Lakhan Anjana
Lakhan Anjana Dec 30, 2016

कपिल मूनी मंदिर गंगा सागर

कपिल मूनी मंदिर  गंगा सागर

कपिल मूनी मंदिर
गंगा सागर

+15 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

+8 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
ravi ji Oct 27, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Savita Vaidwan Oct 27, 2020

+8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 5 शेयर
Shivsanker Shukla Oct 27, 2020

शुभ मंगलवार की शुभ संध्या में मंदिर परिवार के सभी आदरणीय भगवत प्रेमी भाई बहन आप सभी को संध्या की राम राम संध्या की पावन बेला में मेरे भाई बहन आइए हम आप सबनारी धर्म के महान आदर्श की उस मूर्ति का दर्शन लाभ प्राप्त करें जिनके नाम के स्मरण मात्र से हर भारतीय नारी उत्तम पतिव्रता की श्रेणी में सर्वोच्च स्थान प्राप्त करती है पति की कीर्ति सदा सदा के लिए संसार में उज्जवल रहे पति का नाम आदर्श के रूप में संसार में प्रतिष्ठित हो इसके लिए आप राज सुखों का त्याग करती हैं और बन की दुर्गम परिस्थितियों का सामना करती है भारतीय नारी के द्वारा युग युगांतर से यही होता रहा है कि उसके सुंदर आचरण के द्वारा दो कुलों की प्रतिष्ठा प्रकाशित होती है देवी मां सीता पति की आन बान शान के लिए कितनी बड़ी कुर्बानी दे रही हैं महान देवी के श्री चरणों में कोटि कोटि वंदन

+29 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 1 शेयर

चलो ना , इस दीवाली कुछ ऐसा करते है , किसी जरूरतमंद के चहेरे की मुस्कान बनते है , फिर बरसेंगी ढेर सारी खुशियां आंगन अपने , चलो दीवाली इस साल मिल जुल के मनाते है ।🌹🌹🌹🌺🌺🌺🌺🌺हे कृष्ण सांवरे, हज़ार महफ़िल है लाख मेलें है जब तक तू ना मिले, हम अकेले ही अकेले हैं 🌷 याद रखिए प्रभू प्रेम के अधीन है ..बस प्रेम का भुखा हैं ... और प्रेम भाव ही समझता हैं l इसलिए हर साँस में, प्रेम भाव से प्रभु की याद करो, केवल याद करने से प्रभु प्रसन्न हो जाते हैं। ध्यान रहे जो जीव , सन्तों की हिदायत के अनुसार अपने समय को नाम और भक्ति में लगा देते है... सच्चे दिल से श्री कृष्ण को प्यार करते है, याद करते है, ... प्रभु उन के साथ हमेशा रहता है और उन को मुसीबत के समय वह बाहर निकाल देता है l श्रीकृष्ण ही जीव के माता, पिता, भ्राता, स्वामी, सखा, पुत्र, प्रियतम, सब कुछ हैं। इन्हीं संबंधों से केवल श्रीकृष्ण की निष्काम सेवा करनी है। अपने हृदय में प्रेम और विश्वास रखकर प्रभु श्री हरि का सुमिरण और गुणगान करो l *भक्ति पथ पर ढोंग से 'प्रभु' को कोई पा नहीं सकता। 'प्रभु' से इतना प्रेम करें कि नफरत की, ईर्ष्या की, दिखावे की, सबसे आगे जाने की, होड़ की मन में कोई जगह हीं न बचे। *'प्रभु' के प्रेम रूपी अमृत से ; अपनी अंतरात्मा को यूँ भिगों दें कि 'प्रभु' हमें पल-पल आत्म-साक्षात्कार करवा दें। नित्य नई लीला की अनुभूति करवा दें। *निश्छल मन से किया गया प्रेम 'प्रभु' को प्रसन्न कर सकता है। 'प्रभु' किसी दिखावे या चढ़ावे से प्रसन्न नहीं होते। *शब्द भी कम रह जाते हैं,, कई बार भावनाओं के आगे.. कितना भी लिखो कुछ-न-कुछ,, बाकी रह जाता है*...... "राधे राधे" नाम ही अमृत है जो पीएगा वह सुख पायेगा! राधे कृष्ण का पावन नाम हमको भव से पार लगाएगा ।🌷 🙏जय श्रीकृष्ण, श्री कृष्ण शरणम् , प्रेम से बोलो... राधे राधे ❤️ 🍅✴☀❣जय मां अंबे भवानी ❣☀✴🍅❣ 🍂🐚 गंगा गीता गायत्री 🍂🐚 (¯`•.•´¯) *`•.¸(¯`•.•´¯)¸.•´ `•.¸.•´ ჱܓ*“ 🍅✴☀✴☀✴☀✴☀✴☀✴☀✴🍅 ☆*´¨`☽  ¸.★* ´¸.★*´¸.★*´☽ (  ☆** Ψ त्रिवेणी घाट हरिद्वार .Ψ `★.¸¸¸. ★• ° 🙏सेवक भरत व्यास बांगा ब्रह्मकुंड हरकी की पेडी हरिद्वार हिसार

+26 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 35 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB