Babita Sharma
Babita Sharma Jan 9, 2021

राधे राधे 🙏🌹🥀🌹 ॐ विष्णवे नमः 🙏श्री हरि की कृपा से आपका दिन शुभ हो। आज सफला एकादशी, जानें मुहूर्त, व्रत विधि और महत्व: पौष मास कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि को सफला एकादशी कहते हैं। धार्मिक मान्यता के अनुसार, कहा जाता है जो व्यक्ति सफला एकादशी का व्रत रखता है। उसकी सभी मनोकामनाएं सफल होती हैं। सफला एकादशी का व्रत भगवान विष्णु जी के लिए रखा जाता है। इस दिन विधिवत उनकी आराधना होती है। सफला एकादशी मुहूर्त : एकादशी तिथि प्रारम्भ - जनवरी 08, 2021 को रात 9:40 बजे एकादशी तिथि समाप्त - जनवरी 09, 2021 को शाम 7:17 बजे तक सफला एकादशी व्रत विधि: सफला एकादशी के दिन सूर्योदय से पूर्व स्नान कर सूर्यदेव को जल दें। इसके बाद व्रत-पूजन का संकल्प लें। सुबह भगवान अच्युत की पूजा-अर्चना करें। भगवान को धूप, दीप, फल और पंचामृत आदि अर्पित करें। नारियल, सुपारी, आंवला अनार और लौंग आदि से भगवान अच्युत को अर्पित करें। रात्रि जागरण कर श्री हरि के नाम के भजन करें। अगले दिन द्वादशी पर व्रत खोलें। गरीबों और ब्राह्मणों को भोजन कराएं, उन्हें दान-दक्षिणा दें। सफला एकादशी का महत्व: पद्म पुराण में सफला एकादशी व्रत का महत्व बताया गया है। स्वयं भगवान श्री कृष्ण ने युधिष्ठिर को बताया है कि सफला एकादशी व्रत के देवता श्री नारायण हैं। जो व्यक्ति सफला एकादशी के दिन व्रत रखकर भगवान विष्णु की पूजा अर्चना करता है और रात्रि में जागरण करता है, ईश्वर का ध्यान और श्री हरि के अवतार एवं उनकी लीला कथाओं का पाठ करता है उनका व्रत सफल होता है। इस प्रकार से सफला एकादशी का व्रत करने वाले पर भगवान प्रसन्न होते हैं। व्यक्ति के जीवन में आने वाले दुःखों को पार करने में भगवान सहयोग करते हैं। जीवन का सुख प्राप्त कर व्यक्ति मृत्यु के पश्चात सद्गति को प्राप्त होता है। सफला एकादशी की कथा : पद्म पुराण में सफला एकादशी की जो कथा मिलती है उसके अनुसार महिष्मान नाम का एक राजा था। इनका ज्येष्ठ पुत्र लुम्पक पाप कर्मों में लिप्त रहता था। इससे नाराज होकर राजा ने अपने पुत्र को देश से बाहर निकाल दिया। लुम्पक जंगल में रहने लगा। पौष कृष्ण दशमी की रात में ठंड के कारण वह सो न सका। सुबह होते होते ठंड से लुम्पक बेहोश हो गया। आधा दिन गुजर जाने के बाद जब बेहोशी दूर हुई तब जंगल से फल इकट्ठा करने लगा। शाम में सूर्यास्त के बाद यह अपनी किस्मत को कोसते हुए भगवान को याद करने लगा। एकादशी की रात भी अपने दुखों पर विचार करते हुए लुम्पक सो न सका। इस तरह अनजाने में ही लुम्पक से सफला एकादशी का व्रत पूरा हो गया। इस व्रत के प्रभाव से लुम्पक सुधर गया और इनके पिता ने अपना सारा राज्य लुम्पक को सौंप दिया और खुद तपस्या के लिए चले गए। काफी समय तक धर्म पूर्वक शासन करने के बाद लुम्पक भी तपस्या करने चला गया और मृत्यु के पश्चात विष्णु लोक में स्थान प्राप्त हुआ। हरि ॐ नमो नारायण 🙏🙏

राधे राधे 🙏🌹🥀🌹
ॐ विष्णवे नमः 🙏श्री हरि की कृपा से आपका दिन शुभ हो।

आज  सफला एकादशी, जानें मुहूर्त, व्रत विधि और महत्व:

पौष मास कृष्ण पक्ष की एकादशी तिथि को सफला एकादशी कहते हैं। धार्मिक मान्यता के अनुसार, कहा जाता है जो व्यक्ति सफला एकादशी का व्रत रखता है। उसकी सभी मनोकामनाएं सफल होती हैं। सफला एकादशी का व्रत भगवान विष्णु जी के लिए रखा जाता है। इस दिन विधिवत उनकी आराधना होती है। 

सफला एकादशी मुहूर्त :
एकादशी तिथि प्रारम्भ - जनवरी 08, 2021 को रात 9:40 बजे
एकादशी तिथि समाप्त - जनवरी 09, 2021 को शाम 7:17 बजे तक

सफला एकादशी व्रत विधि:
सफला एकादशी के दिन सूर्योदय से पूर्व स्नान कर सूर्यदेव को जल दें।
इसके बाद व्रत-पूजन का संकल्प लें। 
सुबह भगवान अच्युत की पूजा-अर्चना करें।
भगवान को धूप, दीप, फल और पंचामृत आदि अर्पित करें। 
नारियल, सुपारी, आंवला अनार और लौंग आदि से भगवान अच्युत को अर्पित करें। 
रात्रि जागरण कर श्री हरि के नाम के भजन करें।
अगले दिन द्वादशी पर व्रत खोलें।
गरीबों और ब्राह्मणों को भोजन कराएं, उन्हें दान-दक्षिणा दें।

सफला एकादशी का महत्व:
पद्म पुराण में सफला एकादशी व्रत का महत्व बताया गया है। स्वयं भगवान श्री कृष्ण ने युधिष्ठिर को बताया है कि सफला एकादशी व्रत के देवता श्री नारायण हैं। जो व्यक्ति सफला एकादशी के दिन व्रत रखकर भगवान विष्णु की पूजा अर्चना करता है और रात्रि में जागरण करता है, ईश्वर का ध्यान और श्री हरि के अवतार एवं उनकी लीला कथाओं का पाठ करता है उनका व्रत सफल होता है। इस प्रकार से सफला एकादशी का व्रत करने वाले पर भगवान प्रसन्न होते हैं। व्यक्ति के जीवन में आने वाले दुःखों को पार करने में भगवान सहयोग करते हैं। जीवन का सुख प्राप्त कर व्यक्ति मृत्यु के पश्चात सद्गति को प्राप्त होता है।

सफला एकादशी की कथा :
पद्म पुराण में सफला एकादशी की जो कथा मिलती है उसके अनुसार महिष्मान नाम का एक राजा था। इनका ज्येष्ठ पुत्र लुम्पक पाप कर्मों में लिप्त रहता था। इससे नाराज होकर राजा ने अपने पुत्र को देश से बाहर निकाल दिया। लुम्पक जंगल में रहने लगा।

पौष कृष्ण दशमी की रात में ठंड के कारण वह सो न सका। सुबह होते होते ठंड से लुम्पक बेहोश हो गया। आधा दिन गुजर जाने के बाद जब बेहोशी दूर हुई तब जंगल से फल इकट्ठा करने लगा। शाम में सूर्यास्त के बाद यह अपनी किस्मत को कोसते हुए भगवान को याद करने लगा। एकादशी की रात भी अपने दुखों पर विचार करते हुए लुम्पक सो न सका।

इस तरह अनजाने में ही लुम्पक से सफला एकादशी का व्रत पूरा हो गया। इस व्रत के प्रभाव से लुम्पक सुधर गया और इनके पिता ने अपना सारा राज्य लुम्पक को सौंप दिया और खुद तपस्या के लिए चले गए। काफी समय तक धर्म पूर्वक शासन करने के बाद लुम्पक भी तपस्या करने चला गया और मृत्यु के पश्चात विष्णु लोक में स्थान प्राप्त हुआ।

हरि ॐ नमो नारायण 🙏🙏

+1774 प्रतिक्रिया 518 कॉमेंट्स • 610 शेयर

कामेंट्स

Ashwinrchauhan Jan 14, 2021
राधे राधे बहना जी राधारानी की कृपा आप पर आप के पुरे परिवार पर सदेव बनी रहे मेरी आदरणीय बहना जी आप का हर पल मंगल एवं शुभ रहे ठाकुर जी आप की हर मनोकामना पूरी करे आप का आने वाला दिन शुभ रहे गुड नाईट बहना जी

दादाजी 🌹 Jan 15, 2021
राम राम मेरी प्यारी बहन💐🙏 आप का दिन शुभ हो🙏🌹

p kumar Jan 15, 2021
🙏🌷सुप्रभात🌷🙏 🙏🌷जय श्री राम🌷🙏 🙏🌷जय हनुमान🌷🙏 🙏🌷जय माता की🌷🙏 🙏🌷ॐ नमः शिवाय🌷🙏 🙏🌷हर हर महादेव🌷🙏 🌷जय श्री महाकाल🌷 ॐ नमो भगवते वासुदेवाय

suman mishra Jan 16, 2021
🙏जय श्री कृष्णा राधे राधे🙏

Yodhan Singh Jan 16, 2021
jai shri Radhe kireshna bahena ji shubh sandhiya Vandan ji 🌼🙏🏻🌻

दादाजी 🌹 Jan 18, 2021
ॐ नमः शिवाय🌹🙏 सुप्रभात वन्दन बहन💐🙏

indraj Jan 20, 2021
Om shri ganeshay namah 🙏 Ram Ram bahen 🙏 bhagwan shri ganesh ji ki Anant Kirpa AAP or apke Parivar par sadev bni rhe ji Shri ganpati bappa Ji aap or apke Parivar ki har manokamna purn kare ji apka har pal Shubh or mangalmay ho ji 🙏🌷🙏 🌷🙏 🌷🙏

Neha Sharma, Haryana Jan 26, 2021
🚩🙏जय श्रीराम जय श्री हनुमान🙏🚩 🌸🙏 शुभ मंगलवार🙏🌸 🌸🙏ईश्वर की असीम कृपा आप और आपके परिवार पर सदैव बनी रहे जी। आपका हर पल शुभ व मंगलमय हो बहनाजी🙏🌸 🇮🇳गणतंत्र दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं🇮🇳 🌸🙏 जय-जय श्री राधेकृष्णा🙏🌸

🌹Shashi Bhushan Singh🌹 Jan 28, 2021
राधे राधे जी जय श्री कृष्णा जी बहना जी🌺🌺🙏🏼🙏🏼🌺🌺 🏵️🙌🏼शुभ प्रभात जी 🙌🏼🏵️

Bhatt Sarvadaman Jan 28, 2021
जय श्री राधे क्रिष्णा मेरी प्यारी बहेना 🙏 शुभ प्रभात वंदना 🙏 आपका दिन शुभ एवं मंगलमय हो 🙏

Yodhan Singh Jan 28, 2021
jai shri Radhe kireshna bahena ji om hari om shubh ratri Vandan ji 🌼🙏🏻🌻

santosh ugale Jan 30, 2021
प्रनाम ताई ईश्वर आप और आपके परिवार पर सदाकृपा रखे

anju joshi Feb 4, 2021
ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः संध्या काल की राम राम आदरणीय प्यारी बहना जी🌹🌺🙏

Mamta Chauhan Mar 8, 2021

+47 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 13 शेयर

+6 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर

+78 प्रतिक्रिया 19 कॉमेंट्स • 14 शेयर

+35 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 14 शेयर
Kamlesh Mar 8, 2021

+7 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 1 शेयर
pandey ji Mar 8, 2021

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
manish.s Mar 8, 2021

🙏🌹 जय राधे कृष्णा जय राधे कृष्णा जी राधे🌹🙏 🙏🌹 हर हर महादेव जय भोलेनाथ जय भोले🌹🙏 🌹🌹🌹🌹🙏 जय राधे कृष्णा जी🙏🌹🌹🌹🌹 🖋,, खुशनसीब होते हैं बादल जो दूर रहकर भी.. .... जमीन पर बरसते हैं.. और एक हम हैं जो एक .. .... ही दुनिया में रहकर भी मिलने को तरसते हैं👉🌹 🖋,, प्यार भी हुआ तो ऐसे इंसान से हुआ.. जिसे भूलना ... बस में नहीं और पाना किस्मत में नहीं👉🌹 🖋,, बहुत होंगे दुनिया में तुम्हें चाहने वाले. मगर .... इस पागल की तो दुनिया ही तुम👉🌹 🖋,, उसका गुस्सा और मेरा प्यार एक जैसा है.. ... क्योंकि ना तो उसका गुस्सा कम होता है .... और ना मेरा प्यार👉🌹 🖋,, हजारों अपने हैं मगर याद सिर्फ तेरी .... ........ आती है👉🌹 !! जय राधे कृष्णा जी !!

+52 प्रतिक्रिया 22 कॉमेंट्स • 12 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB