Jay Bholenath

Jay Bholenath

Jay Bholenath

+11 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 3 शेयर

कामेंट्स

Situ Sharma Apr 17, 2019

कर्नाटक स्थित चमुंडेश्वरी देवी के दिव्य दर्शन

+8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
anju mishra Apr 16, 2019

दिगम्बर जैन अतिशय क्षेत्र श्री महावीर जी मंदिर, करौली संपूर्ण भारत में जैन धर्म के पवित्र स्थानों में से एक मंदिर राजस्थान में 'श्री महावीर जी' नाम से प्रसिद्ध है। यह मंदिर श्री भगवान महावीर स्वामी का भव्य विशाल मंदिर है। इस मंदिर के निर्माण के पीछे पवित्र कथा है- कोई 400 साल पहले की बात है। एक गाय अपने घर से प्रतिदिन सुबह घास चरने के लिए निकलती थी और शाम को घर लौट आती थी। कुछ दिन बाद जब गाय घर लौटती थी तो उसके थन में दूध नहीं होता था। इससे परेशान होकर एक दिन उसके मालिक चर्मकार ने सुबह गाय का पीछा किया और पाया कि एक विशेष स्थान पर वह गाय अपना दूध गिरा देती थी। यह चमत्कार देखने के बाद चर्मकार ने इस टीले की खुदाई की... खुदाई में श्री महावीर भगवान की प्राचीन पाषाण प्रतिमा प्रकट हुई जिसे पाकर वह बेहद आनंदित हुआ। भगवान के इस अतिशय उद्भव से प्रभावित होकर बसवा निवासी अमरचंद बिलाला ने यहां एक सुंदर मंदिर का निर्माण करवाया। चरण छत्री के सम्मुख ही प्रांगण में 29 फुट ऊंचा महावीर स्तूप बनाया गया है जिसका निर्माण महावीर जी के 2500वें निर्वाणोत्सव वर्ष में करवाया गया था।

+46 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 13 शेयर
Nand Kishore Tomar Apr 16, 2019

बैजनाथ से कोई पैंतीस किलोमीटर दूर एक देवी विराजमान हैं। जिन्हें सिमस माता कहा जाता है। नवरात्रों में यहां दूर दूर से श्रद्धालु आते हैं। ऐसा विश्वास है के जो निसंतान दंपती यहां आते हैं माता उनके दुखों का निदान करतीं हैं। आज के वैज्ञानिक युग में कोई ऐसी बातें करे तो सवाल उठना लाजमी है लेकिन अगर आप वहां जाएं तो ऐसे ऐसे दंपति वहां मिलते हैं जिनको शादी के पच्चीस_तीस बर्ष के बाद संतान प्राप्ति हुई होती है। बहुत लोग ऐसे मिलते हैं जो कहते हैं कि हर जगह से निराश होने के बाद यहां माता ने उनकी जिन्दगी बदल दी है। कुछ लोगों ने ये भ्रम फैलाया हुआ है कि वहां फर्स पर सोने मात्र से संतान प्राप्ति हो जाती है लेकिन ऐसा नहीं है। दरअसल ये एक तरह की तपस्या है। सुबह उठ कर देवी के दिव्य कुंड में स्नान के बाद आपको मंदिर के प्रांगण में सोना होता है। मतलब माता के ध्यान में लीन रहता होता है। अगर माता आपके ऊपर मेहरबान हुईं तो वो स्वप्न में संतान के प्रारूप में फल देती हैं और अगर माता मेहरबान नहीं हुईं तो आपके बिछोने में दीमक लग जाती है या वो स्वप्न में कुछ ऐसी चीज देतीं हैं जिससे ये भान हो जाए के संतान का कोई योग नहीं है.. सिमस माता के दिव्य कुंड में स्नान करने के लिए जाती हुई महिला श्रद्धालु

+43 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Mysuvichar Apr 16, 2019

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB