हार-जीत का फैसला !

हार-जीत का फैसला !

बहुत समय पहले की बात है। आदि शंकराचार्य और मंडन मिश्र के बीच सोलह दिन तक लगातार शास्त्रार्थ चला। शास्त्रार्थ मेँ निर्णायक थीँ- मंडन मिश्र की धर्म पत्नी देवी भारती। हार-जीत का निर्णय होना बाक़ी था, इसी बीच देवी भारती को

किसी आवश्यक कार्य से कुछ समय के लिये बाहर जाना पड़ गया।

लेकिन जाने से पहले देवी भारती नेँ दोनोँ ही विद्वानोँ के गले मेँ एक-एक फूल माला डालते हुए कहा, येँ दोनो मालाएं मेरी अनुपस्थिति मेँ आपके हार और जीत का फैसला करेँगी। यह कहकर देवी भारती वहाँ से चली गईँ। शास्त्रार्थ की प्रकिया आगे चलती रही।

कुछ देर पश्चात् देवी भारती अपना कार्य पुरा करके लौट आईँ। उन्होँने अपनी निर्णायक नजरोँ से शंकराचार्य और मंडन मिश्र को बारी- बारी से देखा और अपना निर्णय सुना दिया। उनके फैसले के अनुसार आदि शंकराचार्य विजयी घोषित किये गये और उनके पति मंडन मिश्र की पराजय हुई थी।

सभी दर्शक हैरान हो गये कि बिना किसी आधार के इस विदुषी ने अपने पति को ही पराजित करार दे दिया। एक विद्वान नेँ देवी भारती से नम्रतापूर्वक जिज्ञासा की- हे ! देवी आप तो शास्त्रार्थ के मध्य ही चली गई थीँ फिर वापस लौटते ही आपनेँ ऐसा फैसला कैसे दे दिया ?

देवी भारती ने मुस्कुराकर जवाब दिया- जब भी कोई विद्वान शास्त्रार्थ मेँ पराजित होने लगता है, और उसे जब हार की झलक दिखने लगती है तो इस वजह से वह क्रुध्द हो उठता है और मेरे पति के गले की माला उनके क्रोध की ताप से सूख चुकी है जबकि शंकराचार्य जी की माला के फूल अभी भी पहले की भांति ताजे हैँ। इससे ज्ञात होता है कि शंकराचार्य की विजय हुई है।

विदुषी देवी भारती का फैसला सुनकर सभी दंग रह गये, सबने उनकी काफी प्रशंसा की।

दोस्तोँ क्रोध मनुष्य की वह अवस्था है जो जीत के नजदीक पहुँचकर हार का नया रास्ता खोल देता है। क्रोध न सिर्फ हार का दरवाजा खोलता है बल्कि रिश्तोँ मेँ दरार का कारण भी बनता है। इसलिये कभी भी अपने क्रोध के ताप से अपने फूल रूपी गुणों को  मुरझाने मत दीजिये।

#Stay_blessed_dear_friends

Like Pranam Belpatra +188 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 144 शेयर

कामेंट्स

dheeraj patel Nov 3, 2017
अति सुन्दर प्रणाम 🌹🙏🙏🌹

Kanchan Bhagat Nov 4, 2017
राधे राधे ,ऊँ नमो भगवते वासुदेवाय

Dhanraj Maurya Oct 23, 2018

Om jai jai Om

Pranam Bell +6 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 86 शेयर

Belpatra Like Lotus +77 प्रतिक्रिया 26 कॉमेंट्स • 242 शेयर

Like Pranam Flower +139 प्रतिक्रिया 26 कॉमेंट्स • 444 शेयर
Dhanraj Maurya Oct 23, 2018

Om Jai Jai Om

Bell +1 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 52 शेयर
Ramkumar Verma Oct 23, 2018

Good night to all friend

Pranam Flower Like +63 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 492 शेयर

वेदान्ती चेतना --- ५

तत्व की प्राप्ति या आत्मज्ञान की प्राप्ति जीवन की सबसे बड़ी माँग है।
यही यथार्थ में भगवत्प्राप्ति है और ईश्वर-दर्शन का भी यही हेतु है।
इसी के लिए जीवन मिला है, इसी में जीवन की सार्थकता है --
इस बात को चित्त में सुनिश्चित कीजिए...

(पूरा पढ़ें)
Pranam +1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 7 शेयर
Dhanraj Maurya Oct 23, 2018

Om jai jai

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 26 शेयर

Like Pranam Dhoop +153 प्रतिक्रिया 57 कॉमेंट्स • 419 शेयर
Harshita Malhotra Oct 23, 2018

Bell Pranam Like +38 प्रतिक्रिया 28 कॉमेंट्स • 165 शेयर
Harshita Malhotra Oct 23, 2018

Pranam Like Flower +77 प्रतिक्रिया 40 कॉमेंट्स • 247 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB