मायमंदिर फ़्री कुंडली
डाउनलोड करें
MeenaDubey
MeenaDubey Jun 11, 2019

Jai shree radhe kirshna ji radhe radhe ji Sbhi mitr bandhuo ko shubh shndhya ji 🚩🌷🍀🌷🍀🌷🍀🌷🍀🌷🍀🌷🍀🌷🌷🍀🌷🍀🌷🍀🌷🍀🌷🍀🌷

+110 प्रतिक्रिया 41 कॉमेंट्स • 44 शेयर

कामेंट्स

MeenaDubey Jun 11, 2019
@mukeshkapoor2 jai shree radhe kirshna ji AAP apni post par msg bhej skte ho radhe rani ki jai ho meritesan karte ho kya yoga bhi karteho jai shree Krishna

Mukesh Kapoor Jun 11, 2019
@meenadubeymandir thnx mitraji me moen walk aur kychh open gym excuses krta hu meditation ka mymandir wala post bahut achha laga aapke family me kaun kaun h Radhe Radhe

,OP JAIN (RAJ) Jun 11, 2019
श्री राधे राधे दीदी शुभ रात्रि वंदन दीदी श्री राम और श्री हनुमान जी की कृपा सदा आप और आपके परिवार पर बनी रहे जय श्री राम

R.K.Soni(गणेश मंदिर) Jun 11, 2019
शुभ रात्री वंदन जी🌹🌹🌹🌹 🙏जय गणेश देवा जी🙏 🙏जय वीर हनुमान जी🙏 आप व आपके परिवार की हनुमान जी हर संकट मे रक्षा को।आपके जीवन मे कभी दुख ना आऐ।🙏🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹

Renu Singh Jun 11, 2019
👌👌🌹🙏 Jai Shree Radhe Krishna Sister ji 🙏🌹🙏 Shubh ratri Vandan ji God bless you and your family Always be happy and healthy my dear Sweet Sister ji 🙏🌹

Shivsanker Shukala Jun 11, 2019
जय श्री राधे कृष्णा बहन शुभ रात्रि राधे राधे

MeenaDubey Jun 11, 2019
@renusingh15 jai shree radhe kirshna radhe radhe sisterji shubh ratree always be happy and keep smiling God bless you and your family mere pyari bahina jai shree Krishna

MeenaDubey Jun 11, 2019
@opj jai shree radhe kirshna ji radhe radhe bhai shubh ratree

MeenaDubey Jun 11, 2019
@mukeshkapoor2 ok bahut acha karte ho aap me bhi excuses yoga or meditation bhi karti hu or aapke yha kon kon hai jai shree Krishna

Cg Sahu Jun 11, 2019
nice good night radhey krishna ji 🌹🙏🌹🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

Mukesh Kapoor Jun 11, 2019
@meenadubeymandir Good friend aap pl mujhe mwditation ke bare me guide karengi to achha lagega mwri family me wlfe aur 2 bachhe h Radhe Radhe

MeenaDubey Jun 11, 2019
@mukeshkapoor2 jai shree radhe kirshna ji ham do hamare do radhe radhe ji may mandir bale theek btarhe esme abhyas karne ka hai 5 1o mint roj kroge to bahut acha lgega jai shree Krishna ji

Mukesh Kapoor Jun 11, 2019
@meenadubeymandir Thnx mitra for sweet reply aapne sahi kaha ki abhiyas se meditation achha ho jayega Subh Ratei Oriya mitra Radhw Radhe

🙏🌹🌹🌹❤️❤️❤️🌹🌹🌹🙏 🙏🌹🌹जय श्री राधे कृष्णा🌹🌹🙏 🙏कृष्ण जी का नाम लड्डू गोपाल कैसे पड़ा ? भगवान श्रीकृष्ण के कई नाम हैं, श्याम, मोहन, बंसीधर, कान्हा और न जाने कितने, लेकिन इनमें से एक प्रसिद्ध नाम है लड्डू गोपाल। क्या आपको पता है भगवान कृष्ण का नाम लड्डू गोपाल क्यों पड़ा। ब्रज भूमि में बहुत समय पहले श्रीकृष्ण के परम भक्त रहते थे.. कुम्भनदास जी । उनका एक पुत्र था रघुनंदन । कुंम्भनदास जी के पास बाँसुरी बजाते हुए श्रीकृष्ण जी का एक विग्रह था, वे हर समय प्रभु भक्ति में लीन रहते और पूरे नियम से श्रीकृष्ण की सेवा करते। वे उन्हें छोड़ कर कहीं नहीं जाते थे, जिससे उनकी सेवा में कोई विघ्न ना हो। एक दिन वृन्दावन से उनके लिए भागवत कथा करने का न्योता आया। पहले तो उन्होंने मना किया, परन्तु लोगों के ज़ोर देने पर वे जाने के लिए तैयार हो गए कि भगवान की सेवा की तैयारी करके वे कथा करके रोज वापिस लौट आया करेंगे व भगवान का सेवा नियम भी नहीं छूटेगा। अपने पुत्र को उन्होंने समझा दिया कि भोग मैंने बना दिया है, तुम ठाकुर जी को समय पर भोग लगा देना और वे चले गए। रघुनंदन ने भोजन की थाली ठाकुर जी के सामने रखी और सरल मन से आग्रह किया कि ठाकुर जी आओ भोग लगाओ । उसके बाल मन में यह छवि थी कि वे आकर अपने हाथों से भोजन करेगें जैसे हम खाते हैं। उसने बार-बार आग्रह किया, लेकिन भोजन तो वैसे ही रखा था.. अब उदास हो गया और रोते हुए पुकारा की ठाकुरजी आओ भोग लगाओ। ठाकुरजी ने बालक का रूप धारण किया और भोजन करने बैठ गए और रघुनंदन भी प्रसन्न हो गया। रात को कुंम्भनदास जी ने लौट कर पूछा कि भोग लगाया था बेटा, तो रघुनंदन ने कहा हाँ। उन्होंने प्रसाद मांगा तो पुत्र ने कहा कि ठाकुरजी ने सारा भोजन खा लिया। उन्होंने सोचा बच्चे को भूख लगी होगी तो उसने ही खुद खा लिया होगा। अब तो ये रोज का नियम हो गया कि कुंम्भनदास जी भोजन की थाली लगाकर जाते और रघुनंदन ठाकुरजी को भोग लगाते। जब प्रसाद मांगते तो एक ही जवाब मिलता कि सारा भोजन उन्होंने खा लिया। कुंम्भनदास जी को अब लगने लगा कि पुत्र झूठ बोलने लगा है, लेकिन क्यों.. ?? उन्होंने उस दिन लड्डू बनाकर थाली में सजा दिये और छुप कर देखने लगे कि बच्चा क्या करता है। रघुनंदन ने रोज की तरह ही ठाकुरजी को पुकारा तो ठाकुरजी बालक के रूप में प्रकट हो कर लड्डू खाने लगे। यह देख कर कुंम्भनदास जी दौड़ते हुए आये और प्रभु के चरणों में गिरकर विनती करने लगे। उस समय ठाकुरजी के एक हाथ मे लड्डू और दूसरे हाथ का लड्डू मुख में जाने को ही था कि वे जड़ हो गये । उसके बाद से उनकी इसी रूप में पूजा की जाती है और वे ‘लड्डू गोपाल’ कहलाये जाने लगे..!! 🙏🌹🌹बोलिये लड्डू गोपाल की जय हो...🌹🌹🙏

+745 प्रतिक्रिया 127 कॉमेंट्स • 121 शेयर
P.B Jun 25, 2019

+137 प्रतिक्रिया 53 कॉमेंट्स • 79 शेयर

🙏🌹🌹🌹जय श्री श्याम्🌹🌹🌹🙏 🌳🌳🌳🌳🌳🌳🌳🌳🌳🌳 🥭 *सही उपयोग।* 🥭 🥭 बहुत समय पहले की बात हैं एक गरीब वृद्ध पिता के पास अपने अंतिम समय में दो बेटों को देने के लिए मात्र एक आम था। पिताजी आशीर्वाद स्वरूप दोनों को वही देना चाहते थे। किंतु बड़े भाई ने आम हठपूर्वक ले लिया। रस चूस लिया छिल्का अपनी गाय को खिला दिया। गुठली छोटे भाई के आँगन में फेंकते हुए कहा – “लो, ये पिताजी का तुम्हारे लिए आशीर्वाद है।” 🥭 छोटे भाई ने ब़ड़ी श्रद्धापूर्वक गुठली को अपनी आँखों व सिर से लगाकर गमले में गाढ़ दिया। छोटी बहू पूजा के बाद बचा हुआ जल गमले में डालने लगी। कुछ समय बाद आम का पौधा उग आया, जो देखते ही देखते बढ़ने लगा। 🥭 छोटे भाई ने उसे गमले से निकालकर अपने आँगन में लगा दिया। कुछ वर्षों बाद उसने वृक्ष का रूप ले लिया। वृक्ष के कारण घर की धूप से रक्षा होने लगी, साथ ही प्राणवायु भी मिलने लगी। बसंत में कोयल की मधुर कूक की आवाज सुनाई देने लगी। बच्चे पेड़ की छाँव में किलकारियाँ भरकर खेलने लगे। 🥭 पेड़ की शाख से झूला बाँधकर झूलने लगे। पेड़ की छोटी – छोटी लकडीयाँ हवन करने एवं बड़ी लकड़ियाँ घर के दरवाजे-खिड़कियों में भी काम आने लगीं। आम के पत्ते त्योहारों पर तोरण बाँधने के काम में आने लगे। 🥭 धीरे-धीरे वृक्ष में कैरियाँ लग गईं। कैरियों से अचार व मुरब्बा डाल दिया गया। आम के रस से घर-परिवार के सदस्य रस-विभोर हो गए तो बाजार में आम के अच्छे दाम मिलने से आर्थिक स्थिति मजबूत हो गई। 🥭 रस से पाप़ड़ भी बनाए गए, जो पूरे साल मेहमानों व घर वालों को आम रस की याद दिलाते रहते। 🥭 ब़ड़े बेटे को आम फल का सुख क्षणिक ही मिला तो छोटे बेटे को पिता का “आशीर्वाद’ दीर्घकालिक व सुख- समृद्धिदायक मिला।” 🧚‍♂ *दोस्तों, आज के सभी मनुष्यों का यही हाल है। परमात्मा हमे सब कुछ देता है, सही उपयोग हम करते नही हैं और सदैव ही दोष परमात्मा और किस्मत को देते रहते हैं।* 🙏🌹🌹🌹आप का दिन शुभ रहे जी🌹🌹🌹🙏 🌳🌳🌳🌳🌳🌳🌳🌳🌳🌳

+733 प्रतिक्रिया 99 कॉमेंट्स • 122 शेयर
shrikant mundra Jun 25, 2019

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 13 शेयर
Suresh Khurana Jun 25, 2019

+80 प्रतिक्रिया 21 कॉमेंट्स • 9 शेयर
Vinod Keshav lonkar Jun 25, 2019

+10 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 10 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB