कोरोनावायरस के प्रति अपने उत्तरदायित्व का अच्छे ढ़ंग से निर्वहन करने वाले डॉक्टर और अन्य कर्मचारियों का सम्मान प्रदर्शन करते हुए हमारा परिवार 🙏🙏

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
shyam Singh tanwal Mar 27, 2020

कहानी----- #तिरस्कार_या_मजबूरी ................................. गोपाल किशन जी एक सेवानिवृत अध्यापक हैं । सुबह दस बजे तक ये एकदम स्वस्थ प्रतीत हो रहे थे । शाम के सात बजते-बजते तेज बुखार के साथ-साथ वे सारे लक्षण दिखायी देने लगे जो एक कोरोना पॉजीटिव मरीज के अंदर दिखाई देते हैं । परिवार के सदस्यों के चेहरों पर खौफ़ साफ़ दिखाई पड़ रहा था । उनकी चारपाई घर के एक पुराने बड़े से बाहरी कमरे में डाल दी गयी जिसमें इनके पालतू कुत्ते *मार्शल* का बसेरा है । गोपाल किशन जी कुछ साल पहले एक छोटा सा घायल पिल्ला सड़क से उठाकर लाये थे और अपने बच्चे की तरह पालकर इसको नाम दिया *मार्शल* । इस कमरे में अब गोपाल किशन जी , उनकी चारपाई और उनका प्यारा मार्शल हैं ।दोनों बेटों -बहुओं ने दूरी बना ली और बच्चों को भी पास ना जानें के निर्देश दे दिए गये । सरकार द्वारा जारी किये गये नंबर पर फोन करके सूचना दे दी गयी । खबर मुहल्ले भर में फैल चुकी थी लेकिन मिलने कोई नहीं आया । साड़ी के पल्ले से मुँह लपेटे हुए, हाथ में छड़ी लिये पड़ोस की कोई एक बूढी अम्मा आई और गोपाल किशन जी की पत्नी से बोली -"अरे कोई इसके पास दूर से खाना भी सरका दो , वे अस्पताल वाले तो इसे भूखे को ही ले जाएँगे उठा के" । अब प्रश्न ये था कि उनको खाना देनें के लिये कौन जाए । बहुओं ने खाना अपनी सास को पकड़ा दिया अब गोपाल किशन जी की पत्नी के हाथ , थाली पकड़ते ही काँपने लगे , पैर मानो खूँटे से बाँध दिये गए हों । इतना देखकर वह पड़ोसन बूढ़ी अम्मा बोली "अरी तेरा तो पति है तू भी ........। मुँह बाँध के चली जा और दूर से थाली सरका दे वो अपने आप उठाकर खा लेगा" । सारा वार्तालाप गोपाल किशन जी चुपचाप सुन रहे थे , उनकी आँखें नम थी और काँपते होठों से उन्होंने कहा कि "कोई मेरे पास ना आये तो बेहतर है , मुझे भूख भी नहीं है" । इसी बीच एम्बुलेंस आ जाती है और गोपाल किशन जी को एम्बुलेंस में बैठने के लिये बोला जाता है । गोपाल किशन जी घर के दरवाजे पर आकर एक बार पलटकर अपने घर की तरफ देखते हैं । पोती -पोते First floor की खिड़की से मास्क लगाए दादा को निहारते हुए और उन बच्चों के पीछे सर पर पल्लू रखे उनकी दोनों बहुएँ दिखाई पड़ती हैं । Ground floor पर, दोनों बेटे काफी दूर, अपनी माँ के साथ खड़े थे । विचारों का तूफान गोपाल किशन जी के अंदर उमड़ रहा था । उनकी पोती ने उनकी तरफ देखकर उसने bye bye कहा। एक क्षण को उन्हें लगा कि 'जिंदगी ने अलविदा कह दिया' गोपाल किशन जी की आँखें लबलबा उठी । उन्होंने बैठकर अपने घर की देहरी को चूमा और एम्बुलेंस में जाकर बैठ गये । उनकी पत्नी ने तुरंत पानी से भरी बाल्टी घर की उस देहरी पर उलेड दी जिसको गोपाल किशन चूमकर एम्बुलेंस में बैठे थे । इसे तिरस्कार कहो या मजबूरी , लेकिन ये दृश्य देखकर कुत्ता भी रो पड़ा और उसी एम्बुलेंस के पीछे - पीछे हो लिया जो गोपाल किशन जी को अस्पताल लेकर जा रही थी । गोपाल किशन जी अस्पताल में 14 दिनों के अब्ज़र्वेशन पीरियड में रहे । उनकी सभी जाँच सामान्य थी । उन्हें पूर्णतः स्वस्थ घोषित करके छुट्टी दे दी गयी । जब वह अस्पताल से बाहर निकले तो उनको अस्पताल के गेट पर उनका कुत्ता मार्शल बैठा दिखाई दिया । दोनों एक दूसरे से लिपट गये । एक की आँखों से गंगा तो एक की आँखों से यमुना बहे जा रही थी । जब तक उनके बेटों की लम्बी गाड़ी उन्हें लेने पहुँचती तब तक वो अपने कुत्ते को लेकर किसी दूसरी दिशा की ओर निकल चुके थे । उसके बाद वो कभी दिखाई नहीं दिये । आज उनके फोटो के साथ उनकी गुमशुदगी की खबर छपी है अखबार में लिखा है कि सूचना देने वाले को 40 हजार का ईनाम दिया जायेगा । 40 हजार - हाँ पढ़कर ध्यान आया कि इतनी ही तो मासिक पेंशन आती थी उनकी जिसको वो परिवार के ऊपर हँसते गाते उड़ा दिया करते थे । ...........................................🌹🌹shubh ratri 🌹🌹

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 7 शेयर
Rakesh Jha Mar 27, 2020

+20 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 38 शेयर
Pawan Saini Mar 27, 2020

+81 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 17 शेयर
Raj Rani Bansal Mar 27, 2020

+5 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Manishi sharma Mar 26, 2020

मनुष्य की हर समस्या को सुलझा सकते हैं टोटके .... 🥀🌸🌼💮🌹🥀🏵️🌸🌼💮🌹🏵️🥀🌸 कई बार जीवन में ऎसी समस्याएं आती हैं जो आसानी से दूर नहीं होती लेकिन एक मामूली टोटके से तुरंत ही आराम मिल जाता है। तांत्रिकों के अनुसार मनुष्य की प्रत्येक समस्या इन टोने- टोटकों से दूर हो सकती है बशर्ते सही ढंग से और सही समय पर किया जाए। आपके लिए यहां प्रस्तुत हैं कुछ ऎसे ही टोटके जिनसे आप न केवल धनी और सफल बन सकते हैं वरन अपने प्रेमी, पति-पत्नी को भी वश में कर सकते है,! 👉यदि कोई काम रुका हुआ हो यदि आपका कोई काम रूका हुआ हो और हरसंभव प्रयास के बाद भी पूरा न हो रहा हो तो बुधवार को एक कटोरी बासमती चावल दान में देने से रूका हुआ पैसा आने लगता है। यदि घर में आर्थिक तंगी रहती हो, बहुत ज्यादा कर्जा हो या व्यापार नहीं चल रहा हो तो एक चमकीला लाल कपड़ा लें, उसे बिछा कर उस पर लाल चंदन का टुकड़ा, लाल गुलाब के फूल, रोली तथा कुछ सिक्के,पैसे रखें। फिर इस कपड़े में सारे सामान को बांध कर पोटलीनुमा बनाकर अपने घर की तिजोरी या गल्ले में रखें। इससे सभी कार्य सम्पन्न होने लगेंगे और साक्षात लक्ष्मी आपके घर विराजमान होगी। इस प्रयोग को प्रत्येक नवरात्रि पर दोहराने से आप धनवान होते चले जाएंगे। 👉व्यापार में सफलता पाने के लिए अगर दुकान या व्यवसाय में ग्राहक कम आ रहे हैं तो रविवार की दोपहर को पांच कागजी पीले नींबू काटकर व्यवसाय स्थल पर एक मुट्ठी काली मिर्च, एक मुट्ठी पीली सरसों के साथ रख दें। अगले दिन ऑफिस, दुकान खोलने के बाद इन सभी सामान को किसी सुनसान जगह पर कच्ची धरती में गाड़ दें। तुरंत ही आराम मिलेगा। 👉ऐसे दूर करें पति-पत्नी के झगड़ें रात में सोते समय पत्नी के पलंग पर देसी कपूर तथा पति के पलंग पर कामिया सिंदूर रखना चाहिए। अगले दिन सुबह सूर्योदय के समय पति को देसी कपूर जला देना चाहिए तथा पत्नी को सिंदूर को घर में फैला देना चाहिए। यह एक तीव्र तांत्रिक उपाय है, इससे कुछ ही दिनों में पति-पत्नी का आपसी झगड़ा पूरी तरह खत्म हो जाता है। 👉यदि पति-पत्नी के संबंध तलाक तक पहुंच गए हों बरगद का हरा पत्ता लेकर उस पर लाल चंदन को गंगा जल में घिसकर संबंधित व्यक्ति का नाम लिखें। इसके बाद पत्ते पर लाल गुलाब की पत्तियां रख दें और इन सबको बारीक पीस लें। जिस व्यक्ति का नाम लिखा है, उसके नाम में जितने अक्षर हैं, इस बारीक बुरादे की उतनी ही गोलियां बना लें। रोजाना एक गोली नियम से उस व्यक्ति/ महिला के घर के मेन गेट पर फेंक दें। जल्दी ही दोनों के बीच विछोह दूर होकर आपसी संबंध अनुकूल होंगे तथा वापिस मिलन होगा। 👉अगर बॉस या व्यापारिक दुश्मन परेशान करता है एक सफेद रंग का आधा मीटर कपड़ा लें। उस पर काजल से उस व्यक्ति का नाम केवल तर्जनी उंगली से ही लिखें। इसके बाद उस व्यक्ति के नाम में जितने अक्षर हों, उस पर उतनी ही बार थूकने से तुरंत आराम आ जाएगा। धन की मनोकामना पूरी करने के लिए मंगलवार के दिन 22 पीपल के पत्ते लें। उन्हें धोकर रखें। इसके बाद पूर्व दिशा में मुंह करके हर पत्ते पर राम लिखें तथा इन्हें उसी दिन हनुमानजी पर चढ़ा आए। आपको तुरंत ही धन लाभ होना शुरू हो जाएगा। ध्यान रखें यह प्रयोग केवल मंगलवार के दिन ही आरंभ होना चाहिए। 👉ऋण मुक्ति के लिए शुक्ल पक्ष (अमावस्या से पूर्णिमा के बीच का समय) में मंगलवार को आटे में गुड़ मिलाकर पुए बनाकर हनुमानजी के मंदिर में चढ़ाएं और गरीबों को खिलाएं। इससे सभी कर्जे दूर हो जाएंगे। 👉घर में झगड़ा बंद करवाने के लिए यदि किसी के घर में बहुत ज्यादा क्लेश या झगड़ा रहता है तो वह इस उपाय को कर सकता है। जब भी घर में आटा पिसवाना हो तो केवल सोमवार को ही पिसवाएं। पिसवाने से पहले उसमें थोड़े से काले चने डाल दें। इस मिश्रित आटे को ज्यों-ज्यों घर के सभी लोग खाएंगे, घर के सभी झगड़े दूर हो जाएंगेl 🚩किसी भी प्रकार की समस्याओं के ज्योतिषीय एवं तांत्रिकीय सहायता एवं परामर्श एवं समाधान हेतु हमारे प्रोफाइल नम्बर पर संपर्क कर सकते हैं ।

+7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 3 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB