X7skr
X7skr Feb 25, 2021

🕉️ namah shivay 🙏 @ wahe guru 🙏

+22 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 25 शेयर

कामेंट्स

JAI MAA VAISHNO Feb 25, 2021
JAI SHREE RAM PARIVAR KI JAI SHREE RADHE SHREE RADHE SHREE RADHE SHREE RADHE SHREE RADHE SHREE RADHE SHREE RADHE SHREE RADHE SHREE RADHE SHREE RADHE

kamala Maheshwari Feb 25, 2021
जयश्री हरि विष्णु जय बाकैविहारीकी🌹 जय मां लक्ष्मी जय कानहाकीकृपाआप ओर आपके परिवार पर सदैव बनी रहे राधे-राधे कहो हर हाल में खुश रहो जय श्री कृष्णा ज 🌹🏵️🌹🏵️🌹🏵️🌹🏵️🌹🏵️🌹🏵️🌹

X7skr Apr 22, 2021

🕉️ namah shivay 🙏 @🌞 ~ आज का हिन्दू पंचांग ~ 🌞 ⛅ दिनांक 23 अप्रैल 2021 ⛅ दिन - शुक्रवार ⛅ विक्रम संवत - 2078 (गुजरात - 2077) ⛅ शक संवत - 1943 ⛅ अयन - उत्तरायण ⛅ ऋतु - ग्रीष्म ⛅ मास - चैत्र ⛅ पक्ष - शुक्ल ⛅ तिथि - एकादशी रात्रि 09:47 तक तत्पश्चात द्वादशी ⛅ नक्षत्र - मघा सुबह तक 07:42 तत्पश्चात पूर्वाफाल्गुनी ⛅ योग - वृद्धि दोपहर 02:40 तक तत्पश्चात ध्रुव ⛅ राहुकाल - सुबह 11:01 से दोपहर 12:37 तक ⛅ सूर्योदय - 06:14 ⛅ सूर्यास्त - 18:59 ⛅ दिशाशूल - पश्चिम दिशा में ⛅ व्रत पर्व विवरण - कामदा एकादशी 💥 विशेष - हर एकादशी को श्री विष्णु सहस्रनाम का पाठ करने से घर में सुख शांति बनी रहती है l राम रामेति रामेति । रमे रामे मनोरमे ।। सहस्त्र नाम त तुल्यं । राम नाम वरानने ।। 💥 आज एकादशी के दिन इस मंत्र के पाठ से विष्णु सहस्रनाम के जप के समान पुण्य प्राप्त होता है l 💥 एकादशी के दिन बाल नहीं कटवाने चाहिए। 💥 एकादशी को चावल व साबूदाना खाना वर्जित है | एकादशी को शिम्बी (सेम) ना खाएं अन्यथा पुत्र का नाश होता है। 💥 जो दोनों पक्षों की एकादशियों को आँवले के रस का प्रयोग कर स्नान करते हैं, उनके पाप नष्ट हो जाते हैं। 🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞 🌷 कामदा एकादशी 🌷 ➡ 22 अप्रैल 2021 गुरुवार को रात्रि 11:36 से 23 अप्रैल, शुक्रवार को रात्रि 09:47 तक एकादशी है । 💥 विशेष - 23 अप्रैल, शुक्रवार को एकादशी का व्रत (उपवास) रखें । ‘कामदा एकादशी’ ब्रह्महत्या आदि पापों तथा पिशाचत्व आदि दोषों का नाश करनेवाली है । इसके पढ़ने और सुनने से वाजपेय यज्ञ का फल मिलता है । 🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞 🌷 शनि प्रदोष 🌷 🙏🏻 शनिवार को प्रदोषकाल में त्रयोदशी तिथि हो तो उसे शनिप्रदोष कहा जाता है। ➡ 24 अप्रैल 2021 को शनि प्रदोष है। 🙏🏻 शनिप्रदोष व्रत की महिमा अपार है | स्कन्दपुराण में ब्राह्मखंड - ब्रह्ममोत्तरखंड में हनुमान जी कहते हैं कि 🌷 एष गोपसुतो दिष्ट्या प्रदोषे मंदवा सरे । अमंत्रेणापि संपूज्य शिवं शिवमवाप्तवान् ।। मंदवारे प्रदोषोऽयं दुर्लभः सर्वदेहिनाम् । तत्रापि दुर्लभतरः कृष्णपक्षे समागते ।। 👉🏻 एक गोप बालक ने शनिवार को प्रदोष के दिन बिना मंत्र के भी शिव पूजन कर उन्हें पा लिया। शनिवार को प्रदोष व्रत सभी देहधारियों के लिए दुर्लभ है। कृष्णपक्ष आने पर तो यह और भी दुर्लभ है। ➡ संतान प्राप्ति के लिए शनिप्रदोष व्रत एक अचूक उपाय है। ➡ विभिन्न मतो से शनिप्रदोष को महाप्रदोष तथा दीपप्रदोष भी कहा जाता है। कुछ विद्वान केवल कृष्णपक्ष के शनिप्रदोष को ही महाप्रदोष मानते हैं। ➡ ऐसी मान्यता है की शनिप्रदोष का दिन शिव पूजा के लिए सर्वश्रेष्ठ है। अगर कोई व्यक्ति लगातार 4 शनिप्रदोष करता है तो उसके जन्म जन्मांतर के पाप धुल जाते हैं साथ ही वह पितृऋण से भी मुक्त हो जाता है। 🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞 🙏🏻🌷💐🌸🌼🌹🍀🌺💐🙏🏻 http://T.me/Hindupanchang

+16 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 62 शेयर
Jai Mata Di Apr 22, 2021

+60 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 9 शेयर
🌹JAI MATA DI🌹 Apr 22, 2021

+19 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 12 शेयर
X7skr Apr 21, 2021

🕉️ namah shivay 🙏 @🌞 ~ आज का हिन्दू पंचांग ~ 🌞 ⛅ दिनांक 22 अप्रैल 2021 ⛅ दिन - गुरुवार ⛅ विक्रम संवत - 2078 (गुजरात - 2077) ⛅ शक संवत - 1943 ⛅ अयन - उत्तरायण ⛅ ऋतु - ग्रीष्म ⛅ मास - चैत्र ⛅ पक्ष - शुक्ल ⛅ तिथि - दशमी रात्रि 11:35 तक तत्पश्चात एकादशी ⛅ नक्षत्र - अश्लेशा सुबह तक 08:15 तत्पश्चात मघा ⛅ योग - गण्ड शाम 05:02 तक तत्पश्चात वृद्धि ⛅ राहुकाल - दोपहर 02:13 से शाम 03:49 तक ⛅ सूर्योदय - 06:15 ⛅ सूर्यास्त - 18:59 ⛅ दिशाशूल - दक्षिण दिशा में ⛅ व्रत पर्व विवरण - धर्मराज दशमी 💥 विशेष - 🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞 🌷 एकादशी व्रत के लाभ 🌷 ➡ 22 अप्रैल 2021 गुरुवार को रात्रि 11:36 से 23 अप्रैल, शुक्रवार को रात्रि 09:47 तक एकादशी है । 💥 विशेष - 23 अप्रैल, शुक्रवार को एकादशी का व्रत (उपवास रखे 🙏🏻 एकादशी व्रत के पुण्य के समान और कोई पुण्य नहीं है । 🙏🏻 जो पुण्य सूर्यग्रहण में दान से होता है, उससे कई गुना अधिक पुण्य एकादशी के व्रत से होता है । 🙏🏻 जो पुण्य गौ-दान सुवर्ण-दान, अश्वमेघ यज्ञ से होता है, उससे अधिक पुण्य एकादशी के व्रत से होता है । 🙏🏻 एकादशी करनेवालों के पितर नीच योनि से मुक्त होते हैं और अपने परिवारवालों पर प्रसन्नता बरसाते हैं ।इसलिए यह व्रत करने वालों के घर में सुख-शांति बनी रहती है । 🙏🏻 धन-धान्य, पुत्रादि की वृद्धि होती है । 🙏🏻 कीर्ति बढ़ती है, श्रद्धा-भक्ति बढ़ती है, जिससे जीवन रसमय बनता है । 🙏🏻 परमात्मा की प्रसन्नता प्राप्ति होती है ।पूर्वकाल में राजा नहुष, अंबरीष, राजा गाधी आदि जिन्होंने भी एकादशी का व्रत किया, उन्हें इस पृथ्वी का समस्त ऐश्वर्य प्राप्त हुआ ।भगवान शिवजी ने नारद से कहा है : एकादशी का व्रत करने से मनुष्य के सात जन्मों के पाप नष्ट हो जाते हैं, इसमे कोई संदेह नहीं है । एकादशी के दिन किये हुए व्रत, गौ-दान आदि का अनंत गुना पुण्य होता है । 🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞 🌷 एकादशी के दिन करने योग्य 🌷 🙏🏻 एकादशी को दिया जलाके विष्णु सहस्त्र नाम पढ़ें https://youtu.be/yk2uv-rGtQ4 .......विष्णु सहस्त्र नाम नहीं हो तो १० माला गुरुमंत्र का जप कर लें l अगर घर में झगडे होते हों, तो झगड़े शांत हों जायें ऐसा संकल्प करके विष्णु सहस्त्र नाम पढ़ें तो घर के झगड़े भी शांत होंगे l 🙏🏻 Sureshanandji Haridwar 11.02.2010 🌞 ~ हिन्दू पंचांग ~ 🌞 🌷 एकादशी के दिन ये सावधानी रहे 🌷 🙏🏻 महीने में १५-१५ दिन में एकादशी आती है एकादशी का व्रत पाप और रोगों को स्वाहा कर देता है लेकिन वृद्ध, बालक और बीमार व्यक्ति एकादशी न रख सके तभी भी उनको चावल का तो त्याग करना चाहिए एकादशी के दिन जो चावल खाता है... तो धार्मिक ग्रन्थ से एक- एक चावल एक- एक कीड़ा खाने का पाप लगता है...ऐसा डोंगरे जी महाराज के भागवत में डोंगरे जी महाराज ने कहा 🙏🏻 - पूज्य बापूजी मुंबई 1/1/2012 🌞 ~ हिन्दू पंचाग ~ 🌞 🙏🍀🌻🌹🌸💐🍁🌷🌺🙏 http://T.me/Hindupanchang

+9 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 38 शेयर
shivay Apr 21, 2021

+2 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 22 शेयर

+11 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
X7skr Apr 21, 2021

+9 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 29 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB