Vijay Kokane
Vijay Kokane Nov 30, 2017

सोमनाथ मंदिर, गुजरात

सोमनाथ मंदिर, गुजरात

सोमनाथ- चंद्रमा का सर्वशक्तिमान रक्षक

एक प्रसिद्ध किवन्दती के अनुसार चंद्रमा ने महाराज दक्ष की सत्ताईस पुत्रियों के साथ विवाह किया परंतु वह उनमे से एक, रोहिणी के प्रति अधिक आसक्त था| चंद्रमा की अन्य पत्नियाँ इस बात से दुखी थी और अपने आप को असुरक्षित मानती थी| उन्होने इस बात की शिकायत अपने पिता दक्ष प्रजापति से की| अपने दामाद चंद्रमा के साथ दक्ष प्रजापति की बहुत बहस हुई और गुस्से में उन्होने चंद्रमा को अपनी सारी चमक खो देने का श्राप दिया|

इस बात से सभी देवता गण बहुत ही चिंतित हो उठे और वे ब्रह्माजी के पास गये और उनसे इस समस्या का समाधान पूछा| ब्रह्माजी ने बताया की चंद्रमा इस श्राप से भगवान शिव की भक्ति करने से और उन्हें प्रसन्न करने से ही मुक्त हो सकता है| यह जानकर् सोम अथवा चंद्रमा ने भगवान शिव की कठिन तपस्या शुरू की और उनसे ये वरदान प्राप्त किया की वह अपनी चमक और आकार में 15 दिनों तक बढ़ता जाएगा परंतु उसके पश्चात अगले 15 दिनों के लिए उसका आकार और चमक कम होती चली जाएगी| इस तरह चंद्रमा अपने आकार और चमक में निरंतर उतार और चढ़ाव देखेगा| ऐसा कहा जाता है की इस मंदिर का सर्वप्रथम निर्माण स्वर्ण से हुआ, उसके पश्चात रावण ने इसका निर्माण चाँदी से करवाया और अंत में कृष्ण ने इसका निर्माण चंदन की लकड़ियों से करवाया|

+414 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 95 शेयर

कामेंट्स

pari Nov 30, 2017
ॐ सोमनाथाय नम :

Ajnabi Nov 30, 2017
very nice jay shree Radhe krishna

Captain Dec 1, 2017
ॐ नमः शिवाय

Ajnabi Dec 1, 2017
very nice good morning jay shree Radhe krishna veeruda

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB