+93 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 69 शेयर

कामेंट्स

madan pal 🌷🙏🏼 Mar 8, 2021
जय श्री राम जी शूभ रात्रि वंदन ज़ी पवन सुत हनुमान जी की कृपा आप व आपके परिवार पर बनीं रहे जी 💐💐💐💐🙏🏼🙏🏼🙏🏼🙏🏼🌹

dhruv wadhwani Mar 8, 2021
ओम हनुमते नमो हनुमते नमो हनुमते नमो हनुमते नमः ओम हनुमते नमो नमः शिवाय

Mohanpatidar Mar 9, 2021
jai shree Radhe krishna ji good morning ji 🍀🍀🍀🍀⚘

RAJ RATHOD Mar 9, 2021
🌹शुभ मंगलवार 🌹 आप तथा आपके परिवार को हनुमानजी का शुभ दिन मंगलवार एव विष्णु जी का शुभ व्रत विजया एकादशी की हार्दिक शुभकामनाएँ 🌻🌻हनुमान जी एवं विष्णु जी की विशेष कृपा आप सभी पर सदा बनी रहे 🌻🌻

Dhananjay Khanna Mar 9, 2021
Ram Ram ji 🙏🙏🙏🙏🙏 Jai jai Sri Hanuman ji 🌹🌹🌹🌹🌹 Vijaya ekadashi ki Hardik shubhkaamnaye 🌹🌹🌹🌹🌹

BK WhatsApp STATUS Mar 9, 2021
जय श्री मंगलमुर्ती हनुमंतेय नमः जय सीताराम शुभ प्रभात स्नेह वंदन धन्यवाद 🌹🌹🙏🙏

Bhavana Gupta Apr 17, 2021

+18 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 5 शेयर
❤Dev❤ Apr 17, 2021

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
sarla rana Apr 17, 2021

. "जीवन दर्शन" एक आदमी प्रातःकाल तडके नदी की ओर जल लेकर जा रहा था। नदी के पास पहुँचने पर उसे आभास हुआ कि सूर्योदय अभी पूरी तरह नहीं निकला है और चारों ओर कुछ ज्यादा ही अंधकार फैला हुआ है। घने अंधेरे में वह मस्ती से टहलने लगा। तभी उसका पैर एक झोले से टकराया। उत्सुकतावश उसने झोले मे हाथ डाला तो पाया कि उसमें बहुत सारे पत्थर रखें है। समय बिताने के लिए वह झोले में से एक-एक पत्थर निकालकर नदी में फेंकता गया। धीरे-धीरे उसने पत्थर पानी में फेंक दिए। जब अंतिम पत्थर उसके हाथ में था तभी सूर्य की रोशनी धरती पर फैल गयी। रोशनी में देखा कि वह पत्थर बहुत तेज चमक रहा था। वह दंग रह गया। उसकी धडकने बंद होने लगीं क्योंकि जिसे वह साधारण पत्थर समझ रहा था, वह अनमोल हीरा था। वह फूट-फूटकर रोने लगा। अपने हाथों में अंतिम बचे कीमती पत्थर को देखकर अंधेरे को कोस रहा था। वह नदी किनारे शोकमग्न बैठा था तभी एक महात्मा वहाँ से गुजर रहे थे, उसका दुःख जानकर वे बोले- "बेटा ! तुम दुःखी मत हो। तुम अब भी भाग्यशाली हो कि अंतिम पत्थर फेंकने से पहले ही सूर्य की रोशनी फूट पड़ी, वरना यह कीमती पत्थर भी तुम्हारे हाथ से निकल जाता। यह कीमती हीरा अभी भी तुम्हारी जिन्दगी को संवार सकता है। जो चीज हाथ से निकल गई, उसे लेकर रोने के बजाय जो तुम्हारे हाथ में है, तुम्हें उसी में खुश होना चाहिए, आनन्द मनाना चाहिए और उज्जवल भविष्य के लिए प्रयास करना चाहिए, और ईश्वर का शुक्रिया अदा करना चाहिए।" महात्मा की बात सुनकर उसकी आँखें खुल गईं, और खुशी-खुशी घर आ गया। अर्थात जो बीत गया(चला गया), उसे भुलाकर आगे बढ़ना ही श्रेयस्कर है। ----------:::×:::---------- "जय जय श्री राधे" ******************************************* "श्रीजी की चरण सेवा" की सभी धार्मिक, आध्यात्मिक एवं धारावाहिक पोस्टों के लिये हमारे पेज से जुड़े रहें👇 https://www.facebook.com/%E0%A4%B6%E0%A5%8D%E0%A4%B0%E0%A5%80%E0%A4%9C%E0%A5%80-%E0%A4%95%E0%A5%80-%E0%A4%9A%E0%A4%B0%E0%A4%A3-%E0%A4%B8%E0%A5%87%E0%A4%B5%E0%A4%BE-724535391217853/

+7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 20 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+11 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 4 शेयर

+76 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 39 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB