Ramesh agrawal
Ramesh agrawal Sep 23, 2021

🤔🤔 महानायक की गलत सोच 🤔🤔

🤔🤔 महानायक की गलत सोच 🤔🤔

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर
Soni Mishra Oct 26, 2021

+20 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 36 शेयर
my mandir Oct 26, 2021

+546 प्रतिक्रिया 119 कॉमेंट्स • 460 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 13 शेयर
my mandir Oct 25, 2021

+560 प्रतिक्रिया 111 कॉमेंट्स • 378 शेयर

. ““लालच बुरी बला है”” 🌼〰️〰️🌼🌼🌼〰️〰️🌼 सब जानते हैं लेकिन ज्यादा पाने की लालसा के कारण व्यक्ति लालच में आ जाता है और उसे जो बहतरीन मिला है उसे भी वह खो देता है. एक बार एक बुढ्ढा आदमी तीन गठरी उठा कर पहाड़ की चोटी की ओर बढ़ रहा था. रास्ते में उसके पास से एक हष्ट - पुष्ट नौजवान निकाला. बुढ्ढे आदमी ने उसे आवाज लगाई की बेटा क्या तुम मेरी एक गठरी अगली पहाड़ी तक उठा सकते हो ? मैं उसके बदले इस में रखी हुई पांच तांबे के सिक्के तुम को दूंगा. लड़का इसके लिए सहमत हो गया। निश्चित स्थान पर पहुँचने के बाद लड़का उस बुढ्ढे आदमी का इंतज़ार करने लगा और बुढ्ढे आदमी ने उसे पांच सिक्के दे दिए. बुढ्ढे आदमी ने अब उस नौजवान को एक और प्रस्ताव दिया कि अगर तुम अगली पहाड़ी तक मेरी एक और गठरी उठा लो तो मैं उसमें रखी चांदी के पांच सिक्के और पांच पहली गठरी में रखे तांबे के पांच सिक्के तुम को और दूंगा। नौजवान ने सहर्ष प्रस्ताव स्वीकार कर लिया और पहाड़ी पर निर्धारित स्थान पर पहुँच कर इंतजार करने लगा. बुढ्ढे आदमी को पहुँचते - पहुँचते बहुत समय लग गया। जैसे निश्चित हुआ था उस हिसाब से बुजुर्ग ने सिक्के नौजवान को दे दिये. आगे का रास्ता ओर भी कठिन था. बुजुर्ग व्यक्ति बोला कि आगे पहाड़ी और भी दुर्गम है .अगर तुम मेरी तीसरी सोने के मोहरों की गठरी भी उठा लो तो मैं तुम को उसके बदले पांच तांबे की मोहरे, पांच चांदी की मोहरे और पांच सोने की मोहरे दूंगा. नौजवान ने खुशी - खुशी हामी भर दी। निर्धारित पहाड़ी पर पहुँचने से पहले नौजवान के मन में लालच आ गया कि क्यों ना मैं तीनों गठरी लेकर भाग जाऊँ।गठरियों का मालिक तो कितना बुजुर्ग है . वह आसानी से मेरे तक नहीं पहुंच पाएगा. अपने मन में आए लालच की वजह से उसने रास्ता बदल लिया। कुछ आगे जाकर नौजवान के मन में सोने के सिक्के देखने की जिज्ञासा हुई . उसने जब गठरी खोली उसे देख कर दंग रह गया क्योंकि सारे सिक्के नकली थे। उस गठरी में एक पत्र निकला. उसमें लिखा था कि जिस बुजुर्ग व्यक्ति की तुमने गठरी चोरी की है, वह जहाँ का राजा है. राजा जी भेष बदल कर अपने कोषागार के लिए ईमानदार सैनिकों का चयन कर रहे हैं। अगर तुम्हारे मन में लालच ना आता तो सैनिक के रूप में आज तुम्हारी भर्ती पक्की थी. जिसके बदले तुम को रहने को घर और अच्छा वेतन मिलता . लेकिन अब तुम को कारावास होगा क्योंकि तुम राजा जी का सामान चोरी कर के भागे हो . यह मत सोचना कि तुम बच जाओगे क्योंकि सैनिक लगातार तुम पर नज़र रख रहे हैं। अब नौजवान अपना माथा पकड़ कर बैठ गया. कुछ ही समय में राजा के सैनिकों आकर उसे पकड़ लिया. उसके लालच के कारण उसका भविष्य जो उज्जवल हो सकता था, वह अंधकारमय हो चुका था. इसलिए कहते हैं लालच बुरी भला है। ✍... Gajendra Pratap Bhardwaj 🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 5 शेयर
Dheeraj Shukla Oct 26, 2021

+52 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 13 शेयर
my mandir Oct 24, 2021

+368 प्रतिक्रिया 68 कॉमेंट्स • 115 शेयर
Soni Mishra Oct 26, 2021

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 9 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB