MANOJ VERMA
MANOJ VERMA Dec 16, 2017

श्रीकृष्ण सूर्य के समान हैं,

श्रीकृष्ण सूर्य के समान हैं,

श्रीकृष्ण सूर्य के समान हैं, और माया अन्धकारमय है। जहां श्रीकृष्ण हैं वहां फिर माया का कुछ भी अधिकार नहीं है। अतः श्रीकृष्ण भक्ति के बिना न तो बुद्धि ही विशुद्ध हो सकती है और न यह जीव माया के चंगुल से छुटकारा पा सकता है। .......जगद्गुरु श्री कृपालु जी महाराज।

+55 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 109 शेयर

कामेंट्स

MANOJ VERMA Dec 16, 2017
जय जय श्री राधे 🚩

Sunil Varma May 29, 2018
जय श्री कृष्णा जय श्री कृष्णा राधे राधे जय श्री कृष्णा राधे राधे हरे हरे जय श्री कृष्णा हरे हरे राधे राधे राधे राधे जय श्री कृष्णा राधे राधे जय श्री कृष्णा हरे हरे जय श्री कृष्णा राधे राधे जय श्री कृष्णा राधे राधे

Swami Lokeshanand Apr 23, 2019

भरतजी कौशल्याजी के महल के दरवाजे पर आ तो पहुँचे, पर भीतर जाने की हिम्मत नहीं हो रही, बाहर ही खड़े रह गए। माँ खिड़की पर बैठी हैं, सामने पेड़ पर एक कौआ काँव काँव कर रहा है, आँसुओं की धारा बह चली। कौन आएगा? क्या पिताजी के जाने का समाचार राम को अयोध्या खींच ला सकता है? मेरा हृदय पत्थर का बना है, तभी तो राम को जाते देखकर भी यह फट नहीं गया, प्रेम तो महाराज ने ही निभाया है, मैं तो क्रुर काल के हाथों ठगी गई । यदि राम एकबार आ गए, तो मैं उनके चरणों से लिपट जाऊँगी, फिर जाने नहीं दूंगी। पर क्या वे आएँगे? अ कौए! अगर राम आ गए, तो तेरी चोंच सोने से मंढवा दूंगी, तुझे रोज मालपुआ बना बनाकर खिलाऊँगी। हाए! हाए! न मालूम वो इस समय कहाँ होंगे, किस हाल में होंगे? वर्षा ऋतु है, भीगने से बचने के लिए तीनों किसी वृक्ष के नीचे खड़े होंगे? क्या विधाता ने ये महल मेरे लिए ही बनाए हैं? वे वन में ठोकरें खा रहे हैं, मैं महलों में ही पड़ी हूँ। सत्य है, मूल के लिए ब्याज छोड़ दिया, पर अब तो मूल भी चला गया, सब कुछ लुट गया! बड़बड़ाना बंद हुआ तो ध्यान दिया, बाहर किसी के सिसकने की आवाज आ रही है। छोटे छोटे कदम धरती हैं, पाँच ही दिन में माँ पर बुढ़ापा उतर आया है। इधर भरतजी ने आहट सुनी, पहचान गए, माँ आ रही हैं। हाथों से चेहरा ढक लिया। राममाता पूछती हैं, कौन हो? चेहरा क्यों नहीं दिखाते? क्या तुम राम हो? भरतलालजी का बाँध टूट गया, ऐसी दहाड़ माँ के कानों में पहली बार पड़ी है। भरभराती आवाज आई "भरत हूँ माँ!" भरत! मेरा भरत बेटा आ गया। मेरा भरत! चेहरा तो दिखा दो बेटा, दिखाते क्यों नहीं? माँ! मेरा चेहरा मत देखो, इतना पाप चढ़ गया है मुझपर, मेरा चेहरा देखनेवाले को भी पाप लग जाएगा। कौशल्याजी भरतजी की छाती से जा लगीं। बस! आज इतना ही!! अब विडियो देखें- कौशल्या https://youtu.be/paC3Z6Pl7no

+33 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 12 शेयर
Devinder Grewal Apr 24, 2019

+13 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 48 शेयर
Vijay Yadav Apr 23, 2019

+15 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 57 शेयर

+360 प्रतिक्रिया 41 कॉमेंट्स • 567 शेयर
Mysuvichar Apr 23, 2019

+46 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 145 शेयर

+62 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 43 शेयर
Ritesh Apr 23, 2019

+40 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 34 शेयर
Purvin kumar Apr 23, 2019

+18 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 148 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB