Sarvesh Tiwari
Sarvesh Tiwari Apr 12, 2021

आज वर्ष का अंतिम दिन हे यदि मेरे द्वारा मन वचन ओर कर्म से परोक्ष या अपरोक्ष रूप से मेरी वाणी या व्यवहार द्वारा आपके मन को कोई ठेस पहुंची हो तो उसके लिए आपसे क्षमा प्रार्थी हूं ... आइए हम सब मिलकर विक्रम संवत् 2078 आंनद नामक संवत्सर का स्वागत करे ओर मां भगवती से प्रार्थना करे की आने वाला वर्ष हम सभी के लिए मंगमय हो इस महामारी से हम सब की रक्षा करे जय मां भारती जय श्री राम वत्सले मातृभूमि 🚩सनातनी🚩 हिंदू नव वर्ष की हार्दिक हार्दिक शुभकामनाएं ,,,🙏🙏 * पंडित सर्वेश तिवारी* 🙏जय श्री महाकाल 🙏🙏

आज वर्ष का अंतिम दिन हे यदि मेरे द्वारा मन वचन ओर कर्म से परोक्ष या अपरोक्ष रूप से मेरी वाणी या व्यवहार द्वारा आपके मन को कोई ठेस पहुंची हो तो उसके लिए आपसे क्षमा प्रार्थी हूं  ...
आइए हम सब मिलकर विक्रम संवत् 2078 आंनद नामक संवत्सर का स्वागत करे ओर मां भगवती से प्रार्थना करे की आने वाला वर्ष हम सभी के लिए मंगमय हो इस महामारी से हम  सब की रक्षा करे 
जय मां भारती 
जय श्री राम 
वत्सले मातृभूमि
🚩सनातनी🚩
हिंदू नव वर्ष की हार्दिक हार्दिक शुभकामनाएं ,,,🙏🙏 * पंडित सर्वेश तिवारी* 🙏जय श्री महाकाल 🙏🙏
आज वर्ष का अंतिम दिन हे यदि मेरे द्वारा मन वचन ओर कर्म से परोक्ष या अपरोक्ष रूप से मेरी वाणी या व्यवहार द्वारा आपके मन को कोई ठेस पहुंची हो तो उसके लिए आपसे क्षमा प्रार्थी हूं  ...
आइए हम सब मिलकर विक्रम संवत् 2078 आंनद नामक संवत्सर का स्वागत करे ओर मां भगवती से प्रार्थना करे की आने वाला वर्ष हम सभी के लिए मंगमय हो इस महामारी से हम  सब की रक्षा करे 
जय मां भारती 
जय श्री राम 
वत्सले मातृभूमि
🚩सनातनी🚩
हिंदू नव वर्ष की हार्दिक हार्दिक शुभकामनाएं ,,,🙏🙏 * पंडित सर्वेश तिवारी* 🙏जय श्री महाकाल 🙏🙏
आज वर्ष का अंतिम दिन हे यदि मेरे द्वारा मन वचन ओर कर्म से परोक्ष या अपरोक्ष रूप से मेरी वाणी या व्यवहार द्वारा आपके मन को कोई ठेस पहुंची हो तो उसके लिए आपसे क्षमा प्रार्थी हूं  ...
आइए हम सब मिलकर विक्रम संवत् 2078 आंनद नामक संवत्सर का स्वागत करे ओर मां भगवती से प्रार्थना करे की आने वाला वर्ष हम सभी के लिए मंगमय हो इस महामारी से हम  सब की रक्षा करे 
जय मां भारती 
जय श्री राम 
वत्सले मातृभूमि
🚩सनातनी🚩
हिंदू नव वर्ष की हार्दिक हार्दिक शुभकामनाएं ,,,🙏🙏 * पंडित सर्वेश तिवारी* 🙏जय श्री महाकाल 🙏🙏
आज वर्ष का अंतिम दिन हे यदि मेरे द्वारा मन वचन ओर कर्म से परोक्ष या अपरोक्ष रूप से मेरी वाणी या व्यवहार द्वारा आपके मन को कोई ठेस पहुंची हो तो उसके लिए आपसे क्षमा प्रार्थी हूं  ...
आइए हम सब मिलकर विक्रम संवत् 2078 आंनद नामक संवत्सर का स्वागत करे ओर मां भगवती से प्रार्थना करे की आने वाला वर्ष हम सभी के लिए मंगमय हो इस महामारी से हम  सब की रक्षा करे 
जय मां भारती 
जय श्री राम 
वत्सले मातृभूमि
🚩सनातनी🚩
हिंदू नव वर्ष की हार्दिक हार्दिक शुभकामनाएं ,,,🙏🙏 * पंडित सर्वेश तिवारी* 🙏जय श्री महाकाल 🙏🙏

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+32 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 135 शेयर

+23 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 192 शेयर
ramkumarverma May 6, 2021

+36 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 122 शेयर

बात कड़वी मगर सच्ची👍 🐦एक कबूतर और एक क़बूतरी एक पेड़ की डाल पर बैठे थे। उन्हें बहुत दूर से एक आदमी आता दिखाई दिया । क़बूतरी के मन में कुछ शंका हुआ औऱ उसने क़बूतर से कहा कि चलो जल्दी उड़ चले नहीं तो ये आदमी हमें मार डालेगा। क़बूतर ने लंबी सांस लेते हुए इत्मीनान के साथ क़बूतरी से कहा..भला उसे ग़ौर से देखो तो सही, उसकी अदा देखो, लिबास देखो, चेहरे से शराफत टपक रही है, ये हमें क्या मारेगा..? बिलकुल सज्जन पुरुष लग रहा है...? क़बूतर की बात सुनकर क़बूतरी चुप हो गई। जब वह आदमी उनके क़रीब आया तो अचानक उसने अपने वस्त्र के अंदर से तीर कमान निकाला औऱ झट से क़बूतर को मार दिया...औऱ बेचारे उस क़बूतर के वहीं प्राण पखेरू उड़ गए.... असहाय क़बूतरी ने किसी तरह भाग कर अपनी जान बचाई औऱ बिलखने लगी।उसके दुःख का कोई ठिकाना न रहा औऱ पल भर में ही उसका सारा संसार उजड़ गया। उसके बाद वह क़बूतरी रोती हुई अपनी फरियाद लेकर राजा के पास गई औऱ राजा को उसने पूरी घटना बताई। राजा बहुत दयालु इंसान था। राजा ने तुरंत अपने सैनिकों को उस शिकारी को पकड़कर लाने का आदेश दिया। तुरंत शिकारी को पकड़ कर दरबार में लाया गया।शिकारी ने डर के कारण अपना जुर्म कुबूल कर लिया। उसके बाद राजा ने क़बूतरी को ही उस शिकारी को सज़ा देने का अधिकार दे दिया औऱ उससे कहा कि " तुम जो भी सज़ा इस शिकारी को देना चाहो दे सकती हो औऱ तुरंत उसपर अमल किया जाएगा "। 🌀क़बूतरी ने बहुत दुःखी मन से कहा कि " हे राजन,मेरा जीवन साथी तो इस दुनिया से चला गया जो फ़िर क़भी भी लौटकर नहीं आएगा, इसलिए मेरे विचार से इस क्रूर शिकारी को बस इतनी ही सज़ा दी जानी चाहिए कि अगर वो शिकारी है 🏹तो उसे हर वक़्त शिकारी का ही लिबास पहनना चाहिए , ये शराफत का लिबास वह उतार दे क्योंकि शराफ़त का लिबास ओढ़कर धोखे से घिनौने कर्म करने वाले सबसे बड़े नीच होते हैं....।" ✒️इसलिए अपने आसपास शराफ़त का ढोंग करने वाले बहरूपियों से हमेशा सावधान रहें.......... सतर्क रहें औऱ अपना बहुत ख़याल रखें...!! 🚩 राम राम जी 🚩

+321 प्रतिक्रिया 72 कॉमेंट्स • 128 शेयर

+32 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 19 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB