नमस्कार दोस्तो सुप्रभात जय श्री महाकाल दोस्तो हर हर महादेव

+1 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 2 शेयर
priyanshi Mar 2, 2021

+10 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 13 शेयर

+7 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 2 शेयर
AMIT KUMAR INDORIA Mar 2, 2021

+23 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 35 शेयर
Smt Neelam Sharma Mar 2, 2021

🙏🕉️🚩 *जा की रही भावना जैसी,प्रभु मूरत देखहि तिन तैसी...!!* ----------------------------------------------------------------- एक बार तुलसी दास जी वृन्दावन आये वहा पर वह नित्य ही कृष्ण स्वरूप श्री नाथ जी के दर्शन को जाते थे उस मंदिर में एक महंत थे जिनका नाम परशुराम था । एक दिन जब नित्य कि तरह तुलसी बाबा दर्शन करने पहुँचे तो उनहोंने देखा कि ..... *बंशी लकुट काछनी काछे |* *मुकुट माथ माला उर आछे ||* प्रभु के एक हाथ में बंशी है और एक हाथ में लकुटि है प्रभु ने धोती काछ रखी है माथे पर सुन्दर मुकुट है और गले में माला है ! तुलसीदास दर्शन कर ही रह थे कि महंत बोले...... *अपने अपने इष्टके, नमन करै सब कोय |* *परशुराम बिन इष्टके, नवै सो मूरख होय ||* महंत जी बोले कि हर कोई अपने इष्ट को वंदन करता है और आप के इष्ट तो राम हैं ये तो मेरे इष्ट हैं और जो दूसरे के इष्ट को नमन करता है वो मूरख कहलाता है ! इतना सुनते ही पहले तो तुलसीदास हँसे फिर मन में सीताराम को याद करक बोले..... *कहा कहो छबि आजुकी, भले बने हो नाथ |* *तुलसी मस्तक तब नवै, धरौ धनुष शर हाथ ||* बाबा बोले प्रभु आज कि छबि का क्या वर्णन क्या जाए प्रभु कि आप कितने सुन्दर हो लेकिन अब ये तुलसी मस्तक जब झुकेगा जब आप धनुष बाण हाथ मे लोगे। अब जैसे ही इतना बोला तो क्या हुआ कि..... *मुरली लकुट दुरायके, धरयो धनुष शर हाथ |* *तुलसी लखि रूचि दासकी, नाथ भये रघुनाथ ||* जैसे हि तुलसी दास ने कहा तो प्रभु कि मुरली लकुटी गायब हो गयी जो श्री नाथ कि प्रतिमा थी वो श्री राम की प्रतिमा हो गयी और हाथ में धनुष बाण आ गये। चारो तरफ तुलसीदास जी की जय जय कार होने लगी तुलसी बाबा ने प्रसन्न मन से प्रभु को शीश नवाया ! अब बात ये आती है कि ऐसा हुआ कैसे और अब क्यों नही होता तो इसका सीधा सा प्रमाण रामचरित मानस में देखने को मिलता है जब प्रभु श्री राम कहते है.... *निर्मल मन जन सो मोहि पावा ।* *मोहि कपट छल छिद्र न भावा ||* कि मुझे कपट,छल,निन्दयी नहीं बल्कि निर्मल और शुद्ध ह्रदय वाले लोग भाते है .... इसलिये निर्मल ह्रदय से प्रभु को भजिये और सबको प्यार करिये किसी से द्वेश मत रखिये क्योंकि *रामहि केवल प्रेम पियारा |* *जान लेहु जेहि जान निहारा ||* 🙏🕉️🚩 *जय श्री राम '*

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Anshika Mar 2, 2021

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB