dhruv wadhwani
dhruv wadhwani Apr 5, 2021

+394 प्रतिक्रिया 95 कॉमेंट्स • 81 शेयर

कामेंट्स

rajawat sanjay singh Apr 6, 2021
jai shree ram 🌹🙏🌹🙏 jai jai bajrangbali 🙏🌹🙏🌹 shubh prabhat 🌹🙏🌹🙏

Manoj Gupta AGRA Apr 6, 2021
jai shree radhe krishna ji 🙏🙏🌷🌸💐🌀 shubh prabhat vandan ji 🙏🙏🌷🌸

Sanjay Rastogi Apr 6, 2021
jai shri Ram jai jai sitaram jai shri Ram jai jai sitaram

Mira nigam 7007454854 Apr 6, 2021
को नहीं जानत है जग में कपि संकटमोचन नाम तिहारो

अर्जुन वर्मा Apr 6, 2021
🙏!!सियावर रामचंद्र की जय!!🙏🚩 🙏!! पवनसुत हनुमान की जय!!🙏🚩 !! श्री सीताराम जी एवं श्री रामभक्त हनुमान जी की कृपा एवं आशीर्वाद आप और आपके पूरे परिवार पर सदैव बनी रहे!!🙏🌿🌿🌿🌿🌹🌹🌹🌹 !! आपका जीवन परमसुखमय एवं परममंगलमय बना रहे!!🙏🌺🌺🌺🌺 !! आप स्वस्थ स्वस्थ रहें प्रसन्न रहें!!😊 इसी मंगल कामना के साथ!!सुप्रभात वंदन जी!!🙏

Archana Singh Apr 6, 2021
🙏🌹जय श्री राम🌹🙏 मंगल सुप्रभात भाई जी🙏🌹 आपका हर पल शुभ व मंगलमय हो श्री राम भक्त हनुमान जी आपका और आपके परिवार का सदैव मंगल करें🙏🌹🌹🙏

Pinu Dhiman Jai Shiva 🙏 Apr 6, 2021
जय श्री राम जी जय हनुमान जी सुप्रभात वंदन भाई जी 🙏🌹🙏राम भक्त हनुमानजी आप के सभी कष्टों को दूर करे आप को सुख और शांति प्रदान करे आप का हर पल हर दिन मगंल ही मगंल हो भाई जी 🙏🙌🍏🍎🍏🍎🍏🍎🍏🍎🍏👌🌹👌🌹👌🌹

Shivsanker Shukla Apr 6, 2021
सुप्रभात भैया जी जय सियाराम

Brajesh Sharma Apr 6, 2021
श्री राम जय राम जय जय राम श्री राम भक्त हनुमान लाल जी की जय ॐ नमः शिवाय.. हर हर महादेव श्री राम भक्त हनुमान जी की असीम कृपा से आप स्वस्थ रहें मस्त रहें खुश रहे..🌹🙏

sanjay Awasthi May 10, 2021

+195 प्रतिक्रिया 29 कॉमेंट्स • 78 शेयर
Neeta Trivedi May 9, 2021

+346 प्रतिक्रिया 85 कॉमेंट्स • 1101 शेयर

+138 प्रतिक्रिया 26 कॉमेंट्स • 311 शेयर
JAGDISH BIJARNIA May 10, 2021

+202 प्रतिक्रिया 68 कॉमेंट्स • 145 शेयर
Ragni Dhiwar May 9, 2021

*मेरी, आपकी, हम सबकी मां को किसी दिवस विशेष में "समेटना" सम्भव नही क्योंकि माँ हमारी रग रग में रक्त बनकर प्रवाहित है. उसी के कारण हमारा अस्तित्व है.* *जिस दिन मां का अस्तित्व समाप्त हो जायेगा उस दिन इस पृथ्वी पर दुर्लभ मानव जीवन हमेशा के लिये समाप्त हो जायेगा. इसीलिये "बेटियों" को बचाईये.* *मिलिन्द भिड़े,भिलाई नगर* मां को समर्पित एक कविता दोबारा पढ़ने मिली,रचयिता का पता नही, पर हृदयस्पर्शी लगी, इसीलिये शेयर कर रही हूँ. लेती नहीं दवाई "माँ", जोड़े पाई-पाई "माँ"। दुःख थे पर्वत, राई "माँ", हारी नहीं लड़ाई "माँ"। इस दुनियां में सब मैले हैं, किस दुनियां से आई "माँ"। दुनिया के सब रिश्ते ठंडे, गरमागर्म रजाई "माँ" । जब भी कोई रिश्ता उधड़े, करती है तुरपाई "माँ" । बाबू जी तनख़ा लाये बस, लेकिन बरक़त लाई "माँ"। बाबूजी थे सख्त मगर , माखन और मलाई "माँ"। बाबूजी के पाँव दबा कर सब तीरथ हो आई "माँ"। नाम सभी हैं गुड़ से मीठे, मां जी, मैया, माई, "माँ" । सभी साड़ियाँ छीज गई थीं, मगर नहीं कह पाई "माँ" । घर में चूल्हे मत बाँटो रे, देती रही दुहाई "माँ"। बाबूजी बीमार पड़े जब, साथ-साथ मुरझाई "माँ" । रोती है लेकिन छुप-छुप कर, बड़े सब्र की जाई "माँ"। लड़ते-लड़ते, सहते-सहते, रह गई एक तिहाई "माँ" । बेटी रहे ससुराल में खुश, सब ज़ेवर दे आई "माँ"। "माँ" से घर, घर लगता है, घर में घुली, समाई "माँ" । बेटे की कुर्सी है ऊँची, पर उसकी ऊँचाई "माँ" । दर्द बड़ा हो या छोटा हो, याद हमेशा आई "माँ"। घर के शगुन सभी "माँ" से, है घर की शहनाई "माँ"। सभी पराये हो जाते हैं, होती नहीं पराई "माँ". ...👣🌺👏

+195 प्रतिक्रिया 54 कॉमेंट्स • 146 शेयर
sanjay Awasthi May 9, 2021

+137 प्रतिक्रिया 19 कॉमेंट्स • 100 शेयर

+40 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 128 शेयर
dhruv wadhwani May 8, 2021

+273 प्रतिक्रिया 58 कॉमेंट्स • 37 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB