Swamini
Swamini Nov 17, 2017

vitthala tu Veda kumbhar , vitthal bhakti song

https://youtu.be/mGC6ady_btg

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

हे दिनकर आप प्रभाव आते लाते नया सबेरा काट देते घना अधेरा। 🙏उसी तरह से नीलकंठ शिव शंकर शम्भू संकठ व गमों का जाल काट कर देते जीवन में खुशियों का वसेरा। . 🔱हे त्रिपुरारी त्रिनेत्र धारी आपके हाथ जीवन की पतवार हमारी। . 🙏संकठ हर भक्तों को करिए सनाथ आप ही तो नाथों के नाथ। हर दिन दिल💞 से आपको प्रणाम।🛐_श्रीहरिः_ 🍃 _*मन न लगे तो नाम-भगवान् से प्रार्थना करनी चाहिए— हे नाम– भगवन! तुम दया करो, तुम्ही साक्षात् मेरे प्रभु हो; अपने दिव्य प्रकाश से मेरे अंतःकरण के अंधकार का नाश कर दो। मेरे मन के सारे मल को जला दो। तुम सदा मेरी जीह्वा पर नाचते रहो और नित्य-निरंतर मेरे मन में विहार करते रहो। तुम्हारे जीभ पर आते ही मैं प्रेम-सागर में डूब जाऊं; सारे जगत् को, जगत् के सारे संबंधों को, तन-मन को, लोक-परलोक को, स्वर्ग-मोक्ष को, भूलकर केवल प्रभु के– तुम्हारे प्रेम में ही निमग्न हो रहूँ। लाखों जिह्वाओं से तुम्हारा उच्चारण करूं, लाखों-करोड़ों कानों से मधुर नाम-ध्वनि को सुनूँ और करोड़ों-अरबों मनों से दिव्य नामानन्द का पान करूं। तृप्त होऊँ ही नहीं। पीता ही रहूं नाम-सुधा को और उसी में समाया रहूं।'*_ *🙏🏻शुभ दिन वंदन🙏🏻* *🌹🌹राधे राधे🌹🌹*👸 *बेटी दिवस की बधाई* 👭 🍀🌹🌹🌹🌹🍀 मेहंदी रोली कंगन का सिँगार नही होता''' रक्षा बँधन भईया दूज का त्योहार नहीं होता'''' रह जाते है वो घर सूने आँगन बन कर'''' जिस घर मे बेटियों का अवतार नहीं होता''' जन्म देने के लिए माँ चाहिये, राखी बाँधने के लिए बहन चाहिये, कहानी सुनाने के लिए दादी चाहिये, जिद पूरी करने के लिए मौसी चाहिए, खीर खिलाने के लिए मामी चाहये, साथ निभाने के लिए पत्नी चाहिये, पर यह सभी रिश्ते निभाने के लिए बेटियां तो जिन्दा रहनी चाहये 🙏😃🌹😃🙏 घर आने पर दौड़ कर जो पास आये, उसे कहते हैं बिटिया 👧 ।। थक जाने पर प्यार से जो माथा सहलाए, उसे कहते हैं बिटिया 👧 ।। "कल दिला देंगे" कहने पर जो मान जाये, उसे कहते हैं बिटिया 👧 ।। हर रोज़ समय पर दवा की जो याद दिलाये, उसे कहते हैं बिटिया 👧 ।। घर को मन से फूल सा जो सजाये, उसे कहते हैं बिटिया 👧 ।। सहते हुए भी अपने दुख जो छुपा जाये, उसे कहते हैं बिटिया 👧 ।। दूर जाने पर जो बहुत रुलाये, उसे कहते हैं बिटिया 👧 ।। पति की होकर भी पिता को जो ना भूल पाये, उसे कहते हैं बिटिया 👧 ।। मीलों दूर होकर भी पास होने का जो एहसास दिलाये, उसे कहते हैं बिटिया 👧 ।। "अनमोल हीरा" जो कहलाये, उसे कहते हैं बिटिया 👧👧👧 ।। अगर आप भी अपनी बेटी को प्यार करते हैं तो आप इसे अपने दोस्तों को अवश्य शेयर करें . 👌👌👌👌🌹🌹🌹🌹🌹👌👌👌👌🌷🌷🌷🌷🌷 [ 🌹 *आज बिटिया दिवस की बधाई देश की सभी गौरव शाली बिटिया व उनके भाग्यशाली पापा और मम्मी को जिन्होंने कम से कम एक बिटिया को दो कुल की रक्षा के लिए जन्म दिया।*🌹🙏 *HAPPY DAUGHTR'S DAY*💃💃💃💃💃🙏🌷🌼🌺🌻🍀🌹🌳🙏🌷🌼🌺🌻🍀🌹🙏 🙏🌹!!जय मां अष्ट भवानी 🌹🙏 🙏🌹🌳🌷🌼🌺🌻🍀🙏🌹🌳🌷🌼🌺🌻🙏 गंगा गीता गायत्री हरिद्वार !! 🙏🍀🌻🌺🌹🌳🌷🌼🙏🍀🌻🌺🌹🌳🌷🙏🌹🌹🌹सेवक भरत व्यास बांगा "जय देवभूमि उत्तराखंड" भगवती गंगा आपको सुख, समृद्धि, वैभव, गुण, रुप, यश प्रदान करें आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण करें " *गौ, गंगा, गीता और गायत्री का सन्मान कीजिये ये सनातन संस्कृति के प्राण स्तंभ है* 🙏 *नमस्कार* 🙏

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
हीरा Sep 27, 2020

+5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 5 शेयर
Sanjay Singh Sep 27, 2020

+34 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 22 शेयर

*📚★प्रेरणादायक कहानी★📚* *🏕️● दर्जी की तकदीर ●🏕️* _◆ एक बार किसी देश का राजा अपनी प्रजा का हाल-चाल पूछने के लिए गाँवों में घूम रहा था। घूमते-घूमते उसके कुर्ते का बटन टूट गया, उसने अपने मंत्री को कहा कि इस गांव में कौन सा दर्जी है, जो मेरे बटन को सिल सके।_ _◆ उस गांव में सिर्फ एक ही दर्जी था, जो कपडे सिलने का काम करता था। उसको राजा के सामने ले जाया गया । राजा ने कहा कि तुम मेरे कुर्ते का बटन सी सकते हो ?_ _◆ दर्जी ने कहा यह कोई मुश्किल काम थोड़े ही है ! उसने मन्त्री से बटन ले लिया, धागे से उसने राजा के कुर्ते का बटन फौरन टांक दिया। क्योंकि बटन भी राजा का था, सिर्फ उसने अपना धागा प्रयोग किया था, राजा ने दर्जी से पूछा कि कितने पैसे दूं ?_ _◆ उसने कहा :- "महाराज रहने दो, छोटा सा काम था।" उसने मन में सोचा कि बटन राजा के पास था, उसने तो सिर्फ धागा ही लगाया है।_ _◆ राजा ने फिर से दर्जी को कहा कि नहीं-नहीं, बोलो कितने दूं ?_ _◆ दर्जी ने सोचा की दो रूपये मांग लेता हूँ। फिर मन में यही सोच आ गयी कि कहीं राजा यह न सोचे की बटन टांकने के मेरे से दो रुपये ले रहा है, तो गाँव बालों से कितना लेता होगा, क्योंकि उस जमाने में दो रुपये की कीमत बहुत होती थी।_ _◆ दर्जी ने राजा से कहा कि :- "महाराज जो भी आपकी इच्छा हो, दे दो।"_ _◆ अब राजा तो राजा था। उसको अपने हिसाब से देना था। कहीं देने में उसकी इज्जत ख़राब न हो जाये। उसने अपने मंत्री को कहा कि इस दर्जी को दो गांव दे दो, यह हमारा हुक्म है।_ _◆ यहाँ दर्जी सिर्फ दो रुपये की मांग कर रहा था पर राजा ने उसको दो गांव दे दिए ।_ _◆ इसी तरह जब हम प्रभु पर सब कुछ छोड़ते हैं, तो वह अपने हिसाब से देता है और मांगते हैं, तो सिर्फ हम मांगने में कमी कर जाते हैं । देने वाला तो पता नहीं क्या देना चाहता है, अपनी हैसियत से और हम बड़ी तुच्छ वस्तु मांग लेते हैं ।_ _*◆ इसलिए संत-महात्मा कहते है, ईश्वर को सब अपना सर्मपण कर दो, उनसे कभी कुछ न मांगों, जो वो अपने आप दें, बस उसी से संतुष्ट रहो। फिर देखो इसकी लीला। वारे के न्यारे हो जाएंगे। जीवन मे धन के साथ सन्तुष्टि का होना जरूरी है।*_ *🌻● जय श्री श्याम●🌻*

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
shiva dubey Sep 27, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
हीरा Sep 27, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर
हीरा Sep 27, 2020

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर
Sanjay Singh Sep 27, 2020

+12 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 12 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB