भोलेनाथ
भोलेनाथ Aug 31, 2017

मुरुदेश्वर मंदिर दर्शन।

मुरुदेश्वर कर्नाटक के तट पर तीर्थयात्रा करने के लिये एक छोटी जगह है, जो मैंगलोर अंतर्राष्ट्रीय हवाई अड्डे से 160 कि.मी. उत्तर में स्थित है। “मुरुदेश्वर” भगवान शिव का दूसरा नाम है। मुरुदेश्वर समुद्र तट के पास दो खूबसूरत मंदिर हैं जिनमें राजसी प्रतिमाएं हैं। यह छोटा और सुंदर शहर दुनिया की दूसरी सबसे ऊंची भगवान शिव की मूर्ति और मुरुदेश्वर मंदिर के लिए प्रसिद्ध है जिसमें 20 मंजिला उच्च गोपीरा मंदिर के अंदर की ओर जाने वाली सीढ़ियों पर दो जीवंत कंक्रीट के हाथी रक्षा कर रहे हैं।
मुरुदेश्वर मंदिर कंडुका पहाड़ी पर बनाया गया है, जो कि तीनों तरफ से अरब सागर से घिरा हुआ है। यह मंदिर भगवान शिव को समर्पित है और अन्य सभी प्रमुख दक्षिण भारतीय मंदिरों की तरह मंदिर में 20 मंजिला गोपुरा बना हुआ है। यह 249 फुट लंबा दुनिया का सबसे बड़ा गोपुरा माना जाता है। इसका मौजूदा स्वरूप व्यवसायी और समाज-सेवी आर एन शेट्टी द्वारा बनवाया गया था। मुरुदेश्वर मंदिर का पूरी तरह से आधुनिकीकरण किया गया है। जो कि पवित्र मंदिर के आक्षेप के साथ है। जो अभी भी अंधेरा है और इसके ढांचे को बरकरार रखता है।

+228 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 68 शेयर

कामेंट्स

Manoj Chawda Sep 1, 2017
नमः शिवाय, धन्यवाद शिव शिवा, धन्यवाद बाबाजी

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB