जब आप उदास होते हैं, तो आपकी समस्याएं कम होने की बजाय और बढ़ जाती हैं, क्योकि उस समय आप अपनी पूरी उर्जा नकारात्मक विचारो को सक्रिय करने मे लगा देते हैं, बेहतर है, आप परिस्थितियो को खुद पर हावी न होने दे, खुद को रब से जोड़ दे, बाकी सब उस पर छोड़ दे..........!!

जब आप उदास होते हैं, तो आपकी समस्याएं कम होने की बजाय और बढ़ जाती हैं, क्योकि उस समय आप अपनी पूरी उर्जा नकारात्मक विचारो को सक्रिय करने मे लगा देते हैं, बेहतर है, आप परिस्थितियो को खुद पर हावी न होने दे, खुद को रब से जोड़ दे, बाकी सब उस पर छोड़ दे..........!!

+336 प्रतिक्रिया 103 कॉमेंट्स • 461 शेयर

कामेंट्स

dhruv wadhwani May 4, 2021
जय श्री राधे राधे जय श्री राधे राधे जय श्री राधे राधे जय श्री राधे राधे जय श्री राधे राधे श्री राधे राधे श्री राधे राधे श्री राधे राधे राधे राधे राधे राधे

Sushil Kumar Sharma 🙏🙏🌹🌹 May 4, 2021
Good Afternoon My Sweet Sister ji 🙏🙏 Jay Shree Ram 🙏🙏🌹🌹 Jay Veer Hanuman 🙏🙏🌹🌹 Jay Bhajanvali 🙏🙏🌹🌹🌹 Ki Kripa Dristi Aap Our Aapke Priwar Per Hamesha Sada Bhni Rahe ji 🙏 Aapka Har Pal Har Din Shub Mangalmay Ho ji 🙏🙏🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹.

sanjay Sharma May 4, 2021
जय श्री राधे कृष्णा जय श्री सीताराम जय बजरंग बली शुभ दोपहरी जी मेरी बहन आप कैसे हैं बहन आप सदा खुश रहिए और सदा तरक्की की राह पर अग्रसर रहे ईश्वर मेरी बहन के साथ अपना आशीर्वाद सदैव बनाए रखना

sanjay Sharma May 4, 2021
जय श्री राम जय श्री राधे कृष्णा जय श्री सीताराम ईश्वर मेरी प्यारी सी छोटी बहना के जीवन में सदैव हर वो खुशी प्रदान करें जिसकी वो हकदार हैं

kamala Maheshwari May 4, 2021
,,आज भी कुछ नहीं बदला जा भी आज भी विना रिफाइन तेल मिलता है आज भी डलेवालानमक माल्या है जरुरत है सिर्फ खुद को बदलने की सुरुवात तो किजिये ये बड़ी बड़ी कम्पनीया वनद हो जायेगी जब इनशान को समझ आजाये तो वक्त नहीं लगता आपने तरक्की नहीं की ये कम्पनियां तरक्की कर रही है हम ना समझहै धन्यवाद जी 👍 🥀👍🥀🌿🥀🌿🥀🌿🥀🌿🥀🌿🥀🌿🥀

kamala Maheshwari May 4, 2021
,,आज भी कुछ नहीं बदला जा भी आज भी विना रिफाइन तेल मिलता है आज भी डलेवालानमक माल्या है जरुरत है सिर्फ खुद को बदलने की सुरुवात तो किजिये ये बड़ी बड़ी कम्पनीया वनद हो जायेगी जब इनशान को समझ आजाये तो वक्त नहीं लगता आपने तरक्की नहीं की ये कम्पनियां तरक्की कर रही है हम ना समझहै धन्यवाद जी 👍 🥀👍🥀🌿🥀🌿🥀🌿🥀🌿🥀🌿🥀🌿🥀

vineeta tripathi May 4, 2021
jai shree ram jai hanuman ji ki 🌹🌹 good afternoon sister 🌿🌿

Atul Tiwari May 4, 2021
✴️✴️Jai SiyaRam.. ✴️✴️💢✴️🌿 Aap khush rahe Suwasth rahen prasann rahen ji....👍 Shubh Dophar Vandan my dear Sister Ji 🙏... sneh v Duaa Aapki kam h muj pr 😁😁 Sweet Sist Ji 🙏 🙏 ✳️🌿✳️🌿✳️🌷🎣

MOHAN PATIDAR May 4, 2021
jai shree Radhe krishna ji good afternoon ji 🌷🍧🥛⚘🧃🌹🍎

Ravi Kumar Taneja May 4, 2021
नमस्कार🙏🌹🙏 शुभ दोपहर वंदना जी🙏🌷🙏 🌹नासै रोग हरै सब पीरा। जपत निरंतर हनुमत बीरा।।🌹 🙏💐🙏💐🙏 🚩 संकटमोचन हनुमान जी आपके सभी कष्टो को दूर करे ,हनुमानजी की कृपा आप व आपके परिवारजनो पर बनी रहे । 🚩जय हनुमान🙏🌹🙏 जय श्री राम🙏🌻🙏🚩

Ravi Kumar Taneja May 4, 2021
नमस्कार🙏🌹🙏 शुभ दोपहर वंदना जी🙏🌷🙏 🌹नासै रोग हरै सब पीरा। जपत निरंतर हनुमत बीरा।।🌹 🙏💐🙏💐🙏 🚩 संकटमोचन हनुमान जी आपके सभी कष्टो को दूर करे ,हनुमानजी की कृपा आप व आपके परिवारजनो पर बनी रहे । 🚩जय हनुमान🙏🌹🙏 जय श्री राम🙏🌻🙏🚩

r h Bhatt May 4, 2021
Jai Shri Radhe Krishna Shubh dophar ji Vandana ji Sara's post ji

🔴 Suresh Kumar 🔴 May 4, 2021
@preetijain2 प्रीति बहन कॉमेंट हटा दिया गया है उसमे कुछ गलती हो गई थी। सदा सुखी रहो मेरी प्यारी बहन। 💠💠💠🙏💠💠💠

Ramesh Mathews May 4, 2021
meri Pyari Bdi Bahana ji Jai Shri Ram ji Jai Shri Krishna ji

babulal May 4, 2021
shree ram jay ram jay jay ram

Raj bhadauria May 5, 2021
shahi kaha apne but msg bhi at rhe to bhabhu ki kripa man lijiye suba

🙏 जय श्री कृष्ण मित्रों *सदैव सकारात्मक रहें* महाराज दशरथ को जब संतान प्राप्ति नहीं हो रही थी तब वो बड़े दुःखी रहते थे...पर ऐसे समय में उनको एक ही बात से हौंसला मिलता था जो कभी उन्हें आशाहीन नहीं होने देता था... और वह था श्रवण के पिता का श्राप.... दशरथ जब-जब दुःखी होते थे तो उन्हें श्रवण के पिता का दिया श्राप याद आ जाता था... (कालिदास ने रघुवंशम में इसका वर्णन किया है) श्रवण के पिता ने ये श्राप दिया था कि ''जैसे मैं पुत्र वियोग में तड़प-तड़प के मर रहा हूँ वैसे ही तू भी तड़प-तड़प कर मरेगा.....'' दशरथ को पता था कि ये श्राप अवश्य फलीभूत होगा और इसका मतलब है कि मुझे इस जन्म में तो जरूर पुत्र प्राप्त होगा.... (तभी तो उसके शोक में मैं तड़प के मरूँगा) यानि यह श्राप दशरथ के लिए संतान प्राप्ति का सौभाग्य लेकर आया.... ऐसी ही एक घटना सुग्रीव के साथ भी हुई.... वाल्मीकि रामायण में वर्णन है कि सुग्रीव जब माता सीता की खोज में वानर वीरों को पृथ्वी की अलग - अलग दिशाओं में भेज रहे थे.... तो उसके साथ-साथ उन्हें ये भी बता रहे थे कि किस दिशा में तुम्हें कौन सा स्थान या देश मिलेगा और किस दिशा में तुम्हें जाना चाहिए या नहीं जाना चाहिये.... प्रभु श्रीराम सुग्रीव का ये भगौलिक ज्ञान देखकर हतप्रभ थे... उन्होंने सुग्रीव से पूछा कि सुग्रीव तुमको ये सब कैसे पता...? तो सुग्रीव ने उनसे कहा कि... ''मैं बाली के भय से जब मारा-मारा फिर रहा था तब पूरी पृथ्वी पर कहीं शरण न मिली... और इस चक्कर में मैंने पूरी पृथ्वी छान मारी और इसी दौरान मुझे सारे भूगोल का ज्ञान हो गया....'' अब अगर सुग्रीव पर ये संकट न आया होता तो उन्हें भूगोल का ज्ञान नहीं होता और माता जानकी को खोजना कितना कठिन हो जाता... इसीलिए किसी ने बड़ा सुंदर कहा है :- "अनुकूलता भोजन है, प्रतिकूलता विटामिन है और चुनौतियाँ वरदान है और जो उनके अनुसार व्यवहार करें.... वही पुरुषार्थी है...." ईश्वर की तरफ से मिलने वाला हर एक पुष्प अगर वरदान है.......तो हर एक काँटा भी वरदान ही समझें.... मतलब.....अगर आज मिले सुख से आप खुश हो...तो कभी अगर कोई दुख,विपदा,अड़चन आजाये.....तो घबरायें नहीं.... क्या पता वो अगले किसी सुख की तैयारी हो.... *इसलिए हर परिस्थिति में सदैव सकारात्मक रहें !* हमेशा याद रहे -- *दुनिया बनाने वाला ईश्वर सदैव आपके साथ हैं..!!

+345 प्रतिक्रिया 62 कॉमेंट्स • 307 शेयर

*भाग्य* यात्रियों से भरी बस चली जा रहा थी, जब अचानक मौसम बदला और भारी बारिश चालू हो गयी और बिजली भी चारों तरफ चमकने लगी सभी देख रहे थे कि बिजली कभी भी बस को चपेट में ले सकती है । रोशनी से बचने के 2 या 3 कठिन प्रयास के बाद, चालक ने पेड़ से पचास फुट की दूरी पर बस बंद कर कहा - "हमारे पास बस में कोई है जिसकी मृत्यु आज निश्चित है।" उस व्यक्ति की वजह से बाकी सब लोग भी मारे जाएंगे। अब ध्यान से सुनिये जो मैं कह रहा हूं ..मैं चाहता हूं कि प्रत्येक व्यक्ति बस से उतर एक एक कर बाहर जाकर पेड़ के तने को स्पर्श करे और वापस आ जाए। "जिसकी मौत निश्चित है वह बिजली से पकड़ा जाएगा और मर जाएगा और बाकी सभी को बचा लिया जाएगा "। उसने पहले व्यक्ति को जाने और पेड़ को छूने और वापस आने के लिये कहा वह अनिच्छा से बस से उतर गया और पेड़ को छुआ। उसका दिल प्रसन्न हो गया जब कुछ भी नहीं हुआ और वह अभी भी जीवित था। यही क्रम बाकी यात्रियों के लिए जारी रहा और उन सभी को राहत मिली जब वे पेड़ को छु कर लौटे और कुछ भी नहीं हुआ। लेकिन जब आखिरी यात्री की बारी आई, तो सभी उसे आँखों से घूरने लगे। वह यात्री बहुत डर गया और अनिच्छुक था क्योंकि वही केवल अकेला बचा था।सभी ने उसे नीचे उतरने और जाने और पेड़ को छूने के लिए मजबूर किया। मृत्यु के 100% भय के साथ, अंतिम यात्री पेड़ के पास गया और उसे छुआ। उसी समय वहाँ गड़गड़ाहट की एक बड़ी आवाज़ गूँजी और बिजली ने बस को चपेट में ले लिया - हां, बिजली के चपेट में आने से बस के अंदर सभी मारे गये। इस घटना से यह स्पष्ट हो गया (मानना पडेगा) कि पूरी बस इस आखिरी यात्री की उपस्थिति के कारण सुरक्षित थी। कई बार, हम अपनी वर्तमान उपलब्धियों के लिए स्वयं श्रेय लेने की कोशिश करते हैं, लेकिन यह भूल जाते हैं कि यह हमारे साथ जूडे एक व्यक्ति के कारण है। शायद उस व्यक्ति की वजह से हम अपनी वर्तमान खुशी, सम्मान, प्रेम, नाम, प्रसिद्धि, वित्तीय सहायता, शक्ति, स्थिति और क्या नहीं आनंद ले रहे हैं अपने चारों ओर देखिए - शायद आपके माता-पिता, आपके पति या पत्नी, आपके बच्चे, आपके भाई-बहन, आपके मित्र आदि के रूप में आपके आस-पास कोई है, जो आपको नुकसान से बचा रहे हैं ..! इसके बारे में सोचिये .. और उस आत्मा को धन्यवाद दें..। *🌹

+406 प्रतिक्रिया 138 कॉमेंट्स • 819 शेयर
Mamta Chauhan May 5, 2021

+369 प्रतिक्रिया 87 कॉमेंट्स • 352 शेयर
Neeta Trivedi May 5, 2021

+229 प्रतिक्रिया 36 कॉमेंट्स • 273 शेयर

+42 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 132 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB