Vibhor Mittal
Vibhor Mittal Aug 28, 2017

ek kahani

*एक बार एक केकड़ा समुद्र किनारे अपनी मस्ती में चला जा रहा था और बीच बीच में रुक कर अपने पैरों के निशान देख कर खुश होता*
*आगे बढ़ता पैरों के निशान देखता और खुश होता,,,,,*
*इतने में एक लहर आई और उसके पैरों के सभी निशान मिट गये*
*इस पर केकड़े को बड़ा गुस्सा आया, उसने लहर से कहा*

*"ए लहर मैं तो तुझे अपना मित्र मानता था, पर ये तूने क्या किया ,मेरे बनाये सुंदर पैरों के निशानों को ही मिटा दिया*
*कैसी दोस्त हो तुम"*

*तब लहर बोली "वो देखो पीछे से मछुआरे पैरों के निशान देख कर केकड़ों को पकड़ने आ रहे हैं*
*हे मित्र, तुमको वो पकड़ न लें ,बस इसीलिए मैंने निशान मिटा दिए*

*ये सुनकर केकड़े की आँखों में आँसू आ गये*


*सच यही है, कई बार हम सामने वाले की बातों को समझ नहीं पाते और अपनी सोच अनुसार उसे गलत समझ लेते हैं*
*जबकि हर सिक्के के दो पहलू होते हैं*
*अतः मन में बैर लाने से बेहतर है कि हम सोच समझ कर निष्कर्ष निकालें*

🙏🏻 🙏🏻

+103 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 97 शेयर

कामेंट्स

+5 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 13 शेयर
Nidhi Rawal Brahmin Apr 24, 2019

+30 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 12 शेयर

+7 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 8 शेयर

+60 प्रतिक्रिया 30 कॉमेंट्स • 33 शेयर
NEHA SHRIVASTAVA Apr 24, 2019

+14 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 5 शेयर
Manikjadab Apr 24, 2019

+29 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 7 शेयर
NEha sharma 💞💞 Apr 24, 2019

+19 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 3 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 36 शेयर
Vikash Srivastava Apr 24, 2019

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB