Kamlesh
Kamlesh Mar 4, 2021

जय माता दी शुभ प्रभात वंदन

+51 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 38 शेयर

कामेंट्स

Kamlesh Mar 4, 2021
जय माता दी 🙏🙏

dhruv wadhwani Mar 4, 2021
जय मां लक्ष्मी सदा सहाय जी गुड मॉर्निंग जी

C.S.Tanwar Mar 4, 2021
जय श्री राम जय श्री बजरंगबली की जय श्री जगत पालन हारी लक्ष्मी माता की आपका दिन मंगलमय हो शुभ प्रभात

JIWAN SHARMA9914739523 Mar 4, 2021
JAI 👃 MAA MAHALAKSHMI JI 👃KI! "********👃👃👃👃👃👃👃👃👃👃🍎🍎🍎🍎🍎🍎🍎🍎🍎🍎🍎🥬🥬🥬🥬🥬🥬🥬🥬🥬🥬🥬🥬🥬👨‍🦲👨‍🦲👨‍🦲👨‍🦲👨‍🦲👨‍🦲👨‍🦲👨‍🦲👨‍🦲👨‍🦲👨‍🦲👨‍🦲

🔴 Suresh Kumar 🔴 Mar 4, 2021
जय माता दी 🙏 शुभ प्रभात वंदन आपका हर पल मंगलमय हो।

sanjay choudhary Mar 5, 2021
🙏🙏 जय माता दी 🙏🙏 ।।।। शुभं प्र्भात् जी।।।। : *"रास्ते" पर "गति" की सीमा है,* *"बैंक" में "पैसों" की सीमा है,* *"परीक्षा" में "समय" की सीमा है,* *परन्तु* *हमारे "सोच" की कोई सीमा नहीं,* *इसलिए "सदा" "श्रेष्ठ" "सोचें" और* *"श्रेष्ठ" पाएं..* 🌹 *सुप्रभात* 🌹

RAJ RATHOD Mar 5, 2021
🏹🏹जय-माता-दी -🚩🚩 🌻🌻सुप्रभात- स्नेह -वंदन -🌻🌻 आपका -दिन- शुभ- हो 💞💞

RAJ RATHOD Mar 5, 2021
🏹🏹जय-माता-दी -🚩🚩 🌻🌻सुप्रभात- स्नेह -वंदन -🌻🌻 आपका -दिन- शुभ- हो 💞💞

Madhuben patel Mar 5, 2021
जय माता दी स्नेहनुराग प्रभात की स्नेहवंदन भाईजी

Neha Sharma, Haryana Mar 5, 2021
🙏जय माता की🙏शुभ संध्या नमन🙏 🚩🙏माता रानी की असीम कृपा आप और आपके परिवार पर सदैव बनी रहे जी। आपका हर पल शुभ व मंगलमय हो भाईजी🙏🌸 🙏🌸जय-जय श्री राधेकृष्णा🌸🙏

pandey ji Apr 19, 2021

+27 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 78 शेयर

+16 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 0 शेयर
SunitaSharma Apr 18, 2021

+75 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 4 शेयर

+9 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 9 शेयर
B.G.Agrawal Apr 18, 2021

+2 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर
saroj Singh Apr 18, 2021

🌿 *उत्तम भक्त किसे कहते हैं.....?* *उत्तम भक्त वही है जो प्रशंसा को प्रभु चरणों में समर्पित कर दे और निंदा को अपनी गाँठ में इस प्रण के साथ रखले कि इस निंदा को प्रशंसा में अवश्य बदलूंगा और भगवान को भेंट चढ़ाऊंगा।* *भगवान श्रीराम ने भरतजी की प्रशंसा की तो भरत जी ने कहा :- "प्रशंसा तो आपकी क्योंकि मुझे आपकी छत्र-छाया मिली। आप स्वभाव से किसी में दोष देखते ही नहीं, इसलिए मेरे गुण आपको दीखते हैं।"* *श्रीरामजी ने कहा :- "चलो मान लिया कि मुझे दोष देखना नहीं आता, पर गुण देखना तो आता है, इसलिए कहता हूँ कि तुम गुणों का अक्षय कोष हो।"* *भरतजी बोले :- "प्रभु यदि तोता बहुत बढ़िया श्लोक पढ़ने लगे और बन्दर बहुत सुन्दर नाचने लगे तो इसमें बन्दर या तोते की क्या विशेषता है? विशेषता तो पढ़ाने और नचानेवाले की हैं।"* *भगवान ने कहा :- "पढ़ाने और नचानेवाले की।"* *भरतजी बोले :- "मैं उसी तोते और बन्दर की तरह हूँ। यदि मुझमें कोई विशेषता दिखाई देती है तो पढ़ाने और नचानेवाले तो आप ही हैं, इसलिए यह प्रशंसा आपको ही अर्पित है।"* भगवान ने कहा :- "भरत, तो प्रशंसा तुमने लौटा दी।" भरतजी बोले :- *"प्रभु, प्रशंसा पचा लेना सबके वश का नहीं। यह अजीर्ण पैदा कर देता है लेकिन आप इस प्रशंसा को पचाने में बड़े निपुण हैं। अनादिकाल से भक्त आपकी स्तुति कर रहे हैं, पर आपको तो कभी अहंकार हुआ ही नहीं, इसलिए यह प्रशंसा आपके चरण कमलों में अर्पित है। जय श्री राम 🌿🌿🌼🍀🍀🌹🌹जय माँ शेरावाली🌹🌹🍀🍀🌼🌿🌿

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB