सुदर्शन चक

सुदर्शन चक

आखिर क्या है ? सुदर्शन चक्र, जानिए पूरी कहानी

सुदर्शन चक्र भगवन #विष्णु का शस्त्र है| यह चक्र एक ऐसा अस्त्र है ,जो चलाने के बाद अपने लक्ष्य पर पहुंच कर वापस आ जाता है| यानि यह चक्र कभी नष्ट नहीं होता|

इस चक्र की उत्पत्ति की कई कहानियां सुनने को मिलती हैं| कुछ लोगों का मानना है ,कि ब्रह्मा, विष्णु, महेश, बृहस्पति ने अपनी ऊर्जा एकत्रित कर के इस की उत्पत्ति की है|

यह भी माना जाता है ,कि यह चक्र भगवान विष्णु ने भगवान शिव की आराधना कर के प्राप्त किया है|

लोगों का मानना यह भी है कि महाभारत काल में अग्निदेव ने श्री कृष्ण को यह चक्र दिया था ! जिस से अनेकों का संहार हुआ था !

सुदर्शन दो शब्दों से जुड़ क्र बना है, सु यानि शुभ और दर्शन | चक्र शब्द चरुहु और करूहु शब्दों के मेल से बना है, जिस का अर्थ है गति (हमेशा चलने वाला)|

यह चांदी की शलाकाओं से निर्मित था। इस की ऊपरी और निचली सतहों पर लौह शूल लगे हुए थे। इस में अत्यंत विषैले किस्म के विष का उपयोग किया गया था।

सुदर्शन चक्र से जुडी एक कहानी यह भी है ,कि इस का निर्माण विश्वकर्मा के द्वारा किया गया है|

विश्वकर्मा ने अपनी पुत्री संजना का विवाह सूर्य देव के साथ किया ! परन्तु संजना सूर्य देव की रोशनी तथा गर्मी के कारण उन के समीप ना जा सकी| यह बात जब विश्वकर्मा को पता चली तब उन्होंने सूर्य की चमक को थोड़ा कम कर दिया और सूर्य की बाकि बची ऊर्जा से त्रिशूल, पुष्पक विमान तथा सुदर्शन चक्र का निर्माण किया|

सुदर्शन चक्र शत्रु पर गिराया नहीं जाता यह प्रहार करने वाले की इच्छा शक्ति से भेजा जाता है| यह चक्र किसी भी चीज़ को समाप्त करने की क्षमता रखता है|

माना जाता है ,कि कृष्ण जी ने गोवर्धन पर्वत को सुदर्शन चक्र की सहायता से उठाया था| श्री कृष्ण ने महाभारत के युद्ध में सुदर्शन चक्र का इस्तेमाल सूर्यास्त दिखने के लिया किया था ! जिसकी मदद से जयद्रथ का वध अर्जुन द्वारा हो पाया|

सब कुछ अच्छा न होने पर भी क्यो कही जाती है ! ये कहावत !

इस चक्र ने देवी सती के शरीर के ५१ हिस्से कर भारत में जगह-जगह बिखेर दिए और इन जगहों को शक्ति-पीठ के नाम से जाना जाता है|

यह तब हुआ जब देवी सती ने अपने पिता के घर हो रहे यग्न में खुद को अग्नि में जला लिया| तब भगवान शिव शोक में आकर सती के प्राण-रहित शरीर को उठाए घूमते रहे|

सुदर्शन चक्र की हिन्दू धर्म में बहुत मान्यता है ,जैसे वक़्त, सूर्य और ज़िंदगी कभी रूकती नहीं हैं ,वैसे ही इस का भी कोई अंत नहीं कर सकता| यह परम्-सत्य का प्रतीक है|

हमारे शरीर में भी कई तरह के चक्र मौजूद है ! जिस में अत्यंत ऊर्जा और आध्यात्मिक शक्ति उत्पन्न करने की क्षमता है| योग उपनिषद् में सहस्रार चक्र के आलावा ६ चक्र और हैं- मूलधारा, स्वाधिष्ठान, मणिपुर, अनाहत, विसुद्धा और अजना|

श्री मंदिर के रत्न सिंहासन के ४ देवताओं को चतुर्द्धामूर्थी कहा जाता जिन में सुदर्शन चक्र को भी देव माना गया है|

सुदर्शन चक्र को यहां एक खम्बे के जैसे दर्शाया गया है| इन्हें ऊर्जा और शक्ति का देवता कहा जाता है|
तमिल में सुदर्शन चक्र कोचक्रथ अझवार भी कहा जाता है| थाईलैंड की सत्ता का नाम भी इसी चक्र के नाम पर रखा गया है , जिसे चक्री डायनेस्टी कहा जाता है !
💢💢💢💢💢

Jyot Agarbatti Fruits +290 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 63 शेयर

कामेंट्स

राम कुमार रेवाड़ Aug 13, 2017
नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण

राजेंद्र अवस्थी Aug 13, 2017
भैयाजी कृपया ये बताएँ कि सती के शरीर के 51 टुकड़े सुदर्शनचक्र से हुए और वो भारत मे जहाँ जहाँ गिरे वहाँ आज शक्तिपीठ स्थापित हैं.. तो सारे टुकड़े भारत में ही क्यों गिरे किसी अन्य देश में क्यो नही गिरे!!?

जय श्री कृष्णा जी की 🌺💐🌹🎉🍃

Water Jyot Flower +28 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 126 शेयर
Ramarao Balla Aug 18, 2018

Fruits Jyot Belpatra +83 प्रतिक्रिया 18 कॉमेंट्स • 256 शेयर
Priyanka Chaudhari Aug 19, 2018

good morning 🙏

Flower Pranam Milk +79 प्रतिक्रिया 19 कॉमेंट्स • 49 शेयर

🍋🍋🍋🍋🍋🍋🍋🍋🍋🍋🍋🍋🍋🍋🍋🍋🍋🍋🍋🍋🍋🍋🍋🍋🍋🍋🍋🍋

Jyot Flower Pranam +11 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 8 शेयर

Like +2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

🎉हे मेरे कान्हा🥀

🌼तुमने बांसुरी को पकड़ा है और 🌻
🌺हमने तुम्हे पकड़ा है.🍅

🌷तुम उसे छोड़ नहीं सकते और 🌱
🏵️हम तुम्हे छोड़ नहीं सकते..!🌿

🥀बात तो बंधन की है कन्हैया..!🌻
🌺निभाना तुम्हे भी है और निभाना हमें भी है.🍅

जय श्री कृष्णा जी की 🌺💐...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Dhoop Flower +92 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 95 शेयर

_*🙏🏻🙏🏻🌸आज प्रातः काल के दर्शन श्री बद्रीनाथ धाम के 🙏🏻श्री बाबा केदारनाथ धाम के देवभूमि उत्तराखंड से🌸🙏🏻🙏🏻*_

Bell Like Belpatra +392 प्रतिक्रिया 32 कॉमेंट्स • 330 शेयर

🌷🌹🌷श्री हरि और माता जगतजननी, सबका कल्याण करें🌹🌷🌹

Jyot Bell Flower +4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 2 शेयर

Jyot Flower Like +45 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 7 शेयर
Manoj Kumar Aug 18, 2018

Pranam Like +2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 7 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB