Parveen Gupta
Parveen Gupta Oct 4, 2017

🌹 🌹 शुभ शरद पूर्णिमा 🌹 🌹

🌹 🌹 शुभ शरद पूर्णिमा 🌹 🌹

💮♻💮♻💮♻💮♻💮♻💮

5 अक्टूबर को है शरद पूर्णिमा।
पढ़ें काम की बातें।

दशहरे से शरद पूर्णिमा तक चन्द्रमा की चांदनी विशेष गुणकारी, श्रेष्ठ किरणों वाली और औषधियुक्त होती है। इस समयावधि की रातों में शीतल चन्द्रमा की चांदनी का लाभ उठाना चाहिए।

1. नेत्रज्योति बढ़ाने के लिए दशहरे से शरद पूर्णिमा तक प्रतिदिन रात्रि में 15 से 20 मिनट तक चन्द्रमा को देखकर त्राटक करें ।

2 . जो भी इन्द्रियां शिथिल हो गई हैं उन्हें पुष्ट करने के लिए चन्द्रमा की चांदनी में रखी खीर रखना चाहिए।

3 . चंद्र देव,लक्ष्मी मां को भोग लगाकर वैद्यराज अश्विनी कुमारों से प्रार्थना करना चाहिए कि 'हमारी इन्द्रियों का तेज-ओज बढ़ाएं।' तत्पश्चात् खीर का सेवन करना चाहिए।

4. शरद पूर्णिमा अस्थमा के लिए वरदान की रात होती है। रात को सोना नहीं चाहिए। रात भर रखी खीर का सेवन करने से दमे का दम निकल जाएगा।

5 . पूर्णिमा और अमावस्या पर चन्द्रमा के विशेष प्रभाव से समुद्र में ज्वार-भाटा आता है। जब चन्द्रमा इतने बड़े समुद्र में उथल-पुथल कर उसे कंपायमान कर देता है तो जरा सोचिए कि हमारे शरीर में जो जलीय अंश है, सप्तधातुएं हैं, सप्त रंग हैं, उन पर चन्द्रमा का कितना गहरा प्रभाव पड़ता होगा।

6. शरद पूर्णिमा पर अगर काम-विलास में लिप्त रहें तो विकलांग संतान अथवा जानलेवा बीमारी होती है।

7 . शरद पूर्णिमा पर पूजा, मंत्र, भक्ति, उपवास, व्रत आदि करने से शरीर तंदुरुस्त, मन प्रसन्न और बुद्धि आलोकित होती है।

8 . इस रात सूई में धागा पिरोने का अभ्यास करने से नेत्रज्योति बढ़ती है।

दमकते चांद की शीतल रात।
शरद पूर्णिमा की रात।

शरद ऋतु, पूर्णाकार चंद्रमा, संसार में उत्सव का माहौल और पौराणिक मान्यताएं। इन सबके संयुक्त रूप का यदि कोई नाम या पर्व है तो वह है 'शरद पूनम'। वह दिन जब इंतजार होता है रात्रि के उस पहर का जिसमें 16 कलाओं से युक्त चंद्रमा अमृत की वर्षा धरती पर करता है। वर्षा ऋतु की जरावस्था और शरद ऋतु के बालरूप का यह सुंदर संजोग हर किसी का मन मोह लेता है। आज भी इस खास रात का जश्न अधिकांश परिवारों में मनाया जाता है।

इसके महत्व और उल्लास के तौर-तरीकों को संबंध में शरद पूनम का महत्व शास्त्रों में भी वर्णित है। इस रात्रि को चंद्रमा अपनी समस्त कलाओं के साथ होता है और धरती पर अमृत वर्षा करता है। रात्रि 12 बजे होने वाली इस अमृत वर्षा का लाभ मानव को मिले इसी उद्देश्य से चंद्रोदय के वक्त गगन तले खीर या दूध रखा जाता है जिसका सेवन रात्रि 12 बजे बाद किया जाता है। मान्यता तो यह भी है कि इस तरह रोगी रोगमुक्त भी होता है। इसके अलावा खीर देवताओं का प्रिय भोजन भी है।

कई परिवारों में शरद पूनम के दिन एक और जहां चंद्रमा की पूजा कर दूध का भोग लगाते हैं वहीं अनंत चतुर्दशी के दिन स्थापित गुलाबाई का विसर्जन भी किया जाता है। इस दिन परिवार के सबसे बड़े बच्चे की आरती उतारकर उसे उपहार भी दिया जाता है। शरद पूर्णिमा पर घर में कन्याओं को आमंत्रित कर गुलाबाई के गीत गाए जाते हैं।
प्राचीन काल से शरद पूर्णिमा को बेहद महत्वपूर्ण पर्व माना जाता है। शरद पूर्णिमा से हेमंत ऋतु की शुरुआत होती है। शरद पूर्णिमा पर चांद अपनी पूर्ण कलाएं लिए होता है। मान्यता है कि इस दिन केसरयुक्त दूध या खीर चांदनी रोशनी में रखने से उसमें अमृत गिर जाता है।

💮♻💮♻💮♻💮♻💮♻💮

+56 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 160 शेयर

कामेंट्स

Daya Shankar Aug 13, 2020

+48 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 10 शेयर

+104 प्रतिक्रिया 35 कॉमेंट्स • 48 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Renu Singh Aug 13, 2020

+294 प्रतिक्रिया 49 कॉमेंट्स • 83 शेयर

🕉साईं राम 🌹🙏🏾 ((( उनको दिया बिसार )))) .🌱🌳🌱🌳🌱🌳🌱🌳🌱🌳🌱🌳🌱🌳🌱🌱 एक समय की बात है कबीर दास जी गंगा स्नान करके हरी भजन करते हुए जा रहे थे.. . वो एक गली में प्रवेश कर निकल रहे थे.. गली बहुत बड़ी थी.. . उनके आगे से रस्ते में कुछ माताएं जा रही थी, उनमे से एक की शादी कही तय हुई होगी तो.. . उनके ससुराल वालो ने लड़की के लिए एक नथनी भेजी थी.. . नथनी बड़ी ही सुंदर थी तो वो लड़की जिसके लिए नथनी आई थी वो अपनी सहेलियों को बार बार नथनी के बारे में बता रही थी की.. . नथनी ऐसी है वैसी है ये.. ख़ास उन्होंने मेरे लिए भेजी है ये.. नथनी वो नथनी बार बार नथनी की बात बस। . कबीर जी भी उनके पीछे पीछे चल रहे थे और उनकी बात उनके कान में पड़ रही थी . तभी कबीर जी उनके पास से निकले और कहा की.. . नथनी दिनी यार ने, तो चिंतन बारम्बार, और नाक दिनी करतार ने, तो प्यारे उनको दिया बिसार। . सोचो की यदि नाक ही ना होती तो नथनी कहां पहनती.. . यही हमारे जीवन में भी हम करते हैं.. वस्तु का तो हमें ज्ञान रहता है परंतु ठाकुर जी ने जो दुर्लभ मनुष्य देह भजन के लिए दी है.. उनका कोई भी आभार नही मानते। 🙏🏾🌹🙏🏾🌹🙏🏾🌹🙏🏾🌹🙏🏾🌹🙏🏾🌹🌹🙏🏾🌹🙏🏾

+301 प्रतिक्रिया 53 कॉमेंट्स • 299 शेयर
simran Aug 13, 2020

+332 प्रतिक्रिया 90 कॉमेंट्स • 789 शेयर
dinesh patidar Aug 13, 2020

+2 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB