मायमंदिर फ़्री कुंडली
डाउनलोड करें

जय हनुमानजी कल्याण करो

+15 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 25 शेयर
Queen Jun 18, 2019

+599 प्रतिक्रिया 118 कॉमेंट्स • 182 शेयर

वीर वीरांगना रानी लक्ष्मीबाई जी की पूण्यतिथी पर शत्- शत् नमन।1857 के भारतीय स्वतंत्रता संग्राम की नायिका झांसी की रानी को हमारी विनम्र श्रद्धांजलि सिंहासन हिल उठे राजवंशों ने भृकुटी तानी थी, बूढ़े भारत में आई फिर से नयी जवानी थी, गुमी हुई आज़ादी की कीमत सबने पहचानी थी, दूर फिरंगी को करने की सबने मन में ठानी थी। चमक उठी सन सत्तावन में, वह तलवार पुरानी थी, बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।। कानपूर के नाना की, मुँहबोली बहन छबीली थी, लक्ष्मीबाई नाम, पिता की वह संतान अकेली थी, नाना के सँग पढ़ती थी वह, नाना के सँग खेली थी, बरछी ढाल, कृपाण, कटारी उसकी यही सहेली थी। वीर शिवाजी की गाथायें उसकी याद ज़बानी थी, बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।। लक्ष्मी थी या दुर्गा थी वह स्वयं वीरता की अवतार, देख मराठे पुलकित होते उसकी तलवारों के वार, नकली युद्ध-व्यूह की रचना और खेलना खूब शिकार, सैन्य घेरना, दुर्ग तोड़ना ये थे उसके प्रिय खिलवार। महाराष्टर-कुल-देवी उसकी भी आराध्य भवानी थी, बुंदेले हरबोलों के मुँह हमने सुनी कहानी थी, खूब लड़ी मर्दानी वह तो झाँसी वाली रानी थी।

+575 प्रतिक्रिया 59 कॉमेंट्स • 201 शेयर
Neha Kaushik Jun 18, 2019

+151 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 90 शेयर

+304 प्रतिक्रिया 64 कॉमेंट्स • 253 शेयर

+393 प्रतिक्रिया 69 कॉमेंट्स • 401 शेयर
Raju Tiwari Jun 18, 2019

+19 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB