सुदर्शन चक

सुदर्शन चक

आखिर क्या है ? सुदर्शन चक्र, जानिए पूरी कहानी

सुदर्शन चक्र भगवन #विष्णु का शस्त्र है| यह चक्र एक ऐसा अस्त्र है ,जो चलाने के बाद अपने लक्ष्य पर पहुंच कर वापस आ जाता है| यानि यह चक्र कभी नष्ट नहीं होता|

इस चक्र की उत्पत्ति की कई कहानियां सुनने को मिलती हैं| कुछ लोगों का मानना है ,कि ब्रह्मा, विष्णु, महेश, बृहस्पति ने अपनी ऊर्जा एकत्रित कर के इस की उत्पत्ति की है|

यह भी माना जाता है ,कि यह चक्र भगवान विष्णु ने भगवान शिव की आराधना कर के प्राप्त किया है|

लोगों का मानना यह भी है कि महाभारत काल में अग्निदेव ने श्री कृष्ण को यह चक्र दिया था ! जिस से अनेकों का संहार हुआ था !

सुदर्शन दो शब्दों से जुड़ क्र बना है, सु यानि शुभ और दर्शन | चक्र शब्द चरुहु और करूहु शब्दों के मेल से बना है, जिस का अर्थ है गति (हमेशा चलने वाला)|

यह चांदी की शलाकाओं से निर्मित था। इस की ऊपरी और निचली सतहों पर लौह शूल लगे हुए थे। इस में अत्यंत विषैले किस्म के विष का उपयोग किया गया था।

सुदर्शन चक्र से जुडी एक कहानी यह भी है ,कि इस का निर्माण विश्वकर्मा के द्वारा किया गया है|

विश्वकर्मा ने अपनी पुत्री संजना का विवाह सूर्य देव के साथ किया ! परन्तु संजना सूर्य देव की रोशनी तथा गर्मी के कारण उन के समीप ना जा सकी| यह बात जब विश्वकर्मा को पता चली तब उन्होंने सूर्य की चमक को थोड़ा कम कर दिया और सूर्य की बाकि बची ऊर्जा से त्रिशूल, पुष्पक विमान तथा सुदर्शन चक्र का निर्माण किया|

सुदर्शन चक्र शत्रु पर गिराया नहीं जाता यह प्रहार करने वाले की इच्छा शक्ति से भेजा जाता है| यह चक्र किसी भी चीज़ को समाप्त करने की क्षमता रखता है|

माना जाता है ,कि कृष्ण जी ने गोवर्धन पर्वत को सुदर्शन चक्र की सहायता से उठाया था| श्री कृष्ण ने महाभारत के युद्ध में सुदर्शन चक्र का इस्तेमाल सूर्यास्त दिखने के लिया किया था ! जिसकी मदद से जयद्रथ का वध अर्जुन द्वारा हो पाया|

सब कुछ अच्छा न होने पर भी क्यो कही जाती है ! ये कहावत !

इस चक्र ने देवी सती के शरीर के ५१ हिस्से कर भारत में जगह-जगह बिखेर दिए और इन जगहों को शक्ति-पीठ के नाम से जाना जाता है|

यह तब हुआ जब देवी सती ने अपने पिता के घर हो रहे यग्न में खुद को अग्नि में जला लिया| तब भगवान शिव शोक में आकर सती के प्राण-रहित शरीर को उठाए घूमते रहे|

सुदर्शन चक्र की हिन्दू धर्म में बहुत मान्यता है ,जैसे वक़्त, सूर्य और ज़िंदगी कभी रूकती नहीं हैं ,वैसे ही इस का भी कोई अंत नहीं कर सकता| यह परम्-सत्य का प्रतीक है|

हमारे शरीर में भी कई तरह के चक्र मौजूद है ! जिस में अत्यंत ऊर्जा और आध्यात्मिक शक्ति उत्पन्न करने की क्षमता है| योग उपनिषद् में सहस्रार चक्र के आलावा ६ चक्र और हैं- मूलधारा, स्वाधिष्ठान, मणिपुर, अनाहत, विसुद्धा और अजना|

श्री मंदिर के रत्न सिंहासन के ४ देवताओं को चतुर्द्धामूर्थी कहा जाता जिन में सुदर्शन चक्र को भी देव माना गया है|

सुदर्शन चक्र को यहां एक खम्बे के जैसे दर्शाया गया है| इन्हें ऊर्जा और शक्ति का देवता कहा जाता है|
तमिल में सुदर्शन चक्र कोचक्रथ अझवार भी कहा जाता है| थाईलैंड की सत्ता का नाम भी इसी चक्र के नाम पर रखा गया है , जिसे चक्री डायनेस्टी कहा जाता है !
💢💢💢💢💢

Jyot Agarbatti Fruits +290 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 63 शेयर

कामेंट्स

राम कुमार रेवाड़ Aug 13, 2017
नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण नारायण

राजेंद्र अवस्थी Aug 13, 2017
भैयाजी कृपया ये बताएँ कि सती के शरीर के 51 टुकड़े सुदर्शनचक्र से हुए और वो भारत मे जहाँ जहाँ गिरे वहाँ आज शक्तिपीठ स्थापित हैं.. तो सारे टुकड़े भारत में ही क्यों गिरे किसी अन्य देश में क्यो नही गिरे!!?

Ashish shukla Oct 20, 2018

Flower Pranam Dhoop +533 प्रतिक्रिया 238 कॉमेंट्स • 2546 शेयर
Dr. Ratan Singh Oct 20, 2018

🎎पापांकुशा एकादशी🎎
🌹🌿ॐ विष्णुदेवाय नमः🌿🌹
🎡🌸शुभ शनिवार🌸🎡
🍥कथा:-
अर्जुन ने कहा- "हे जगदीश्वर! आश्विन माह के शुक्ल पक्ष की एकादशी का क्या नाम है तथा इस व्रत के करने से कौन से फलों की प्राप्ति होती है? कृपया यह सब विधानपूर्वक कहिए।"

भगवान ...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Tulsi Bell +293 प्रतिक्रिया 81 कॉमेंट्स • 241 शेयर

आसो सुद एकादशी

पापकुंशा एकादशी की

शुभकामनाए

सभी पापो को मोक्ष देनेवाली

एकादशी व्रत करने से सभी पाप नष्ट हो जाते हे और विष्णु श्रीहरि के चरणों मे अभयपद मिलते है...

(पूरा पढ़ें)
Tulsi Flower Pranam +169 प्रतिक्रिया 60 कॉमेंट्स • 55 शेयर

Panama Aakadashi/Prabhu Darshan

Pranam Jyot Dhoop +30 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 1 शेयर

हे माँ दुर्गे सबका कल्याण करों, भक्तों के दुःख हरो।

Dhoop +1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Anuradha Tiwari Oct 20, 2018

नारायण जी को अपना,, अतिशय प्रिय बनाने के लिये शास्त्र संत गुरुजनों ने अनेक मार्ग बताया है |
लेकिन !!! राम जी ने 🙏 रामचरितमानस में श्री कृष्ण जी गीता जी में 🙏 एक एक अद्भुत मार्ग का निरूपण किया है ||

राम जी कहते हैं ,,
निर्मल मन वाला भक्त ही...

(पूरा पढ़ें)
Flower Pranam +4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 2 शेयर
prakash mehta Oct 19, 2018

Flower Pranam Tulsi +163 प्रतिक्रिया 20 कॉमेंट्स • 126 शेयर
Dr. Janhavi ojha Oct 19, 2018

Pranam Like Flower +37 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 112 शेयर
Neeru miglani Oct 20, 2018

आप सभी को *पापांकुशा एकादशी *की हार्दिक शुभकामनाएँ ।🌹🌹🌺🌺🌻🌻🌸🌸

Dhoop Belpatra Milk +91 प्रतिक्रिया 53 कॉमेंट्स • 13 शेयर
Jagdish bijarnia Oct 20, 2018

Like Pranam Fruits +9 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 15 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB