाथ के नाम से विख्यात हुए थे। 🚩श्री कृष्ण ने 16100 राजकुमारियों को असम के राजा नरकासुर की कारागार से मुक्त कराया था और उन राजकुमारियों को आत्महत्या से रोकने के लिए मजबूरी में उनके सम्मान हेतु उनसे विवाह किया था। क्योंकि उस युग में हरण की हुयी स्त्री अछूत समझी जाती थी और समाज उन स्त्रियों को अपनाता नहीं था।। 🚩श्री कृष्ण की मूल पटरानी एक ही थी जिनका नाम रुक्मणी था जो महाराष्ट्र के विदर्भ राज्य के राजा रुक्मी की बहन थी।। रुक्मी शिशुपाल का मित्र था और श्री कृष्ण का शत्रु । 🚩दुर्योधन श्री कृष्ण का समधी था और उसकी बेटी लक्ष्मणा का विवाह श्री कृष्ण के पुत्र साम्ब के साथ हुआ था। 🚩श्री कृष्ण के धनुष का नाम सारंग था। शंख का नाम पाञ्चजन्य था। चक्र का नाम सुदर्शन था। उनकी प्रेमिका का नाम राधारानी था जो बरसाना के सरपंच वृषभानु की बेटी थी। श्री कृष्ण राधारानी से निष्काम और निश्वार्थ प्रेम करते थे। राधारानी श्री कृष्ण से उम्र में बहुत बड़ी थी। लगभग 6 साल से भी ज्यादा का अंतर था। श्री कृष्ण ने 14 वर्ष की उम्र में वृंदावन छोड़ दिया था।। और उसके बाद वो राधा से कभी नहीं मिले। 🚩श्री कृष्ण विद्या अर्जित करने हेतु मथुरा से उज्जैन मध्य प्रदेश आये थे। और यहाँ उन्होंने उच्च कोटि के ब्राह्मण महर्षि सान्दीपनि से अलौकिक विद्याओ का ज्ञान अर्जित किया था।। 🚩श्री कृष्ण की कुल आयु 125 वर्ष थी। उनके शरीर का रंग गहरा काला था और उनके शरीर से 24 घंटे पवित्र अष्टगंध महकता था। उनके वस्त्र रेशम के पीले रंग के होते थे और मस्तक पर मोरमुकुट शोभा देता था। उनके सारथि का नाम दारुक था और उनके रथ में चार घोड़े जुते होते थे। उनकी दोनो आँखों में प्रचंड सम्मोहन था। 🚩श्री कृष्ण के कुलगुरु महर्षि शांडिल्य थे। 🚩श्री कृष्ण का नामकरण महर्षि गर्ग ने किया था। 🚩श्री कृष्ण के बड़े पोते का नाम अनिरुद्ध था जिसके लिए श्री कृष्ण ने बाणासुर और भगवान् शिव से युद्ध करके उन्हें पराजित किया था। 🚩श्री कृष्ण ने गुजरात के समुद्र के बीचो बीच द्वारिका नाम की राजधानी बसाई थी। द्वारिका पूरी सोने की थी और उसका निर्माण देवशिल्पी विश्वकर्मा ने किया था। 🚩श्री कृष्ण को ज़रा नाम के शिकारी ने बाण मारा था।। 🚩श्री कृष्ण ने हरियाणा के कुरुक्षेत्र में अर्जुन को पवित्र गीता का ज्ञान रविवार शुक्ल पक्ष एकादशी के दिन मात्र 45 मिनट में दे दिया था। 🚩श्री कृष्ण ने सिर्फ एक बार बाल्यावस्था में नदी में नग्न स्नान कर रही स्त्रियों के वस्त्र चुराए थे और उन्हें अगली बार यु खुले में नग्न स्नान न करने की नसीहत दी थी। 🚩श्री कृष्ण के अनुसार गौ हत्या करने वाला असुर है और उसको जीने का कोई अधिकार नहीं। 🚩श्री कृष्ण अवतार नहीं थे बल्कि अवतारी थे....जिसका अर्थ होता है "पूर्ण पुरुषोत्तम भगवान्" 🚩न ही उनका जन्म साधारण मनुष्य की तरह हुआ था और न ही उनकी मृत्यु हुयी थी। 🚩सर्वान् धर्मान परित्यजम मामेकं शरणम् व्रज अहम् त्वम् सर्व पापेभ्यो मोक्षस्यामी मा शुच-- भगवद् गीता अध्याय 18, श्री कृष्ण ❗सभी धर्मो का परित्याग करके एकमात्र मेरी शरण ग्रहण करो, मैं सभी पापो से तुम्हारा उद्धार कर दूंगi ❗जय श्री कृष्णा❗*

+12 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 0 शेयर
VINAY SINGH 21KANPUR Sep 23, 2020

+3 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 2 शेयर

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
abhay singh Sep 23, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB