जय श्री कृष्ण..

जय श्री कृष्ण..

*गोपाळा गोपाळा देवकीनंदन गोपाळा.*
*🎊🎉भगवान श्रीकृष्ण जन्माष्टमीच्या हार्दिक शुभेच्छा.🙏🏻💐*
भगवान श्रीकृष्णाने धर्माचे रक्षण करण्याकरिता ज्या दिवशी पृथ्वीवर जन्म घेतला तो दिवस म्हणजे गोकुळाष्टमी होय. माधव, गोपाल, मुकुंद, मुरारी, मधुसुदन, श्रीहरी, श्रीकृष्ण ई. अनेक नावांनी ओळखले जाणारे व्यक्तिमत्व म्हणजे गीता सांगणारा श्रीकृष्ण होय. श्रीकृष्ण ही भारतीयांची लाडकी देवता. त्यामुळे गोकुळाष्टमी-कृष्णाष्टमीचा हा उत्सव मोठ्या थाटामाटाने सर्वत्र साजरा केला जातो. मंदिरातून आरास केली जाते. रात्री १२ वाजता श्रीकृष्ण जन्म सोहळा केला जातो. भजन, पूजन, कीर्तन इ. अनेक कार्यक्रम आयोजित केले जातात. गोकुळाष्टमीचा दुसर्‍या दिवशी सोडतात. त्यालाच कृष्णाष्टमीचे पारणे असे म्हणतात. दुसर्‍या दिवशी शहरात, गावा-गावांत, चौका-चौकांत दही हंडी लावली जाते. कृष्ण नामाच्या गजरांत ती फोडली जाते. आनंदोत्सव साजरा केला जातो.

*#श्रीकृष्णजन्माष्टमी*
*#गोकुळाष्टमी*
*#दहीहंडी*
*#गोविंदा_आला_रे_आला*

+87 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 36 शेयर
simran Oct 23, 2020

+78 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 154 शेयर
Manoj manu Oct 23, 2020

🚩🔱🌺जय माता दी शुभ नवरात्रि 🔔🌺🙏 नवदुर्गा मंत्र विशेष -जो सभी नौं देवियों नव गृहों एवं सभी प्रकार के सुख शाँति एवं समृद्धि के लिए है :- नवार्ण मंत्र नौ अक्षरों वाला मंत्र है:- "'ऐं ह्रीं क्लीं चामुंडायै विच्चे' है। " नौ अक्षरों वाले इस नवार्ण मंत्र के एक-एक अक्षर का संबंध दुर्गा की एक-एक शक्ति से है और उस एक-एक शक्ति का संबंध एक-एक ग्रह से है। नवार्ण मंत्र सबसे प्रशस्त मंत्र माना गया है। सभी कामनाएं इसी से पूर्ण हो जाती हैं तथा देवी की कृपा तथा आशीर्वाद इसी से मिलता है। ॐ ऐं ह्रीं क्लीं चामुण्डायै विच्चे।। ' ऐं' श्री महासरस्वती का बीज मंत्र है। वाणी, ऐश्वर्य, बुद्धि तथा ज्ञान देने वाला है। ' ह्रीं' श्री महालक्ष्मी का बीज मंत्र है। ऐश्वर्य, धन देने वाला है। ' क्लीं' शत्रुनाशक महाकाली का बीज मंत्र है। ॐ ह्रीं ऐं क्लीं चामुण्डायै विच्चे।। नवार्ण मंत्र का पहला अक्षर है ऐं। यह सूर्य ग्रह को नियंत्रित करता है। दूसरा अक्षर है ह्रीं। यह चंद्र ग्रह को नियंत्रित करता है। तीसरा अक्षर है क्लीं। यह मंगल को नियंत्रित करता है। चौथा अक्षर है चा। यह बुध को नियंत्रित करता है। पांचवा अक्षर है मुं। यह बृहस्पति को अनुकूल बनाता है। छठा अक्षर है डा। यह शुक्र ग्रह को नियंत्रित करके उसकी पीड़ा को शांत करता है। सातवां अक्षर है यै। यह शनि ग्रह को नियंत्रित करता है। आठवां अक्षर है वि। यह राहु ग्रह को अपने आधिपत्य में रखता है। नवां अक्षर है च्चे। यह केतु ग्रह को नियंत्रित करके उसकी पीड़ा से मुक्ति दिलाता है। 🌺मंत्र जाप के लाभ :-- मन शांत करता है मंत्रों का उच्चारण करके लोग काफी सालों से अपनी मनोकामना पूरी करते आ रहे हैं। ... नकारात्मक ऊर्जा में कमी आती है ... आपके दुश्मनों को दोस्त बना देता है ... आनंदपूर्ण स्वभाव ... शैक्षणिक योग्यताओं में सुधार ... औषधीय लाभ ... आत्मविश्वास बढ़ाता है ... बुराई से बचाता है। 🌿🌺🌺माँ भगवती सभी का सदा कल्याण करें सदा मंगल प्रदान करें जय माता दी जय माँ महाकाली राधे राधे जी मंत्र जाप में अपनी सात्विकता और सुचिता का विशेष ध्यान रखें 🌿🌺🌿🙏🙏

+130 प्रतिक्रिया 14 कॉमेंट्स • 135 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB