🌹🙏Good Morning Mymandir team and my dear friends👭👬👭👬,Happy Friday ji.🙏🌹

🌹🙏Good Morning Mymandir team and my dear friends👭👬👭👬,Happy Friday ji.🙏🌹
🌹🙏Good Morning Mymandir team and my dear friends👭👬👭👬,Happy Friday ji.🙏🌹
🌹🙏Good Morning Mymandir team and my dear friends👭👬👭👬,Happy Friday ji.🙏🌹
🌹🙏Good Morning Mymandir team and my dear friends👭👬👭👬,Happy Friday ji.🙏🌹

+19 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 30 शेयर

कामेंट्स

Rajendra Dhirajlal Gandhi. Apr 8, 2021
🌹🙏Good Morning my dear friends👭👬👭👬,Jai Shree Maa Mahalaxmi namo namah ji,Jai Shree Maa Ambe namo namah ji,Jai Shree Maa Santoshi namo namah ji,Jai Shree Maa Saraswati namo namah ji,Aapka din Shubh v Shukhmay v Mangalmay ho ji,Have a beautiful Friday morning ji.🙏🌹

*सुख दुख आते जाते रहेंगे* घुप्प अंधेरी रात में एक व्यक्ति नदी में कूद कर आत्महत्या करने का विचार कर रहा था. वर्षा के दिन थे और नदी पूरे उफान पर थी. आकाश में बादल घिरे थे और रह-रहकर बिजली चमक रही थी. वह उस देश का बड़ा धनी व्यक्ति था लेकिन अचानक हुए घाटे से उसकी सारी संपत्ति चली गई. उसके भाग्य का सूरज डूब गया था. चारों ओर निराशा ही निराशा. भविष्य नजर नहीं आ रहा था. उसे कुछ सूझता न था कि क्या करे. उसने स्वयं को समाप्त करने का विचार कर लिया था. नदी में कूदने के लिए जैसे ही चट्टान के छोर पर खड़ा होकर वह अंतिम बार ईश्वर का स्मरण करने लगा तभी दो बुजुर्ग परंतु मजबूत बांहों ने उसे रोक लिया. बिजली की चमक में उसने देखा कि एक वृद्ध साधु उसे पकड़े हुए है ! उस वृद्ध ने उससे निराशा का कारण पूछा. किनारे लाकर उसकी सारी कथा सुनी फिर हंसकर बोला- तो तुम यह स्वीकार करते हो कि पहले तुम सुखी थे. सेठ बोला- हाँ मेरे भाग्य का सूर्य पूरे प्रकाश से चमक रहा था. सब ओर मान-सम्मान संपदा थी. अब जीवन में सिवाय अंधकार और निराशा के कुछ भी शेष नहीं है. वृद्ध फिर हंसा और बोला- दिन के बाद रात्रि है और रात्रि के बाद दिन. जब दिन नहीं टिकता तो रात्रि भी कैसे टिकेगी ? परिवर्तन प्रकृति का नियम है ठीक से सुनो और समझ लो. जब तुम्हारे अच्छे दिन हमेशा के लिए नहीं रहे तो बुरे दिन भी नहीं रहेंगे. जो इस सत्य को जान लेता है वह सुख में सुखी नहीं होता और दुख में दुखी नहीं होता ! उसका जीवन उस अडिग चट्टान की भांति हो जाता है जो वर्षा और धूप में समान ही बनी रहती है ! सुख और दुख को जो समभाव से ले, समझ लो कि उसने स्वयं को जान लिया. सुख-दुख तो आते-जाते रहते हैं. यही प्रकृति की गति है. ईश्वर का इंसाफ. जो न आता है और न जाता है वह है स्वयं का अस्तित्व. इस अस्तित्व में ठहर जाना ही समत्व है. सोचो यदि किसी ने जीवन में एक जैसा ही भाव देखा. हमेशा सुख का ही. जिस चीज की आवश्यकता हुई उससे पहले वह मिल गई. तो क्या वह कुछ उपहार पाने की खुशी का अनुभव कैसे कर सकता है ? *दुख न आए तो सुख का स्वाद क्या होता कोई कैसे जाने ? जो इस शाश्वत नियम को जान लेता है, उसका जीवन बंधनों से मुक्त हो जाता है..!!*

+371 प्रतिक्रिया 93 कॉमेंट्स • 464 शेयर
Neeta Trivedi Apr 20, 2021

+171 प्रतिक्रिया 29 कॉमेंट्स • 83 शेयर

+31 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 14 शेयर
Renu Singh Apr 19, 2021

+802 प्रतिक्रिया 175 कॉमेंट्स • 1010 शेयर

0 कॉमेंट्स • 5 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर

विधि का विधान कोई टाल नहीं सकता:* भगवान विष्णु गरुड़ पर बैठ कर कैलाश पर्वत पर गए। द्वार पर गरुड़ को छोड़ कर खुद शिव से मिलने अंदर चले गए। तब कैलाश की अपूर्व प्राकृतिक शोभा को देख कर गरुड़ मंत्रमुग्ध थे कि तभी उनकी नजर एक खूबसूरत छोटी सी चिड़िया पर पड़ी। चिड़िया कुछ इतनी सुंदर थी कि गरुड़ के सारे विचार उसकी तरफ आकर्षित होने लगे। उसी समय कैलाश पर यम देव पधारे और अंदर जाने से पहले उन्होंने उस छोटे से पक्षी को आश्चर्य की द्रष्टि से देखा। गरुड़ समझ गए उस चिड़िया का अंत निकट है और यमदेव कैलाश से निकलते ही उसे अपने साथ यमलोक ले जाएँगे। गरूड़ को दया आ गई। इतनी छोटी और सुंदर चिड़िया को मरता हुआ नहीं देख सकते थे। उसे अपने पंजों में दबाया और कैलाश से हजारो कोश दूर एक जंगल में एक चट्टान के ऊपर छोड़ दिया, और खुद बापिस कैलाश पर आ गया। आखिर जब यम बाहर आए तो गरुड़ ने पूछ ही लिया कि उन्होंने उस चिड़िया को इतनी आश्चर्य भरी नजर से क्यों देखा था। यम देव बोले "गरुड़ जब मैंने उस चिड़िया को देखा तो मुझे ज्ञात हुआ कि वो चिड़िया कुछ ही पल बाद यहाँ से हजारों कोस दूर एक नाग द्वारा खा ली जाएगी। मैं सोच रहा था कि वो इतनी जलदी इतनी दूर कैसे जाएगी, पर अब जब वो यहाँ नहीं है तो निश्चित ही वो मर चुकी होगी।" गरुड़ समझ गये "मृत्यु टाले नहीं टलती चाहे कितनी भी चतुराई की जाए।" इस लिए कृष्ण कहते है। करता तू वह है जो तू चाहता है परन्तु होता वह है जो में चाहता हूँ कर तू वह जो में चाहता हूँ फिर होगा वो जो तू चाहेगा । जीवन के 6 सत्य:- 1. कोई फर्क नहीं पड़ता कि आप कितने खूबसूरत हैं ? क्योंकि..लँगूर और गोरिल्ला भी अपनी ओर लोगों का ध्यान आकर्षित कर लेते हैं.. 2. कोई फर्क नहीं पड़ता कि आपका शरीर कितना विशाल और मज़बूत है ? क्योंकि...श्मशान तक आप अपने आपको नहीं ले जा सकते.... 3. आप कितने भी लम्बे क्यों न हों , मगर आने वाले कल को आप नहीं देख सकते.... 4. कोई फर्क नहीं पड़ता कि , आपकी त्वचा कितनी गोरी और चमकदार है क्योंकि...अँधेरे में रोशनी की जरूरत पड़ती ही है... 5 . कोई फर्क नहीं पड़ता कि " आप " नहीं हँसेंगे तो सभ्य कहलायेंगे ? क्यूंकि ..." आप " पर हंसने के लिए दुनिया खड़ी है ? 6. कोई फर्क नहीं पड़ता कि ,आप कितने अमीर हैं ? और दर्जनों गाड़ियाँ आपके पास हैं ? क्योंकि...घर के बाथरूम तक आपको चल के ही जाना पड़ेगा... इसलिए संभल के चलिए ... ज़िन्दगी का सफर छोटा है , हँसते हँसते काटिये , आनंद आएगा ।। 🙂🙂 *जय श्री कृष्ण* 🙏Hari om ji 🙏 Mattoo

+219 प्रतिक्रिया 47 कॉमेंट्स • 95 शेयर
Neeta Trivedi Apr 18, 2021

+177 प्रतिक्रिया 36 कॉमेंट्स • 47 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB