मायमंदिर फ़्री कुंडली
डाउनलोड करें

भोजन_करने_सम्बन्धी_24_जरुरी_नियम। (1). पांच अंगो ( दोनों हाथ , दोनों पैर , मुख को अच्छी तरह से धो कर ही भोजन करे ! (2). गीले पैरों खाने से आयु में वृद्धि होती है ! (3). प्रातः और सायं ही भोजन का विधान है क्योंकि पाचन क्रिया की जठराग्नि सूर्योदय से 2 घंटे बादतक एवं सूर्यास्त से 2 -3 घंटे पहले तक प्रबल रहती है (4). पूर्व और उत्तर दिशा की ओर मुह करके ही खाना चाहिए ! (5). दक्षिण दिशा की ओर किया हुआ भोजन प्रेत को प्राप्त होता है ! (6). पश्चिम दिशा की ओर किया हुआ भोजन खाने से रोग की वृद्धि होती है ! (7). शैय्या पर , हाथ पर रख कर , टूटे फूटे बर्तनों में भोजन नहीं करना चाहिए ! (8). मल मूत्र का वेग होने पर,कलह के माहौल में,अधिक शोर में,पीपल,वट वृक्ष के नीचे,भोजन नहीं करना चाहिए ! (9). परोसे हुए भोजन की कभी निंदा नहीं करनी चाहिए ! (10). खाने से पूर्व अन्न देवता , अन्नपूर्णा माता की स्तुति कर के , उनका धन्यवाद देते हुए , तथा सभी भूखो को भोजन प्राप्त हो ईश्वर से ऐसी प्राथना करके भोजन करना चाहिए ! (11) . भोजन बनने वाला स्नान करके ही शुद्ध मन से, मंत्र जप करते हुए ही रसोई में भोजन बनाये और सबसे पहले 3 रोटियाँ अलग निकाल कर ( गाय , कुत्ता , और कौवे हेतु ) फिर अग्नि देव का भोग लगा कर ही घर वालो को खिलाये ! (12). ईष्या , भय , क्रोध, लोभ,रोग , दीन भाव,द्वेष भाव,के साथ किया हुआ भोजन कभी पचता नहीं है ! (13). आधा खाया हुआ फल , मिठाईया आदि पुनः नहीं खानी चाहिए ! (14). खाना छोड़ कर उठ जाने पर दुबारा भोजन नहीं करनाचाहिए ! (15). भोजन के समय मौन रहे ! 16). भोजन को बहुत चबा चबा कर खाए ! (17). रात्री में भरपेट न खाए ! (18). गृहस्थ को 32 ग्रास से ज्यादा नही खाना चाहिए ! (19). सबसे पहले मीठा , फिर नमकीन , अंत में कडुवा खाना चाहिए ! (20). सबसे पहले रस दार , बीच में गरिष्ठ ,अंत में द्राव्य पदार्थ ग्रहण करे! (21). थोडा खाने वाले को आरोग्य , आयु , बल , सुख, सुन्दर संतान और सौंदर्य प्राप्त होता है ! (22). जिसने ढिढोरा पीट कर खिलाया हो वहा कभी न खाए ! (23). कुत्ते का छुवा , रजस्वला स्त्री का परोसा, श्राद्ध का निकाला , बासी , मुह से फूक मरकर ठंडा किया , बाल गिरा हुवा भोजन , अनादर युक्त , अवहेलना पूर्ण परोसा गया भोजन कभी न करे ! (24). कंजूस का, राजा का,वेश्या के हाथ का,शराब बेचने वाले का दिया भोजन कभी नहीं करना चाहिए।

भोजन_करने_सम्बन्धी_24_जरुरी_नियम।

(1). पांच अंगो ( दोनों हाथ , दोनों पैर , मुख को अच्छी तरह से धो कर ही भोजन करे !

(2). गीले पैरों खाने से आयु में वृद्धि होती है !

(3). प्रातः और सायं ही भोजन का विधान है क्योंकि पाचन क्रिया की जठराग्नि सूर्योदय से 2 घंटे
बादतक एवं सूर्यास्त से 2 -3 घंटे पहले तक प्रबल रहती है

(4). पूर्व और उत्तर दिशा की ओर मुह करके ही खाना चाहिए !

(5). दक्षिण दिशा की ओर किया हुआ भोजन प्रेत को प्राप्त
होता है !

(6). पश्चिम दिशा की ओर किया हुआ भोजन खाने से रोग की वृद्धि होती है !

(7). शैय्या पर , हाथ पर रख कर , टूटे फूटे बर्तनों में भोजन नहीं करना चाहिए !

(8). मल मूत्र का वेग होने पर,कलह के माहौल
में,अधिक शोर में,पीपल,वट
वृक्ष के नीचे,भोजन नहीं करना चाहिए !

(9). परोसे हुए भोजन की कभी निंदा नहीं करनी चाहिए !

(10). खाने से पूर्व अन्न देवता ,
अन्नपूर्णा माता की स्तुति कर के ,
उनका धन्यवाद देते हुए ,
तथा सभी भूखो को भोजन प्राप्त हो ईश्वर से ऐसी प्राथना करके भोजन करना चाहिए !

(11) . भोजन बनने वाला स्नान करके ही शुद्ध
मन से, मंत्र जप करते हुए
ही रसोई में भोजन बनाये और सबसे पहले 3 रोटियाँ अलग निकाल कर
( गाय , कुत्ता , और कौवे हेतु ) फिर
अग्नि देव का भोग लगा कर
ही घर वालो को खिलाये !

(12). ईष्या , भय , क्रोध, लोभ,रोग , दीन
भाव,द्वेष भाव,के साथ
किया हुआ भोजन कभी पचता नहीं है !

(13). आधा खाया हुआ फल ,
मिठाईया आदि पुनः नहीं खानी चाहिए !

(14). खाना छोड़ कर उठ जाने पर दुबारा भोजन नहीं करनाचाहिए !

(15). भोजन के समय मौन रहे !

16). भोजन को बहुत चबा चबा कर खाए !

(17). रात्री में भरपेट न खाए !

(18). गृहस्थ को 32 ग्रास से ज्यादा नही खाना चाहिए !

(19). सबसे पहले मीठा , फिर नमकीन , अंत में
कडुवा खाना चाहिए !

(20). सबसे पहले रस दार , बीच में गरिष्ठ ,अंत में द्राव्य पदार्थ ग्रहण करे!

(21). थोडा खाने वाले को आरोग्य , आयु ,
बल , सुख, सुन्दर संतान और सौंदर्य प्राप्त होता है !

(22). जिसने ढिढोरा पीट कर
खिलाया हो वहा कभी न खाए !

(23). कुत्ते का छुवा ,
रजस्वला स्त्री का परोसा, श्राद्ध
का निकाला , बासी , मुह से फूक मरकर
ठंडा किया , बाल गिरा हुवा भोजन , अनादर युक्त ,
अवहेलना पूर्ण परोसा गया भोजन
कभी न करे !

(24). कंजूस का, राजा का,वेश्या के हाथ
का,शराब बेचने वाले का दिया भोजन कभी नहीं करना चाहिए।

+21 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 118 शेयर

कामेंट्स

ramkumar verma Jun 25, 2019

+19 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 339 शेयर

काजू_खाने_के_फायदे। ज्यादातर लोग काजू का इस्तमाल स्वादिष्ट मिठाई या सब्जी में करते हैं। जिस मिठाई में काजू हो उस मिठाई को ज्यादातर लोग पसंद भी करते हैं। उदाहरण के लिए काजू कतली को ले सकते हैं। क्योंकि काजू सेहत के लिए बहुत अच्छी हैं, आज हम रस पोस्ट में काजू खाने के फायदे बताने वाले हैं। सिर्फ 5 दिन सोते वक्त 2 काजू खाने से जो होगा, आपने कभी सोचा भी नही होगा। (1). त्वचा चमकाने के लिए :- यदि कोई हर रोज 2 काजू खाता हैं, तो उसकी त्वचा चमकदार बन जाती हैं। उसके चहरे में रंग और निखर में बदलाव हो जाता हैं। (2). शरीर में एनर्जी बनाने के लिए :- काजू में बहुत ज्यादा ऊर्जा होती हैं, इसलिए काजू को लिमिटेड में खाना चाहिए। यदि आप रात को सोते समय 2 काजू खाते हैं,तो आपके शरीर की एनर्जी बढ़ जाती हैं। (3). ब्लडप्रेशर :- आपको पता नही होगा की काजू में सोडियम और पोटैशियम की मात्रा बहुत ही कम होती है, इसके कारण ब्लड प्रेशर नियंत्रित बना रहता हैं। (4). दिल के लिए फायदेमंद :- काजू में मोनो सेचुरेटेड फैट पाया जाता है, जिस कारण दिल को तंदरुस्त रखना बहुत फायदेमंद रहता हैं। इसलिए हर रोज रात को सोते समय 2 काजू खाना चाहिए।

+7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 7 शेयर

+40 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 66 शेयर
Mysuvichar Jun 25, 2019

+14 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 6 शेयर
ramkumar verma Jun 24, 2019

+40 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 472 शेयर
Anita Choudhary Jun 23, 2019

🌹💖🙏 *माँ का तोहफ़ा* 🙏💖🌹 एक मर्मस्पर्शी कहानी, अवश्य पढ़ें।* ---- एक दंपती दीपावली की ख़रीदारी करने को हड़बड़ी में था। पति ने पत्नी से कहा, "ज़ल्दी करो, मेरे पास टाईम नहीं है।" कह कर कमरे से बाहर निकल गया। तभी बाहर लॉन में बैठी *माँ* पर उसकी नज़र पड़ी। कुछ सोचते हुए वापस कमरे में आया और अपनी पत्नी से बोला, "शालू, तुमने माँ से भी पूछा कि उनको दिवाली पर क्या चाहिए? शालिनी बोली, "नहीं पूछा। अब उनको इस उम्र में क्या चाहिए होगा यार, दो वक्त की रोटी और दो जोड़ी कपड़े....... इसमें पूछने वाली क्या बात है? यह बात नहीं है शालू...... माँ पहली बार दिवाली पर हमारे घर में रुकी हुई है। वरना तो हर बार गाँव में ही रहती हैं। तो... औपचारिकता के लिए ही पूछ लेती। अरे इतना ही माँ पर प्यार उमड़ रहा है तो ख़ुद क्यों नहीं पूछ लेते? झल्लाकर चीखी थी शालू ...और कंधे पर हैंड बैग लटकाते हुए तेज़ी से बाहर निकल गयी। सूरज माँ के पास जाकर बोला, "माँ, हम लोग दिवाली की ख़रीदारी के लिए बाज़ार जा रहे हैं। आपको कुछ चाहिए तो.. माँ बीच में ही बोल पड़ी, "मुझे कुछ नहीं चाहिए बेटा।" सोच लो माँ, अगर कुछ चाहिये तो बता दीजिए..... सूरज के बहुत ज़ोर देने पर माँ बोली, "ठीक है, तुम रुको, मैं लिख कर देती हूँ। तुम्हें और बहू को बहुत ख़रीदारी करनी है, कहीं भूल न जाओ।" कहकर सूरज की माँ अपने कमरे में चली गईं। कुछ देर बाद बाहर आईं और लिस्ट सूरज को थमा दी।...... सूरज ड्राइविंग सीट पर बैठते हुए बोला, "देखा शालू, माँ को भी कुछ चाहिए था, पर बोल नहीं रही थीं। मेरे ज़िद करने पर लिस्ट बना कर दी है। इंसान जब तक ज़िंदा रहता है, रोटी और कपड़े के अलावा भी बहुत कुछ चाहिये होता है।" अच्छा बाबा ठीक है, पर पहले मैं अपनी ज़रूरत का सारा सामान लूँगी। बाद में आप अपनी माँ की लिस्ट देखते रहना। कहकर शालिनी कार से बाहर निकल गयी। पूरी ख़रीदारी करने के बाद शालिनी बोली, "अब मैं बहुत थक गयी हूँ, मैं कार में A/C चालू करके बैठती हूँ, आप अपनी माँ का सामान देख लो।" अरे शालू, तुम भी रुको, फिर साथ चलते हैं, मुझे भी ज़ल्दी है। देखता हूँ माँ ने इस दिवाली पर क्या मँगाया है? कहकर माँ की लिखी पर्ची ज़ेब से निकालता है। बाप रे! इतनी लंबी लिस्ट, ..... पता नहीं क्या - क्या मँगाया होगा? ज़रूर अपने गाँव वाले छोटे बेटे के परिवार के लिए बहुत सारे सामान मँगाये होंगे। और बनो *श्रवण कुमार*, कहते हुए शालिनी गुस्से से सूरज की ओर देखने लगी। पर ये क्या? सूरज की आँखों में आँसू........ और लिस्ट पकड़े हुए हाथ सूखे पत्ते की तरह हिल रहा था..... पूरा शरीर काँप रहा था। शालिनी बहुत घबरा गयी। क्या हुआ, ऐसा क्या माँग लिया है तुम्हारी माँ ने? कहकर सूरज के हाथ से पर्ची झपट ली.... हैरान थी शालिनी भी। इतनी बड़ी पर्ची में बस चंद शब्द ही लिखे थे..... *पर्ची में लिखा था....* "बेटा सूरज मुझे दिवाली पर तो क्या किसी भी अवसर पर कुछ नहीं चाहिए। फिर भी तुम ज़िद कर रहे हो तो...... तुम्हारे शहर की किसी दुकान में अगर मिल जाए तो *फ़ुरसत के कुछ पल* मेरे लिए लेते आना.... ढलती हुई साँझ हूँ अब मैं। सूरज, मुझे गहराते अँधियारे से डर लगने लगा है, बहुत डर लगता है। पल - पल मेरी तरफ़ बढ़ रही मौत को देखकर.... जानती हूँ टाला नहीं जा सकता, शाश्वत सत्‍य है..... पर अकेलेपन से बहुत घबराहट होती है सूरज।...... तो जब तक तुम्हारे घर पर हूँ, कुछ पल बैठा कर मेरे पास, कुछ देर के लिए ही सही बाँट लिया कर मेरे बुढ़ापे का अकेलापन।.... बिन दीप जलाए ही रौशन हो जाएगी मेरी जीवन की साँझ.... कितने साल हो गए बेटा तुझे स्पर्श नहीं किया। एक बार फिर से, आ मेरी गोद में सर रख और मैं ममता भरी हथेली से सहलाऊँ तेरे सर को। एक बार फिर से इतराए मेरा हृदय मेरे अपनों को क़रीब, बहुत क़रीब पा कर....और मुस्कुरा कर मिलूँ मौत के गले। क्या पता अगली दिवाली तक रहूँ ना रहूँ..... पर्ची की आख़िरी लाइन पढ़ते - पढ़ते शालिनी फफक-फफक कर रो पड़ी..... *ऐसी ही होती हैं माँ.....* दोस्तो, अपने घर के उन विशाल हृदय वाले लोगों, जिनको आप बूढ़े और बुढ़िया की श्रेणी में रखते हैं, वे आपके जीवन के कल्पतरु हैं। उनका यथोचित आदर-सम्मान, सेवा-सुश्रुषा और देखभाल करें। यक़ीन मानिए, आपके भी बूढ़े होने के दिन नज़दीक ही हैं।...उसकी तैयारी आज से ही कर लें। इसमें कोई शक़ नहीं, आपके अच्छे-बुरे कृत्य देर-सवेर आप ही के पास लौट कर आने हैं।। *कहानी अच्छी लगी हो तो कृपया अग्रसारित अवश्य कीजिए। शायद किसी का हृदय परिवर्तन हो जाए और.....* 🙏💖🙏💖🙏💖🙏💖🙏💖🙏

+191 प्रतिक्रिया 61 कॉमेंट्स • 218 शेयर
Madan Kaushik Jun 25, 2019

***अपना पोस्ट*** **नक्षत्रवाणी** गजाननं भूतगनादि सेवितम, कपित्थजम्बू फलचारु भक्षणम। उमासुतं शोकविनाशकारकम, नमामि विघ्नेश्वर पादपंकजम।। क्यों भटके मन बावरा, दर-दर ठोकर खाये...! शरण श्याम की ले ले प्यारे, जनम सफल हो जाये...!! 🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩 भुजगतल्पगतं घनसुन्दरं गरुडवाहनमम्बुजलोचनम् । नलिनचक्रगदाकरमव्ययं भजत रे मनुजाः कमलापतिम् ।। ~~~~~~~~~~~~~~~~~~ मित्रों...! इस विलंब के लिए क्षमा प्रार्थना सहित.....🙏🙏 आप सभी परम् प्रिय धर्मपारायण, ज्योतिषविद्या प्रेमी विद्वतजनों को आचार्य मदन तुलसीराम जी कौशिक मुंबई (सिरसा-हरियाणा वाले) की ओर से सादर-सप्रेम 🌸*जय श्री कृष्ण* 🌸 मंगल प्रभात 🌻💐 इसी के साथ आप सभी प्रिय धर्मप्रेमी मित्र-बन्धुओं को * *🔅श्री कालाष्टमी/दूर्वाष्टमी/बोहराष्टमी व्रत/पर्व 🍁 एवं विश्व नौक़ायन दिवस की भी कोटिशः हार्दिक शुभकामनाएं एवं बधाई....!!!💐💐💐 मित्रों अभी भी 5 ग्रुप्स से ज्यादा ग्रुप्स में एक साथ में कोई भी पोस्ट फॉरवर्ड ना कर पाने की कंडीशन के चलते करीब 300+ ग्रूपस में भेजेते-2 आपकी प्रिय नक्षत्रवानी आपके पास या कुछ ग्रुपस में बहुत देर से पहुँच पाती है। तकनीकी प्रॉब्लम दूर नहीं हो पाने से विलंब हो जाता है, इसलिए क्षमा करना मित्रों। आपके पास एक साथ सभी ग्रुप्स में भेज पाने की कोई युक्ति हो तो मुझे तुरंत सूचित करें, आपकी बड़ी कृपा होगी। 💐💐 ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※ आइये...! अब चलें आपके प्रिय पोस्ट 'नक्षत्रवाणी' के अंतर्गत आज कुछ विशेष महत्वपूर्ण जानकारी, दृकपंचांग, चन्द्र राशिफल' एवं 'आरोग्य मंत्र' की ज्ञानयात्रा पर... ```༺⊰🕉⊱༻ ``` 𴀽𴀊🕉श्री हरिहरौविजयतेतराम्🕉 🇬🇧 *आंग्ल मतानुसार* :- आज दिनांक 25 जून सन 2019 मंगलवार प्रस्तुत है ««« *आज का दृकपंचांग:««« (दिनमान को छोड़ कर यहां दिए गए सभी तिथि, नक्षत्र आदि के समय समाप्ति काल हैं।). कलियुगाब्द........................5120 विक्रम संवत---------------------2076 वि. संवत्सर (उत्तर)--------परिधावी शक सम्वंत ............1941(विकारी) मास..................................आषाढ़ पक्ष.......................................कृष्ण तिथी.................................अष्टमी दुसरे दिन प्रातः 04.34 पर्यंत पश्चात नवमी सूर्योदय...........प्रातः 05.43.59 पर सूर्यास्त...........संध्या 07.15.58 पर सूर्य राशि............................मिथुन चन्द्र राशि..............................मीन नक्षत्र........................उत्तराभाद्रपद दुसरे दिन प्रातः 05.26 पर्यंत पश्चात रेवती योग................................सौभाग्य रात्रि 11.24 पर्यंत पश्चात शोभन करण................................बालव दोप 03.13 पर्यंत पश्चात कौलव ऋतु...................................ग्रीष्म दिन..............................मंगलवार 🚦 *दिशाशूल :-* उत्तरदिशा - यदि अति आवश्यक हो तो गुड़ का सेवन करके यात्रा प्रारंभ करें। ☸ शुभ अंक................7 🔯 शुभ रंग.............रक्तिम/गाढ़ा लाल 👁‍🗨 *राहुकाल :-* दोप 03.50 से 05.30 तक । 🌞 *उदय लग्न मुहूर्त :-* *मिथुन* 05:07:23 07:20:42 *कर्क* 07:20:42 09:36:30 *सिंह* 09:36:30 11:47:58 *कन्या* 11:47:58 13:58:16 *तुला* 13:58:16 16:12:31 *वृश्चिक* 16:12:31 18:28:19 *धनु* 18:28:19 20:33:37 *मकर* 20:33:37 22:20:29 *कुम्भ* 22:20:29 23:53:47 *मीन* 23:53:47 25:24:43 *मेष* 25:24:43 27:05:10 *वृषभ* 27:05:10 29:03:27 ✡ *चौघडिया :-* प्रात: 09.07 से 10.48 तक चंचल प्रात: 10.48 से 12.28 तक लाभ दोप. 12.28 से 02.08 तक अमृत दोप. 03.49 से 05.29 तक शुभ रात्रि 08.29 से 09.49 तक लाभ । 📿 *आज का मंत्र :-* || ॐ अं अंगारकाय नम: || 🎙 *संस्कृत सुभाषितानि :-* जीवन्तं मृतवन्मन्ये देहिनं धर्मवर्जितम् । मृतो धर्मेण संयुक्तो दीर्घजीवी न संशयः ॥ अर्थात :- धर्महीन मनुष्य को जिंदा होने के बावजुद मैं मृत समजता हूँ । धर्मयुक्त इन्सान मर कर भी दीर्घायु रहेता है उस में संदेह नहीं । 🍃 *आरोग्य मंत्र:*- *विटामिन सी के लाभ : -* *5. सूरज की किरणों से त्वचा की रक्षा -* वर्तमान में दूषित और हानिकारक वातावरण, के कारण आपके शरीर को कई तरह से नुकसान पहुंचने की संभावना रहती है। इसका सबसे पहले त्वचा पर ही दुष्प्रभाव पड़ता है। सूर्य से आने वाली हानिकारक किरणों से भी आपकी त्वचा को नुकसान पहुंच सकती हैं। फोटोकेमिकल रिएक्शन के कारण डीएनए खराब होने लगता है। विटामिन सी इन सभी परेशानियों से हमें राहत पहुंचाता है। ⚜ *आज का चंद्र राशिफल :-* 🐏 *राशि फलादेश मेष :-* *(चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, आ)* कोई बड़ा खर्च हो सकता है। व्यवस्था बिगड़ सकती है। किसी भी तरह की बहस में भाग न लें। विवाद हो सकता है। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। व्यस्तता के चलते स्वास्थ्‍य खराब हो सकता है। आय में वृद्धि होगी। 🐂 *राशि फलादेश वृष :-* *(ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो)* विवाह का प्रस्ताव मिल सकता है। परिवार में प्रसन्नता का वातावरण रहेगा। कारोबार में वृद्धि के योग हैं। लेन-देन के कार्य में लापरवाही न करें। नौकरी में सहकर्मी साथ देंगे। परिवार के किसी सदस्य के स्वास्थ्य की चिंता रह सकती है। 👫 *राशि फलादेश मिथुन :-* *(का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, ह)* वाणी पर नियंत्रण रखें। धनहानि के योग हैं। सिरदर्द हो सकता है। चिंता तथा तनाव रहेंगे। कार्य के प्रति जवाबदारी बढ़ेगी। नई योजना बन सकती है। तत्काल लाभ नहीं होगा। मान-सम्मान मिलेगा। आय में वृद्धि होगी। 🦀 *राशि फलादेश कर्क :-* *(ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो)* शारीरिक कष्ट की आशंका है। शत्रु पस्त होंगे। धर्म-कर्म में रुचि रहेगी। कोर्ट व कचहरी के कार्य अनुकूल रहेंगे। धन प्राप्ति सुगम रहेगी। किसी बाधा के दूर होने से प्रसन्नता रहेगी। नौकरी में मातहतों का सहयोग मिलेगा। धनार्जन होगा। 🦁 *राशि फलादेश सिंह :-* *(मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे)* वाहन व मशीनरी इत्यादि के प्रयोग में सावधानी रखें। किसी से भी विवाद न करें। मानहानि हो सकती है। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। नकारात्मकता रहेगी। किसी कार्य की प्रशंसा होगी। राजकीय बाधा दूर होगी। धनार्जन होगा। 👩🏻‍🦱 *राशि फलादेश कन्या :-* *(ढो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो)* प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। कानूनी अड़चन दूर होकर लाभ की स्थिति बनेगी। आय में वृद्धि होगी। घर-बाहर प्रसन्नता का वातावरण रहेगा। किसी मांगलिक कार्य में भाग लेने का अवसर प्राप्त हो सकता है। व्यापार अच्‍छा चलेगा। ⚖ *राशि फलादेश तुला :-* *(रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते)* किसी बीमारी से बाधा संभव है। भूमि व भवन इत्यादि से संबंधित कार्य बड़ा लाभ दे सकते हैं। रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। प्रतिद्वंद्वी रास्ता छोड़ देंगे। कारोबार में वृद्धि होगी। प्रसन्नता रहेगी। निवेश शुभ रहेगा। 🦂 *राशि फलादेश वृश्चिक :-* *(तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू)* थकान व कमजोरी रह सकती है। लेन-देन में सावधानी रखें। विद्यार्थी वर्ग अपने कार्य में सफलता हासिल करेगा। संगीत इत्यादि में रुचि रहेगी। मन में नए विचार आएंगे। किसी नए कार्य को करने की इच्छा जागृत होगी। 🏹 *राशि फलादेश धनु :-* *(ये, यो, भा, भी, भू, धा, फा, ढा, भे)* किसी कार्य को करने में भ्रम की स्थिति निर्मित हो सकती है। दु:खद समाचार मिलने की आशंका है। शारीरिक कष्ट से बाधा संभव है। भागदौड़ रहेगी। चिंता तथा तनाव रहेंगे। पारिवारिक अशांति हो सकती है। विवाद को बढ़ावा न दें। 🐊 *राशि फलादेश मकर :-* *(भो, जा, जी, खी, खू, खे, खो, गा, गी)* प्रयास सफल रहेंगे। किसी व्यक्ति की मदद करने का अवसर प्राप्त होगा। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। व्यापार-व्यवसाय अच्‍छा चलेगा। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। नौकरी में कोई नया काम कर पाएंगे। प्रमाद न करें। 🏺 *राशि फलादेश कुंभ :-* *(गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा)* विदेश से अच्‍छी खबर प्राप्त होगी। भूले-बिसरे साथियों से मुलाकात होगी। नए मित्र बनेंगे। आत्मविश्वास बढ़ेगा। कारोबार में वृद्धि होगी। शेयर मार्केट व म्युचुअल फंड इत्यादि से लाभ होगा। प्रतिद्वंद्वी रास्ता छोड़ देंगे। प्रसन्नता बनी रहेगी। 🐠 *राशि फलादेश मीन :-* *(दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची)* बेरोजगारी दूर करने के प्रयास सफल रहेंगे। समस्या का निवारण सहज होगा। व्यावसायिक यात्रा मनोनुकूल रहेगी। नए अनुबंध होंगे। कार्यक्षेत्र में विस्तार हो सकता है। भाग्य का साथ रहेगा। नौकरी में प्रभाव वृद्धि होगी। ☯ *मित्रों आज मंगलवार है, संभव हो तो परिवार सहित आपने नजदीक के मंदिर में संध्या 7 बजे सामूहिक हनुमान चालीसा पाठ में अवश्य सम्मिलित होवें |* *🎊🎉🎁 आज जिनका जन्मदिवस या विवाह की वर्षगांठ हैं उन सभी मित्रो को कोटिशः हार्दिक शुभकामनायें🎁🎊🎉* ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※ और ज़रा इस पर भी ज़रूर ध्यान दें मित्रों...! अगर...??? 1) खूब मेहनत के बाद भी या व्यापार-व्यवसाय में पर्याप्त इन्वेस्टमेंट करने के बाद भी आप अकारण आर्थिक दृष्टी से निरंतर पिछड़ते ही जा रहे हैं....? 2) एक ही नौकरी में लम्बे समय तक कार्य नहीं कर पाते हैं या वहां दिल से काम करते हुए भी आपको कोई पूछता ही नहीं है...? आपकी प्रमोशन ड्यू है कब से लेकिन आप बस दूसरों को आगे बढ़ते देख कर अपने नसीब को कोस रहे हैं...? आपके प्रतिद्वंदी अलग से परेशान करते रहते हैं...? 3) आपस में निरंतर अकारण क्लेश होता रहता है..? 4) शेयर मार्किट से कमाना चाहते हैं पर हर बार नुकसान उठा बैठते हैं...? 5) बिमारी आपको छोड़ ही रही है...? घर का हरएक व्यक्ति किसी न किसी बीमारी से त्रस्त है...? आमदनी का एक बड़ा हिस्सा हमेशां इसी पर खर्च हो जाता है...? 6) अकारण ही विवाह योग्य बच्चों के विवाह में दिक्कतें आ रही हैं...? 7) शत्रुओं ने आपकी रात की नींद और दिन का चैन हराम किया हुआ है...? 8) पैतृक सम्पति विवाद सुलझ ही नहीं रहा है...? और संपति केवास्तविक हकदार आप हैं तथा आप इसे अपने हक में सुलझना चाहते हैं...? 9) विदेश यात्रा या विदेश में सेटलमेंट को लेकर बहुत समय से परेशान हैं...? 10) आपको डरावने सपने आते हैं..? सपने में सांप या भूत-प्रेत या ऐसे ही नींद उड़ाने वाले दृश्य दीखते हैं...? 11) फिल्म या मीडिया में बहुत समय से संघर्ष के बाद भी सफलता​ नहीं मिल रही...? 12) राजनीति को ही आप अपना कैरियर बनाना चाहते हैं पर आपको कुछ भी समझ नहीं आ रहा...? यदि हाँ...??? तो यह सब अकारण ही नहीं है...! इसके पीछे बहुत ठोस कारण हैं जो कि आपकी जन्म कुंडली या आपके घर-आफिस का वास्तु देखकर या आपकी जन्मकुंडली भी ना होने की स्थिति में हमारे दीर्घ अध्ययन और प्रैक्टिकल ज्योतिषीय अनुभव के आधार पर अन्य विधियों से जाने जा सकते हैं...? तो अब आप और देरी ना करें और तुरंत हमें फोन करें...! आपकी उन्नति निश्चित है और आपकी मंजिल अब दूर नहीं...! ※══❖═══▩ஜ ۩۞۩ ஜ▩═══❖══※

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB