hari om
hari om May 16, 2019

https://youtu.be/5mOhYU-6cQU

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Narayan Tiwari May 20, 2019

संकट के साथी को श्रीहनुमान कहते हैं! ------------------------------------------------------- श्रीरामचरित मानस लिखने के दौरान तुलसीदासजी ने लिखा🚩 सिय राम मय सब जग जानी; करहु प्रणाम जोरी जुग पानी!! अर्थात 'सब में राम हैं और हमें उनको हाथ जोड़कर प्रणाम करना चाहिए।' यह लिखने के उपरांत तुलसीदासजी जब अपने गांव की तरफ जा रहे थे तो किसी बच्चे ने आवाज दी- 'महात्माजी, उधर से मत जाओ। बैल गुस्से में है और आपने लाल वस्त्र भी पहन रखा है।' तुलसीदासजी ने विचार किया कि ये कल का बच्चा हमें उपदेश दे रहा है। अभी तो लिखा था कि सब में राम हैं। मैं उस बैल को प्रणाम करूंगा और चला जाऊंगा। पर जैसे ही वे आगे बढ़े, बैल ने उन्हें मारा और वे गिर पड़े। किसी तरह से वे वापस वहां जा पहुंचे, जहां श्रीरामचरित मानस लिख रहे थे। सीधे चौपाई पकड़ी और जैसे ही उसे फाड़ने जा रहे थे कि श्री हनुमानजी ने प्रकट होकर कहा- तुलसीदासजी, ये क्या कर रहे हो? तुलसीदासजी ने क्रोधपूर्वक कहा, यह चौपाई गलत है और उन्होंने सारा वृत्तांत कह सुनाया।  हनुमानजी ने मुस्कराकर कहा- चौपाई तो एकदम सही है। आपने बैल में तो भगवान को देखा, पर बच्चे में क्यों नहीं? आखिर उसमें भी तो भगवान थे। वे तो आपको रोक रहे थे, पर आप ही नहीं माने। तुलसीदास जी को एक बार और चित्रकूट पर श्रीराम ने दर्शन दिए थे तब तोता बन कर हनुमान जी ने दोहा पढ़ा था:  चित्रकूट के घाट पर भई संतन की भीड़, तुलसी दास चंदन घीसे तिलक करें रघुबीर।  ऊं रामदूताय नमः।।🚩 ।‌ ऊं रामचंद्राय नमः।।🚩 ।। जय श्री राम।।🚩

+47 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 17 शेयर

+8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Naresh Shakya May 20, 2019

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 5 शेयर
hari om May 20, 2019

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर
आकाश May 19, 2019

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
hari om May 19, 2019

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Hitesh moolchandani May 20, 2019

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Hitesh moolchandani May 20, 2019

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Hitesh moolchandani May 20, 2019

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB