Prema Saun
Prema Saun Apr 10, 2019

जय भगवती माता की जै जय माता दी जय माता दी जय माता दी जय माता दी जय माता दी जय माता दी जय माता दी जय माता दी जय माता दी

जय भगवती माता की जै जय माता दी जय माता दी जय माता दी जय माता दी जय माता दी जय माता दी जय माता दी जय माता दी जय माता दी

+168 प्रतिक्रिया 71 कॉमेंट्स • 3 शेयर

कामेंट्स

Anjana Gupta May 17, 2019
jai Mata Di sister ji Mata Rani ki kripa sda aap aur aapki family par bani rahe Shubh dophar ji 🌹🙏

Mohanmira.nigam May 18, 2019
VeryniceJay shri Radhe.Krishna ji Jay shriRam Jay om Sai.Ram Hanuman.ji IJay shri Radhe.Krishna ji Jay shriRam Jay om Sai.Ram Hanuman.ji I

sumitra May 20, 2019
Om Nmh shivay bhaiji bhole Nath Aapki HR mnokamna Puri kre bhaiji Aapka din shubh v mnglmay ho bhaiji🌹🙏

savita May 20, 2019
Om namh shiva 🌺 har har mahadev 🌸 भोले शंकर की कृपा आप par sada bani rahe 💐 Perbhu apki har manokamna puri kare 💐

Sunil Kumar saini May 22, 2019
जय श्री गणेश जी 🙏 🌷 सुप्रभात नमन वंदन भाई जी आपका हर पल शुभ हो 🌿 🌿 राधे राधे जी 🙏 🌷

sumitra May 22, 2019
jAi Shree Ganesh Bhai ji ganpati bappa aapki HR mnokamna Puri kre bhaiji Aapka din shubh v mnglmay ho bhaiji🙏🙏

Prema Saun May 22, 2019
@sumitrasoni2 जय श्री गणेशा ॐ श्री गणेशाय नमः ॐ गं गंणपतये नमो नमः सिद्धि विनायक नमो नमः अष्टविनायक विनायक नमो नमः गणपति बप्पा मोरया सुप्रभात

Anjana Gupta May 27, 2019
om nmo shivay meri pyari behna ji aap aur aapki family par mahadev ki kripa sda bani rahe Shubh dophar Vandan ji 🌹🙏

Sandhya Nagar May 28, 2019
श्री राधा🌺🙌🏻🌺 🌷ओह सखी.. रात्रि में मैंने एक स्वप्न देखा ✨कैसा स्वप्न प्रेमरूपी कींकरी... 🌹मैंने देखा के मैं और सब कींकरीमंजरीगण स्वामिनी के रात्रि सेवा हित अपने अपने हाथों में कीर्ति कुमारी के लिए आभूषण, वस्त्र, फल, मधुर पेय पदार्थ लिए अपनी प्राणेश्वरी के पीछे-पीछे निकुंज की ओर चल रही हैं। 🌷हाँ , तभी सखी मैंने आकाश में बहुत बड़ा एक महाज्योतिर्माय पुंज देखा। वो सीधा ही नीचे की ओर आने लगा और तभी मैंने देखा के उस ज्योतिर्मय पुंज में से " कुछ लोग देखे जिनका देह बिजली की भाँति दमक रहा था और स्वर्ण के आभूषण पहने कोई राजा रानियों के भाँति प्रतीत हो रहे थे। 🌹मैं समझ गयी के वो लोग कोई " देवता और देवियाँ थी" वो ब्रज के धरती पे तो ना आ सके परंतु ऊपर से " हमारी स्वामिनी के गुणावली को गाते गाते रोने लगे, कोई हंसने लगा, तो कोई नाचने लगा और वो सब ऊपर से स्वामिनी के ऊपर पुष्पों की वर्षा करने लगे... 🌷तभी सखी, एक देवी जो अपने को उमा देवी बताती और रमा अर्थात लक्ष्मी देवी को संग लिए स्वामिनी की स्तुति करते हुए बोली.. " हे हम सब देवियों और देवताओं की आधार, जगत की मूलकारनी, त्रिलोकवंदीत, श्रीकृष्ण की अह्लादिनी शक्ति, जगजननी, हर जीव आदि के कण कण में रहने वाली महाराज वृषभानु की पुत्री, श्यामसुंदर के संग गलबाँहि डाल हम सब पर कृपा की कोर करो... 💐उन सब की यह सब स्तुति सुन हमारी स्वामिनी अचंभित सी लगी और वो हम कींकरीओं को अत्यंत भोले मुख से देखने लगी... और तभी हमारी प्राणेश्वरी बोली - हे आदरणीयो देवियों, मैं आप सब के लिए ऐश्वर्यमयी प्रधान हूँ परंतु मेरा "सर्वस्व इन प्राण प्यारियों कींकरी मंजरी दासी आदि ने हर लिया" 🌹तुम देवियों का धन मैं हूँ पर मेरा सर्वस्व धन मेरी यह प्राणप्यारी कींकरी मंजरियां हैं। मैं जगत के कण कण में हूँ पर मेरी प्राणकींकरियां मेरे रोम रोम में समायी है। 🌷तुम मुझे जगत का मूल कहती हो परंतु मेरा " परम प्रेम भाव" का मूल यह कींकरीया है। आप लोग इन सेवाभाव कींकरीयो की सेवा आदि चरण रज माथे से लगाओ तब कहीं आप लोगों को मैं श्यामसुंदर के संग गलबाँहि दिए निहारूँगी.... 🌹सखी ऐसा स्वप्न देख मैं रात्रि भर स्वयं को प्रेमाश्रु से भिगोती रही। यह सब स्वप्न सुन अन्य मंजरिया भी प्रेम में विह्वल होने लगी। *श्री राधा*

Anjana Gupta May 29, 2019
Jai shri ganesh Deva dear sister ji aap aur aapki family par ganesh ji ki kripa sda bani rahe aapka har pal khusshiyo bara Ho Shubh parbhat Vandan ji 🌹🙏

sumitra May 29, 2019
jAi Shree Ganesh Bhai ji ganpati bappa aapki HR mnokamna Puri kre bhaiji Aapka din shubh v mnglmay ho bhaiji🌹🙏

Amar Jeet Mishra Jul 4, 2019
जय माता दी आपका दिन शुभ एवं मंगलमय रहे

Vinod Agrawal Jul 7, 2019
🌷Om Adityay Namah Om Suryay Namah Jai Mata Di Jai Maa Ambey Maharani🌷

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB