हनुमान जी के पांच सगे भाईयों के नाम,

हनुमान जी के पांच सगे भाईयों के नाम,

हिन्दू धर्म में 33 करोड़ देवी-देवता होने की बात कही जाती है, दरअसल वो 33 करोड़ नहीं वरन् 33 कोटि देवी-देवता हैं। यानि कि उन्हीं देवी-देवताओं के विभिन्न रूप एवं अवतार हैं।

अब स्वयं देव हों या उनके कोई मानव रूपी अवतार, सभी से जुड़े तथ्य एवं पौराणिक वर्णन काफी दिलचस्प हैं।आज हम हनुमान जी के बारे में आपको कुछ रोचक जानकारी देंगे। बजरंगबली, पवन पुत्र, अंजनी पुत्र, राम भक्त, ऐसे ही कई नामों से पुकारा जाता है

हनुमान जी को। यह बात शायद सभी जानते हैं लेकिन आगे बताए जा रहे कुछ तथ्य हर कोई नहीं जानता।सबसे पहली बात, हनुमान जी को भगवान शिव का ही अवतार माना जाता है।

एक पौराणिक कथा के अनुसार अंजना नाम की एक अप्सरा को एक ऋषि द्वारा यह श्राप दिया गया कि जब भी वह प्रेम बंधन में पड़ेगी, उसका चेहरा एक वानर की भांति हो जाएगा।

लेकिन इस श्राप से मुक्त होने के लिए भगवान ब्रह्मा ने अंजना की मदद की।उनकी मदद से अंजना ने धरती पर स्त्री रूप में जन्म लिया, यहां उसे वानरों के राजा केसरी से प्रेम हुआ। विवाह पश्चात श्राप से मुक्ति के लिए अंजना ने भगवान शिव की तपस्या आरंभ कर दी।

तपस्या से प्रसन्न होकर शिव ने उन्हें वरदान मांगने को कहा। अंजना ने भगवान शिव को कहा कि साधु के श्राप से मुक्ति पाने के लिए उन्हें शिव के अवतार को जन्म देना है, इसलिए शिव बालक के रूप में उनकी कोख से जन्म लें।

'तथास्तु' कहकर शिव अंतर्ध्यान हो गए, इस घटना के बाद एक दिन अंजना शिव की आराधना कर रही थीं और इसी दौरान किसी दूसरे कोने में महाराज दशरथ, अपनी तीन रानियों के साथ पुत्र रत्न की प्राप्ति के लिए यज्ञ कर रहे थे।

अग्नि देव ने उन्हें दैवीय 'पायस' दिया जिसे तीनों रानियों को खिलाना था लेकिन इस दौरान एक चमत्कारिक घटना हुई, एक पक्षी उस पायस की कटोरी में थोड़ा सा पायस अपने पंजों में फंसाकर ले गया और तपस्या में लीन अंजना के हाथ में गिरा दिया।

अंजना ने शिव का प्रसाद समझकर उसे ग्रहण कर लिया और कुछ ही समय बाद उन्होंने वानर मुख वाले एक बालक को जन्म दिया। बहुत कम लोग जानते हैं कि इस बालक का नाम मारूति था, जिसे बाद में 'हनुमान' के नाम से जाना गया।

हनुमान जी से जुड़ा एक और तथ्य काफी रोचक है। एक कथा के अनुसार एक बार हनुमान जी ने श्रीराम की याद में अपने पूरे शरीर पर सिंदूर भी लगाया था। यह इसलिए क्योंकि एक बार उन्होंने माता सीता को सिंदूर लगाते हुए देख लिया।

जब उन्होंने सिंदूर लगाने का कारण पूछा तो सीता जी ने बताया कि यह उनका श्रीराम के प्रति प्रेम एवं सम्मान का प्रतीक है।बस यह जानने की देरी ही थी कि हनुमान जी ने अपने पूरे शरीर पर सिंदूर लगा लिया, यह दर्शाने के लिए कि वे भी श्रीराम से अति प्रेम करते हैं।

इस घटना के बाद हनुमान का 'लाल हनुमान' रूप भी काफी प्रचलित हुआ।हनुमान जी से जुड़े कुछ छोटे-छोटे तथ्य हैं, जो काफी कम लोग जानते हैं। जैसे कि उनका नाम, 'हनुमान' शब्द का यदि संस्कृत अर्थ निकाला जाए तो इसका मतलब होता है जिसका मुख या जबड़ा बिगड़ा हुआ हो।

अगली बात जो हम बताने जा रहे हैं उसे जान आप वाकई हैरत में पड़ने वाले हैं। महाभारत काल में पाण्डु पुत्र राजकुमार भीम अपने बल के लिए जाने जाते थे। कहते हैं वे हनुमान जी के ही भाई थे।इसके अलावा जिन हनुमान जी को ब्रह्मचारी कहा जाता है, उनकी शादी भी हुई थी।

उनके पुत्र का नाम मकरध्वज है। लेकिन इसके अलावा उनके पांच भाई भी थे, क्या आप जानते हैं? जी हां… हनुमान जी के पांच सगे भाई थे और वो पांचों ही विवाहित थे।

यह कोई कहानी या मात्र मनोरंजन का साधन बनाने के लिए हवा में बताई गई बात नहीं है, बल्कि सच्चाई है। हनुमान जी के पांच सगे भाई थे, इस बात का उल्लेख 'ब्रह्मांडपुराण' में मिलता है।

इस पुराण में भगवान हनुमान के पिता केसरी एवं उनके वंश का वर्णन शामिल है। बड़ी बात यह है कि पांचों भाइयों में बजरंगबली सबसे बड़े थे। यानी हनुमानजी को शामिल करने पर वानर राज केसरी के 6 पुत्र थे।

बजरंगबली के बाद क्रमशः मतिमान, श्रुतिमान, केतुमान, गतिमान, धृतिमान थे। इन सभी के संतान भी थीं, जिससे इनका वंश वर्षों तक चला। हनुमानजी के बारे जानकारी वैसे तो रामायण, श्रीरामचरितमानस, महाभारत और भी कई हिंदू धर्म ग्रंथों में मिलती है।

लेकिन उनके बारे में कुछ ऐसी भी बातें हैं जो बहुत कम धर्म ग्रंथों में उपलब्ध है 'ब्रह्मांडपुराण' उन्हीं में से एक है। इस महान ग्रंथ में हनुमान जी के जीवन एवं उनसे जुड़ी कई बातें हैं। इसी ग्रंथ में उल्लेख है कि बजरंगबली के पिता केसरी ने अंजना से विवाह किया था।

Fruits Milk Jyot +214 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 184 शेयर

कामेंट्स

Ravi pandey Nov 5, 2017
jai bajrangbali jai shree Krishna radhe Radhe

Kishordas Vaishnva Nov 5, 2017
हनुमान जी की शादी किससै हूई थी अधूरी बात नहीं है जय श्री राम

Hari Ram Sonadiya Nov 6, 2017
Jai Shri Ram vastav me ASI jankariya kam logu ke pas h or jinake pas h vo bate nhi h Nice

T.K Aug 21, 2018

,💝suprabhat💝

Pranam Bell Dhoop +17 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 146 शेयर
pooja yadav Aug 21, 2018

Pranam Like Flower +96 प्रतिक्रिया 27 कॉमेंट्स • 541 शेयर
rakesh gaur Aug 21, 2018

Pranam Like Jyot +30 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 267 शेयर
Rani shrivas Aug 22, 2018

Bell Like Pranam +46 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 395 शेयर

शुभ बुधवार सुप्रभात 🌻🌼💫
जय श्री गोरी नंदन रिद्धि सिद्धि विनायक ।⚜🌼🙏🏻🌺
मूसे की सवारी तेरी, अजक है तेरी माया ।😪🌺
जय हो तेरी गोरा दुलारे तेरा अंत किसी ने ना पाया ।😪🌺
जय श्री गणपत गणपातए नमोस्तुते ।🙏🏻🙏🏻🙏🏻
जय माता दी जय🙏🏻🌺🙌🔱...

(पूरा पढ़ें)
Jyot Pranam Flower +14 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 58 शेयर
Shashikant shelokar Aug 21, 2018

Pranam Like Flower +59 प्रतिक्रिया 22 कॉमेंट्स • 210 शेयर
Babita m Aug 21, 2018

Like Bell Tulsi +125 प्रतिक्रिया 72 कॉमेंट्स • 292 शेयर

ऊँ🙏 शुभ पंचांग🌹शुभ राशिफल 🙏ऊँ

बुधवार 2⃣2⃣ अगस्त 2⃣0⃣1⃣8⃣

तिथि: एकादशी - ०७:४० तक

#Astro Sunil Garg (Nail & Teeth)

#Whatsapp no :- 09911020152

*बुधवार 2⃣2⃣ अगस्त 2⃣0⃣1⃣8⃣*

सूर्योदय:।०५:५३
सूर्यास्त: १८:५३
हिन्दु सूर्योदय: ०५:५७
हिन्दु सूर्...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Like Flower +16 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 32 शेयर

☀️🌅☀️🌅☀️🌅☀️🌅☀️🌅☀️🌅☀️

Like Pranam Jyot +66 प्रतिक्रिया 28 कॉमेंट्स • 267 शेयर

🙏🌹जय श्री महाकाल 🌹🙏
श्री महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग का आज का संध्या आरती श्रृंगार दर्शन
🔱21 अगस्त 2018 ( मंगलवार )🔱

Pranam Jyot Dhoop +144 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 64 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB