दधिमथीमाता आरती दर्शन🌹

नागौर जिले की जायल (Jayal) तहसील में जिला मुख्यालय से लगभग 40 की.मी. उत्तर-पूर्व में दधिमथीमाता (Dadhimati Mata) का प्राचीन और प्रसिद्ध मंदिर अवस्थित है। इस मंदिर के आस पास का प्रदेश प्राचीन काल में दधिमथी (दाहिमा) क्षेत्र कहलाता था। उस क्षेत्र से निकले हुए विभिन्न जातियों के लोग, यथा ब्राह्मण,राजपूत,जाट आदि दाहिमे ब्राह्मण, दाहिमे राजपूत, दाहीमे जाट कहलाये।

+140 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 9 शेयर

कामेंट्स

SaarthakR Prajapat Sep 17, 2020

+10 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 16 शेयर
Narayan Tiwari Sep 17, 2020

श्रीबगलामुखी़ पीतांबरा पीठ नलखे़डा (म.प्र.) """"""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""" पूजा के शुभ फल :-🚩 १)शत्रुओं पर विजय प्राप्त होती है।  २) कष्टों का विनाश होता है।  ३) धन आने के असंख्य मार्ग प्रकाशित होते है।  ४) भयंकर बिमारियों से मुक्ति मिलती है।  ५) ऋण,रोग व शत्रु का भय समाप्त हो जाता है। देवी बगलामुखी की पूजा पूरी श्रद्धा के साथ माँ की पूजा-अर्चना की जाती है। इनकी साधना मुख्य रूप से नकारात्मकता पर विजय प्राप्त करने के लिए की जाती है। इनकी पूजा से घर में किसी प्रकार की कोई कमी नहीं रहती। धन -धान्य की सभी समस्याओं का निवारण हो जाता है। माँई के सबसे प्रसिद्ध मंदिर.. 🚩 1) श्रीपीताम्बरा पीठ दतिया, 2) श्रीपीताम्बरा पीठ नलखेड़ा, 3) श्रीबगलामुखी पीठ कांगड़ा, 4) श्री कामाख्या शक्तिपीठ, गुवाहाटी, 5) श्री बगलामुखी पीठ ललितपुर,नेपाल, 6) श्री बगलामुखी पीठ अरूणाय ,पेहोवा (हरियाणा), 7) श्री बगलामुखी धाम,लुधियाना (पंजाब) 8) श्रीपीताम्बरा पीठ,गाँव- तेवर ,जबलपुर {म.प्र.) 9) श्री बमलेश्वरी धाम,राजनांदगांव (छत्तीसगढ़) 10) श्री बगलामुखी पीठ, हरिद्वार (उत्तराखंड) 11) श्री बगलामुखी पीठ, वाराणसी (उत्तरप्रदेश) 12) श्री बगलामुखी धाम दिल्ली 13) श्रीबगलामुखी धाम गंगरेट जिला- ऊना (हि.प्र.) 14) श्रीबगलामुखी धाम,अमलेश्वर (छत्तीसगढ़) में हैं! 15)श्री बगलामुखी धाम,ब्रह्मपुरी कालोनी सहारनपुर(उ.प्र) जहाँ माना जाता है की माँ बगलामुखी साक्षात विराजित हैं। यहाँ देवी की पूजा करना बहुत ही लाभकारी प्रमाणित होता है। माँ बगलामुखी की स्तुति से दसों दिशाओं की रक्षा होती है। सारे ब्रह्माण्ड की शक्ति मिलाकर भी कोई देवी पर विजय प्राप्त नहीं कर सकता है। प्रत्येक क्षेत्र में विजय प्राप्त करने के लिए ही उनकी आराधना की जाती है। वह सर्वशक्तिशाली है तथा विपदाओं के समय सदैव अपने भक्तों की रक्षा करती है। माँ की उपासना से विभिन्न परेशानियां जैसे की शत्रु बाधा, गृह कलह, तिरस्कार , किसी भी प्रकार का भय या वाणी दोष, कोर्ट -कचहरी के मामलों का निवारण होता है। इनकी पूजा से व्यक्ति प्रतियोगिता व अदालत के मामलों में विजय प्राप्त करता है। अगर   किसी व्यक्ति पर देवी माँ की कृपा हो तो उसे किसी प्रकार की हानि नहीं होती है। 🙏|| श्री पीताम्बरायै नम: ||🙏 🚩|| जय मांई की ||🚩

+197 प्रतिक्रिया 21 कॉमेंट्स • 22 शेयर

+6 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 7 शेयर
Vanita Chopra Sep 18, 2020

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
आशुतोष Sep 17, 2020

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 21 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB