aman dadhich
aman dadhich Jun 11, 2018

स्वच्छ भारत का इरादा

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Anilkumar Tailor Feb 24, 2021

+11 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 41 शेयर
Anilkumar Tailor Feb 24, 2021

+5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 20 शेयर

रुकिए कई हम जीवन काट तो नहीं रहे हैं? असल में हजारों-लाखों लोग अवसाद के एक ऐसे दौर से गुज़र रहे है जहां उन्हें पता ही नहीं चलता कि वो अवसाद में है दिन भर सारा समय ऐसे विचारों में खोए रहना जिनका ज़िन्दगी से कोई वास्ता ही नहीं और अंत में कहीं न पहुँचना। जीवन हमारी सोच से बहुत ज्यादा बड़ा है लेकिन हम व्यर्थ ही बस जी रहे है।  इस लॉक डाउन ने बहुत कुछ सिखाया है और बहुत कुछ सीखना बाकी है। मेरे अपने अनुभव से मैं आपसे ये साझा करना चाहता हूं। क्या आप जानते है कि अवसाद का एक बड़ा कारण हमारे हाथ में मौजूद ये फोन भी है। पहले जब फोन अस्तित्व में आया था तब फोन हमारे कंट्रोल में था लेकिन अब हमारा जीवन फोन के कंट्रोल में आ चुका है। तरह-तरह की एप्प और विज्ञापन हमारी ज़िंदगी में बहुत बुरा असर डाल रहे है। मैंने देखा है आसपास के लोगों को जो दिनभर गेम और फोन में व्यस्त रहकर चिड़चिड़े हो चुके है, उनकी सहन करने की क्षमता दिन ब दिन खत्म होती जा रही है, उनका गुस्सा उनका अहंकार उनको दीमक की तरह खोखला किए जा रहा है।  इन दिनों अध्यात्म का महत्व समझ आया है। प्रकृति से जुड़े हुए तो पहले ही थे। प्रकृति और अध्यात्म परस्पर एक दूसरे से जुड़े हुए है। हर किसी को अपने जीवन में कुछ-कुछ मात्रा में आध्यात्मिक होना ही चाहिए। हमारे समाज में एक भ्रांति फैली हुई है कि व्यक्ति को अपनी उम्र के अंतिम वक़्त या बूढ़े होने पर ही अध्यात्म की तरफ जाना चाहिए जो बिल्कुल बेतुकी और बकवास बात है। असल में मौजूदा वक़्त में सिर्फ अध्यात्म ही एक ऐसा रास्ता है जो आपको जीवन जीना सीखा सकता है। अध्यात्म का मतलब कतई किसी धर्म से नहीं है। अध्यात्म अपने आप में एक खूबसूरत सा रास्ता है, जिसपर चलकर आप जीवन को समझते है जीवन के मूल्यों को समझते है।  आप ही सोचिए आपने आखिरी दफ़ा सुकून से बैठे हुए ढलते हुए सूरज को कब देखा था? बारिश की बूंदों को आखिरी दफ़ा कब महसूस किया था? हम जिन साँसों के सहारे अपना जीवन जी रहे है वो महज़ सांसे नहीं है बल्कि जीवन की नदी का पानी है। पानी बिन नदी का भला क्या अस्तित्व होगा? आँख बंद करके सांसों को ध्यान से सुने हुए और महसूस करे हुए भी आपको अरसा बीत गया होगा न? मुझे लगता है हम जिस रास्ते पर चल रहे है हमें एक दफ़ा ठहरना चाहिए। ठहरकर सोचना चाहिए कि क्या यही वो रास्ता है जहां जिसपर मैं चलना चाहता हूं।  मंज़िल जैसी कोई चीज असल में होती ही नहीं है। हमें जीवनभर रास्तों पर ही चलना होता है। जिन रास्तों पर हम चलते है उनपर चलने का निर्णय भी हमारा स्वयं का होता है, फिर अगर ज़िन्दगी से हम नाखुश होते है तो इसमें दोष कतई ज़िन्दगी का नहीं है। हम अगर ठहरकर झांककर देखे, तो पाएंगे कि सत्य असल में कुछ और है ये जो मैं जी रहा हूँ वो ज़िन्दगी नहीं कुछ और है। ज़िन्दगी तो इस सृष्टि का सबसे खूबसूरत तोहफा है। बातों का अर्थ इतना ही है कि हम जब कह रहे होते है कि जीवन कट रहा है तो असल में ये खतरनाक ख़याल को जन्म दे रहे होते है। हमें जीवन जीने के लिए मिला। जीवन जीने और काटने में फर्क होता है। ख़ुद से जरूर सवाल कीजियेगा कहीं हम जीवन काट तो नहीं रहे? जय श्री सुर्य नारायण 🌅 जय श्री गुरुदेव दत्त जय श्री स्वामी समर्थ जय श्री गजानन महाराज जय श्री साई नाथ महाराज 👑 नमस्कार शुभ प्रभात वंदन 🌹👏शुभ गुरुवार जय श्री लक्ष्मी नारायण 🙏 🐚 🌹 💐 नमस्कार 🙏 🚩 आप सभी मित्रों को 🙏 🚩

+6 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 13 शेयर

+7 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 17 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 14 शेयर

+1 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 2 शेयर

जय श्री लक्ष्मी नारायण जय श्री कुबेर देव महाराज 👑 👏 🚩 समुद्र मंथन से जब मां लक्ष्मी प्रकट हुई तब उनके हाथ में स्वर्ण से भरा कलश था, जिसमें से वह धन की वर्षा करती हैं। वहीं, माता लक्ष्मी के 8 रूप धनलक्ष्मी, आदिलक्ष्मी, धान्यलक्ष्मी, संतानलक्ष्मी, गजलक्ष्मी, विजयलक्ष्मी, वीरलक्ष्मी, विद्यालक्ष्मी माने जाते हैं। "दुर्भाग्य की देवी" माता अलक्ष्मी माता लक्ष्मी के बारे में तो पूरा संसार जानता है लेकिन उनकी एक बड़ी बहन भी थी देवी अलक्ष्मी। भागवत महापुराण के अनुसार, देवी अलक्ष्मी समुद्र मंथन के दौरान 14 रत्न के साथ बाहर निकली थी लेकिन आसुरी शक्तियों की शरण में जाने की वजह से उन्हें 14 रत्नों में नहीं गिना जाता। मां लक्ष्मी धन की देवी है जबकि माता अलक्ष्मी को गरीबी व दरिद्रता और दुर्भाग्य की देवी कहा जाता है। मां लक्ष्मी के माने जाते हैं दो रूप मान्यता है कि जहां भगवान विष्णु की पूजा-अर्चना होती हैं वहां मां लक्ष्मी जरूर वास करती है। लक्ष्मीजी को श्रीरूप और लक्ष्मी रूप को देमें देखा जाता है। श्रीरूप में वह कमल और लक्ष्मी रूप में वह भगवान विष्णु के साथ विराजमान होती हैं। महाभारत में लक्ष्मी के 'विष्णुपत्नी लक्ष्मी' एवं 'राज्यलक्ष्मी' दो प्रकार बताए गए हैं। अन्न का रूप भी है देवी लक्ष्मी माता लक्ष्मी का एक रूप अन्न भी है। जो लोग जरा-सा गुस्सा आने पर भोजन की थाली फेंक देते हैं या अन्न का अपमान करते हैं उनके घर धन, वैभव एवं पारिवारिक सुख नहीं टिकता। ॐ गं गणपतये नमः 👏 जय श्री गुरुदेव 👣 💐 👏 जय श्री लक्ष्मी नारायण जय श्री लक्ष्मी माता की जय हो भोलेनाथ जय श्री पार्वती माता की जय हो ब्रम्ह देव जय श्री सरस्वती माता की जय श्री राम जय श्री सिता माता की जय श्री कृष्ण जय श्री राधे माता की जय श्री अन्न पूर्णा माता की 💐 👏 नमस्कार शुभ प्रभात वंदन 🌅 शुभ गुरुवार जय श्री गुरुदेव दत्त 👣 💐 👏 🚩 🐚 🌹 नमस्कार 🙏 🚩

+8 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 13 शेयर
Anilkumar Tailor Feb 24, 2021

+6 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 10 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB