Satsang by Shri Damodhardas ji

Audio - Satsang by Shri Damodhardas ji

Shri krishna katha seva group के चैनल के सभी वीडियोज देखने के लिए निचे दिये हुए लिंक पे क्लिक करे लाइक और सब्सक्राइब ज़रूर और कमेंट मे जय जय श्री राधे कृष्ण जरुर लिखे....

https://www.youtube.com/channel/UCkfXFOsisG4obeI8xehcUVg

जय जय श्री राधे कृष्ण जी
हर हर महादेव जय माता दी
जय सियाराम
परम भक्त हनुमान की जय

+38 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 28 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Shakti Sep 24, 2020

+5 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 1 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 16 शेयर
Anilkumar Tailor Sep 23, 2020

+11 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 18 शेयर
Sarvagya Shukla Sep 23, 2020

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 11 शेयर
Shakti Sep 22, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 12 शेयर
Neha Sharma Sep 24, 2020

*कितना सच है* *पुरुष यदि शरीर है* *तो स्त्री प्राण है* *पुरुष यदि आंख है* *तो स्त्री आंखों में ज्योति है* *पुरुष यदि हृदय है तो* *स्त्री धड़कन है* *पुरुष अधुरा है* *स्त्री उस पूर्ण ,उसे पूर्ण बनाती है* *बिना स्त्री के पुरुष आयेगा कैसे* *बिना स्त्री के पुरुष रहेगा कैसे* *स्त्री पुरुष के लिए* *सर्वस्व है* *स्त्री भूमि है* *पुरुष आकाश है* *दोनों एक दूसरे के पूरक है* *लडें नहीं एक हों* *दूर न जाएं* *आलिंगन बद्घ हों*। *मां बेटे के रूप में* *भाई बहन के रूप में* *पिता पुत्री के रूप में* *मित्र मित्र के रूप में* *सर्वोत्तम* *पति पत्नी के रूप में* *हर रूप में* *एक ही रिश्ता* *प्रेम का,कृतज्ञता का ,मैत्री का* । *आभार का ,प्यार का ,दुलार का* **************************** 😡क्रोध के दो मिनट😡 एक युवक ने विवाह के दो साल बाद परदेस जाकर व्यापार करने की इच्छा पिता से कही । पिता ने स्वीकृति दी तो वह अपनी गर्भवती पत्नी को माँ-बाप के जिम्मे छोड़कर व्यापार करने चला गया । परदेश में मेहनत से बहुत धन कमाया और वह धनी सेठ बन गया । सत्रह वर्ष धन कमाने में बीत गए तो सन्तुष्टि हुई और वापस घर लौटने की इच्छा हुई । पत्नी को पत्र लिखकर आने की सूचना दी और जहाज में बैठ गया । उसे जहाज में एक व्यक्ति मिला जो दुखी मन से बैठा था । सेठ ने उसकी उदासी का कारण पूछा तो उसने बताया कि इस देश में ज्ञान की कोई कद्र नही है । मैं यहाँ ज्ञान के सूत्र बेचने आया था पर कोई लेने को तैयार नहीं है । सेठ ने सोचा 'इस देश में मैने बहुत धन कमाया है, और यह मेरी कर्मभूमि है, इसका मान रखना चाहिए !' उसने ज्ञान के सूत्र खरीदने की इच्छा जताई । उस व्यक्ति ने कहा- मेरे हर ज्ञान सूत्र की कीमत 500 स्वर्ण मुद्राएं है । सेठ को सौदा तो महंगा लग रहा था.. लेकिन कर्मभूमि का मान रखने के लिए 500 स्वर्ण मुद्राएं दे दी । व्यक्ति ने ज्ञान का पहला सूत्र दिया- कोई भी कार्य करने से पहले दो मिनट रूककर सोच लेना । सेठ ने सूत्र अपनी किताब में लिख लिया । . कई दिनों की यात्रा के बाद रात्रि के समय सेठ अपने नगर को पहुँचा । उसने सोचा इतने सालों बाद घर लौटा हूँ तो क्यों न चुपके से बिना खबर दिए सीधे पत्नी के पास पहुँच कर उसे आश्चर्य उपहार दूँ । . घर के द्वारपालों को मौन रहने का इशारा करके सीधे अपने पत्नी के कक्ष में गया तो वहाँ का नजारा देखकर उसके पांवों के नीचे की जमीन खिसक गई । पलंग पर उसकी पत्नी के पास एक युवक सोया हुआ था । . अत्यंत क्रोध में सोचने लगा कि मैं परदेस में भी इसकी चिंता करता रहा औ र ये यहां अन्य पुरुष के साथ है । दोनों को जिन्दा नही छोड़ूगाँ । क्रोध में तलवार निकाल ली । . वार करने ही जा रहा था कि उतने में ही उसे 500 स्वर्ण मुद्राओं से प्राप्त ज्ञान सूत्र याद आया- कि कोई भी कार्य करने से पहले दो मिनट सोच लेना । सोचने के लिए रूका । तलवार पीछे खींची तो एक बर्तन से टकरा गई । . बर्तन गिरा तो पत्नी की नींद खुल गई । जैसे ही उसकी नजर अपने पति पर पड़ी वह ख़ुश हो गई और बोली- आपके बिना जीवन सूना सूना था । इन्तजार में इतने वर्ष कैसे निकाले यह मैं ही जानती हूँ । . सेठ तो पलंग पर सोए पुरुष को देखकर कुपित था । पत्नी ने युवक को उठाने के लिए कहा- बेटा जाग । तेरे पिता आए हैं । युवक उठकर जैसे ही पिता को प्रणाम करने झुका माथे की पगड़ी गिर गई । उसके लम्बे बाल बिखर गए । . सेठ की पत्नी ने कहा- स्वामी ये आपकी बेटी है । पिता के बिना इसके मान को कोई आंच न आए इसलिए मैंने इसे बचपन से ही पुत्र के समान ही पालन पोषण और संस्कार दिए हैं । . यह सुनकर सेठ की आँखों से अश्रुधारा बह निकली । पत्नी और बेटी को गले लगाकर सोचने लगा कि यदि आज मैने उस ज्ञानसूत्र को नहीं अपनाया होता तो जल्दबाजी में कितना अनर्थ हो जाता । मेरे ही हाथों मेरा निर्दोष परिवार खत्म हो जाता । . ज्ञान का यह सूत्र उस दिन तो मुझे महंगा लग रहा था लेकिन ऐसे सूत्र के लिए तो 500 स्वर्ण मुद्राएं बहुत कम हैं । . 'ज्ञान तो अनमोल है ' इस कहानी का सार यह है कि जीवन के दो मिनट जो दुःखों से बचाकर सुख की बरसात कर सकते हैं । वे हैं - 'क्रोध के दो मिनट' *जय श्री राधेकृष्णा*🙏🌷

+272 प्रतिक्रिया 58 कॉमेंट्स • 364 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB