अभिमन्यु और कबड्डी की उत्पत्ति

अभिमन्यु और कबड्डी की उत्पत्ति

अभिमन्यु और कबड्डी की उत्पत्ति

दुनिया के सभी खेलों में से, कबड्डी की उत्पत्ति के विषय में एक निश्चित अस्पष्टता विद्यमान है। यह माना जाता है कि कबड्डी भारत में 4000 वर्षों से भी पहले खेला गया था और इसकी उत्पत्ति कुरुक्षेत्र के युद्ध के दौरान हुई थी।

कबड्डी ही एकमात्र ऐसा जुझारू खेल है जिसमें आक्रमण एक व्यक्तिगत प्रयास और बचाव एक सामूहिक प्रयास होता है। काफ़ी हद तक वैसे ही जैसे कुरुक्षेत्र के युद्ध में कौरव पक्ष के सात योद्धाओं ने बड़ी ही कुशलतापूर्वक चक्रव्यूह (चक्र, पद्म या रथ के पहिये समान दिखने वाली बहु-स्तरीय रक्षात्मक सैन्य-संरचना) की रचना करके पांडव पक्ष के अकेले योद्धा अभिमन्यु, अर्जुन और सुभद्रा के पुत्र का वध किया था।

हालांकि अभिमन्यु ने सफलतापूर्वक चक्रव्यूह तोड़ तो दिया था, किन्तु वह इससे बाहर आने में असमर्थ था और अंत में मारा गया था। इसीलिए ऐसा माना जाता है कि कबड्डी का खेल शूरवीर योद्धा अभिमन्यु की याद में बनाया गया है। महाभारत में यह उल्लेख मिलता है कि अभिमन्यु के पिता, अर्जुन इस खेल में अद्वितीय प्रतिभा रखते थे। अर्जुन बड़ी ही आसानी से चक्रव्यूह में शत्रुओं की दीवार भेद कर, सभी शत्रुओं को समाप्त करके अछूते लौट सकते थे।

+55 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 36 शेयर

कामेंट्स

pt bk upadhyay Oct 31, 2017
वैसे चक्र व्यूह का असली स्थान ज्ञात है

pt bk upadhyay Nov 3, 2017
@dr.chandrashekhar.prasadi आप ने भी इस महाभारत के जीवंत प्रमाण के दर्शन मेरी कल की पोस्ट मे किए हो। ये चक्र व्यूह का नक्शा है जो हरयाणे मे है। सुप्रभात सर।

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Sunil Jhunjhunwala Mar 25, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB