Aryan
Aryan Aug 13, 2017

🚩 Hari Om 🚩 Jai Shree Ram 🚩🚩🚩

#श्रीराम #भजन

+139 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 67 शेयर

कामेंट्स

Aryan Phulwani Nov 26, 2020

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Anilkumar Tailor Nov 26, 2020

+35 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 38 शेयर
jatan kurveti Nov 25, 2020

+30 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 22 शेयर
jatan kurveti Nov 26, 2020

+8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Ravindra Singh Nov 25, 2020

+52 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 8 शेयर
M.S.Chauhan Nov 25, 2020

*तुलसी विवाह और देवोत्थान एकादशी व्रत की हार्दिक शुभकामनाएं* आज है एकादशी व्रत और तुलसी विवाह, जानें पूजा विधि देवउठनी एकादशी से चार माह से चले आ रहे चातुर्मास का भी समापन हो जाएगा. बीते 1 जुलाई को चातुर्मास आरंभ हुए थे. 25 नवंबर को चातुर्मास समाप्त हो जाएंगे. इस एकादशी पर भगवान विष्णु का शयन काल समाप्त हो जाता है और पुन: वे पृथ्वी लोक की बागड़ोर अपने हाथों में ले लेते हैं. देवउठनी से मांगलिक कार्य आरंभ हो जाते है. एकादशी तिथि और तुलसी विवाह का समय- एकादशी तिथि प्रारंभ- 25 नवंबर 2020, बुधवार को सुबह 2.42 बजे से एकादशी तिथि समाप्त- 26 नवंबर 2020, गुरुवार को सुबह 5.10 बजे तक द्वादशी तिथि प्रारंभ- 26 नवंबर 2020, गुरुवार को सुबह 5.10 बजे से द्वादशी तिथि समाप्त- 27 नवंबर 2020, शुक्रवार को सुबह 7.46 बजे तक पौराणिक कथा के अनुसार, एक बार माता तुलसी ने भगवान विष्णु को नाराज होकर श्राम दे दिया था कि तुम काला पत्थर बन जाओगे. इसी श्राप की मुक्ति के लिए भगवान ने शालीग्राम पत्थर के रूप में अवतार लिया और तुलसी से विवाह कर लिया. वहीं तुलसी को माता लक्ष्मी का अवतार माना जाता है. हालांकि कई लोग तुलसी विवाह एकादशी को करते है तो कहीं द्वादशी के दिन तुलसी विवाह होता है. ऐसे में एकादशी और द्वादशी दोनों तिथियों का समय तुलसी विवाह के लिए तय किया गया है. एकादशी व्रत और पूजा विधि- -एकादशी व्रत के दिन ब्रह्म मुहूर्त में उठकर स्नान आदि करें और व्रत का संकल्प लें. -इसके बाद भगवान विष्णु की अराधना करें. -भगवान विष्णु के सामने दीप-धूप जलाएं. फिर उन्हें फल, फूल और भोग अर्पित करें. -मान्यता है कि एकादशी के दिन भगवान विष्णु को तुलसी जरूर अर्पित करनी चाहिए. -शाम को विष्णु जी की अराधना करते हुए विष्णुसहस्त्रनाम का पाठ करें. -एकादशी के दिन पूर्व संध्या को व्रती को सिर्फ सात्विक भोजन करना चाहिए. -एकादशी के दिन व्रत के दौरान अन्न का सेवन नहीं किया जाता है. -एकादशी के दिन चावल का सेवन वर्जित है. -एकादशी का व्रत खोलने के बाद ब्राहम्णों को दान-दक्षिणा जरूर दें. 🌷🌼🦚🙏🦚🌼🌷

+47 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 9 शेयर
jatan kurveti Nov 25, 2020

+16 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर
jatan kurveti Nov 24, 2020

+24 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 11 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB