ऊँ भगवते वासुदेवाय नमः

ऊँ भगवते वासुदेवाय नमः

🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
🌻🌻🌻🌻 #ऊँ__भगवते__वासुदेवाय__नमः 🌻🌻🌻🌻
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
#सभी_आदरणीय_साथियों_को_प्रात: #कालीन_वंदन 🙏
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
हिंदू धर्म में भगवान की आरती के बाद भगवान का पंचामृत दिया जाता है। हिंदू धर्म में इसका विशेष महत्व है। इसे बहुत ही पवित्र माना जाता है तथा मस्तक से लगाने के बाद इसका सेवन किया जाता है।
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
#पंचामृत_मंत्र
पंचामृत सेवन करते समय निम्र श्लोक पढऩे का विधान है :-
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
#अकालमृत्युहरण_सर्वव्याधिविनाशनम्।
#विष्णुपादोदंक_(पीत्वा_पुनर्जन्म_न)_विद्यते।।
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
भगवान विष्णु के चरणों का अमृतरूपी जल सभी तरह के पापों का नाश करने वाला है। यह औषधि के समान है। अर्थात पंचामृत अकाल मृत्यु को दूर रखता है। सभी प्रकार की बीमारियों का नाश करता है। इसके पान से पुनर्जन्म नहीं होता।
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
ध्यान रखने योग्य बातें -
पंचामृत जिस दिन बनाएं उसी दिन खत्म कर दें। अगले दिन के लिए न रखें।
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
पंचामृत हमेशा दाएं हाथ से ग्रहण करें, इस दौरान अपना बायां हाथ दाएं हाथ के नीचे रखें।
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
पंचामृत को ग्रहण करने से पहले उसे सिर से लगाएं, फिर ग्रहण करें, फिर हाथों को सिर पर न लगाएं।
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
अगर तुलसी के पत्ते और गंगाजल किसी वजह से नहीं है तो पंचामृत उनके बिना भी बना सकते हैं, तुलसी है इसलिए इनका इस्तेमाल किया जाता है।
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
पंचामृत हमेशा तांबे के पात्र से देना चाहिए। तांबे में रखा पंचामृत इतना शुद्ध हो जाता है कि अनेकों बीमारियों को हर सकता है। इसमें मिले तुलसी के पत्ते इसकी गुणवत्ता को और बढ़ा देते हैं। ऐसा पंचामृत ग्रहण करने से बुद्धि स्मरण शक्ति बढ़ती है।
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
पंचामृत का सेवन करने से शरीर रोगमुक्त रहता है।
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
तुलसी रस से कई रोग दूर होते हैं और इसका जल मस्तिष्क को शांति प्रदान करता है।
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
पंचामृत अमृततुल्य है। इसका नियमित सेवन शरीर को रोगमुक्त रखता है। तुलसी के पत्ते गुणकारी सर्वरोगनाशक हैं। यह संसार की एक सर्वोत्तम औषधि है।
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
#पंचामृत_बनाने_की_विधि
पंचामृत बनाना बहुत ही सरल है, नीचे दी गई सामग्री का उपयोग कर आप भी आसानी से पंचामृत बना सकते हैं :
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
दूध: 1 कि.ग्रा.
दही: 2 छोटे चम्मच
चीनी: स्वादानुसार
शहद: 1/2 छोटा चम्मच
तुलसी के 8-10 पत्ते
गंगाजल: 1 छोटा चम्मच
मेवा: मखाने, चिरौंजी, किशमिश
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
#कैसे_बनता_है_पंचामृत
एक डोंगे में दही डालकर उसे अच्छे से मिला लें। अब बाकी बची सामग्री को इसमें अच्छे से मिला लें। दूध मिलाने से पहले दही को ऐसे फैंट लें कि उसमें दूध आसानी से मिल जाए। इसके बाद बाकी बची साम्रगी अच्छे से मिला लें।
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
#लाभ
पंचामृत में कैल्शियम भरपूर मात्रा में होता है जिनसे हड्डियां मज़बूत बनती हैं।
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
पंचामृत का पान दिमाग को शांत और गुस्से को कम करता है।
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
पंचामृत से आप हाज़मा और भूख न लगने की समस्या से मुक्ति पा सकते हैं।
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻
#नोट : उक्त जानकारी सोशल मीडिया से प्राप्त किया गया है
📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰
(इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)
🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻

+7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर

कामेंट्स

PRABHAT KUMAR Sep 27, 2018
ऊँ भगवते वासुदेवाय नमः

+67 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 153 शेयर
Rakesh Nema Apr 24, 2019

+22 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 10 शेयर

🚩श्री गणेशाय नम:🚩 📜 दैनिक पंचांग अनुसार भगवान विष्णु का शुभ दिन 📜 ☀भगवान श्री सत्यनारायण आपको ब्रह्मदत्त त्यागी हापुड़ एवं सभी भक्तों का बारंबार प्रणाम🙏 नमन🙏 नमस्कार🙏 है आज आपका शुभ दिन बृहस्पतिवार /वीरवार/ गुरूवार है और यह है आज का पंचांग ☀ २५ - अप्रैल -२०१९ ☀ 25 - Apr - 2019 ☀ आज का पंचांग समस्त भारत वासियों के लिए ☀ हिंदू पंचांग 🔅 तिथि षष्ठी 12:48:11 🔅 नक्षत्र पूर्वाषाढा 20:37:43 🔅 करण : 🔅वणिज 12:48:11 🔅विष्टि 25:40:41 🔅 पक्ष कृष्ण 🔅 योग सिद्ध 24:53:03 🔅 वार 🤲बृहस्पतिवार 🤲 वीरवार🤲 गुरूवार🤲 ☀ सूर्य व चन्द्र से संबंधित गणनाएँ 🔅 सूर्योदय 05:50:20 🔅 चन्द्रोदय 24:34:59 🔅 चन्द्र राशि धनु - 27:14:05 तक 🔅 सूर्यास्त 18:52:30 🔅 चन्द्रास्त 10:24:00 🔅 ऋतु ग्रीष्म ☀ हिन्दू मास एवं वर्ष 🔅 शक सम्वत 1941 विकारी 🔅 कलि सम्वत 5121 🔅 दिन काल 13:06:09 🔅 विक्रम सम्वत 2076 🔅 मास अमांत चैत्र 🔅 मास पूर्णिमांत वैशाख ☀ शुभ और अशुभ समय ☀ शुभ समय 🔅 अभिजित 11:53:13 - 12:45:38 ☀ अशुभ समय 🔅 दुष्टमुहूर्त : 🔅10:08:24 - 🔅11:00:48 🔅15:22:52 - 🔅16:15:16 🔅 कंटक 15:22:52 - 16:15:16 🔅 यमघण्ट 06:38:45 - 07:31:10 🔅 राहु काल 13:57:42 - 15:35:58 🔅 कुलिक 10:08:24 - 11:00:48 🔅 कालवेला या अर्द्धयाम 17:07:41 - 18:00:06 🔅 यमगण्ड 05:46:20 - 07:24:37 🔅 गुलिक काल 09:02:53 - 10:41:09 ☀ दिशा शूल 🔅 दिशा शूल दक्षिण ☀ चन्द्रबल और ताराबल ☀ ताराबल 🔅 अश्विनी, भरणी, कृत्तिका, रोहिणी, आद्रा, पुष्य, मघा, पूर्वा फाल्गुनी, उत्तर फाल्गुनी, हस्त, स्वाति, अनुराधा, मूल, पूर्वाषाढा, उत्तराषाढा, श्रवण, शतभिषा, उत्तरभाद्रपदा ☀ चन्द्रबल 🔅 मिथुन, कर्क, तुला, धनु, कुम्भ, मीन ☀पंचांग के अंत में ‼️श्री स्वामी सत्यनारायण भगवान‼️ माँ दुर्गा‼️ माँ लक्ष्मी‼️ माँ सरस्वती‼️ देवी✳️ आपको ब्रह्मदत्त त्यागी हापुड़ एवं सभी भक्तों का बारंबार प्रणाम🙏 नमन🙏 नमस्कार🙏 कल आपका शुभ दिन शुक्रवार है

+12 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 29 शेयर

+8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 5 शेयर

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 5 शेयर
Geeta Devi Apr 25, 2019

+75 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 77 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB