pt bk upadhyay
pt bk upadhyay Dec 9, 2017

श्री गिलहराज मंदिर, अली गढ़

श्री गिलहराज मंदिर, अली गढ़

श्री आंजनेय स्वामी सेतु के लिए विशालकाय शिलायें ला रहे थे। परंतु निवेदन किया गया कि हनुमत्प्रभु इसी तरह शिला लाये तो अन्य जन सेवा के दुर्लभ अवसर से वंचित रह जायेंगे।हनुमानजी को रोका गया पर फिर वे ओझल हो गये।एक गिलहराज जल से देह गीली कर मिट्टी में लोट कर सेतु के रंध्रों मे झड़ा देते। श्री राम प्रभु देखते ही अपने जन को पहचान गये गोद मे बिठा कर उनकी पीठ पर करकमल फेर दिया। वही गिलहराज हनुमानजी के दर्शन यहाँ होतेहैं। अलीगढ़ मे आँचल तालाब के पास स्थित मंदिर में हर बीस मिनट में आरती होती है।गिलहराज जी के करकमलों मे लड्डू व चरणों में नवग्रह हैं।

+413 प्रतिक्रिया 24 कॉमेंट्स • 81 शेयर

कामेंट्स

Yogesh Kumar Sharma Dec 9, 2017
जय शनिदेवता, ओम् शनिश्चचरायः नमः

Dhamchigolu Swami Dec 9, 2017
मेरे जिस्म जान में *श्याम* बस नाम तुम्हारा है.... आज अगर में खुश हूँ तो यह अहसास भी तुम्हारा है.... थामा हुवा है हाथ मेरा आपने यह मुझको मालूम है.... मेरे हर पल हर लम्हें में *श्याम* प्यार तुम्हारा है ।। *श्याम प्यारे की जय* 🌺 🌹 " Զเधे Զเधे " 🌹 🌺 🌺मेरा श्याम मेरी जिंदगी 🌺 🍁 !! ખય શ્રી શ્યામ !!🍁 🌹जय श्री बालाजी 🌹 🍁जय श्री श्याम 🍁 🌸Dhamchigolu Pariwar🌸 🌺🌸🍀💐🌹🍁🌷🌻🌺

pt bk upadhyay Dec 9, 2017
इस पोस्ट पर कमेंट्स आदि प्रतिक्रिया व्यक्त करने वाले सभी भक्त महानुभावों को हार्दिक आभार, शुभकामनाएं व धन्यवाद ज्ञापित करता हूँ। जै श्री राम। जै बजरंगबली।

MANOJ VERMA Dec 9, 2017
💥 राधे राधे ll राधे राधे 🚩

MANOJ VERMA Dec 10, 2017
राधे राधे ll राधे राधे 🚩

pt bk upadhyay Dec 10, 2017
आप सभी भक्त महानुभावों का अतुलनीय सहयोग जो प्राप्त हुआ है उसके लिए हृदय की गहराई से मैं आप सब का शुक्र गुज़ार हूँ। कृपया इसी प्रकार सहयोग व कृपा दृष्टि बनाए रखें। धन्यवाद, शुभ रात्रि।

Swamini May 23, 2019

+15 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर

ताजमहल की आज जो ख्याति है, उसका कारण है उस इमारत की अत्याधिक मार्केटिंग। जो कांग्रेस ने 60 साल से बखूबी किया। नही तो भारत में एक से बढ़कर एक हिन्दू कलाकृति, है जिसका कांग्रेस ने कभी प्रचार प्रसार नही किया। जैसे हम्पी मंदिर, जो विजयनगर साम्राज्य की सिर्फ एक बानगी है जो अद्भुत ,अद्वित्य और अप्रतीम है। ताज ताज करने का मतलब ही हिंदुस्तान के गौरव को हीन साबित करना है। यही कई दशको से किया जा रहा है। पर अब हिन्दू गौरव जाग चुका है। नीचे दिए गए चित्र का वर्णन: नाम: सूर्य मंदिर मोढेरा निर्माता: भीमदेव प्रथम, सोलंकी वंश निर्माण काल : १०२६ ई० देवता: सूर्य देववास्तु कला: हिन्दू स्थान: मोढेरा, पाटन, गुजरात, भारत| जय श्री राम।। Sun Temple, Modhera, Gujrat

+10 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 6 शेयर
Sajjan Singhal May 22, 2019

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
chaman dubey May 21, 2019

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
satish kumar May 21, 2019

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
raju May 22, 2019

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
raju May 21, 2019

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
raju May 21, 2019

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB