madanpal singh
madanpal singh Apr 7, 2020

🌷🕉️🙏 jai shree radhe radhe Jiii 🌷 🌷🕉️🙏 Jai shree Karisana Jiiii 🌷🕉️🌷🕉️🙏 Shubh parbhat jiiií 🙏🕉️🌷🌹🕉️🙏 AAL my mandir family jiiii 🌹🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺🌺

+366 प्रतिक्रिया 34 कॉमेंट्स • 3 शेयर

कामेंट्स

Pawan Saini Apr 8, 2020
सुबह की राम राम भाई जी 🙏 ऊं श्रीं हनुमंते नमः 🚩 आप और आपके परिवार को हनुमान जयंती की हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं भाई जी 🙏 आप का हर एक पल मंगलमय हो शुभ प्रभात स्नेह वंदन भाई जी 🙏

Mansing Sumaniya Apr 8, 2020
Jay Ram Ram ji bhai ji apka din subh or magalmay ho Shiv Shiv 🕉️🕉️🙏🕉️🕉️.

seema soni Apr 8, 2020
Good morning ji jai shree ram ji hanuman jayanti ki hardik shubhkamnaye ji have a great day jiiiiiii🙏🙏🌹🌹🕉️🕉️🌿🌿😷😷🍎🍎🍎👈😊😊🙏🙏🙏🙏

Rk Soni(Ganesh Mandir) Apr 8, 2020
जय गणेश देवा जी🙏 🙏जय पवन पुत्र हनुमान आप व आपके परिवार को हनुमान जयंती की शुभकामनाए एवं बधाई।आप हर पल खुश २हे🌹🌹🌹🌹🌹🌹🙏🙏🙏

Minakshi Tiwari Apr 8, 2020
Ram Ram ji Jay Veer Hanuman good morning Ji Hanuman Jayanti ki aapko Hardik shubhkamnaen have a nice day

Archana Singh Apr 8, 2020
जय श्री राम 🙏🌹आपको और आपके समस्त परिवार को हनुमान जयंती की शुभकामनाएं भाई जी श्री राम भक्त हनुमान जी आपका सदैव मंगल करें🙏🙏🌹🌹

Dr. SEEMA SONI Apr 8, 2020
राम राम भैयाजी 🙏ॐ श्री गणेशाय नमः 🌹🙏श्री हनुमानजी की जन्मोत्सव की हार्दिक शुभकामनाएं जी 🌹🙏श्री गणेशजी और श्री हनुमान जी के आशीर्वाद से आपके सभी दुख दूर हो आपके घर परिवार में सुख शांति बनी रहे भैयाजी

Renu Singh Apr 8, 2020
Ram Ram Bhai ji 🙏🌹 Jai Shree Radhe Krishna Ji 🙏 Hanuman Janmotsav ki Hardik Shubh Kamnayein Bhai ji 🙏🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹

🌼कृष्णा🌼 Apr 8, 2020
🌷🚩🌷राम राम भाई जी जय श्री राम भक्त हनुमान जी की भाई जी,श्री हनुमान जन्मोत्सव की मंगल शुभकामनाएं,प्रभु आपका मंगल करें जी🌹🌹🙏🌹🌹

Neha Sharma, Haryana Apr 8, 2020
जय श्री राधेकृष्णा 🥀🙏🏼 शुभ बुधवार🙏🥀 ईश्वर👣 की असीम कृपा ✋ आप और आपके परिवार 👨‍👩‍👧‍👦 पर सदैव बनी रहे जी 🙏 आपका हर पल शुभ व मंगलमय 🔯 हो आदरणीय भाई जी 🙏🙏

Vijay Pandey Apr 8, 2020
जय सियाराम ‌🌷🙏 शुभ संध्या की शुभ मंगल कामनाएं भाई शिव स्वरूप महाबली हनुमान जी महाराज जी के जन्मोत्सव की खूब खूब बधाई एवं हार्दिक शुभकामनाएं भाई, श्री हनुमान जी महाराज की कृपा से आपके घर परिवार में सुख शांति समृद्धि और आरोग्यता हमेशा बनी रहे, आप और आपका परिवार सदा स्वस्थ एवं सुखी रहे ‌🌷🙌

Lalan Singh Apr 8, 2020
जय श्री राम 🙏🌹🙏 शुभ संध्या 🌼🙏

Brajesh Sharma Apr 8, 2020
जय श्री गणेश जी हमारी राम राम सा जय जय श्री राधे कृष्णा जी मारुती नंदन नमो नम: ॐ नमःशिवाय हनुमान जन्मोत्सव की आप सभी को हार्दिक शुभकामनाएं

radha सोनी Apr 8, 2020
जय श्री राधे राधे जी हनुमान जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं जी आप आपका परीवार हमेशा खुश रहे जी आपहमेशा खुश मुस्कुराते रहे शुभ रात्रि गुडमोर्निगजी अति सुन्दर सुपर से भीउपर💯💯💯💯💯💯🚩🚩🚩🚩🚩🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏😁😁😁😁☕️☕️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️❤️

Vijay Pandey Apr 9, 2020
🙏🌷🌷🚩 ऊं नमो नारायणाय शुभ प्रभात की शुभ मंगल कामनाएं भाई भगवान श्री वासुदेव जी आपका सदा मंगल करें, आप और आपका परिवार सदा स्वस्थ एवं सुखी रहे भाई ‌🌷🙌😂

*प्राचीनकाल में गोदावरी नदी के किनारे वेदधर्म मुनि का आश्रम था। एक दिन गुरुजी ने अपने शिष्यों से कहा की- शिष्यों! अब मुझे कोढ़ निकलेगा और मैं अंधा भी हो जाऊँगा, इसिलिए काशी में जाकर रहूँगा। है कोई शिष्य जो मेरे साथ रह कर सेवा करने के लिए तैयार हो ? सब चुप हो गये। उनमें संदीपनी ने कहा- गुरुदेव! मैं आपकी सेवा में रहूँगा। गुरुदेव ने कहा इक्कीस वर्ष तक सेवा के लिए रहना होगा। संदीपनी बोले इक्कीस वर्ष तो क्या मेरा पूरा जीवन ही अर्पित है आपको। वेदधर्म मुनि एवं संदीपन काशी में रहने लगे । कुछ दिन बाद गुरु के पूरे शरीर में कोढ़ निकला और अंधत्व भी आ गया । शरीर कुरूप और स्वभाव चिड़चिड़ा हो गया । संदीपनी के मन में लेशमात्र भी क्षोभ नहीं हुआ । वह दिन रात गुरु जी की सेवा में तत्पर रहने लगा । गुरु को नहलाता, कपड़े धोता, भिक्षा माँगकर लाता और गुरुजी को भोजन कराता । गुरुजी डाँटते, तमाचा मार देते... किंतु संदीपनी की गुरुसेवा में तत्परता व गुरु के प्रति भक्तिभाव और प्रगाढ़ होता गया।* *गुरु निष्ठा देख काशी के अधिष्ठाता देव विश्वनाथ संदीपनी के समक्ष प्रकट होकर बोले- तेरी गुरुभक्ति देख कर हम प्रसन्न हैं । कुछ भी वर माँग लो । संदीपनी गुरु से आज्ञा लेने गया और बोला भगवान शिवजी वरदान देना चाहते हैं, आप आज्ञा दें तो आपका रोग एवं अंधेपन ठीक होने का वरदान मांग लूँ ? गुरुजी ने डाँटा,बोले- मैं अच्छा हो जाऊँ और मेरी सेवा से तेरी जान छूटे यही चाहता है तु ? अरे मूर्ख ! मेरा कर्म कभी-न-कभी तो मुझे भोगना ही पड़ेगा । संदीपनी ने भगवान शिवजी को वरदान के लिए मना कर दिया। शिवजी आश्चर्यचकित हो गये और गोलोकधाम पहुंच के श्रीकृष्ण से पूरा वृत्तान्त कहा। श्रीकृष्ण भी संदीपनी के पास वर देने आये। संदीपनी ने कहा- प्रभु! मुझे कुछ नहीं चाहिए। आप मुझे यही वर दें कि गुरुसेवा में मेरी अटल श्रद्धा बनी रहे।* *एक दिन गुरुजी ने संदीपनी को कहा कि- मेरा अंत समय आ गया है। सभी शिष्यों से मिलने की इच्छा है । संदीपनी ने सब शिष्यों को सन्देश भेज दिया। सारे शिष्य उनके दर्शन के लिए आये। गुरुजी ने सभी शिष्यों कुछ न कुछ दिया । किसी को पंचपात्र, किसी को आचमनी , किसी को आसन किसी को माला दे दी । जब संदीपनी का आये तो सभी वस्तुएं समाप्त हो चुकी थी । गुरुजी चुप हो गए,फिर बोले कि मैं तुम्हे क्या दूँ ? तुम्हारी गुरूभक्ति के समान मेरे पास देने के लिए कुछ भी नहीं है । मैं तुम्हें यह वर देता हूँ कि- त्रिलोकी नाथ का अवतार होने वाला है, वह तुम्हारे शिष्य बनेंगे । संदीपनी के लिए इससे बड़ी भेंट और क्या होती । उन्होंने गुरूजी की अंत समय तक सेवा की। जब श्रीकृष्ण अवतार हुआ तो गुरुजी के दिए उस वरदान को फलीभूत करने के लिए स्वयं भगवान श्रीकृष्ण ने दूर उज्जैन में स्थित संदीपनी ऋषि के आश्रम में भ्राता बलराम जी के साथ आए और संदीपनी ऋषि के शिष्य बने... ऐसी है गुरुभक्ति की शक्ति। इसिलिए गुरुभक्ति ही सार है... राधे राधे...संगृहीत कथा*🙏🚩

+129 प्रतिक्रिया 24 कॉमेंट्स • 140 शेयर
rekha sunny May 10, 2020

+102 प्रतिक्रिया 18 कॉमेंट्स • 78 शेयर
rekha sunny May 10, 2020

+50 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 34 शेयर
Sanjay Singh May 10, 2020

+104 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 18 शेयर
Sanjay Singh May 10, 2020

+65 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 28 शेयर
BIJAY PANDAY May 10, 2020

+50 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 14 शेयर
rekha sunny May 10, 2020

+67 प्रतिक्रिया 17 कॉमेंट्स • 29 शेयर
Sharma May 10, 2020

+26 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 14 शेयर
Meena Dubey May 10, 2020

+24 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 15 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB