मायमंदिर फ़्री कुंडली
डाउनलोड करें
devi diksha awasthi
devi diksha awasthi May 18, 2019

मनुष्य का आधा सौंदर्य उसकी ज़ुबान में होता है ।। #जयश्रीराधारमण , #devidikshaawasthiji , #deviji , #bhagvatkatha , #motivate , #radharamanju

मनुष्य का आधा सौंदर्य उसकी ज़ुबान में होता है ।।
 #जयश्रीराधारमण , #devidikshaawasthiji , #deviji , #bhagvatkatha , #motivate , #radharamanju

+80 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 17 शेयर

कामेंट्स

Ganesh Neware May 18, 2019
जय श्री राधे कृष्ण। ओम नम शिवाय। बुद्ध पुर्णिमा की हार्दिक शुभकामनाएं और बधाई हो जी। जय माता दी

R.P.Singh May 18, 2019
radhe radhe ji bato se jyada sawbhav me bhi hona Chahiye...jay mata ji

DESH DEEPAK SHARMA May 22, 2019
जय श्री राधे कृष्ण से राधा रमण हरि हरि बोल

mohan singh Jun 18, 2019

+21 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 131 शेयर
aditi Jun 18, 2019

+98 प्रतिक्रिया 61 कॉमेंट्स • 141 शेयर
mamta kapoor Jun 18, 2019

+42 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 73 शेयर
savi chaudhary Jun 19, 2019

+48 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 104 शेयर
vinod yadav ji Jun 19, 2019

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Shobha Nakra Jun 18, 2019

+9 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 25 शेयर

+10 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 10 शेयर
Amit Kumar Jun 19, 2019

ओम जय जगदीश हरे स्वामी जय जगदीश हरे भक्त जनों के संकट, दास जनों के संकट क्षण में दूर करे ओम जय जगदीश हरे ओम जय जगदीश हरे स्वामी जय जगदीश हरे भक्त ज़नो के संकट, दास ज़नो के संकट क्षण में दूर करे ओम जय जगदीश हरे जो ध्यावे फल पावे, दुःख बिन से मन का स्वामी दुख बिन से मन का सुख सम्पति घर आवे सुख सम्पति घर आवे कष्ट मिटे तन का ओम जय जगदीश हरे मात पिता तुम मेरे शरण करो गहूं किसकी स्वामी शरण गहूं किसकी तुम बिन और ना दूजा तुम बिन और ना दूजा आस करूँ जिसकी ओम जय जगदीश हरे तुम पूरण, परमात्मा तुम अंतरियामी स्वामी तुम अंतरियामी पार ब्रह्म परमेश्वर पार ब्रह्म परमेश्वर तुम सबके स्वामी ओम जय जगदीश हरे तुम करुणा के सागर तुम पालन करता स्वामी पालन करता मैं मूरख खलकामी मैं सेवक तुम स्वामी कृपा करो भर्ता ओम जय जगदीश हरे तुम हो एक अगोचर सबके प्राण पति स्वामी सबके प्राण पति किस विध मिलु दयामय किस विध मिलु दयामय तुम को मैं कुमति ओम जय जगदीश हरे दीन-बन्धु दुःख-हर्ता ठाकुर तुम मेरे स्वामी रक्षक तुम मेरे अपने हाथ उठाओ अपनी शरण लगाओ द्वार पड़ा तेरे ओम जय जगदीश हरे विषय-विकार मिटाओ, पाप हरो देवा स्वामी पाप हरो देवा श्रद्धा भक्ति बढ़ाओ श्रद्धा भक्ति बढ़ाओ सन्तन की सेवा ओम जय जगदीश हरे ओम जय जगदीश हरे स्वामी जय जगदीश हरे भक्त ज़नो के संकट दास ज़नो के संकट क्षण में दूर करे ओम जय जगदीश हरे ओम जय जगदीश हरे स्वामी जय जगदीश हरे भक्त ज़नो के संकट दास जनो के संकट क्षण में दूर करे ओम जय जगदीश हरे

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 5 शेयर
Bindu singh Jun 18, 2019

+121 प्रतिक्रिया 26 कॉमेंट्स • 448 शेयर

+15 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 23 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB