🚩ईश्वर पर हमेशा भरोसा रखें🚩 एक अमीर व्यक्ति था। उसने समुद्र में अकेले घूमने के लिए एक नाव बनवाई और छुट्टी के दिन वह नाव लेकर अकेले समुद्र की सैर करने निकल पड़ा। वह समुद्र में थोङा आगे पहुंचा ही था कि अचानक एक जोरदार तूफान आ गया। उसकी नांव पुरी तरह से तहस-नहस हो गइ लेकिन वह लाइफ जैकेट के साथ समुद्र में कूद गया। जब तूफान शान्त हुआ तब वह तैरता-तैरता एक टापु पर जा पहुंचा। मगर वहां भी कोई नहीं था। टापु के चारों ओर समुद्र के अलावा क़ुछ भी नजर नहीं आ रहा था। उस आदमी ने सोचा कि जब मैंने पूरी जिंदगी में किसी का कभी बुरा नहीं किया तो मेरे साथ बुरा नहीं होगा। उसको लगा कि ईश्वर ने मौत से बचाया है तो आगे का रास्ता भी वही दिखाएगा। धीरे-धीरे वह वहां पर उगे झाङ-फल-पत्ते खाकर दिन बिताने लगा। मगर अब धीरे-धीरे उसे लगने लगा था कि वह इस टापू पर फंस गया है। मगर अब भी ईश्वर पर उसका भरोसा कायम था। उसने सोचा इतने दिनों से मैं इस टापू पर मारा-मारा फिर रहा हूं, क्यों न यहां एक झोपड़ी बना लूं। पता नहीं अभी और कितने दिन यहां बिताने पड़ें। पूरे दिन लकडि़यां और पत्ते वगैरह इकट्ठा कर उसने झोंपड़ी बनानी शुरू की। रात होते-होते उसकी झोंपड़ी बनकर तैयार हो गई थी। अभी वह झोंपड़ी के बाहर खड़ा होकर उसे देखते हुए सोच रहा था कि आज से झोंपडी में सोने को मिलेगा। मगर अचानक से मौसम बदला और बिजली जोर-जोर से कड़कने लगी और एक बिजली उसकी झोंपड़ी पर गिर गई। उसके देखते ही देखते झोंपड़ी जलकर खाक हो गई। यह देखकर वह व्यक्ति टुट गया। उसने आसमान की तरफ देखकर बोला, हे ईश्वर ये तेरा कैसा इंसाफ है। तूने मुझ पर अपनी रहम की नजर क्यों नहीं की? मैंने हमेशा तुझ पर विश्वास बनाए रखा। फिर वह इंसान हताश और निराश होकर सर पर हाथ रखकर रोने लगा। अचानक ही एक नाव टापू के पास आई। नाव से उतर कर दो आदमी बाहर आए और बोले कि हम तुम्हें बचाने आए हैं। दुर से इस वीरान टापू में जलता हूआ झोंपड़ा देखा तो लगा की कोई उस टापू पर मुसीबत में है। अगर तुम अपनी झोंपडी नहीं जलाते तो हमें पता नहीं चलता कि टापू पर कोई हैं। उस आदमी की आंखों से आंसू गिरने लगे। उसने ईश्वर से माफी मांगी और बोला कि हे ईश्वर मुझे क्या पता था कि तूने मुझे बचाने के लिए मेरी झोंपडी जलाई थी। यकिनन तू अपने बंदों का हमेशा ख्याल रखता है। तूने मेरे सब्र का इम्तेहान लिया, लेकिन मैं उसमे फेल हो गया। मुझे माफ कर दे। इस कहानी से यही सीख मिलती है कि--दिन चाहे सुख के हों या दुःख के, भगवान अपने बन्दों के साथ हमेशा रहते हैं। हां हम एक बार ईश्वर से रूठ सकते हैं, लेकिन ईश्वर हमसे कभी नहीं रूठता। वह हमेशा अच्छा ही करता है। अक्सर हमारे साथ भी ऐसे हालत बन जाते हैं, हम पूरी तरह निराश हो जाते हैं और अपने ईश्वर या नियति से रूठ जाते हैं और विश्वास खो देते हैं जिससे हमारे यानी आत्म विश्वास में भी गिरावट होती है। लेकिन फिर बाद में हमें पता लगता है कि परमात्मा ने जो किया वह अच्छा ही किया था, नहीं तो आज मैं यहां न होता। इसलिए मुसीबत या दुःख के समय हार मानने की बजाय लगातार अपने कर्तव्य करते रहिए, और बाकी अपने परम पिता परमेश्वर छोड़ दीजिए,, क्योंकि वह जो करेंगे निश्चित अच्छा ही करेंगे....!

🚩ईश्वर पर हमेशा भरोसा रखें🚩

एक अमीर व्यक्ति था। उसने समुद्र में अकेले घूमने के लिए एक नाव बनवाई और छुट्टी के दिन वह नाव लेकर अकेले समुद्र की सैर करने निकल पड़ा। वह समुद्र में थोङा आगे पहुंचा ही था कि अचानक एक जोरदार तूफान आ गया। उसकी नांव पुरी तरह से तहस-नहस हो गइ लेकिन वह लाइफ जैकेट के साथ समुद्र में कूद गया। जब तूफान शान्त हुआ तब वह तैरता-तैरता एक टापु पर जा पहुंचा। मगर वहां भी कोई नहीं था। टापु के चारों ओर समुद्र के अलावा क़ुछ भी नजर नहीं आ रहा था।

उस आदमी ने सोचा कि जब मैंने पूरी जिंदगी में किसी का कभी बुरा नहीं किया तो मेरे साथ बुरा नहीं होगा। उसको लगा कि ईश्वर ने मौत से बचाया है तो आगे का रास्ता भी वही दिखाएगा। धीरे-धीरे वह वहां पर उगे झाङ-फल-पत्ते खाकर दिन बिताने लगा।

मगर अब धीरे-धीरे उसे लगने लगा था कि वह इस टापू पर फंस गया है। मगर अब भी ईश्वर पर उसका भरोसा कायम था। उसने सोचा इतने दिनों से मैं इस टापू पर मारा-मारा फिर रहा हूं, क्यों न यहां एक झोपड़ी बना लूं। पता नहीं अभी और कितने दिन यहां बिताने पड़ें। पूरे दिन लकडि़यां और पत्ते वगैरह इकट्ठा कर उसने झोंपड़ी बनानी शुरू की। रात होते-होते उसकी झोंपड़ी बनकर तैयार हो गई थी। अभी वह झोंपड़ी के बाहर खड़ा होकर उसे देखते हुए सोच रहा था कि आज से झोंपडी में सोने को मिलेगा। मगर अचानक से मौसम बदला और बिजली जोर-जोर से कड़कने लगी और एक बिजली उसकी झोंपड़ी पर गिर गई। उसके देखते ही देखते झोंपड़ी जलकर खाक हो गई। यह देखकर वह व्यक्ति टुट गया।

उसने आसमान की तरफ देखकर बोला, हे ईश्वर ये तेरा कैसा इंसाफ है। तूने मुझ पर अपनी रहम की नजर क्यों नहीं की? मैंने हमेशा तुझ पर विश्वास बनाए रखा। फिर वह इंसान हताश और निराश होकर सर पर हाथ रखकर रोने लगा। अचानक ही एक नाव टापू के पास आई। नाव से उतर कर दो आदमी बाहर आए और बोले कि हम तुम्हें बचाने आए हैं। दुर से इस वीरान टापू में जलता हूआ झोंपड़ा देखा तो लगा की कोई उस टापू पर मुसीबत में है। अगर तुम अपनी झोंपडी नहीं जलाते तो हमें पता नहीं चलता कि टापू पर कोई हैं।

उस आदमी की आंखों से आंसू गिरने लगे। उसने ईश्वर से माफी मांगी और बोला कि हे ईश्वर मुझे क्या पता था कि तूने मुझे बचाने के लिए मेरी झोंपडी जलाई थी। यकिनन तू अपने बंदों का हमेशा ख्याल रखता है। तूने मेरे सब्र का इम्तेहान लिया,  लेकिन मैं उसमे फेल हो गया। मुझे माफ कर दे।

इस कहानी से यही सीख मिलती है कि--दिन चाहे सुख के हों या दुःख के, भगवान अपने बन्दों के साथ हमेशा रहते हैं। हां हम एक बार ईश्वर से रूठ सकते हैं, लेकिन ईश्वर हमसे कभी नहीं रूठता। वह हमेशा अच्छा ही करता है। अक्सर हमारे साथ भी ऐसे हालत बन जाते हैं, हम पूरी तरह निराश हो जाते हैं और अपने ईश्वर या नियति से रूठ जाते हैं और विश्वास खो देते हैं जिससे हमारे यानी आत्म विश्वास में भी गिरावट होती है।

लेकिन फिर बाद में हमें पता लगता है कि परमात्मा ने जो किया वह अच्छा ही किया था, नहीं तो आज मैं यहां न होता। इसलिए मुसीबत या दुःख के समय हार मानने की बजाय लगातार अपने कर्तव्य करते रहिए, और बाकी अपने परम पिता परमेश्वर छोड़ दीजिए,, क्योंकि वह जो करेंगे निश्चित अच्छा ही करेंगे....!

+309 प्रतिक्रिया 84 कॉमेंट्स • 450 शेयर

कामेंट्स

kp gupta Jan 26, 2021
🌻🌹Radhe-Radhe ji🌹🌻jai jinedra.good night with sweet drwams ji 🍫🍫🍵🍵👈👏👏

madan pal 🌷🙏🏼 Jan 26, 2021
जय श्री राधे राधे कृष्णा जी शुभ रात्रि वंदन जी आपका हर पल शुभ मंगल हो जी 🌷🙏🏼🌷🙏🏼🌷🙏🏼🌷🙏🏼

Anilkumar Marathe Jan 26, 2021
🙏जय श्रीकृष्ण नमस्कार सदाबहार आदरणीय प्यारी प्रीती जी !! 🌹आसमान की बुलंदियों पर नाम हो आपका, चाँद की धरती पर मुकाम हो आपका, तमन्नाओ से भरी हो आपकी ज़िंदगी, ख्वाहिशों से भरा हो आपका हर पल, दामन भी लगने लगे छोटा आपको, इतनी खुशियां लेकर आये आने वाला कल, भगवान आपके सभी संकटो का नाश करे !! 🙏शुभरात्री स्नेह वंदन जी !!

ललन कुमार-8696612797 Jan 26, 2021
जिनके मन में बसते हैं श्री राम उन पर कृपा करते हैं हनुमान जी।शुभ रात्रि वन्दन जी।जय श्री राम।

manish.s Jan 26, 2021
_*मन ऐसा रखो कि*_ _*किसी को बुरा न लगे।*_ _*दिल ऐसा रखो कि*_ _*किसी को दुःखी न करें।*_ _*रिश्ता ऐसा रखो कि*_ _*उसका अंत न हो*_ जय राधे कृष्णा जी... शुभ रात्रि जी..🌹🙏😊

Bhagat ram Jan 26, 2021
🌹🌹 शुभ रात्रि वंदन 🙏🙏🌿💐🌺🌹 जय श्री कृष्णा राधे राधे जी 🙏🙏🌿💐🌺🌹

आशुतोष Jan 26, 2021
🕉 श्रीकृष्ण गोविन्द हरे मुरारी, हे नाथ नारायण वासुदेवाय... ༺꧁ Զเधॆ Զเधॆ꧂༻ 🙏 🌹 जय श्री कृष्णा 🌹🙏 || शुभरात्रि वंदन ||

manish.s Jan 26, 2021
_*मन ऐसा रखो कि*_ _*किसी को बुरा न लगे।*_ _*दिल ऐसा रखो कि*_ _*किसी को दुःखी न करें।*_ _*रिश्ता ऐसा रखो कि*_ _*उसका अंत न हो*_ जय राधे कृष्णा जी... शुभ रात्रि जी..🌹🙏😊

saumya sharma Jan 26, 2021
शुभ रात्रि वंदन मेरी प्यारी बहन🌙🌹🙏 जीवन में कई बार हम बड़ी बड़ी परेशानियों से यूँ निकल जाते हैं, मानो कोई है जो हमारा साथ दे रहा है, उसी अदृश्य शक्ति को हम परमात्मा कहते हैं 🙏🙏🌹🌹🙏🙏 उस परम पिता परमेश्वर की कृपा से आपका हर पल शुभ व मंगलमय हो🙏🙏🙏

k l तिवारी Jan 26, 2021
🌷🌷🌺जय श्री राधे कृष्णा बहन, सादर प्रणाम करता हूँ बहन, God bless you my dear sister.💜 शुभरात्रि वन्दन बहना🌹🇮🇳🙏🇮🇳🌹

Shyam Pandit Jan 26, 2021
ओम्।श्री।राधे।गोविंद।नम। दे।तिरंगे।को।सलामी।शुभ।रात्रि। pirt ई।ईश्वर।आप।और।आपके। परिवार।को।खुश।रखे।जी।

Ashwinrchauhan Jan 26, 2021
राधे राधे जी ठाकुर जी की कृपा आप पर आप के पुरे परिवार पर सदेव बनी रहे आप का हर पल मंगल एवं शुभ रहे भगवान श्री कृष्णा जी आप की हर मनोकामना पूरी करे आप का आने वाला दिन शुभ रहे गुड नाईट जय जिनेन्द जय महावीर जय श्री कृष्ण

Ramesh Soni.33 Jan 26, 2021
Om Namo bhagwate vasudevay Namah 🚩🚩🚩🌹Jay Shri Ram Jay🚩🚩 🌹🌹Bajrangbali ki Jay 🚩🚩🌹Jay Shri Radhe Krishna🚩🚩🌹🌹🌹🌹🙏🙏🌹🌹🌹🌹

yukta Jan 28, 2021
rathe radhe ji 🙏

Mamta Chauhan Mar 1, 2021

+237 प्रतिक्रिया 54 कॉमेंट्स • 165 शेयर
Sanjay Awasthi Mar 1, 2021

+193 प्रतिक्रिया 34 कॉमेंट्स • 182 शेयर
💥RAJU RAI.💥 Mar 1, 2021

+23 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 113 शेयर
Archana Singh Mar 1, 2021

+197 प्रतिक्रिया 42 कॉमेंट्स • 114 शेयर

*जय श्री राधे कृष्णा जी* *शुभरात्रि वंदन* *"सोने की गिन्नियों का बंटवारा"* 🙏🏻🚩🌹 👁❗👁 🌹🚩🙏🏻 एक दिन की बात है. दो मित्र सोहन और मोहन अपने गाँव के मंदिर की सीढ़ियों पर बैठकर बातें कर रहे थे. इतने में एक तीसरा व्यक्ति जतिन उनके पास आया और उनकी बातों में शामिल हो गया. तीनों दिन भर दुनिया-जहाँ की बातें करते रहे. कब दिन ढला? कब शाम हुई? बातों-बातों में उन्हें पता ही नहीं चला. शाम को तीनों को भूख लग आई. सोहन और मोहन के पास क्रमशः ३ और ५ रोटियाँ थीं, लेकिन जतिन के पास खाने के लिए कुछ भी नहीं था. सोहन और मोहन ने तय किया कि वे अपने पास की रोटियों को आपस में बांटकर खा लेंगें. जतिन उनकी बात सुनकर प्रसन्न हो गया. लेकिन समस्या यह खड़ी हो गई है कि कुल ८ रोटियों को तीनों में बराबर-बराबर कैसे बांटा जाए? सोहन इस समस्या का समाधान निकालते हुए बोला, “हमारे पर कुल ८ रोटियाँ हैं. हम इन सभी रोटियों के ३-३ टुकड़े करते हैं. इस तरह हमारे पास कुल २४ टुकड़े हो जायेंगे. उनमें से ८-८ टुकड़े हम तीनों खा लेंगें.” मोहन और जतिन को यह बात जंच गई और तीनों ने वैसा ही किया. रोटियाँ खाने के बाद वे तीनों उसी मंदिर की सीढ़ियों पर सो गए, क्योंकि रात काफ़ी हो चुकी थी. रात में तीनों गहरी नींद में सोये और सीधे अगली सुबह ही उठे. सुबह जतिन ने सोहन और मोहन से विदा ली और बोला, “मित्रों! कल तुम दोनों ने अपनी रोटियों में से तोड़कर मुझे जो टुकड़े दिए, उसकी वजह से मेरी भूख मिट पाई. इसके लिए मैं तुम दोनों का बहुत आभारी हूँ. यह आभार तो मैं कभी चुका नहीं पाऊंगा. लेकिन फिर भी उपहार स्वरुप मैं तुम दोनों को सोने की ये ८ गिन्नियाँ देना चाहता हूँ.” यह कहकर उसने सोने की ८ गिन्नियाँ उन्हें दे दी और विदा लेकर चला गया. सोने की गिन्नियाँ पाकर सोहन और मोहन बहुत खुश हुए. उन्हें हाथ में लेकर सोहन मोहन से बोला, “आओ मित्र, ये ८ गिन्नियाँ आधी-आधी बाँट लें. तुम ४ गिन्नी लो और ४ गिन्नी मैं लेता हूँ.” लेकिन मोहन ने ऐसा करने से इंकार कर दिया. वह बोला, “ऐसे कैसे? तुम्हारी ३ रोटियाँ थीं और मेरी ५. मेरी रोटियाँ ज्यादा थीं, इसलिए मुझे ज्यादा गिन्नियाँ मिलनी चाहिए. तुम ३ गिन्नी लो और मैं ५ लेता हूँ.” इस बात पर दोनों में बहस छोड़ गई. बहस इतनी बढ़ी कि मंदिर के पुजारी को बीच-बचाव के लिए आना पड़ा. पूछने पर दोनों ने एक दिन पहले का किस्सा और सोने की गिन्नियों की बात पुजारी जी को बता दी. साथ ही उनसे निवेदन किया कि वे ही कोई निर्णय करें. वे जो भी निर्णय करेंगे, उन्हें स्वीकार होगा. यूँ तो पुजारी जी को मोहन की बात ठीक लगी. लेकिन वे निर्णय में कोई गलती नहीं करना चाहते थे. इसलिए बोले, “अभी तुम दोनों ये गिन्नियाँ मेरे पास छोड़ जाओ. आज मैं अच्छी तरह सोच-विचार कर लेता हूँ. कल सुबह तुम लोग आना. मैं तुम्हें अपना अंतिम निर्णय बता दूंगा. सोहन और मोहन सोने की गिन्नियाँ पुजारी जी के पास छोड़कर चले गए. देर रात तक पुजारी जी गिन्नियों के बंटवारे के बारे में सोचते रहे. लेकिन किसी उचित निष्कर्ष पर नहीं पहुँच सके. सोचते-सोचते उन्हें नींद आ गई और वे सो गए. नींद में उन्हें एक सपना आया. उस सपने में उन्हें भगवान दिखाई पड़े. सपने में उन्होंने भगवान से गिन्नियों के बंटवारे के बारे में पूछा, तो भगवान बोले, “सोहन को १ गिन्नी मिलनी चाहिए और मोहन को ७.” यह सुनकर पुजारी जी हैरान रह गए और पूछ बैठे, “ऐसा क्यों प्रभु?” तब भगवान जी बोले, “देखो, राम के पास ३ रोटियाँ थी, जिसके उसने ९ टुकड़े किये. उन ९ टुकड़ों में से ८ टुकड़े उसने ख़ुद खाए और १ टुकड़ा जतिन को दिया. वहीं मोहन में अपनी ५ रोटियों के १५ टुकड़े किये और उनमें से ७ टुकड़े जतिन को देकर ख़ुद ८ टुकड़े खाए. चूंकि सोहन ने जतिन को १ टुकड़ा दिया था और मोहन ने ७. इसलिए सोहन को १ गिन्नी मिलनी चाहिए और मोहन को ७.” पुजारी जी भगवान के इस निर्णय पर बहुत प्रसन्न और उन्हें कोटि-कोटि धन्यवाद देते हुए बोले, “प्रभु. मैं ऐसे न्याय की बात कभी सोच ही नहीं सकता था.” अगले दिन जब सोहन और मोहन मंदिर आकर पुजारी जी से मिले, तो पुजारी जी ने उन्हें अपने सपने के बारे में बताते हुए अंतिम निर्णय सुना दिया और सोने की गिन्नियाँ बांट दीं. मित्रों" जीवन में हम जब भी कोई त्याग करते हैं या काम करते हैं, तो अपेक्षा करते हैं कि भगवान इसके बदले हमें बहुत बड़ा फल देंगे. लेकिन जब ऐसा नहीं हो पाता, तो हम भगवान से शिकायत करने लग जाते हैं. हमें लगता है कि इतना कुछ त्याग करने के बाद भी हमें जो प्राप्त हुआ, वो बहुत कम है. भगवान ने हमारे साथ अन्याय किया है. लेकिन वास्तव में, भगवान का न्याय हमारी सोच से परे है. वह महज़ हमारे त्याग को नहीं, बल्कि समग्र जीवन का आंकलन कर निर्णय लेता है. इसलिए जो भी हमें मिला है, उसमें संतुष्ट रहना चाहिए और भगवान से शिकायतें नहीं करनी चाहिए. क्योंकि भगवान का निर्णय सदा न्याय-संगत होता है और हमें जीवन में जो भी मिल रहा होता है, वो बिल्कुल सही होता है. 🌹🙏🏻🚩 *जय सियाराम* 🚩🙏🏻🌹 🚩🙏🏻 *जय श्री महाकाल* 🙏🏻🚩

+188 प्रतिक्रिया 29 कॉमेंट्स • 120 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB