ओम्कारेशवर महादेव प्रतीक अभिषेक ओम्कारेशवर

ओम्कारेशवर महादेव प्रतीक अभिषेक ओम्कारेशवर

ओम्कारेशवर महादेव प्रतीक अभिषेक ओम्कारेशवर

+12 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

🕉️शनिदेवाय नमः 🌹🙏 पद्मिनी एकादशी की 15 खास जानकारी:- रविवार, 27 सितंबर को पद्मिनी एकादशी है। पौराणिग ग्रंथों में एकादशी व्रत-उपवास करने का बहुत महत्व होता है। हिन्दू धर्म के अनुसार एकादशी व्रत करने की इच्छा रखने वाले मनुष्य को दशमी के दिन से ही कुछ अनिवार्य बातों अथवा नियमों का पालन अवश्य करना चाहिए। आइए जानें एकादशी की 15 खास बातें:- 1. पद्मिनी एकादशी व्रत करने वालों को दशमी की रात्रि को पूर्ण ब्रह्मचर्य का पालन करना चाहिए तथा भोग-विलास से दूर रहना चाहिए। 2. एकादशी का व्रत-उपवास करने वालों को दशमी के दिन मांस, लहसुन, प्याज, मसूर की दाल आदि निषेध वस्तुओं का सेवन नहीं करना चाहिए। 3. एकादशी के दिन प्रात: लकड़ी का दातुन न करें, नींबू, जामुन या आम के पत्ते लेकर चबा लें और अंगुली से कंठ साफ कर लें, वृक्ष से पत्ता तोड़ना भी वर्जित है। अत: स्वयं गिरा हुआ पत्ता लेकर सेवन करें। यदि यह संभव न हो तो पानी से बारह बार कुल्ले कर लें। फिर स्नानादि कर मंदिर में जाकर गीता पाठ करें या पुरोहितजी से गीता पाठ का श्रवण करें। 4. फिर प्रभु के सामने इस प्रकार प्रण करना चाहिए कि 'आज मैं चोर, पाखंडी़ और दुराचारी मनुष्यों से बात नहीं करूंगा और न ही किसी का दिल दुखाऊंगा। रात्रि को जागरण कर कीर्तन करूंगा।' 5. तत्पश्चात 'ॐ नमो भगवते वासुदेवाय' इस द्वादश मंत्र का जाप करें। राम, कृष्ण, नारायण आदि विष्णु के सहस्रनाम को कंठ का भूषण बनाएं। 6. भगवान विष्णु का स्मरण कर प्रार्थना करें और कहे कि- हे त्रिलोकीनाथ! मेरी लाज आपके हाथ है, अत: मुझे इस प्रण को पूरा करने की शक्ति प्रदान करना। 7. क्रोध नहीं करते हुए मधुर वचन बोलना चाहिए। 8. यदि भूलवश किसी निंदक से बात कर भी ली तो भगवान सूर्यनारायण के दर्शन कर धूप-दीप से श्री‍हरि की पूजा कर क्षमा मांग लेना चाहिए। 9. एकादशी के दिन घर में झाड़ू नहीं लगाना चाहिए, क्योंकि चींटी आदि सूक्ष्म जीवों की मृत्यु का भय रहता है। इस दिन बाल नहीं कटवाना चाहिए। न नही अधिक बोलना चाहिए। अधिक बोलने से मुख से न बोलने वाले शब्द भी निकल जाते हैं। 10. इस दिन यथा‍शक्ति दान करना चाहिए। किंतु स्वयं किसी का दिया हुआ अन्न आदि कदापि ग्रहण न करें। 11. दशमी के साथ मिली हुई एकादशी वृद्ध मानी जाती है। वैष्णवों को योग्य द्वादशी मिली हुई एकादशी का व्रत करना चाहिए। त्रयोदशी आने से पूर्व व्रत का पारण करें। 12. एकादशी (ग्यारस) के दिन व्रतधारी व्यक्ति को गाजर, शलजम, गोभी, पालक, इत्यादि का सेवन नहीं करना चाहिए। 13. केला, आम, अंगूर, बादाम, पिस्ता इत्यादि अमृत फलों का सेवन करें। 14. द्वादशी के दिन ब्राह्मणों को मिष्ठान्न, दक्षिणा देना चाहिए। इस व्रत को करने से जीवन के सारे कष्ट समाप्त हो जाते हैं और उपवास करने वाला दिव्य फल प्राप्त करता है। 15. प्रत्येक वस्तु प्रभु को भोग लगाकर तथा तुलसीदल छोड़कर ग्रहण करना चाहिए।

+205 प्रतिक्रिया 35 कॉमेंट्स • 132 शेयर

शनि ग्रह के प्रति अनेक आखयान पुराणों में प्राप्त होते हैं।शनिदेव को सूर्य पुत्र एवं कर्मफल दाता माना जाता है। लेकिन साथ ही पितृ शत्रु भी.शनि ग्रह के सम्बन्ध मे अनेक भ्रान्तियां और इस लिये उसे मारक, अशुभ और दुख कारक माना जाता है। पाश्चात्य ज्योतिषी भी उसे दुख देने वाला मानते हैं। लेकिन शनि उतना अशुभ और मारक नही है, जितना उसे माना जाता है। इसलिये वह शत्रु नही मित्र है।मोक्ष को देने वाला एक मात्र शनि ग्रह ही है। सत्य तो यह ही है कि शनि प्रकृति में संतुलन पैदा करता है, और हर प्राणी के साथ उचित न्याय करता है। जो लोग अनुचित विषमता और अस्वाभाविक समता को आश्रय देते हैं, शनि केवल उन्ही को दण्डिंत (प्रताडित) करते हैं। अनुराधा नक्षत्र के स्वामी शनि हैं।

+75 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 22 शेयर
simran Sep 26, 2020

🛑🛑🛑🛑🛑🛑🛑🛑🛑🛑🛑⛔ 🧩जय बोलने से मन को शांति मिलती हैं🍀 🌹श्री बोलने से शक्ति मिलती है🌹 💐राधे बोलने से पापो से मुक्ति मिलती हैं💐 🍧और निरंतरराधेबोलने सेभक्ति मिलती हैं🍧 💠भक्ति से क्या मिलता हैं जानते हो आप💠 🎾भक्ति से मेरे कन्हैंया मिलते हैं🎾 🌹तो प्यार से बोलो जय श्रीराधे🌹 🌀🌀🌀🌀🌀🌀🌀🌀🌀🌀🌀🌀 ♻🙏🏻जय जय श्री राधेश्याम🙏🏻♻ ✅✅✅✅✅✅✅✅✅✅✅✅ 💰ईमानदार लोग💰 🧭अकलमंद होने के बावजूद भी🧭 🍫धोखे क्यों खा जाते हैं🍫 ✳ क्योंकि✳ 🧁वो अपनी तरह दूसरों के भी🧁 🍛ईमानदार होने का विश्वास कर बैठते हैं🍛 🌐🌐🌐🌐🌐🌐🌐🌐🌐🌐🌐🌐 🧬कलयुग के अवतार की जय⛳लीले के अस्वार की जय💚हारे के सहारे की जय🥏आपका आज का दिन शुभ एवं मंगलमय हो🈯 🍩🍩🍩🍩🍩🍩🍩🍩🍩🍩🍩🍩

+76 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 133 शेयर

+24 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Mahesh Malhotra Sep 26, 2020

+71 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 4 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Anjana Gupta Sep 26, 2020

+221 प्रतिक्रिया 34 कॉमेंट्स • 59 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 5 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB