🇮🇳 वंदे मातरम 🇮🇳 🔮🔮🔮 !! माता जी !! 🔮🔮🔮 🇮🇳 जय हिन्द 🇮🇳 🌷🔱🌷 माँ शक्ति उपासना करनेवाला पर्व चैत्र नवरात्रि का आप सभी आदरणीयो को जय माता दी 🌷🔱🌷 🔴💥🔴 माता नवदुर्गा जी की कृपा और                     आशीर्वाद आप और आपके परिवार                                 पर सदैव बना रहें 🔴💥🔴 💥🌸💥 आपका दिन भक्ति पूर्ण और मंगलमय रहें 💥🌸💥 🍁💐🍁 आपकी हर मनोकामना पूर्ण हो 🍁💐🍁        💙💙💙 जय शैलपुत्री माता जी 💙💙💙          ---••○○ 🔮🔮⚜⚜⚜⚜❤❤⚜⚜⚜⚜🔮🔮 ○○••-- शैलपुत्री की आराधना से मनोवांछित फल और कन्याओं को उत्तम वर की प्राप्ति होती है। देवी दुर्गा के नौ रूप होते हैं। दुर्गाजी पहले स्वरूप में 'शैलपुत्री' के नाम से जानी जाती हैं। ⚜✍...देवी दुर्गा के नौ रूप होते हैं। दुर्गाजी पहले स्वरूप में ‘शैलपुत्री’ के नाम से जानी जाती हैं।ये ही नवदुर्गाओं में प्रथम दुर्गा हैं। पर्वतराज हिमालय के घर पुत्री रूप में उत्पन्न होने के कारण इनका नाम ‘शैलपुत्री’ पड़ा। नवरात्र-पूजन में प्रथम दिवस इन्हीं की पूजा और उपासना की जाती है। इस प्रथम दिन की उपासना में योगी अपने मन को ‘मूलाधार’ चक्र में स्थित करते हैं। यहीं से उनकी योग साधना का प्रारंभ होता है। मां शैलपुत्री की आराधना से मनोवांछित फल और कन्याओं को उत्तम वर की प्राप्ति होती है। साथ ही साधक को मूलाधार चक्र जाग्रत होने से प्राप्त होने वाली सिद्धियां हासिल होती हैं। बताया जाता है कि नवरात्रों में मां दुर्गा अपने असल रुप में पृथ्‍वी पर ही रहती है। इन नौ दिनों में पूजा कर हर व्यक्ति माता दुर्गा को प्रसन्न करना चाहता है। जिसके लिए वह मां के नौ स्वरुपों की पूजा-अर्चना और व्रत रखता है। जिससे मां की कृपा उन पर हमेशा बनी रहें। मां अपने बच्चों पर हमेशा कृपा बनाए रखती हैं क्योंकि मां अपने किसी भी बच्चे को परेशान नहीं देख सकती हैं। ⚜✍... मां शैलपुत्री व्रत कथा- एक बार प्रजापति दक्ष ने एक बहुत बड़ा यज्ञ किया। इसमें उन्होंने सारे देवताओं को अपना-अपना यज्ञ-भाग प्राप्त करने के लिए निमंत्रित किया, किन्तु शंकरजी को उन्होंने इस यज्ञ में निमंत्रित नहीं किया। सती ने जब सुना कि उनके पिता एक अत्यंत विशाल यज्ञ का अनुष्ठान कर रहे हैं, तब वहाँ जाने के लिए उनका मन विकल हो उठा। अपनी यह इच्छा उन्होंने शंकरजी को बताई। सारी बातों पर विचार करने के बाद उन्होंने कहा- प्रजापति दक्ष किसी कारणवश हमसे रुष्ट हैं। अपने यज्ञ में उन्होंने सारे देवताओं को निमंत्रित किया है। उनके यज्ञ-भाग भी उन्हें समर्पित किए हैं, किन्तु हमें जान-बूझकर नहीं बुलाया है। कोई सूचना तक नहीं भेजी है। ऐसी स्थिति में तुम्हारा वहाँ जाना किसी प्रकार भी श्रेयस्कर नहीं होगा।’ शंकरजी के इस उपदेश से सती का प्रबोध नहीं हुआ। पिता का यज्ञ देखने, वहाँ जाकर माता और बहनों से मिलने की उनकी व्यग्रता किसी प्रकार भी कम न हो सकी। उनका प्रबल आग्रह देखकर भगवान शंकरजी ने उन्हें वहाँ जाने की अनुमति दे दी। सती ने पिता के घर पहुँचकर देखा कि कोई भी उनसे आदर और प्रेम के साथ बातचीत नहीं कर रहा है। सारे लोग मुँह फेरे हुए हैं। केवल उनकी माता ने स्नेह से उन्हें गले लगाया। बहनों की बातों में व्यंग्य और उपहास के भाव भरे हुए थे। परिजनों के इस व्यवहार से उनके मन को बहुत क्लेश पहुँचा। उन्होंने यह भी देखा कि वहाँ चतुर्दिक भगवान शंकरजी के प्रति तिरस्कार का भाव भरा हुआ है। दक्ष ने उनके प्रति कुछ अपमानजनक वचन भी कहे। यह सब देखकर सती का हृदय क्षोभ, ग्लानि और क्रोध से संतप्त हो उठा। उन्होंने सोचा भगवान शंकरजी की बात न मान, यहाँ आकर मैंने बहुत बड़ी गलती की है। वे अपने पति भगवान शंकर के इस अपमान को सह न सकीं। उन्होंने अपने उस रूप को तत्क्षण वहीं योगाग्नि द्वारा जलाकर भस्म कर दिया। वज्रपात के समान इस दारुण-दुःखद घटना को सुनकर शंकरजी ने क्रुद्ध होअपने गणों को भेजकर दक्ष के उस यज्ञ का पूर्णतः विध्वंस करा दिया। सती ने योगाग्नि द्वारा अपने शरीर को भस्म कर अगले जन्म में शैलराज हिमालय की पुत्री के रूप में जन्म लिया। इस बार वे ‘शैलपुत्री’ नाम से विख्यात हुर्ईं। पार्वती, हैमवती भी उन्हीं के नाम हैं। उपनिषद् की एक कथा के अनुसार इन्हीं ने हैमवती स्वरूप से देवताओं का गर्व-भंजन किया था। 🔱✍... मां शैलपुत्री स्रोत पाठ- ...✍🔱 ⚜✍... प्रथम दुर्गा भवसागर: तारणीम। धन ऐश्वर्य दायिनीशैलपुत्री प्रणामाभ्यम। त्रिलोजननी त्वहिं परमांनद प्रदीयमान। सौभाग्यरोग्य दायनी शैलपुत्री प्रणामाभ्यम। चराचरेश्सवरी त्वंहि महामोह: विनाशिन। मुक्ति मुक्ति दायनीं शैलपुत्री प्रमननाम्यहम। 💙💙💙 शुभ मंगल कामनाओ के साथ चैत्री नवरात्रि पर्व की हार्दिक शुभकामनायें 💙💙💙

🇮🇳 वंदे मातरम 🇮🇳 🔮🔮🔮 !! माता जी !! 🔮🔮🔮 🇮🇳 जय हिन्द 🇮🇳
🌷🔱🌷 माँ शक्ति उपासना करनेवाला पर्व चैत्र नवरात्रि   
                        का आप सभी आदरणीयो को जय माता दी 🌷🔱🌷
       🔴💥🔴 माता नवदुर्गा जी की कृपा और 
                                  आशीर्वाद आप और आपके परिवार
                                                       पर सदैव बना रहें 🔴💥🔴
   💥🌸💥 आपका दिन भक्ति पूर्ण और मंगलमय रहें 💥🌸💥
          🍁💐🍁 आपकी हर मनोकामना पूर्ण हो 🍁💐🍁
                💙💙💙 जय शैलपुत्री माता जी 💙💙💙
       
  ---••○○ 🔮🔮⚜⚜⚜⚜❤❤⚜⚜⚜⚜🔮🔮 ○○••--

शैलपुत्री की आराधना से मनोवांछित फल और कन्याओं को उत्तम वर की प्राप्ति होती है। देवी दुर्गा के नौ रूप होते हैं। दुर्गाजी पहले स्वरूप में 'शैलपुत्री' के नाम से जानी जाती हैं।

⚜✍...देवी दुर्गा के नौ रूप होते हैं। दुर्गाजी पहले स्वरूप में ‘शैलपुत्री’ के नाम से जानी जाती हैं।ये ही नवदुर्गाओं में प्रथम दुर्गा हैं। पर्वतराज हिमालय के घर पुत्री रूप में उत्पन्न होने के कारण इनका नाम ‘शैलपुत्री’ पड़ा। नवरात्र-पूजन में प्रथम दिवस इन्हीं की पूजा और उपासना की जाती है। इस प्रथम दिन की उपासना में योगी अपने मन को ‘मूलाधार’ चक्र में स्थित करते हैं। यहीं से उनकी योग साधना का प्रारंभ होता है। मां शैलपुत्री की आराधना से मनोवांछित फल और कन्याओं को उत्तम वर की प्राप्ति होती है। साथ ही साधक को मूलाधार चक्र जाग्रत होने से प्राप्त होने वाली सिद्धियां हासिल होती हैं। बताया जाता है कि नवरात्रों में मां दुर्गा अपने असल रुप में पृथ्‍वी पर ही रहती है। इन नौ दिनों में पूजा कर हर व्यक्ति माता दुर्गा को प्रसन्न करना चाहता है। जिसके लिए वह मां के नौ स्वरुपों की पूजा-अर्चना और व्रत रखता है। जिससे मां की कृपा उन पर हमेशा बनी रहें। मां अपने बच्चों पर हमेशा कृपा बनाए रखती हैं क्योंकि मां अपने किसी भी बच्चे को परेशान नहीं देख सकती हैं।

⚜✍... मां शैलपुत्री व्रत कथा- एक बार प्रजापति दक्ष ने एक बहुत बड़ा यज्ञ किया। इसमें उन्होंने सारे देवताओं को अपना-अपना यज्ञ-भाग प्राप्त करने के लिए निमंत्रित किया, किन्तु शंकरजी को उन्होंने इस यज्ञ में निमंत्रित नहीं किया। सती ने जब सुना कि उनके पिता एक अत्यंत विशाल यज्ञ का अनुष्ठान कर रहे हैं, तब वहाँ जाने के लिए उनका मन विकल हो उठा। अपनी यह इच्छा उन्होंने शंकरजी को बताई। सारी बातों पर विचार करने के बाद उन्होंने कहा- प्रजापति दक्ष किसी कारणवश हमसे रुष्ट हैं। अपने यज्ञ में उन्होंने सारे देवताओं को निमंत्रित किया है। उनके यज्ञ-भाग भी उन्हें समर्पित किए हैं, किन्तु हमें जान-बूझकर नहीं बुलाया है। कोई सूचना तक नहीं भेजी है। ऐसी स्थिति में तुम्हारा वहाँ जाना किसी प्रकार भी श्रेयस्कर नहीं होगा।’ शंकरजी के इस उपदेश से सती का प्रबोध नहीं हुआ। पिता का यज्ञ देखने, वहाँ जाकर माता और बहनों से मिलने की उनकी व्यग्रता किसी प्रकार भी कम न हो सकी। उनका प्रबल आग्रह देखकर भगवान शंकरजी ने उन्हें वहाँ जाने की अनुमति दे दी। सती ने पिता के घर पहुँचकर देखा कि कोई भी उनसे आदर और प्रेम के साथ बातचीत नहीं कर रहा है। सारे लोग मुँह फेरे हुए हैं। केवल उनकी माता ने स्नेह से उन्हें गले लगाया। बहनों की बातों में व्यंग्य और उपहास के भाव भरे हुए थे। परिजनों के इस व्यवहार से उनके मन को बहुत क्लेश पहुँचा। उन्होंने यह भी देखा कि वहाँ चतुर्दिक भगवान शंकरजी के प्रति तिरस्कार का भाव भरा हुआ है। दक्ष ने उनके प्रति कुछ अपमानजनक वचन भी कहे। यह सब देखकर सती का हृदय क्षोभ, ग्लानि और क्रोध से संतप्त हो उठा। उन्होंने सोचा भगवान शंकरजी की बात न मान, यहाँ आकर मैंने बहुत बड़ी गलती की है। वे अपने पति भगवान शंकर के इस अपमान को सह न सकीं। उन्होंने अपने उस रूप को तत्क्षण वहीं योगाग्नि द्वारा जलाकर भस्म कर दिया। वज्रपात के समान इस दारुण-दुःखद घटना को सुनकर शंकरजी ने क्रुद्ध होअपने गणों को भेजकर दक्ष के उस यज्ञ का पूर्णतः विध्वंस करा दिया। सती ने योगाग्नि द्वारा अपने शरीर को भस्म कर अगले जन्म में शैलराज हिमालय की पुत्री के रूप में जन्म लिया। इस बार वे ‘शैलपुत्री’ नाम से विख्यात हुर्ईं। पार्वती, हैमवती भी उन्हीं के नाम हैं। उपनिषद् की एक कथा के अनुसार इन्हीं ने हैमवती स्वरूप से देवताओं का गर्व-भंजन किया था।

🔱✍... मां शैलपुत्री स्रोत पाठ- ...✍🔱
⚜✍... प्रथम दुर्गा भवसागर: तारणीम। धन ऐश्वर्य दायिनीशैलपुत्री प्रणामाभ्यम। त्रिलोजननी त्वहिं परमांनद प्रदीयमान। सौभाग्यरोग्य दायनी शैलपुत्री प्रणामाभ्यम। चराचरेश्सवरी त्वंहि महामोह: विनाशिन। मुक्ति मुक्ति दायनीं शैलपुत्री प्रमननाम्यहम।

💙💙💙 शुभ मंगल कामनाओ के साथ 
                                 चैत्री नवरात्रि पर्व की हार्दिक शुभकामनायें 💙💙💙

+328 प्रतिक्रिया 31 कॉमेंट्स • 51 शेयर

कामेंट्स

NK Pandey Mar 25, 2020
Jai Mata Di Subh Prabhat Vandan Ji Hindu NAV varsh ki hardik shubh kamnaye

Dayashankar Shukla Mar 25, 2020
Jay Ho Mata Rani ki Navratri ki hardik shubhkamnaen aap aur aapke Parivar ko aapka Har ek pal Shubh aur mangalmay Ho

मेरे साईं (Indian women ) Mar 25, 2020
🚩🚩जय माता दी 🚩🚩 🚩👏🚩👏🚩👏🚩👏 *🙇माँ दुर्गा आपकी कामना पूरी करें * *🙇माँ नैना आपकी नैनों को ज्योति दे *🙇माँ चिंतपूर्णी आपकी चिंता हरे* *🙇माँ काली आपके शत्रुओं का नाश करे *🙇माँ मनसा आपकी हर इच्छा पूरी कर* *🙇माँ शेरों वाली आपको सुख शान्ति दे* *🙇माँ ज्वाला आपके जीवन में रौशनी दे *🙇माँ लक्ष्मी आपको धन से मालामाल करे *🔱 नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं🔱* *🔱🌹🏵🙇जय माता दी🚩

Neha Sharma, Haryana Mar 25, 2020
🕉️जय माता दी 🚩🥀🙏 शुभ नवरात्रि जी 🙏🥀🚩 माता रानी 👣 की असीम ✋कृपा आप और आपके परिवार 👨‍👩‍👧‍👦 पर सदैव बनी रहे जी आप सभी भाई-बहनों 🎎 का हर पल शुभ व मंगलमय 🔯 हो जी 🙏🥀🙋

MADHUBEN PATEL Mar 25, 2020
🌹🔱🌹 जय माता दी चैत्र नवरात्रि की हार्दिक शुभकामनाएं भाईजी आप एव आपके घर परिवार में माँ शैलपुत्री के आशीर्वाद से आपकी हर तमन्नाओं पुर्ण हो भाईजी✋🙋✋

sheela sharma Mar 25, 2020
🙏🙏🙏🌺🌺जय श्री राधे कृष्णा जी 🌺🌺🙏🙏🙏माता रानी की कृपा आप ओर आपके परिवार पर सदा बनी रहे भाई जी 🙏आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण हो आप सदा मुस्कराते रहो भाई जी 🙏🙏🙏

🌹🌾 Suraj Singh Rajput 🌹🌾 Mar 25, 2020
🌷🌹🥀 राधे राधे जय श्री कृष्णा शुभ चैत्र नवरात्रि व हिंदू नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनाएं जी 💐🌹🌴

Dr.ratan Singh Mar 25, 2020
🚩😷जय माता दी वंदन जी😷🚩 🌹या देवी सर्वभूतेषु शैलपुत्री रूपेण संस्थिता।🌹 🚩नमसतस्यै नमसतस्यै नमसतस्यै नमो नमः।।🚩 🎎आपको सपरिवार हिंदू नववर्षऔर चैत्र नवरात्री की हार्दिक शुभकामनाएं एवं बहुत बहुत बधाई 🙏 🦁 आप और आपके पूरे परिवार पर माता रानी और गणपति महराज की आशिर्वाद निरंतर बनी रहे और आपका बुधवार नवरात्रि का दिन ममतामय शांतिमय शुभ और मंगलमय हो जी 🙏

Renu Singh Mar 25, 2020
🙏🌹 Jai Mata Di Bhai Ji 🙏 Navratri ki Hardik Shubh Kamnayein Ji 🙏🌹 Mata Rani Aapko aur Aàpke Pariwar ko Khush aur Swasth rakhein 🙏 Aàpka Har pal Shubh V Mangalmay ho Bhai Ji 🙏🌹

D.Mir Mar 25, 2020
Jay Mata ji Ane Vala Har Pal Apka khusiuo se bhara Rahe Apka din Shub Rahe Nice post GooD Morning Pravin Bhai ji 👌👌👌🌹🌹🌹🙏🙏🙏

Babita Sharma Mar 25, 2020
आपको और आपके परिवार को नवरात्रि एवं 🚩हिन्दू नववर्ष 2077 विक्रमसंवत की हार्दिक शुभकामनाएं भाई हमारी संस्कृति ही हमारी पहचान हैं ! !! जय श्री राम !! 🙏जय माता दी 🚩

Dr. SEEMA SONI Mar 25, 2020
जय माता दी मेरे भैयाजी 🌹🙏चैत्र नवरात्रि माताजी के आगमन की आप और आपके परिवार को हार्दिक शुभकामनाएं भैयाजी 🌹🙏विश्व में फैले करोना वायरस को माता रानी दूर करे ऐसी प्रार्थना कीजिए भैयाजी 🙏🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹🙏

Rajesh Lakhani Mar 25, 2020
JAI MATADI SHUBH DOPAHAR CHAITRI NAVRATRI KI AAP KO OR AAP KE PARIVAR KO HARDIK SUBKAMNAYE AAP KA HAR PAL SHUBH OR MANGALMAYE HO BHAI NAMASKAR

Mamta Chauhan Mar 25, 2020
Jai mata di shubh dophar bandan bhai ji navratri ki hardik shubhkamnaye Bhai ji 🙏🙏🌷🌷

hiren Mar 25, 2020
Jay mataji motabhai

Pinu Dhiman Jai Shiva 🙏 Mar 25, 2020
जय मां शैलपुत्री शुभ दोपहर वदंन मेरे प्यारे भाई जी 🙏❣️🙏माता रानी आप को हमेशा खुश रखे स्वस्थ रखे सुखी रखे आप का हर पल मंगलमय हो सुखमय हो आप और आप के परिवार को नवरात्रि की ढेर सारी शुभकामनाएं भाई जी 🙏🙋‍♀️🙌🌹❣️🌹❣️🌹❣️

MAHESH MISHRA May 11, 2020

+6 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Ramesh Soni.33 May 10, 2020

+178 प्रतिक्रिया 42 कॉमेंट्स • 53 शेयर
Deepak Chaudhari May 10, 2020

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 26 शेयर
anju May 10, 2020

+11 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 20 शेयर
Rehmat ji May 10, 2020

+8 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 42 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB