+62 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 265 शेयर

कामेंट्स

Govind Singh Chauhan Apr 16, 2021
जय श्री राम जय हनुमान सुप्रभात जी आपका दिन शुभ एवं मंगलमय हो जय माता दी 🙏🌺🙏

sanjay choudhary Apr 17, 2021
🙏🙏 जय शनिदेव 🙏🙏 ।। 🙏 जय माता दी 🙏 ।। ।।।। शुभ प्र्भात् जी।।।।

जितेन्द्र दुबे Apr 17, 2021
🚩🌹🥀जय श्री मंगलमूर्ति गणेशाय नमः 🌺🌹💐🚩🌹🌺 शुभ प्रभात वंदन🌺🌹 राम राम जी 🌺🚩🌹मंदिर के सभी भाई बहनों को राम राम जी परब्रह्म परमात्मा आप सभी की मनोकामना पूर्ण करें 🙏 🚩🔱🚩प्रभु भक्तो को सादर प्रणाम 🙏 🚩🔱 🕉️ या देवी सर्वभूतेषु मातृरूपेण संस्थिता नमस्तस्ए नमस्तस्ए नमस्तस्ए नमो नमः ॐ या देवी सर्वभूतेषु स्कंदमाता रूपेण संस्था नमस्तस्ए नमस्तस्ए नमस्तस्ए नमो नमः ऊँ माँ स्कंदमाता नमः🌺🚩 ऊँ उमामहेश्वराभ्यां नमः🌺 ऊँ राम रामाय नमः 🌻🌹ऊँ सीतारामचंद्राय नमः🌹 ॐ राम रामाय नमः🌹🌺🌹 ॐ हं हनुमते नमः 🌻ॐ हं हनुमते नमः🌹🥀🌻🌺🌹ॐ शं शनिश्चराय नमः 🚩🌹🚩ऊँ नमः शिवाय 🚩🌻 जय श्री राधे कृष्णा जी🌹 श्री जगत जननी मां स्कंदमाता देवी श्री राम भक्त हनुमान जी महाराज की कृपा दृष्टि आप सभी पर हमेशा बनी रहे 🌹 आप का हर पल मंगलमय हो 🚩जय श्री राम 🚩🌺हर हर महादेव🚩राम राम जी 🥀शुभ प्रभात स्नेह वंदन💐शुभ शनिवार🌺 हर हर महादेव 🔱🚩🔱🚩🔱🚩🔱🚩 जय माता दी जय श्री राम 🚩 🚩हर हर नर्मदे हर हर नर्मदे 🌺🙏🌻🙏🌻🥀🌹🚩🚩🚩

Bhaskar Datta Tiwari Apr 17, 2021
जय श्री बजरंगवली हनुमान जी, 🙏🙏

1 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Manoj manu May 11, 2021

🚩🌹जय श्री राम जी जय वीर बजरंग वली 🌹🙏 🌿🌹राम नाम कहते रहो, धरे रहो मन धीर। 🌿🌹 🌹🌿कारज वही सुधारिहें ,कृपा सिंधु रधुवीर।🌹🌿 🌹🌹तन के साथ मन की निर्मलता कैसे हो श्री राम चरित मानस ज्ञान से बाबा तुलसी दास जी ,चौपाई :- 🌹🌹 रघुपति भगति सजीवन मूरी। अनूपान श्रद्धा मति पूरी॥ एहि बिधि भलेहिं सो रोग नसाहीं। नाहिं त जतन कोटि नहिं जाहीं॥ 🌿🌿भावार्थ:-श्री रघुनाथजी की भक्ति संजीवनी जड़ी है। श्रद्धा से पूर्ण बुद्धि ही अनुपान (दवा के साथ लिया जाने वाला मधु आदि) है। इस प्रकार का संयोग हो तो वे रोग भले ही नष्ट हो जाएँ, नहीं तो करोड़ों प्रयत्नों से भी नहीं जाते॥ 🌹🌹 जानिअ तब मन बिरुज गोसाँई। जब उर बल बिराग अधिकाई॥ सुमति छुधा बाढ़इ नित नई। बिषय आस दुर्बलता गई॥ 🌿🌿भावार्थ:-हे गोसाईं! मन को निरोग हुआ तब जानना चाहिए, जब हृदय में वैराग्य का बल बढ़ जाए, उत्तम बुद्धि रूपी भूख नित नई बढ़ती रहे और विषयों की आशा रूपी दुर्बलता मिट जाए॥ 🌹🌹 बिमल ग्यान जल जब सो नहाई। तब रह राम भगति उर छाई॥ सिव अज सुक सनकादिक नारद। जे मुनि ब्रह्म बिचार बिसारद॥ 🌿🌿भावार्थ:-इस प्रकार सब रोगों से छूटकर जब मनुष्य निर्मल ज्ञान रूपी जल में स्नान कर लेता है, तब उसके हृदय में राम भक्ति छाई रहती है। शिवजी, ब्रह्माजी, शुकदेवजी, सनकादि और नारद आदि ब्रह्मविचार में परम निपुण जो मुनि हैं,॥ 🌹🌹सब कर मत खगनायक एहा। करिअ राम पद पंकज नेहा॥ श्रुति पुरान सब ग्रंथ कहाहीं। रघुपति भगति बिना सुख नाहीं॥ 🌿🌿भावार्थ:-हे पक्षीराज! उन सबका मत यही है कि श्री रामजी के चरणकमलों में प्रेम करना चाहिए। श्रुति, पुराण और सभी ग्रंथ कहते हैं कि श्री रघुनाथजी की भक्ति के बिना सुख नहीं है॥ 🌹🌿🌹प्रभु श्री राम चंद्र जी सभी का सदा कल्याण करें सदा मंगल प्रदान करें जय श्री राम जी 🌹🌿🌹🌿🙏

+365 प्रतिक्रिया 106 कॉमेंट्स • 249 शेयर
Archana Singh May 11, 2021

+288 प्रतिक्रिया 70 कॉमेंट्स • 217 शेयर
SunitaSharma May 11, 2021

+162 प्रतिक्रिया 35 कॉमेंट्स • 151 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB