Sanjay Singh
Sanjay Singh Mar 27, 2020

+233 प्रतिक्रिया 21 कॉमेंट्स • 78 शेयर

कामेंट्स

Dr. SEEMA SONI Mar 27, 2020
जो जलता है वो बुझता जरूर है। जो चलता है वो रुकता जरूर है। जो बहता है वो थमता जरूर है। संयम रखें ये एक वायरस है।ये भी एक दिन बुझेगा, रुकेगा,थमेगा जरूर।मता रानी हम सभी को सदा स्वस्थ और प्रसन्न रखेंगी।🙏🌹🙏जय माता दी भैयाजी 🙏

Radha behan Mar 27, 2020
🙏 जय माता दी 🙏 🙏 राम राम जी 🙏

Kamlesh Mar 27, 2020
जय माता दी 🙏🙏

Vijay Singh Mar 27, 2020
🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻

Sweta Saxena Mar 27, 2020
Jai mata di 🌹🌷good evening bhai god bless you 🌷🌹🙏

BIJAY PANDAY May 8, 2020

+84 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 3 शेयर
ShubhAm SaiNi May 8, 2020

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर

🌹🙏जय माता दी 🌹🙏 *🔴भक्त और भगवान🙏* ************************ दो भक्त थे । एक भगवान् श्रीरामका भक्त था, दूसरा भगवान् श्रीकृष्ण का । दोनों अपने-अपने भगवान् (इष्टदेव)-को श्रेष्ठ बतलाते थे । एक बार वे जंगल में गये। वहाँ दोनों भक्त अपने-अपने भगवान को पुकारने लगे। उनका भाव यह था कि दोनों में से जो भगवान् शीघ्र आ जायँ वही श्रेष्ठ हैं। भगवान् श्रीकृष्ण शीघ्र प्रकट हो गये। इससे उनके भक्त ने उन्हें श्रेष्ठ बतला दिया। थोड़ी देर में भगवान् श्रीराम भी प्रकट हो गये। इसपर उनके भक्त ने कहा कि आपने मुझे हरा दिया; भगवान् श्रीकृष्ण तो पहले आ गये, पर आप देर से आये, जिससे मेरा अपमान हो गया ! ***** भगवान् श्रीराम ने अपने भक्तसे पूछा‒‘तूने मुझे किस रूप में याद किया था ?’ भक्त बोला ‘राजाधिराज के रूप में।’ तब भगवान् श्रीराम बोले‒‘बिना सवारी के राजाधिराज कैसे आ जायँगे। पहले सवारी तैयार होगी, तभी तो वे आयँगे !’ कृष्ण-भक्त से पूछा गया तो उसने कहा‒‘मैंने तो अपने भगवान् को गाय चराने वाले के रूप में याद किया था कि वे यहीं जंगलमें गाय चराते होंगे।’ इसीलिये वे पुकारते ही तुरन्त प्रकट हो गये। **** दुःशासन के द्वारा भरी सभा में चीर खींचे जाने के कारण द्रौपदी ने ‘द्वारकावासिन् कृष्ण’ कहकर भगवान् को पुकारा, तो भगवान् के आने में थोड़ी देर लगी। इस पर भगवान् ने द्रौपदी से कहा कि तूने मुझे ‘द्वारकावासिन्’ (द्वारका में रहने वाले) कहकर पुकारा, इसलिये मुझे द्वारका जाकर फिर वहाँ से आना पड़ा। यदि तुम कहती कि यहीं से आ जाओ तो मैं यहीं से प्रकट हो जाता। भगवान् सब जगह हैं। जहाँ हम हैं, वहीं भगवान् भी हैं। भक्त जहाँ से भगवान् को बुलाता है, वहीं से भगवान् आत हैं। भक्त की भावना के अनुसार ही भगवान् प्रकट होते हैं।

+937 प्रतिक्रिया 137 कॉमेंट्स • 178 शेयर
kamlash May 8, 2020

+19 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 21 शेयर

+165 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 2 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB