Virtual Temple
Virtual Temple Mar 26, 2020

https://youtu.be/sSaRY2Q8zKA

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Virtual Temple Mar 26, 2020

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Rameshanand Guruji Mar 28, 2020

🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *********|| जय श्री राधे ||********* 🌺🙏 *महर्षि पाराशर पंचांग* 🙏🌺 🙏🌺🙏 *अथ पंचांगम्* 🙏🌺🙏 *********ll जय श्री राधे ll********* 🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *दिनाँक -: 28/03/2020,शनिवार* चतुर्थी, शुक्ल पक्ष चैत्र """""""""""""""""""""""""""""""""""""(समाप्ति काल) तिथि ----------चतुर्थी 24:17:07 तक पक्ष ---------------------------शुक्ल नक्षत्र ----------भरणी 12:50:51 योग ---------विश्कुम्भ 17:51:33 करण -------वाणिज 11:16:40 करण ------विष्टि भद्र 24:17:07 वार -------------------------शनिवार माह ------------------------------चैत्र चन्द्र राशि --------मेष 19:29:10 चन्द्र राशि ---------------------वृषभ सूर्य राशि ----------------------मीन रितु ----------------------------वसंत आयन --------------------उत्तरायण संवत्सर -----------------------शार्वरी संवत्सर (उत्तर) -------------प्रमादी विक्रम संवत ----------------2077 विक्रम संवत (कर्तक)------2076 शाका संवत ----------------1942 वृन्दावन सूर्योदय -----------------06:15:07 सूर्यास्त -----------------18:33:28 दिन काल --------------12:18:20 रात्री काल -------------11:40:31 चंद्रोदय -----------------08:34:01 चंद्रास्त -----------------22:03:10 लग्न ----मीन 13°40' , 343°40' सूर्य नक्षत्र ---------उत्तराभाद्रपदा चन्द्र नक्षत्र -------------------भरणी नक्षत्र पाया --------------------स्वर्ण *🚩💮🚩 पद, चरण 🚩💮🚩* लो ----भरणी 12:50:51 अ ----कृत्तिका 19:29:10 ई ----कृत्तिका 26:06:17 *💮🚩💮 ग्रह गोचर 💮🚩💮* ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद ======================= सूर्य=मीन 13°22 ' उ o भा o, 4 ञ चन्द्र =मेष 23°23 ' भरनी ' 4 लो बुध = कुम्भ 16°50 ' शतभिषा' 3 सी शुक्र= मेष 29°55, कृतिका ' 1 अ मंगल=मकर 03°30' उ o षा o ' 3 जा गुरु=धनु 29°50 ' उ oषाo , 1 भे शनि=मकर 05°43' उ oषा o ' 3 जा राहू=मिथुन 09°32 ' आर्द्रा , 1 कु केतु=धनु 09 ° 32 ' मूल , 3 भा *🚩💮🚩शुभा$शुभ मुहूर्त🚩💮🚩* राहू काल 09:20 - 10:52 अशुभ यम घंटा 13:57 - 15:29 अशुभ गुली काल 06:15 - 07:47 अशुभ अभिजित 11:59 -12:49 शुभ दूर मुहूर्त 07:54 - 08:43 अशुभ 💮चोघडिया, दिन काल 06:15 - 07:47 अशुभ शुभ 07:47 - 09:20 शुभ रोग 09:20 - 10:52 अशुभ उद्वेग 10:52 - 12:24 अशुभ चर 12:24 - 13:57 शुभ लाभ 13:57 - 15:29 शुभ अमृत 15:29 - 17:01 शुभ काल 17:01 - 18:33 अशुभ 🚩चोघडिया, रात लाभ 18:33 - 20:01 शुभ उद्वेग 20:01 - 21:29 अशुभ शुभ 21:29 - 22:56 शुभ अमृत 22:56 - 24:24* शुभ चर 24:24* - 25:51* शुभ रोग 25:51* - 27:19* अशुभ काल 27:19* - 28:46* अशुभ लाभ 28:46* - 30:14* शुभ 💮होरा, दिन शनि 06:15 - 07:17 बृहस्पति 07:17 - 08:18 मंगल 08:18 - 09:20 सूर्य 09:20 - 10:21 शुक्र 10:21 - 11:23 बुध 11:23 - 12:24 चन्द्र 12:24 - 13:26 शनि 13:26 - 14:27 बृहस्पति 14:27 - 15:29 मंगल 15:29 - 16:30 सूर्य 16:30 - 17:32 शुक्र 17:32 - 18:33 🚩होरा, रात बुध 18:33 - 19:32 चन्द्र 19:32 - 20:30 शनि 20:30 - 21:29 बृहस्पति 21:29 - 22:27 मंगल 22:27 - 23:25 सूर्य 23:25 - 24:24 शुक्र 24:24* - 25:22 बुध 25:22* - 26:21 चन्द्र 26:21* - 27:19 शनि 27:19* - 28:17 बृहस्पति 28:17* - 29:16 मंगल 29:16* - 30:14 *नोट*-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार । शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥ रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार । अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥ अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें । उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें । शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें । लाभ में व्यापार करें । रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें । काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है । अमृत में सभी शुभ कार्य करें । *💮दिशा शूल ज्ञान-------------पूर्व* परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो लौंग अथवा कालीमिर्च खाके यात्रा कर सकते है l इस मंत्र का उच्चारण करें-: *शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l* *भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll* *🚩 अग्नि वास ज्ञान -:* *यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,* *चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।* *दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,* *नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।।* *महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्* *नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।* 4 + 7 + 1 = 12 ÷ 4 = 0 शेष मृत्यु लोक पर अग्नि वास हवन के लिए शुभ कारक है l *💮 शिव वास एवं फल -:* 4 + 4 + 5 = 13 ÷ 7 = 6 शेष क्रीड़ायां = शोक ,दुःख कारक *🚩भद्रा वास एवं फल -:* *स्वर्गे भद्रा धनं धान्यं ,पाताले च धनागम:।* *मृत्युलोके यदा भद्रा सर्वकार्य विनाशिनी।।* प्रातः 11:14 से रात्रि 24:17 तक स्वर्ग लोक = शुभ कारक *💮🚩 विशेष जानकारी 🚩💮* * नवरात्रि चतुर्थ दिवस कूष्मांडा पूजन *💮🚩💮 शुभ विचार 💮🚩💮* राजा राष्ट्रकृतं पापं राज्ञः पापं पुरोहितः । भर्ता च स्त्रीकृतं पापं शिष्यपापं गुरुस्तथा ।। ।।चा o नी o।। राजा को उसके नागरिको के पाप लगते है. राजा के यहाँ काम करने वाले पुजारी को राजा के पाप लगते है. पति को पत्नी के पाप लगते है. गुरु को उसके शिष्यों के पाप लगते है. *🚩💮🚩 सुभाषितानि 🚩💮🚩* गीता -: मोक्षसन्यासयोग अo-18 ईश्वरः सर्वभूतानां हृद्देशेऽजुर्न तिष्ठति।, भ्रामयन्सर्वभूतानि यन्त्रारुढानि मायया॥, हे अर्जुन! शरीर रूप यंत्र में आरूढ़ हुए संपूर्ण प्राणियों को अन्तर्यामी परमेश्वर अपनी माया से उनके कर्मों के अनुसार भ्रमण कराता हुआ सब प्राणियों के हृदय में स्थित है॥,61॥, *💮🚩 दैनिक राशिफल 🚩💮* देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।। विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।। 🐏मेष व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। अप्रत्याशित लाभ हो सकता है। जुए-सट्टे व लॉटरी से दूर रहें। व्यवसाय मनोनुकूल रहेगा। विरोधी सक्रिय रहेंगे। जीवनसाथी के स्वास्थ्य की चिंता रहेगी। किसी अपने का व्यवहार समझ नहीं आएगा। सुख के साधनों पर खर्च होगा। किसी बड़ी समस्या से निजात मिलेगी। 🐂वृष फिजूलखर्ची पर नियंत्रण रखें। कर्ज लेना पड़ सकता है। अपेक्षित कार्यों में विलंब होने से मन खिन्न रहेगा। विवाद को बढ़ावा न दें। शत्रुभय रहेगा। परिवार की चिंता रहेगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। आय में निरंतरता रहेगी। अपरिचित व्यक्ति से सावधान रहें। 👫मिथुन संतान पक्ष की चिंता रहेगी। विरोधी सक्रिय रहेंगे। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। यात्रा मनोनुकूल रहेगी। बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। आय व रोजगार में वृद्धि होगी। मित्र व संबंधी सहायता को आगे आएंगे। मेहमानों पर व्यय होगा। जल्दबाजी न करें। 🦀कर्क घर-बाहर तनाव रहेगा। लोगों से प्रतिकूलता रहेगी। नई योजना बनेगी। कार्यप्रणाली में सुधार होगा। सामाजिक प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। नौकरी में अधिकार वृद्धि हो सकती है। मनोनुकूल तबादला हो सकता है। आय में निरंतरता रहेगी। अपेक्षित कार्य पूरे होंगे। 🐅सिंह तंत्र-मंत्र में रुचि बढ़ेगी। किसी मार्गदर्शक का सहयोग मिलेगा। लोगों की बातों में न आएं। कोर्ट व कचहरी में दबदबा बना रहेगा। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। व्यवसाय में वृद्धि होगी। जल्दबाजी न करें। थकान महसूस होगी। भाग्य का साथ मिलेगा। प्रसन्नता रहेगी। 🙎कन्या चोट व दुर्घटना से हानि संभव है। पुराना रोग परेशान कर सकता है। वाणी पर नियंत्रण रखें। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। अज्ञात भय रहेगा। नया कार्य प्रारंभ करने की योजना टालें। यात्रा में जल्दबाजी न करें। घर-बाहर अशांति रहेगी। धैर्य रखें। आय बनी रहेगी। ⚖तुला भागदौड़ अधिक रहेगी। प्रेम-प्रसंग में अनुकूलता रहेगी। कोर्ट व कचहरी के कार्य अनुकूल रहेंगे। शत्रुओं का पराभव रहेगा। अधिकार प्राप्ति के योग हैं। परिवार के सदस्यों का सहयोग मिलेगा। व्यवसाय लाभदायक चलेगा। प्रसन्नता रहेगी। आंखों में पीड़ा हो सकती है। 🦂वृश्चिक कष्ट, भय या तनाव का वातावरण बन सकता है। लेन-देन में सावधानी रखें। मकान, दुकान व जमीन खरीदने की योजना बनेगी। रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। धनहानि हो सकती है। आय में वृद्धि होगी। जोखिम लेने का साहस कर पाएंगे। रुके कार्य पूर्ण होंगे। 🏹धनु विद्यार्थी वर्ग सफलता हासिल करेगा। पार्टी व पिकनिक का आनंद प्राप्त होगा। स्वादिष्ट भोजन का आनंद प्राप्त होगा। नौकरी में अनुकूलता प्राप्त होगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। रोजगार में वृद्धि होगी। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। जोखिम व जमानत के कार्य टालें। शुभ समय। 🐊मकर परिवार के साथ मनोरंजक यात्रा हो सकती है। रचनात्मक कार्य सफल रहेंगे। स्वादिष्ट भोजन का आनंद मिलेगा। धन प्राप्ति सुगम होगी। किसी प्रभावशाली व्यक्ति का मार्गदर्शन प्राप्त होगा। क्रोध व आलस्य पर नियंत्रण रखें। घर-बाहर प्रसन्नता रहेगी। 🍯कुंभ मेहनत की अधिकता से स्वास्थ्य प्रभावित हो सकता है। बुरी खबर मिल सकती है। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। अपेक्षित कार्यों में विलंब होने से तनाव रहेगा। विवेक व धैर्य का प्रयोग करें। लाभ होगा। जोखिम व जमानत के कार्य बिलकुल न करें। 🐟मीन घर-बाहर पूछ-परख रहेगी। मेहनत का फल मिलेगा। आय में वृद्धि होगी। पारिवारिक सदस्यों व मित्रों का सहयोग प्राप्त होगा। कोई बड़ी समस्या दूर हो सकती है। प्रसन्नता में वृद्धि होगी। जल्दबाजी न करें। महत्वाकांक्षाएं बढ़ेंगी। प्रयास अधिक करें। 🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏 🌺🌺🌺🌺🙏🌺🌺🌺🌺 *आचार्य नीरज पाराशर (वृन्दावन)* (व्याकरण,ज्योतिष,एवं पुराणाचार्य) 09897565893,09412618599

+9 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Virtual Temple Mar 26, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Virtual Temple Mar 26, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Virtual Temple Mar 26, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Virtual Temple Mar 26, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+14 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 46 शेयर
Rameshanand Guruji Mar 27, 2020

🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *********|| जय श्री राधे ||********* 🌺🙏 *महर्षि पाराशर पंचांग* 🙏🌺 🙏🌺🙏 *अथ पंचांगम्* 🙏🌺🙏 *********ll जय श्री राधे ll********* 🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *दिनाँक-: 27/2/2020,शुक्रवार* तृतीया, शुक्ल पक्ष चैत्र """""""""""""""""""""""""""""""""""""(समाप्ति काल) तिथि ---------तृतीया 22:11:51 तक पक्ष ---------------------------शुक्ल नक्षत्र -------अश्विनी 10:08:05 योग ------------वैधृति 17:13:47 करण -----------तैतुल 09:03:35 करण -----------गरज 22:11:51 वार -------------------------शुक्रवार माह ----------------------------- चैत्र चन्द्र राशि ---------------------मेष सूर्य राशि ----------------------मीन रितु ----------------------------वसंत आयन ------------------- उत्तरायण संवत्सर -----------------------शार्वरी संवत्सर (उत्तर) -------------प्रमादी विक्रम संवत ----------------2077 विक्रम संवत (कर्तक) ----2076 शाका संवत ----------------1942 वृन्दावन सूर्योदय --------------- 06:16:15 सूर्यास्त -----------------18:32:57 दिन काल --------------12:16:42 रात्री काल -------------11:42:10 चंद्रोदय -----------------08:00:40 चंद्रास्त -----------------21:09:29 लग्न ----मीन 12°41' , 342°41' सूर्य नक्षत्र ---------उत्तराभाद्रपदा चन्द्र नक्षत्र -----------------अश्विनी नक्षत्र पाया --------------------स्वर्ण *🚩💮🚩 पद, चरण 🚩💮🚩* ला ----अश्विनी 10:08:05 ली ----भरणी 16:49:59 लू ----भरणी 23:31:08 ले ----भरणी 30:11:28 *💮🚩💮 ग्रह गोचर 💮🚩💮* ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद ======================= सूर्य=मीन 12°22 ' उ o भा o, 3 झ चन्द्र =मेष 11°23 ' अश्विनी ' 4 ला बुध = कुम्भ 15°50 ' शतभिषा' 3 सी शुक्र= मेष 28°55, कृतिका ' 1 अ मंगल=मकर 02°30' उ o षा o ' 2 भो गुरु=धनु 29°50 ' उ oषाo , 1 भे शनि=मकर 05°43' उ oषा o ' 3 जा राहू=मिथुन 09°32 ' आर्द्रा , 1 कु केतु=धनु 09 ° 32 ' मूल , 3 भा *🚩💮🚩शुभा$शुभ मुहूर्त🚩💮🚩* राहू काल 10:53 - 12:25 अशुभ यम घंटा 15:29 - 17:01 अशुभ गुली काल 07:48 - 09:20 अशुभ अभिजित 12:00 -12:49 शुभ दूर मुहूर्त 08:44 - 09:33 अशुभ दूर मुहूर्त 12:49 - 13:38 अशुभ 🚩गंड मूल 06:16 - 10:08 अशुभ 💮चोघडिया, दिन चर 06:16 - 07:48 शुभ लाभ 07:48 - 09:20 शुभ अमृत 09:20 - 10:53 शुभ काल 10:53 - 12:25 अशुभ शुभ 12:25 - 13:57 शुभ रोग 13:57 - 15:29 अशुभ उद्वेग 15:29 - 17:01 अशुभ चर 17:01 - 18:33 शुभ 🚩चोघडिया, रात रोग 18:33 - 20:01 अशुभ काल 20:01 - 21:29 अशुभ लाभ 21:29 - 22:56 शुभ उद्वेग 22:56 - 24:24* अशुभ शुभ 24:24* - 25:52* शुभ अमृत 25:52* - 27:20* शुभ चर 27:20* - 28:47* शुभ रोग 28:47* - 30:15* अशुभ 💮होरा, दिन शुक्र 06:16 - 07:18 बुध 07:18 - 08:19 चन्द्र 08:19 - 09:20 शनि 09:20 - 10:22 बृहस्पति 10:22 - 11:23 मंगल 11:23 - 12:25 सूर्य 12:25 - 13:26 शुक्र 13:26 - 14:27 बुध 14:27 - 15:29 चन्द्र 15:29 - 16:30 शनि 16:30 - 17:32 बृहस्पति 17:32 - 18:33 🚩होरा, रात मंगल 18:33 - 19:31 सूर्य 19:31 - 20:30 शुक्र 20:30 - 21:29 बुध 21:29 - 22:27 चन्द्र 22:27 - 23:26 शनि 23:26 - 24:24 बृहस्पति 24:24* - 25:23 मंगल 25:23* - 26:21 सूर्य 26:21* - 27:20 शुक्र 27:20* - 28:18 बुध 28:18* - 29:17 चन्द्र 29:17* - 30:15 *नोट*-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार । शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥ रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार । अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥ अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें । उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें । शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें । लाभ में व्यापार करें । रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें । काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है । अमृत में सभी शुभ कार्य करें । *💮दिशा शूल ज्ञान-------------पश्चिम* परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा काजू खाके यात्रा कर सकते है l इस मंत्र का उच्चारण करें-: *शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l* *भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll* *🚩 अग्नि वास ज्ञान -:* *यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,* *चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।* *दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,* *नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।।* *महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्* *नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।* 3 + 6 + 1 = 10 ÷ 4 = 2 शेष आकाश लोक पर अग्नि वास हवन के लिए अशुभ कारक है l *💮 शिव वास एवं फल -:* 3 + 3 + 5 = 11 ÷ 7 = 4 शेष सभायां = सन्ताप कारक *🚩भद्रा वास एवं फल -:* *स्वर्गे भद्रा धनं धान्यं ,पाताले च धनागम:।* *मृत्युलोके यदा भद्रा सर्वकार्य विनाशिनी।।* *💮🚩 विशेष जानकारी 🚩💮* * गणगौर पूजन * शौभाग्य तीज * मत्स्य जयन्ती * सर्वार्थ सिद्धि योग 10:08 तक *💮🚩💮 शुभ विचार 💮🚩💮* विप्रो वृक्षस्तस्य मूलं च सन्ध्या वेदाः शाखा धर्मकर्माणि पत्रम् । तस्मात्‍ मूलं यत्नो रक्षणीयम् छिन्ने मूले नैव शाखा न पत्रम् ।। ।।चा o नी o।। ब्राह्मण एक वृक्ष के समान है. उसकी प्रार्थना ही उसका मूल है. वह जो वेदों का गान करता है वही उसकी शाखाए है. वह जो पुण्य कर्म करता है वही उसके पत्ते है. इसीलिए उसने अपने मूल को बचाना चाहिए. यदि मूल नष्ट हो जाता है तो शाखाये भी ना रहेगी और पत्ते भी. *🚩💮🚩 सुभाषितानि 🚩💮🚩* गीता -: मोक्षसन्यासयोग अo-18 स्वभावजेन कौन्तेय निबद्धः स्वेन कर्मणा ।, कर्तुं नेच्छसि यन्मोहात्करिष्यस्यवशोऽपि तत्‌ ॥, हे कुन्तीपुत्र! जिस कर्म को तू मोह के कारण करना नहीं चाहता, उसको भी अपने पूर्वकृत स्वाभाविक कर्म से बँधा हुआ परवश होकर करेगा॥,60॥, *💮🚩 दैनिक राशिफल 🚩💮* देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।। विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।। 🐏मेष नई आर्थिक नीति लागू करने का साहस जुटा पाएंगे। कार्यस्थल पर परिवर्तन होगा। विरोध होगा। वाणी पर नियंत्रण रखें। मान-सम्मान में बढ़ोतरी होगी। यात्रा हो सकती है। लाभ के अवसर हाथ आएंगे। नए अनुबंध हो सकते हैं। मातहतों का सहयोग मिलेगा। 🐂वृष तीर्थयात्रा की योजना बनेगी। सत्संग का लाभ मिलेगा। राजकीय बाधा दूर होगी। किसी प्रभावशाली व्यक्ति से मुलाकात होगी। घर-परिवार की चिंता रहेगी। दूसरों के काम में दखल देने से बचें। व्यवसाय ठीक चलेगा। पार्टनरों से मतभेद कम होंगे। जल्दबाजी न करें। 👫मिथुन चोट व दुर्घटना से हानि हो सकती है। विशेषकर स्त्रियां सावधानी से रहें। स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। किसी अपने ही व्यक्ति का व्यवहार ठीक नहीं रहेगा। कीमती वस्तुएं संभालकर रखें। दुष्टजन हानि पहुंचा सकते हैं। बड़ों के मार्गदर्शन से लाभ होगा। 🦀कर्क किसी तीर्थस्थान के दर्शन सुलभ होंगे। सत्संग का लाभ मिलेगा। राजकीय सहयोग प्राप्त होगा। शारीरिक कष्ट संभव है। जल्दबाजी न करें। उत्तेजना पर नियंत्रण रखें। विवेक का प्रयोग करें। पारिवारिक सहयोग समय पर प्राप्त होगा। कार्यसिद्धि होगी। प्रसन्नता रहेगी। 🐅सिंह चोट व दुर्घटना आदि से बड़ी हानि हो सकती है। दुष्टजन हानि पहुंचा सकते हैं। पुराना रोग बाधा का कारण बन सकता है। अपरिचित लोगों पर विश्वास न करें। व्यवसाय ठीक चलेगा। आय बनी रहेगी। परिवार में कोई मांगलिक कार्य की योजना बनेगी। चिंता रहेगी। 🙎कन्या कानूनी सहायता समय पर प्राप्त होगी। बाधा दूर होकर लाभ की स्थिति रहेगी। वैवाहिक प्रस्ताव प्राप्त हो सकता है। मित्र व संबंधियों का सहयोग प्राप्त होगा। जोखिम न उठाएं। जल्दबाजी से काम बिगड़ सकते हैं। आय बनी रहेगी। व्यवसाय ठीक चलेगा। प्रसन्नता रहेगी। ⚖तुला शोक समाचार मिल सकता है। धैर्य रखें। स्वास्थ्य का पाया कमजोर रहेगा। लापरवाही न करें। दौड़धूप अधिक होगी। बनते कामों में बाधा संभव है। प्रयास अधिक करना पड़ेंगे। परिवार में बेवजह कलह हो सकती है। सामंजस्य बैठाएं। व्यवसाय की गति धीमी रहेगी। 🦂वृश्चिक मेहनत का फल पूरा-पूरा मिलेगा। सामाजिक पूछ-परख बढ़ेगी। रुके काम पूर्ण होंगे। प्रसन्नता में वृद्धि होगी। परिवार का सहयोग प्राप्त होगा। यात्रा की योजना बनेगी। धनलाभ सहज ही होगा। प्रमाद न करें। कार्यकुशलता का विकास होगा। जल्दबाजी से बचें। 🏹धनु पुराने भूले-बिसरे मित्र व संबंधियों से मुलाकात होगी। मनोनुकूल सूचना प्राप्ति होगी। विवाद न करें। किसी व्यक्ति का व्यवहार मनोनुकूल नहीं रहेगा। आय बनी रहेगी। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। वरिष्ठ व्यक्तियों की सलाह मानें। 🐊मकर रोजगार प्राप्ति के प्रयास सफल रहेंगे। भेंट व उपहार की प्राप्ति होगी। जोखिम लेने का साहस कर पाएंगे। कोई बड़ी समस्या का हल मिल सकता है। प्रसन्नता रहेगी। यात्रा लाभदायक रहेगी। आय के नए स्रोत प्राप्त हो सकते हैं। थकान तथा आलस्य रह सकते हैं। 🍯कुंभ अप्रत्याशित खर्च सामने आएंगे। कर्ज लेना पड़ सकता है। पुराना रोग परेशान कर सकता है। वाणी में संयम आवश्यक है। बनते काम बिगड़ सकते हैं। अपरिचित व्यक्ति की बातों में न आएं। विवेक से कार्य करें। व्यवसाय ठीक चलेगा। धनार्जन होगा। 🐟मीन रुका हुआ धन मिल सकता है। प्रयास सफल रहेंगे। यात्रा में सावधानी रखें। घर-बाहर से सहयोग मिलेगा। लाभ में वृद्धि होगी। किसी आनंदोत्सव भाग लेने का अवसर मिल सकता है। संचित धन में वृद्धि होगी। कर्ज चुका पाएंगे। प्रसन्नता रहेगी। 🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏 🌺🌺🌺🌺🙏🌺🌺🌺🌺 *आचार्य नीरज पाराशर (वृन्दावन)* (व्याकरण,ज्योतिष,एवं पुराणाचार्य) 09897565893,09412618599

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Pt Vinod Pandey 🚩 Mar 25, 2020

🌞 *~ आज का हिन्दू #पंचांग ~* 🌞 ⛅ *दिनांक 26 मार्च 2020* ⛅ *दिन - गुरुवार* ⛅ *विक्रम संवत - 2077 (गुजरात - 2076)* ⛅ *शक संवत - 1942* ⛅ *अयन - उत्तरायण* ⛅ *ऋतु - वसंत* ⛅ *मास - चैत्र* ⛅ *पक्ष - शुक्ल* ⛅ *तिथि - द्वितीया रात्रि 07:53 तक तत्पश्चात तृतीया* ⛅ *नक्षत्र - रेवती सुबह 07:17 तक तत्पश्चात अश्विनी* ⛅ *योग - इन्द्र शाम 04:29 तक तत्पश्चात वैधृति* ⛅ *राहुकाल - दोपहर 02:04 से शाम 03:35 तक* ⛅ *सूर्योदय - 06:38* ⛅ *सूर्यास्त - 18:50* ⛅ *दिशाशूल - दक्षिण दिशा में* 💥 *विशेष - द्वितीया को बृहती (छोटा बैंगन या कटेहरी) खाना निषिद्ध है। (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)* 🌷 *पेट की सभी बीमारियाँ मिटाने हेतु* 🌷 🙏🏻 *लिंग पुराण (८५.१९३-१९४) में आता है कि एक मास तक प्रतिदिन १०८ बार ‘ॐ नम: शिवाय|’ मंत्र का जप करके सूर्यनारायण के सामने जल पीने से पेट की सभी बीमारियाँ दूर हो जाती है |* 🌷 *चैत्र नवरात्रि* 🌷 🙏🏻 *चैत्र मास के नवरात्रि का आरंभ 25 मार्च, बुधवार से हो गया है। मान्यता है कि नवरात्रि में रोज देवी को अलग-अलग भोग लगाने से तथा बाद में इन चीजों का दान करने से हर मनोकामना पूरी हो जाती है। जानिए नवरात्रि में किस तिथि को देवी को क्या भोग लगाएं-* 👉🏻 गताअं से आगे........... 🙏🏻 *नवरात्रि की द्वितीया तिथि यानी दूसरे दिन माता दुर्गा को शक्कर का भोग लगाएं ।इससे उम्र लंबी होती है ।* 👉🏻 शेष कल............ 🌐http://www.vkjpandey.in 🌷 *चैत्र नवरात्रि* 🌷 🙏🏻 *चैत्र मास की शुक्ल प्रतिपदा से नवमी तिथि तक वासंतिक नवरात्रि का पर्व मनाया जाता है। इस बार वासंतिक नवरात्रि का प्रारंभ 25 मार्च, बुधवार से हो गया है, धर्म ग्रंथों के अनुसार, नवरात्रि में हर तिथि पर माता के एक विशेष रूप का पूजन करने से भक्त की हर मनोकामना पूरी होती है। जानिए नवरात्रि में किस दिन देवी के कौन से स्वरूप की पूजा करें-* 👉🏻 गताअं से आगे........... 🌷 *तप की शक्ति का प्रतीक है मां ब्रह्मचारिणी* 🙏🏻 *नवरात्रि की द्वितीया तिथि पर मां ब्रह्मचारिणी की पूजा होती है। देवी ब्रह्मचारिणी ब्रह्म शक्ति यानी तप की शक्ति का प्रतीक हैं। इनकी आराधना से भक्त की तप करने की शक्ति बढ़ती है। साथ ही, सभी मनोवांछित कार्य पूर्ण होते हैं।* 🙏🏻 *मां ब्रह्मचारिणी हमें यह संदेश देती है कि जीवन में बिना तपस्या अर्थात कठोर परिश्रम के सफलता प्राप्त करना असंभव है। बिना श्रम के सफलता प्राप्त करना ईश्वर के प्रबंधन के विपरीत है। अत: ब्रह्मशक्ति अर्थात समझने व तप करने की शक्ति हेतु इस दिन शक्ति का स्मरण करें। योगशास्त्र में यह शक्ति स्वाधिष्ठान चक्र में स्थित होती है। अत: समस्त ध्यान स्वाधिष्ठान चक्र में करने से यह शक्ति बलवान होती है एवं सर्वत्र सिद्धि व विजय प्राप्त होती है।* 👉🏻 शेष कल........... 🌐http://www.vkjpandey.in 🙏🏻🌷💐🌸🌼🌹🍀🌺💐🙏🏻

+53 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 55 शेयर
Rameshanand Guruji Mar 26, 2020

🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *********|| जय श्री राधे ||********* 🌺🙏 *महर्षि पाराशर पंचांग* 🙏🌺 🙏🌺🙏 *अथ पंचांगम्* 🙏🌺🙏 *********ll जय श्री राधे ll********* 🌺🌺🙏🙏🌺🌺🙏🙏🌺🌺 *दिनाँक -: 26/03/2020,गुरुवार* द्वितीया, शुक्ल पक्ष चैत्र """"""""""""""""'""""""""""""""""""""(समाप्ति काल) तिथि --------द्वितीया 19:52:44 तक पक्ष ---------------------------शुक्ल नक्षत्र -----------रेवती 07:15:15 योग ---------------इंद्रा 16:26:48 करण ----------बालव 06:40:04 करण ---------कौलव 19:52:44 वार -------------------------गुरूवार माह ------------------------------ चैत्र चन्द्र राशि ------मीन 07:15:15 चन्द्र राशि ----------------------मेष सूर्य राशि ----------------------मीन रितु ----------------------------वसंत आयन ---------------------उत्तरायण संवत्सर -----------------------शार्वरी संवत्सर (उत्तर) -------------प्रमादी विक्रम संवत ----------------2077 विक्रम संवत (कर्तक)------2076 शाका संवत ----------------1942 वृन्दावन सूर्योदय --------------- 06:17:22 सूर्यास्त -----------------18:32:26 दिन काल --------------12:15:04 रात्री काल -------------11:43:48 चंद्रोदय -----------------07:29:21 चंद्रास्त -----------------20:17:08 लग्न ----मीन 11°42' , 341°42' सूर्य नक्षत्र ---------उत्तराभाद्रपदा चन्द्र नक्षत्र --------------------रेवती नक्षत्र पाया --------------------स्वर्ण *🚩💮🚩 पद, चरण 🚩💮🚩* ची ----रेवती 07:15:15 चु ----अश्विनी 13:59:04 चे ----अश्विनी 20:42:33 चो ----अश्विनी 27:25:35 *💮🚩💮 ग्रह गोचर 💮🚩💮* ग्रह =राशी , अंश ,नक्षत्र, पद ======================= सूर्य=मीन 11°22 ' उ o भा o, 3 झ चन्द्र =मीन 27°23 ' रेवती ' 4 ची बुध = कुम्भ 14°50 ' शतभिषा' 3 सी शुक्र= मेष 27°55, कृतिका ' 1 अ मंगल=मकर 02°30' उ o षा o ' 2 भो गुरु=धनु 29°50 ' उ oषाo , 1 भे शनि=मकर 05°43' उ oषा o ' 3 जा राहू=मिथुन 09°42 ' आर्द्रा , 1 कु केतु=धनु 09 ° 42 ' मूल , 3 भा *🚩💮🚩शुभा$शुभ मुहूर्त🚩💮🚩* राहू काल 13:57 - 15:29 अशुभ यम घंटा 06:17 - 07:49 अशुभ गुली काल 09:21 - 10:53 अशुभ अभिजित 12:00 -12:49 शुभ दूर मुहूर्त 10:22 - 11:11 अशुभ दूर मुहूर्त 15:16 - 16:05अशुभ 💮गंड मूल अहोरात्र अशुभ 🚩पंचक 06:17 - 07:15 अशुभ 💮चोघडिया, दिन शुभ 06:17 - 07:49 शुभ रोग 07:49 - 09:21 अशुभ उद्वेग 09:21 - 10:53 अशुभ चर 10:53 - 12:25 शुभ लाभ 12:25 - 13:57 शुभ अमृत 13:57 - 15:29 शुभ काल 15:29 - 17:01 अशुभ शुभ 17:01 - 18:32 शुभ 🚩चोघडिया, रात अमृत 18:32 - 20:00 शुभ चर 20:00 - 21:28 शुभ रोग 21:28 - 22:56 अशुभ काल 22:56 - 24:24* अशुभ लाभ 24:24* - 25:52* शुभ उद्वेग 25:52* - 27:20* अशुभ शुभ 27:20* - 28:48* शुभ अमृत 28:48* - 30:16* शुभ 💮होरा, दिन बृहस्पति 06:17 - 07:19 मंगल 07:19 - 08:20 सूर्य 08:20 - 09:21 शुक्र 09:21 - 10:22 बुध 10:22 - 11:24 चन्द्र 11:24 - 12:25 शनि 12:25 - 13:26 बृहस्पति 13:26 - 14:27 मंगल 14:27 - 15:29 सूर्य 15:29 - 16:30 शुक्र 16:30 - 17:31 बुध 17:31 - 18:32 🚩होरा, रात चन्द्र 18:32 - 19:31 शनि 19:31 - 20:30 बृहस्पति 20:30 - 21:28 मंगल 21:28 - 22:27 सूर्य 22:27 - 23:26 शुक्र 23:26 - 24:24 बुध 24:24* - 25:23 चन्द्र 25:23* - 26:22 शनि 26:22* - 27:20 बृहस्पति 27:20* - 28:19 मंगल 28:19* - 29:18 सूर्य 29:18* - 30:16 *नोट*-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। चर में चक्र चलाइये , उद्वेगे थलगार । शुभ में स्त्री श्रृंगार करे,लाभ में करो व्यापार ॥ रोग में रोगी स्नान करे ,काल करो भण्डार । अमृत में काम सभी करो , सहाय करो कर्तार ॥ अर्थात- चर में वाहन,मशीन आदि कार्य करें । उद्वेग में भूमि सम्बंधित एवं स्थायी कार्य करें । शुभ में स्त्री श्रृंगार ,सगाई व चूड़ा पहनना आदि कार्य करें । लाभ में व्यापार करें । रोग में जब रोगी रोग मुक्त हो जाय तो स्नान करें । काल में धन संग्रह करने पर धन वृद्धि होती है । अमृत में सभी शुभ कार्य करें । *💮दिशा शूल ज्ञान-------------दक्षिण* परिहार-: आवश्यकतानुसार यदि यात्रा करनी हो तो घी अथवा केशर खाके यात्रा कर सकते है l इस मंत्र का उच्चारण करें-: *शीघ्र गौतम गच्छत्वं ग्रामेषु नगरेषु च l* *भोजनं वसनं यानं मार्गं मे परिकल्पय: ll* *🚩 अग्नि वास ज्ञान -:* *यात्रा विवाह व्रत गोचरेषु,* *चोलोपनिताद्यखिलव्रतेषु ।* *दुर्गाविधानेषु सुत प्रसूतौ,* *नैवाग्नि चक्रं परिचिन्तनियं ।।* *महारुद्र व्रतेSमायां ग्रसतेन्द्वर्कास्त राहुणाम्* *नित्यनैमित्यके कार्ये अग्निचक्रं न दर्शायेत् ।।* 2 + 5 + 1 = 8 ÷ 4 = 0 शेष मृत्यु लोक पर अग्नि वास हवन के लिए शुभ कारक है l *💮 शिव वास एवं फल -:* 2 + 2 + 5 = 9 ÷ 7 = 2 शेष गौरि सन्निधौ = शुभ कारक *🚩भद्रा वास एवं फल -:* *स्वर्गे भद्रा धनं धान्यं ,पाताले च धनागम:।* *मृत्युलोके यदा भद्रा सर्वकार्य विनाशिनी।।* *💮🚩 विशेष जानकारी 🚩💮* * सर्वार्थ सिद्धि योग * झूलेलाल जयन्ती *💮🚩💮 शुभ विचार 💮🚩💮* हस्ती हस्तसहस्त्रेण शतहस्तेन वाजिनः । श्रृड्गिणी दशहस्तेन देशत्यागेन दुर्जनः ।। ।।चा o नी o।। हाथी से हजार गज की दुरी रखे. घोड़े से सौ की. सिंग वाले जानवर से दस की. लेकिन दुष्ट जहा हो उस जगह से ही निकल जाए. *🚩💮🚩 सुभाषितानि 🚩💮🚩* गीता -: मोक्षसन्यासयोग अo-18 यदहङ्‍कारमाश्रित्य न योत्स्य इति मन्यसे ।, मिथ्यैष व्यवसायस्ते प्रकृतिस्त्वां नियोक्ष्यति ॥, जो तू अहंकार का आश्रय लेकर यह मान रहा है कि 'मैं युद्ध नहीं करूँगा' तो तेरा यह निश्चय मिथ्या है, क्योंकि तेरा स्वभाव तुझे जबर्दस्ती युद्ध में लगा देगा॥,5।। *💮🚩 दैनिक राशिफल 🚩💮* देशे ग्रामे गृहे युद्धे सेवायां व्यवहारके। नामराशेः प्रधानत्वं जन्मराशिं न चिन्तयेत्।। विवाहे सर्वमाङ्गल्ये यात्रायां ग्रहगोचरे। जन्मराशेः प्रधानत्वं नामराशिं न चिन्तयेत ।। 🐏मेष शत्रु परास्त होंगे। क्रोध पर नियंत्रण रखें। नए अनुबंध हो सकते हैं। प्रतिष्ठा में वृद्धि होगी। साझेदारी में शुरू किया गया कार्य लाभ के अवसरों को बढ़ा सकता है। स्थायी संपत्ति खरीदने का मन बनेगा। दांपत्य जीवन में विश्वास बढ़ेगा। कामकाज की गति बनी रहेगी। 🐂वृष बकाया वसूली के प्रयास सफल रहेंगे। यात्रा लाभदायक रहेगी। धनार्जन होगा। घर की चिंता रहेगी। विरोधी भी आपसे प्रभावित होंगे। कला के क्षेत्र में इच्छित सफलता मिलने के योग हैं। सरकारी राज्यपक्ष के कामों में पर्याप्त सावधानी रखें। मित्रों से मदद मिलेगी। 👫मिथुन कोई मुसीबत आ सकती है। लेन-देन में सावधानी रखें। फालतू खर्च होगा। जोखिम न उठाएं। व्यावसायिक योजना के विस्तार में मित्रों से मदद मिलेगी। पुरानी झंझटों से राहत रह पाएगी। क्रोध एवं उत्तेजना पर संयम रखना होगा। व्यस्तता रहेगी। 🦀कर्क कोई बड़ा कार्य होने से प्रसन्नता रहेगी। रोजगार में वृद्धि होगी। व्यावसायिक यात्रा सफल रहेगी। मेहनत व लगन से कार्यक्षेत्र में बेहतर सफलता हासिल कर सकेंगे। अपने व्यसनों पर काबू रखना चाहिए। विवाह संबंधी प्रस्ताव आएँगे। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। 🐅सिंह लेन-देन में सावधानी रखें। मेहमानों का आगमन होगा। शुभ समाचार मिलेंगे। मान बढ़ेगा। धनार्जन होगा। रोजगार के बेहतर अवसर मिलने से आय बढ़ेगी। दांपत्य जीवन सुखद रहेगा। प्रसन्नतावर्धक समाचार मिलेंगे। व्यापार में इच्छित लाभ होगा। 🙎कन्या प्रयास सफल रहेंगे। कार्य की प्रशंसा होगी। धन प्राप्ति सुगम होगी। व्यस्तता रहेगी। प्रसन्नता बढ़ेगी। कारोबार में वांछित तेजी आने की संभावना रहेगी। विवेक से निर्णय करने पर लाभ एवं सफलता प्राप्त हो सकेगी। नए कार्य का आरंभ लाभदायी रहेगा। ⚖तुला दुष्टजन हानि पहुंचा सकते हैं। भागदौड़ रहेगी। दु:खद समाचार मिल सकता है। धैर्य रखें। काम का बोझ कम करने के लिए जिम्मेदारियों को बाँटना आवश्यक है। आर्थिक कामों में परेशानी आने की संभावना है। दूसरों के काम में व्यर्थ मीन-मेख न निकालें। 🦂वृश्चिक यात्रा मनोरंजक रहेगी। स्वादिष्ट भोजन का आनंद मिलेगा। विद्यार्थी सफल रहेंगे। धनार्जन होगा। पूँजी निवेश संबंधी कार्यों में सावधानी रखें। आत्मविश्वास बना रहेगा। कारोबार में उतार-चढ़ाव बना रहेगा। पारिवारिक समस्याओं को प्राथमिकता से हल करें। 🏹धनु शत्रु सक्रिय रहेंगे। घर-बाहर तनाव रहेगा। वाणी पर नियंत्रण रखें। संपत्ति के कार्य लाभप्रद रहेंगे। भावनात्मक संबंधों में जल्दबाजी में निर्णय न लें। अधिकारी आपकी कार्यशैली से नाराज हो सकते हैं। परिश्रम के अनुरूप सफलता नहीं मिलेगी। संतान की इच्छा पूरी होगी। 🐊मकर विवाद से क्लेश होगा। कानूनी अड़चन दूर होगी। जीवनसाथी से सहयोग मिलेगा। व्यवसाय ठीक करेगा। व्यापार में नए प्रस्ताव लाभकारी रहेंगे। सही समय पर लिए गए फैसले लाभ दिला सकते हैं। आवास संबंधी समस्या हल होने के योग हैं। 🍯कुंभ शत्रु सक्रिय रहेंगे। वाहन व मशीनरी के प्रयोग में सावधानी रखें। क्रोध पर नियंत्रण रखें। विवाद न करें। उतावली में कोई काम न करें। पुरानी संपत्ति के रख-रखाव पर धन खर्च हो सकता है। सामाजिक, धार्मिक कार्यों में रुचि बढ़ेगी। विद्यार्थियों को पढ़ाई की चिंता रहेगी। 🐟मीन सुख के साधन जुटेंगे। कानूनी बाधा दूर होगी। धर्म-कर्म में रुचि रहेगी। लाभ में वृद्धि होगी। कुसंगति से बचें। परिवार में मांगलिक कार्यक्रमों की चर्चा संभव है। संतान की रोजी-रोटी की चिंता समाप्त होने के योग हैं। व्यापार अच्छा चलेगा। 🙏आपका दिन मंगलमय हो🙏 🌺🌺🌺🌺🙏🌺🌺🌺🌺 *आचार्य नीरज पाराशर (वृन्दावन)* (व्याकरण,ज्योतिष,एवं पुराणाचार्य) 09897565893,09412618599

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB