*नवदुर्गा: नौ रूपों में स्त्री जीवन का पूर्ण बिम्ब।

*नवदुर्गा: नौ रूपों में स्त्री जीवन का पूर्ण बिम्ब एक स्त्री के पूरे जीवनचक्र का बिम्ब है नवदुर्गा के नौ स्वरूप।*

1. जन्म ग्रहण करती हुई कन्या "शैलपुत्री" स्वरूप है।

2. कौमार्य अवस्था तक "ब्रह्मचारिणी" का रूप है।

3. विवाह से पूर्व तक चंद्रमा के समान निर्मल होने से
वह "चंद्रघंटा" समान है।

4. नए जीव को जन्म देने के लिए गर्भ धारण करने पर
वह "कूष्मांडा" स्वरूप में है।

5. संतान को जन्म देने के बाद वही स्त्री
"स्कन्दमाता" हो जाती है।

6. संयम व साधना को धारण करने वाली स्त्री
"कात्यायनी" रूप है।

7. अपने संकल्प से पति की अकाल मृत्यु को भी जीत
लेने से वह "कालरात्रि" जैसी है।

8. संसार (कुटुंब ही उसके लिए संसार है) का उपकार
करने से "महागौरी" हो जाती है।

9 धरती को छोड़कर स्वर्ग प्रयाण करने से पहले संसार
में अपनी संतान को सिद्धि(समस्त सुख-संपदा) का
आशीर्वाद देने वाली "सिद्धिदात्री" हो जाती है।

🥀🥀🥀🥀🥀जय_माता_दी 🥀🥀🥀🥀🥀

Pranam Like Agarbatti +85 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 116 शेयर

कामेंट्स

Mamata Rout Oct 17, 2018

Flower Bell Pranam +235 प्रतिक्रिया 58 कॉमेंट्स • 1874 शेयर
jasbir Singh nain Oct 17, 2018

Lotus Dhoop Belpatra +200 प्रतिक्रिया 36 कॉमेंट्स • 1296 शेयर

यह एक पौराणिक कथा है। कुबेर तीनों लोकों में सबसे धनी थे। एक दिन उन्होंने सोचा कि हमारे पास इतनी संपत्ति है, लेकिन कम ही लोगों को इसकी जानकारी है। इसलिए उन्होंने अपनी संपत्ति का प्रदर्शन करने के लिए एक भव्य भोज का आयोजन करने की बात सोची। उस में तीन...

(पूरा पढ़ें)
0 कॉमेंट्स • 3 शेयर

एक किसान बहुत परेशान हो गया।
हर वर्ष कुछ गड़बड़ कभी कुछ...
कभी बाढ़ आ जाए,
कभी आंधी तूफान आ जाएं,
कभी पाला पड़ जाए,
कभी ओले गिर जाएं,
कभी वर्षा कम कभी वर्षा ज्यादा।

किसान थक गया। एक दिन उसने
परमात्मा से कहा कि तुम्हें किसानी नहीं आती।
तुमने क...

(पूरा पढ़ें)
Like Pranam Flower +14 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 44 शेयर
Krishna babu Oct 18, 2018

नवरात्रि -

नवदुर्गा हिन्दू धर्म में माता दुर्गा अथवा पार्वती के नौ रूपों को एक साथ कहा जाता है। इन नवों दुर्गा को पापों की विनाशिनी कहा जाता है, हर देवी के अलग अलग वाहन हैं, अस्त्र शस्त्र हैं परंतु यह सब एक हैं। 
निम्नांकित श्लोक में नवदुर्गा के ...

(पूरा पढ़ें)
0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Laxmi Narayan Sahu Oct 18, 2018

जय कुशलाई दाई

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Ritika Oct 17, 2018

Flower Pranam Jyot +77 प्रतिक्रिया 19 कॉमेंट्स • 624 शेयर

श्री दुर्गा की आरती
आरती का अर्थ है पूरी श्रद्धा के साथ परमात्मा की भक्ति में डूब जाना। भगवान को प्रसन्न करना। इसमें परमात्मा में लीन होकर भक्त अपने देव की सारी बलाए स्वयं पर ले लेता है और भगवान को स्वतन्त्र होने का अहसास कराता है।

आरती को नीराजन...

(पूरा पढ़ें)
0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Akhileshwar Ray Oct 17, 2018

Pranam Jyot Milk +42 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 974 शेयर
Ruby Sinha Oct 17, 2018

https://goo.gl/images/GFn48a

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB