Dhananjay Pandey
Dhananjay Pandey Dec 29, 2016

द्वारिकाधीश जी सोमनाथ मन्दिर

द्वारिकाधीश जी  सोमनाथ मन्दिर
द्वारिकाधीश जी  सोमनाथ मन्दिर

द्वारिकाधीश जी सोमनाथ मन्दिर

+20 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
santosh Rao Deshmukh Oct 24, 2020

+5 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 0 शेयर
santosh Rao Deshmukh Oct 24, 2020

+3 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
santosh Rao Deshmukh Oct 24, 2020

+2 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Roshan Oct 24, 2020

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
santosh Rao Deshmukh Oct 24, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
santosh Rao Deshmukh Oct 24, 2020

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

🙏 मन चंचल है गति प्रबल, मन का कौन उपाय, 🌷 जो इस मन को साध ले, वो हरि को पा जाय। 🙏 हे प्रभु ! मेरा मन मेरा चित्त बडा़ ही चंचल है । ये बार बार तुम्हारी लगन छोड़कर दुनिया की ओर भागता है । इसे आप संभालो। इसे हर पल हर क्षण अपनी शरण में अपने चरण में रहना सिखा दो l हे दयासिंधु मुझ नादान पर कृपा करो और मुझे अपनी शरण में रखो। आप मुझ पर अपनी कृपा दृष्टि बरसाओ और मुझे अपनी सेवा में रखलो l हे प्रभु! आप मेरे ऊपर अपने आशीर्वाद का वरदहस्त रखिये जिससे मेरे अंदर सात्विक वृत्तियाँ ( क्षमा, सरलता, स्थिरता, अहंकार शून्यता आदि ) जागृत हो। और अंतःकरण में मलिन करने वाली सभी क्षुद्र भावनाओं , काम क्रोध लोभ मोह ईर्ष्या द्वेष आदि आसुरी बृत्तिओं पर मैं विजय पा सकूँ । प्रभु से प्रार्थना व भक्ति से ही हम प्रभु की कृपा के पात्र बन सकते हैं l 🌷 भक्ति पlने के लिए किसी ज्ञान, धन, स्वरूप की जरूरत नहीं होती। यह अपने आराध्य #कृष्ण के प्रति #अटूट_विश्वास से और #गुरु पर पूर्ण विश्वास से प्राप्त होती है । भक्त का संसार उसके आराध्य - प्राणनाथ है , और दूसरा कोई संसार नहीं l जब भी भक्त को कोई दुःख तकलीफ आती है, उसका करुण हृदय किसी संसार के लोगो को नहीं पुकारता, भक्त का हृदय केवल हरि का ही आश्रय लेता है, वह अपने हर दुःख दर्द में, ख़ुशी - प्रसन्नता में केवल अपने प्रभु को याद करता है, क्योंकि भक्त ही जानता है कि केवल और केवल भगवान् के साथ जो उसका सम्बन्ध है वही शाश्वत सम्बन्ध है, वरना संसार के सम्बन्ध तो झूठे है, नश्वर है, दु:खो को देने वाले, माया मोह ईर्ष्या में डालने वाले है l 🌷 दीनदयाल, करुणानिधि प्रभु में निज भक्तों के लिये अपार ममता होती है l जब भक्त की निश्छल प्रेम और सरल हृदय के भाव की करुण पुकार प्रभु तक पहुचती है तो प्रभु भी अपने आप को रोक नहीं पाते, और दौड़े चले आते है । संसार के सब कर्म निभाते हुए, मन मे केवल प्रभु हरि जी को याद रखते हुए भक्ति पथ पे चले । प्रभु तो प्रेम को डोरी में स्वयं ही बंधने के लिये तत्पर रहते है, परन्तु उन्हें निश्चल प्रेम की डोरी में बांधना वाला विरला ही कोई होता है। इस संसार में कई ऐसे भी भक्तवृंद हुए है, जिनके पूर्ण समर्पण के भाव से उन्हें प्रिय प्रभु की प्राप्ति हुई है। अगर हम लोग भी अपने हृदय में उन भक्तों के सदृश्य अंश मात्र भी प्रभु प्रेम की ज्योत पूर्ण समर्पण भाव से जगा ले तो प्रभु कृपा की प्राप्ति में लेष मात्र भी संशय नहीं है। 🌷 🙏 जय श्री कृष्ण, श्री कृष्ण शरणम् , प्रेम से बोलो... राधे राधे 🍁🌺🌺🌺🌺🌺🌺 🙏 🌹 जय माता दी 🌹 🙏 *सुझाव......नगर निगम की कचरा संग्रहण गाड़ी मे एक बाल्टी ,गाय को दी जाने वाली रोटी के लिये लगा दी जानी चाहिए इसे देख कर जो लोग सड़क पर रोटियां यूँ ही फेंक दिया करते है वो सड़क पर नही फेंकेंगे और इसे देख कर जो लोग रोटियां नही देते है या नही दे पाते है वे भी गाय के नाम की रोटियां देना शुरू कर देंगे सुझाव अच्छा लगे तो आगे भेजें.* *गौ माता को प्रणाम* *जय जय श्री राम* 🙏🙏🙏🙏🙏🍅✴☀❣जय मां अंबे भवानी ❣☀✴🍅❣ 🍂🐚 गंगा गीता गायत्री 🍂🐚 (¯`•.•´¯) *`•.¸(¯`•.•´¯)¸.•´ `•.¸.•´ ჱܓ*“ 🍅✴☀✴☀✴☀✴☀✴☀✴☀✴🍅 ☆*´¨`☽  ¸.★* ´¸.★*´¸.★*´☽ (  ☆** Ψ त्रिवेणी घाट हरिद्वार .Ψ `★.¸¸¸. ★• ° 🙏सेवक भरत व्यास बांगा हिसार हरिद्वार . 🚩 🔴🎪🔴 🌺🔴🌺🔴🌺🔴🌺🔴🌺🔴🌺 🔴 ਕੁਦਰਤ ਨੇ ਸਭ ਨੂੰ ਤਾਕਤ ਦਿੱਤੀ ਕਿਸੇ ਨੂੰ ਦੁੱਖ ਦੇਣ ਦੀ , ਕਿਸੇ ਨੂੰ ਦੁੱਖ ਸਹਿਣ ਦੀ।

+8 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Suraj yadav Oct 24, 2020

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
VINAY SINGH 21KANPUR Oct 24, 2020

+7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB