जय राम जी की -- !! स्वदेशी अपनाये मिट्टी का दीया ही जलाये !!

जय राम जी की -- !! स्वदेशी अपनाये मिट्टी का दीया ही जलाये !!

जय राम जी की -- !! स्वदेशी अपनाये मिट्टी का दीया ही जलाये !!

सड़क किनारे एक कोने में छोटे से बच्चे को दीपक बेचते देख रमेश ठिठका !

उसके रुकते ही पालथी के नीचे किताब दबाते हुए बच्चा बोला - "अंकल कित्ते दे दूँ ?"

"दीपक तो बड़े सुन्दर हैं ! बिल्कुल तुम्हारी तरह ! सारे ले लूँ तो ?"

"सारे लोग तो एक दर्जन भी नहीं ले रहें महंगा कहकर सामने वाली दुकान से चायनीज लड़ियाँ खरीदने चले जाते हैं !"

उसकी बात सुन अपना अतीत सामने पाकर रमेश मुस्कुरा पड़ा !

"बेटा सारे के सारे दीपक गाड़ी में रख दोगें ?"

"क्यों नहीं अंकल !" मन में लड्डू फूट पड़ा पांच सौ की दो नोट पाकर सोचने लगा, 'आज दादी खुश हो जाएँगी  उसकी दवा के साथ साथ मैं एक छड़ी भी खरीदूँगा दादी को कितनी परेशानी होती है बिना छड़ी के चलने में !

"क्या सोच रहा है, कम है ?"

"नहीं अंकल, इतने में तो सारे सपने पूरे कर लूँगा मैं
वह कहकर अपना सामान समेटने लगा ।

अचानक गाड़ी की तरफ पलटा फिर थोड़ा अचरज से पूछा - "अंकल, लोग मुझपर दया दिखाते तो हैं, पर दीपक नहीं लेते हैं  आप ने मुझसे सारे ले लिए ! प्रश्नवाचक दृष्टि टिका दी ड्राइविंग सीट पे बैठे रमेश पर !

रमेश नम आखों से मुस्करा कर बोला --"हाँ बेटा, क्योंकि तुम्हारी जैसी परिस्थिति से मैं भी गुजरा हूँ , मैं जानता हूँ कि भूख व मजबूरियाँ क्या होती है .... !!

    !! स्वदेशी अपनाये मिट्टी का दीया ही जलाये !!

+169 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 344 शेयर

कामेंट्स

+568 प्रतिक्रिया 103 कॉमेंट्स • 257 शेयर
kalavati Rajput May 24, 2019

🌺 ॐ जय श्री सच्चिदानंद स्वरूपाय नमः 🙏🌺 🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩 🌺🌺🌺🌺 धर्म क्या है? 🌺🌺🌺 🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩 धर्म,वचन, मन जो करे, सो आरपे भगवान ।। सत्य वचन पालन करे, हरित जियति नही आंन।। 🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆 एक एवं सुहृधर्मो निघने अप्यनुयाति यः।। शरीरेन समं नाशं सर्वमान्यधि गच्छति।। भावार्थ:--- इस संसार में एक धर्म ही सुहृद है जो मृत्यु के पश्चात् भी संग और सब पदार्थ व् संगी शरीर के साथ ही नाश को प्राप्त होते हैं अर्थात सब का संग छूट जाता है परंतु धर्म का संग कभी नहीं छुटता है। 🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆 धर्म और कर्म ही मनुष्य के हाथ में है। और हम इसी के द्वाराही परमात्मा तक पहुच सकते है। जिससे उनकी भक्ति से ही प्राणी को मुक्ति मिल सकती है। 🎆सत्यं ज्ञानमनंतम ब्रम्हा यो वेद, निहितं गुहायां परमे व्योमन।। सोअश्नुते सर्वान कामान , सह ब्रम्हाना विपशिचतेति ।। 🚩 तैत्तरीय उपनिषद । भावार्थ:--- जो जीवात्मा अपनी बुद्धि और आत्मा में स्थित सत्य ज्ञान और अनंतस्वरूप परमात्मा को जानता है वह उस व्यापक रूप ब्रम्ह में स्थित होके उस ब्रम्ह के साथ सब कामो को प्राप्त होता है अर्थात जिस जिस आनंद की कामना करता है उस उस आनंद को प्राप्त होता है।। 🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆🎆 🙏ॐ जय श्री अनन्तं नियन्ताय नमः 🙏 🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩

+230 प्रतिक्रिया 36 कॉमेंट्स • 26 शेयर
Swami Lokeshanand May 24, 2019

विचार करें, विभीषण को गले से लगाया गया, सूर्पनखा को दृष्टि तक नहीं मिली। यहाँ तक की जब सुग्रीव ने पूछा कि भगवान आपने विभीषण को लंकापति बना दिया, यदि कल रावण भी शरण में आ गया तो उसे क्या देंगे? रामजी ने कहा कि मैं भरत को वन में बुला लूंगा, रावण को अयोध्या दे दूंगा। पूछा गया कि तब सूर्पनखा ने ही ऐसा कौन सा अपराध कर दिया, आप स्वीकार न करते, कम से कम एक बार नजर तो डाल देते। और भी देखें, उधर कृष्णलीला में, भगवान ने पूतना के आने पर आँखों को बंद कर लिया, जबकि कुब्जा को स्वीकार कर लिया। देखें, भगवान के दो नियम हैं। एक तो यह कि भगवान को कपट स्वीकार नहीं। विभीषण और कुब्जा कपटरूप बना कर नहीं आए, जैसे हैं वैसे ही आ गए। जबकि सूर्पनखा और पूतना कपटवेष बनाकर आई हैं। दूसरे, भगवान तन नहीं देखते, मन देखते हैं। मन की दो ही धाराएँ हैं, भक्ति या आसक्ति। और इस देह रूपी पंचवटी में दो में से एक ही होगी। सीताजी भक्ति हैं, सूर्पनखा आसक्ति है। भगवान की दृष्टि भक्ति पर से कभी हटती नहीं है, आसक्ति पर कभी पड़ती नहीं है। अब आप झांककर देखें, आपके अन्त:करण में कौन है? यदि वहाँ भक्ति है, तो आप धन्य हैं, आपके भीतर सीताजी बैठी हैं, आपको पुकारना भी नहीं पड़ेगा, भगवान की दृष्टि आप पर टिकी है, टिकी रहेगी। लेकिन यदि वहाँ आसक्ति का डेरा है, तो आपके भीतर सूर्पनखा का राज चल रहा है, आप लाख चिल्लाओ, भगवान चाहें तो भी आप पर कृपा दृष्टि डाल नहीं सकते। भगवान की दृष्टि में मन का सौंदर्य ही सौंदर्य है। इसीलिए भगवान के लिए जीर्ण शीर्ण बूढ़ी शबरी सुंदर है, सूर्पनखा नहीं। जहाँ भक्ति है वहीं सौंदर्य है, तन का सौंदर्य तो दो कौड़ी का है। चमड़ी की सुंदरता पर जो रीझ जाए, वह तो मूर्ख है, अंधा है। मन सुंदर हो, तब कुछ बात है। अब विडियो देखें- सूर्पनखा से सावधानी https://youtu.be/tWh1W3ApIio

+16 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 40 शेयर

+183 प्रतिक्रिया 25 कॉमेंट्स • 248 शेयर

+26 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 53 शेयर
Purvin kumar May 24, 2019

+35 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 113 शेयर

+24 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 28 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 31 शेयर

+43 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 104 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB