मात पिता से बडा न कोई ईश्वर है नाहीं कोई मन्दिर के देवता।

मॉ बाप की सेवा ही ईश्वर की सबसे बड़ी सेवा है। बस आजमा के देख लेना। बोलने से कुछ नहीं करके दिखाओ।बूढ़े मात पिता वैसे ही होते हैं जैसे हम बचपन मे थे। कुछ जिद्दी कुछ ऐसा कि हम पर ही अपना ध्यान लगाएं। बस इनकी सेवा करो जो हमें इस दुनियॉ में लाये हैं ।

+27 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 69 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Shree store Feb 18, 2020

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर
Mukesh khanuja Feb 18, 2020

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Ravindra Kumar sahu Feb 18, 2020

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Ashok verma (ashoka) Feb 18, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Shree store Feb 18, 2020

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Acharya Rajesh Feb 18, 2020

*धारावाहिक लेख:- भगवान शिव, महाशिवरात्रि 2020, भाग-5* *महाशिवरात्रि का शुभ मुहूर्त:-* *शुभ मुहूर्त चतुर्दशी तिथि प्रारम्भ -21 फरवरी 2020,शाम 5:22 बजे* *पूर्व अंक में प्रकाशित भाग के अंश........* *महाशिवरात्रि की पूजा तथा व्रत विधि :-* शिवरात्रि पूजन के तीन अंग है । 1. उपवास 2. पूजन 3. जागरण  1. महाशिवरात्रि से एक दिन पूर्व ( त्रयोदशी तिथि ) को केवल एक वक्त का ही भोजन करने का विधान है, परंतु इस वर्ष त्रयोदशी तिथि 21 फरवरी को ही शाम 5:22 बजे तक चलेगी, उसके उपरांत ही चतुर्दशी तिथि का आरंभ होता है । 2. अतः 21 फरवरी को ही, महाशिवरात्रि के दिन प्रातःकाल ब्रह्म मुहुर्त मे उठकर जगदम्बा पार्वती सहित भगवान शिव, को प्रमाण कर हाथ जोडकर भक्तिपूर्वक उनसे प्रार्थना करे :- *देवेश्वर उठिये, उठिये ! मेरे ह्दय मंदिर मे शयन करने वाले देवता ! उठिये ! उमाकांत उठिये और ब्रह्माण्ड मे सबका कल्याण और मंगल कीजिये मैं धर्म को जानता हूं लेकिन मेरी उसमे प्रवृत्ति नही होती, मै अधर्म को जानता हूं, परंतु उससे दूर नही हो पाता । महादेव ! आप मेरे ह्दय मे स्थित होकर मुझे जैसी प्रेरणा देते है, वैसा ही मै करता हूं । अतः मुझे अपनी भक्ति की प्रेरणा दे, और उसे पूर्ण करने हेतु शक्ति भी दे ।* *गतांक से आगे..........* महाशिवरात्रि के अवसर पर भगवान शिव के महामंत्र जाप द्वारा मनोरथ पूर्ण करने हेतु महामंत्र तथा स्तोत्र इत्यादि:- 1. शिवगायत्री मंत्र जाप करने से कारोबारी जीवन मे तरक्की, तथा आर्थिक रूप से मज़बूती मिलती है । *शिव गायत्री मंत्र :-* *ॐ सदाशिवाय विद्महे सहस्राक्ष्याय धीमहि ।* *तन्नः साम्बः प्रचोदयात् ॥* 2. जिन व्यक्तियों कि कुंडली मे साढेसाती, दूषित चंद्र की दशा-महादशा, अमावस्या-पूर्णिमा या ग्रहण का जन्म हो तो वह जातक शिव अष्टोतरी मंत्र का जाप करे । *शिव अष्टोतरी मंत्र :-* *॥ ह्रीं ॐ नमः शिवाय ह्रीं ॥* 3. मानसिक रोग ( डिप्रेशन, संवेदनशील स्वभाव, वहम ), क्षय रोग, दमा-श्वास रोग, साइनस, मिर्गी तथा किडनी रोगो से पीडित व्यकित या महावारी या स्त्री रोग से पीडित नारियाँ महाशिवरात्रि व्रत या पूजन के साथ रूद्र गायत्री मंत्र का जाप करे तो निश्चित रूप से लाभ प्राप्त होगा । *रूद्र गायत्री मंत्र :-* *ॐ पुरुषस्य विद्महे, सहस्राक्षस्य धीमहि ।* *तन्नो रुद्रः प्रचोदयात् ॥* 4. जो लोग मारकेष या लम्बी बीमारी से ग्रस्त हो वह सावन मास मे पूजन के साथ प्रतिदिन 11माला लधुमृत्युंजय मंत्र के साथ ॥ नमः शिवाय ॥ मंत्र का जाप करे तो केवल एक महीने के जाप के प्रभाव से मृत्युशैया से भी उठ खडे होगे । *लघुमृत्युंजय मंत्र :-*   *॥ ॐ ह्रौं जू  सः ॥* 5. पंचाक्षर मंत्र अमोघ एवं मोक्षदायी है, पंचाक्षर स्तोत्र अत्यंत पुण्यदायी व मनोरथो को पूर्ण करने वाला, समस्त भय को दूर करने वाला तथा मोक्ष प्रदान करने वाला स्तोत्र है । *भगवान शंकर का पंचाक्षर मंत्र:-* *। ॐ नमः शिवाय ।* *शिव महामंत्र:-* 1. *नमोस्तुते शंकरशांतिमूर्ति, नमोस्तुते चन्द्रकलावत्स* *नमोस्तुते कारण कारणाय,नमोस्तुते कर्भ वर्जिताय* 2. *ॐ नमस्तुते देवेशाय नमस्कृताय भूत भव्य महादेवाय हरित पिंगल लोचनाय ।।* 3. *।।ॐ नमो भगवते रुद्राय नमः ।।* 4. *ॐ दक्षिणा मूर्ति शिवाय नमः* 5. *ॐ दारिद्र्य दुःख दहनाय नम: शिवाय* 6. *वृषवाहनः शिव शंकराय नमो नमः ।* *ओजस्तेजो सर्वशासकः शिव शंकराय नमो नमः ।।* 7.*॥ॐ मृत्युंजय मंत्र ॥* *ॐ ह्रौं जू सः। ॐ भूः भुवः स्वः।* *ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्‌।* *उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय माऽमृतात्‌।* *स्वः भुवः भूः ॐ सः जू ह्रौं ॐ ॥* 8.*वैदिक महामृत्युंजय मंत्र:-* *ॐ त्र्यम्बकँ य्यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्द्धनम् ।* *उर्व्वारूकमिव बन्धनान्न्मृत्योर्म्मुक्षीय मामृतात् ।* *ॐ त्र्यम्बकं य्यजामहे सुगन्धिम्पतिवेदनम् ।* *उर्व्वारूकमिव बन्धनादितोमुक्षीय मामुत: ।।* 9. *पौराणिक महामृत्युंजय मंत्र:-* *ॐ मृत्युंजयमहादेवं त्राहि मां शरणागतम् ।* *जन्ममृत्युजराव्याधिपीडितं कर्मबन्धनै:॥* 10. *समय मंत्र:-* *ॐ हौं जू स: मृत्युंजयाय नम:॥* 11. *कर्पूर गौरं करूणावतारं संसार सारं भुजगेन्द्र हारं।* *सदा वसंतम् हृदयारविंदे भवं भवानी सहितं नमामि* *(क्रमशः)* *लेख के छठे भाग में कल महाशिवरात्रि के अवसर पर राशि अनुसार अभिषेक तथा पूजन* ________________________ *आगामी लेख:-* *1. 20 फरवरी को महाशिवरात्रि के अवसर पर राशि अनुसार अभिषेक तथा पूजन* *2. 21 फरवरी को महाशिवरात्रि पर्व पर लेख* _________________________ *जय श्री राम* *आज का पंचांग 🌹🌹🌹* *बुधवार,19.2.2020* *श्री संवत 2076* *शक संवत् 1941* *सूर्य अयन- उतरायण, गोल- दक्षिण गोल* *ऋतुः- शिशिर-वसन्त ऋतुः ।* *मास- फाल्गुन मास।* *पक्ष- कृष्ण पक्ष ।* *तिथि- एकादशी तिथि 3:03 pm तक।* *चंद्रराशि- चंद्र धनु राशि मे ।* *नक्षत्र- पू०षाढा नक्षत्र अगले दिन 7:28 am तक* *योग- वज्र योग 7:50 am तक(अशुभ है)* *करण- बालव करण 3:03 pm तक* *सूर्योदय 7 am, सूर्यास्त 6:10 pm* *राहुकाल - 12 pm से 1:30 pm तक, (शुभ कार्य वर्जित )* *गंडमूल:- (ज्येष्ठा) गंडमूल नक्षत्र 17 फर०, 4:54 am से लेकर 19 फर०, (मूल) 6:06 am तक रहेगें ।* गंडमूल नक्षत्रों मे जन्म लेने वाले बच्चो का मूलशांति पूजन आवश्यक है । ______________________ *विशेष:- जो व्यक्ति दिल्ली से बाहर अथवा देश से बाहर रहते हो, वह ज्योतिषीय परामर्श हेतु paytm या Bank transfer द्वारा परामर्श फीस अदा करके, फोन द्वारा ज्योतिषीय परामर्श प्राप्त कर सकतें है* *आगामी व्रत तथा त्यौहार:-* 19 फर०-विजया एकादशी । 20 फर०-प्रदोष व्रत । 21 फर०- महाशिवरात्रि । 23 फर०-फाल्गुन अमावस्या । 6 मार्च- आमलकी एकादशी । 7 मार्च- प्रदोष व्रत । 9 मार्च- होलिका दहन/फाल्गुन पूर्णिमा व्रत ।10 मार्च- होली । 12 मार्च-संकष्टी चतुर्थी । 14 मार्च-मीन संक्रांति । 19 मार्च-पापमोचिनी एकादशी । 21 मार्च-प्रदोष व्रत । 22 मार्च-मासिक शिवरात्रि । 24 मार्च-चैत्र अमावस्या । 25 मार्च- चैत्र नवरात्रि घट स्थापना । आपका दिन मंगलमय हो . 💐💐💐 *आचार्य राजेश ( रोहिणी, दिल्ली )* *9810449333, 7982803848*

+6 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 19 शेयर

🌞 ~ *आज का हिन्दू पंचांग* ~ 🌞 ⛅ *दिनांक 19 फरवरी 2020* ⛅ *दिन - बुधवार* ⛅ *विक्रम संवत - 2076* ⛅ *शक संवत - 1941* ⛅ *अयन - उत्तरायण* ⛅ *ऋतु - वसंत* ⛅ *मास - फाल्गुन (गुजरात एवं महाराष्ट्र अनुसार - माघ)* ⛅ *पक्ष - कृष्ण* ⛅ *तिथि - एकादशी दोपहर 03:02 तक तत्पश्चात द्वादशी* ⛅ *नक्षत्र - पूर्वाषाढा पूर्ण रात्रि तक* ⛅ *योग - वज्र सुबह 07:51 तक तत्पश्चात सिद्धि* ⛅ *राहुकाल - दोपहर 12:41 से दोपहर 02:06 तक* ⛅ *सूर्योदय - 07:08* ⛅ *सूर्यास्त - 18:37* ⛅ *दिशाशूल - उत्तर दिशा में* ⛅ *व्रत पर्व विवरण - विजया एकादशी, वसंत ऋतु प्रारंभ* 💥 *विशेष - हर एकादशी को श्री विष्णु सहस्रनाम का पाठ करने से घर में सुख शांति बनी रहती है lराम रामेति रामेति । रमे रामे मनोरमे ।। सहस्त्र नाम त तुल्यं । राम नाम वरानने ।।* 💥 *आज एकादशी के दिन इस मंत्र के पाठ से विष्णु सहस्रनाम के जप के समान पुण्य प्राप्त होता है l* 💥 *एकादशी के दिन बाल नहीं कटवाने चाहिए।* 💥 *एकादशी को चावल व साबूदाना खाना वर्जित है | एकादशी को शिम्बी (सेम) ना खाएं अन्यथा पुत्र का नाश होता है।* 💥 *जो दोनों पक्षों की एकादशियों को आँवले के रस का प्रयोग कर स्नान करते हैं, उनके पाप नष्ट हो जाते हैं।* 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 🌷 *महाशिवरात्रि* 🌷 🙏🏻 *शुक्रवार, 21 फरवरी को महाशिवरात्रि का पर्व मनाया जाएगा। इस दिन की गई शिव पूजा से पिछले समय से चली आ रही परेशानियां खत्म हो सकती हैं और धन लाभ भी मिल सकता है। यहां जानिए शास्त्रों में बताए उपाए...* 👉🏻 *शिवरात्रि पर करें इन 8 में से कोई 1 उपाय, दूर हो सकती है परेशानी* 🔥 *महाशिवरात्रि पर रात में किसी शिव मंदिर में दीपक जलाएं । शिव पुराण के अनुसार कुबेर देव ने पूर्व जन्म में रात के समय शिवलिंग के पास रोशनी की थी इसी वजह से अगले जन्म में वे देवताओं के कोषाध्यक्ष बने।* 🙏🏻 *महाशिवरात्रि पर छोटा सा पारद (पारा) शिवलिंग लेकर आएं और धर के मंदिर में इसे स्थापित करें। शिवरात्रि से शुरू करके रोज इसकी पूजा करें । इस उपाय से धर की दरिद्रता दुर होती है और लक्ष्मी कुपा बनी रहती है।* 🙏🏻 *यदि आप चाहें तो शिवरात्रि पर स्फटिक के शिवलिंग की पूजा कर सकते हैं। धर के मंदिर में जल, दूध, दही, धी, शहद, और शकर से इस शिवलिंग को स्नान कराएं । मंत्र - ॐ नम: शिवाय । मंत्र जप कम से कम 108 बार करें।* 🙏🏻 *हनुमानजी भगवान शिव के ही अंशावतार माने गए हैं। शिवरात्रि पर हनुमान चालीसा का पाठ करने से हनुमानजी और शिवजी की प्रसन्नता प्राप्त होती है। इनकी कृपा से भक्त की सभी परेशानियां दूर हो सकती हैं।* 👩🏻 *कसी सुहागिन को सुहाग का सामान उपहार में दें । जो लोग यह उपाय करते है, उनके वैवाहिक जीवन की समस्याएं दूर हो सकती हैं। सुहाग का सामान जैसे - लाल साड़ी, लाल चुडियां, कुमकुम आदि।* 💰 *महाशिवरात्रि पर किसी जरुरतमंद व्यक्ति को अनाज और धन का दान करें। शास्त्रों में बताया गया है कि गरिबों को दान करने से पुराने सभी पापों का असर खत्म हो सकता है और अक्षय पुण्य की प्राप्ति होती है।* 🍚 *जो लोग शिवरात्रि पर किसी बिल्व वृक्ष के नीचे खड़े होकर खीर और धी का दान करते हैं, उन्हें महालक्ष्मी की विशेष कृपा प्राप्त होती है। ऐसे लोग जीवनभर सुख-सुविधाएं प्राप्त करते हैं और कार्यों में सफल होते हैं।* 🌳 *शिव पुराण के अनुसार बिल्व वृक्ष महादेव का रुप है। इसलिए इसकी पूजा करें।फूल, कुमकुम, प्रसाद आदि चीजें विशेष रुप से चढ़ाएं । इसकी पूजा से जल्दी शुभ फल मिलते हैं। शिवरात्रि पर बिल्व के पास दीपक जलाएं ।* 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 🌷 *महाशिवरात्रि* 🌷 🙏🏻 *भगवान शिव बहुत भोले हैं, यदि कोई भक्त सच्ची श्रद्धा से उन्हें सिर्फ एक लोटा पानी भी अर्पित करे तो भी वे प्रसन्न हो जाते हैं। इसीलिए उन्हें भोलेनाथ भी कहा जाता है। महाशिवरात्रि (21 फरवरी, शुक्रवार) पर शिव भक्त भगवान भोलेनाथ को प्रसन्न करने के लिए अनेक उपाय करते हैं।* *कुछ ऐसे ही छोटे और अचूक उपायों के बारे शिवपुराण में भी लिखा है। ये उपाय इतने सरल हैं कि इन्हें बड़ी ही आसानी से किया जा सकता है। हर समस्या के समाधान के लिए शिवपुराण में एक अलग उपाय बताया गया है। ये उपाय इस प्रकार हैं-* 👉🏻 *महाशिवरात्रि पर करें ये आसान उपाय, प्रसन्न होंगे भोलेनाथ* 🙏🏻 *शिवपुराण के अनुसार, जानिए भगवान शिव को कौन सा रस (द्रव्य) चढ़ाने से क्या फल मिलता है-* 👨‍👩‍👧‍👦 *1. बुखार होने पर भगवान शिव को जल चढ़ाने से शीघ्र लाभ मिलता है। सुख व संतान की वृद्धि के लिए भी जल द्वारा शिव की पूजा उत्तम बताई गई है।* 😇 *2. तेज दिमाग के लिए शक्कर मिला दूध भगवान शिव को चढ़ाएं।* 😃 *3. शिवलिंग पर गन्ने का रस चढ़ाया जाए तो सभी आनंदों की प्राप्ति होती है।* 🙏🏻 *4. शिव को गंगा जल चढ़ाने से भोग व मोक्ष दोनों की प्राप्ति होती है।* 😩 *5. शहद से भगवान शिव का अभिषेक करने से टीबी रोग में आराम मिलता है।* 🚶🏻 *6. यदि शारीरिक रूप से कमजोर कोई व्यक्ति भगवान शिव का अभिषेक गाय के शुद्ध घी से करे तो उसकी कमजोरी दूर हो सकती है।* 🙏🏻 *शिवपुराण के अनुसार, जानिए भगवान शिव को कौन-सा फूल चढ़ाने से क्या फल मिलता है-* 🌷 *1. लाल व सफेद आंकड़े के फूल से भगवान शिव का पूजन करने पर मोक्ष की प्राप्ति होती है।* 🌷 *2. चमेली के फूल से पूजन करने पर वाहन सुख मिलता है।* 🌷 *3. अलसी के फूलों से शिव का पूजन करने पर मनुष्य भगवान विष्णु को प्रिय होता है।* 🌷 *4. शमी वृक्ष के पत्तों से पूजन करने पर मोक्ष प्राप्त होता है।* 🌷 *5. बेला के फूल से पूजन करने पर सुंदर व सुशील पत्नी मिलती है।* 🌷 *6. जूही के फूल से भगवान शिव का पूजन करें तो घर में कभी अन्न की कमी नहीं होती।* 🌷 *7. कनेर के फूलों से भगवान शिव का पूजन करने से नए वस्त्र मिलते हैं।* 🌷 *8. हरसिंगार के फूलों से पूजन करने पर सुख-सम्पत्ति में वृद्धि होती है।* 🌷 *9. धतूरे के फूल से पूजन करने पर भगवान शंकर सुयोग्य पुत्र प्रदान करते हैं, जो कुल का नाम रोशन करता है।* 🌷 *10. लाल डंठलवाला धतूरा शिव पूजन में शुभ माना गया है।* 🌷 *11. दूर्वा से भगवान शिव का पूजन करने पर आयु बढ़ती है।* 💰 *आमदनी बढ़ाने के लिए* *महाशिवरात्रि पर घर में पारद शिवलिंग की स्थापना करें और उसकी पूजा करें। इसके बाद नीचे लिखे मंत्र का 108 बार जाप करें-* *ऐं ह्रीं श्रीं ऊं नम: शिवाय: श्रीं ह्रीं ऐं* *प्रत्येक मंत्र के साथ बिल्वपत्र पारद शिवलिंग पर चढ़ाएं। बिल्वपत्र के तीनों दलों पर लाल चंदन से क्रमश: ऐं, ह्री, श्रीं लिखें। अंतिम 108 वां बिल्वपत्र को शिवलिंग पर चढ़ाने के बाद निकाल लें तथा उसे अपने पूजन स्थान पर रखकर प्रतिदिन उसकी पूजा करें। माना जाता है ऐसा करने से व्यक्ति की आमदानी में इजाफा होता है।* 👪 *संतान प्राप्ति के लिए उपाय* *महाशिवरात्रि की सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि करने के बाद भगवान शिव की पूजा करें। इसके बाद गेहूं के आटे से 11 शिवलिंग बनाएं। अब प्रत्येक शिवलिंग का शिव महिम्न स्त्रोत से जलाभिषेक करें। इस प्रकार 11 बार जलाभिषेक करें। उस जल का कुछ भाग प्रसाद के रूप में ग्रहण करें।* *यह प्रयोग लगातार 21 दिन तक करें। गर्भ की रक्षा के लिए और संतान प्राप्ति के लिए गर्भ गौरी रुद्राक्ष भी धारण करें। इसे किसी शुभ दिन शुभ मुहूर्त देखकर धारण करें।* 😩 *बीमारी ठीक करने के लिए उपाय* *महाशिवरात्रि पर पानी में दूध व काले तिल डालकर शिवलिंग का अभिषेक करें। अभिषेक के लिए तांबे के बर्तन को छोड़कर किसी अन्य धातु के बर्तन का उपयोग करें। अभिषेक करते समय ऊं जूं स: मंत्र का जाप करते रहें* 🙏🏻 *इसके बाद भगवान शिव से रोग निवारण के लिए प्रार्थना करें और प्रत्येक सोमवार को रात में सवा नौ बजे के बाद गाय के सवा पाव कच्चे दूध से शिवलिंग का अभिषेक करने का संकल्प लें। इस उपाय से बीमारी ठीक होने में लाभ मिलता है।* 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 🙏🏻🌷🌻🌹🍀🌺🌼🌸💐🙏🏻 https://youtu.be/XVVSt7HgH1k

+15 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 22 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB