good morning

💠♨💠 ⚜🕉⚜ 💠♨💠

*🙏ॐ श्रीगणेशाय नम:🙏*
*🙏शुभप्रभातम् जी🙏*

*पञ्चांग-मुख्यांश*
*📝आज दिनांक 👉*

*📜12 नवम्बर 2017*
*रविवार*
*🏚नई दिल्ली अनुसार🏚*

*🇮🇳शक सम्वत-*1939
*🇮🇳विक्रम सम्वत-*2074
*🇮🇳मास-*मार्गशीर्ष
*🌓पक्ष-*कृष्णपक्ष
*🗒तिथि-*नवमी-12:44 तक
*🗒पश्चात्-*दशमी
*🌠नक्षत्र-*मघा -11:32 तक
*🌠पश्चात्-*पूर्वाफाल्गुनी
*💫करण-*गर-12:44 तक
*💫पश्चात्-*वणिज
*✨योग-*एन्द्र-24:00
*✨पश्चात्-* वैधृति
*🌅सूर्योदय-*06:40
*🌄सूर्यास्त-*17:29
*🌙चन्द्रोदय-*25:44
*🌙चन्द्रराशि-*सिंह (दिन-रात)
*🌞सूर्यायण-*दक्षिणायणे
*🌞गोल-*दक्षिणगोले
*💡अभिजीत-*11:43 से 12:26
*🤖राहुकाल-*16:08 से 17:27
*🎑ऋतु-*हेमन्त
*⏳दिशाशूल-*पश्चिम

*✍विशेष👉*

*🔅आज रविवार को👉मार्गशीर्ष बदी नवमी 12:44 तक पश्चात् दशमी शुरू , भद्रा 12:33 से , श्री जम्भोजी पुण्य दिवस ,श्री मदनमोहन मालवीय पुण्य दिवस , राष्ट्रीय पक्षी दिवस (सलीम अली का जन्म दिवस) , राष्ट्रीय लोक सेवा प्रसारण दिवस व विश्व निमोनिया दिवस ।*
*🔅कल सोमवार को👉 मार्गशीर्ष बदी दशमी 12:26 तक पश्चात् एकादशी शुरु , भद्रा 12:24 तक , श्री महावीर स्वामी दीक्षा क्ल्याण , बुध ज्येष्ठा में , गुरू स्वाति 3 में व विश्व दया दिवस ।*
*नोट👉 उत्पन्ना / वैतरणी एकादशी व्रत (सभी के लिए) 14 नवम्बर मंगलवार को है ।*

*🎯आज की वाणी👉*

🌺
*मूर्खस्तु परिहर्त्तव्यः*
*प्रत्यक्षो द्विपदः पशुः ।*
*भिद्यते वाक्यशूलेन*
*अदृश्यं कण्टकं यथा ।।*
*अर्थात्👉*
  मूर्खों के साथ मित्रता नहीं रखनी चाहिए उन्हें त्याग देना ही उचित है, क्योंकि प्रत्यक्ष रूप से वे दो पैरों वाले पशु के सामान हैं,जो अपने धारदार वचनों से वैसे ही हृदय को छलनी करते हैं जैसे अदृश्य काँटा शारीर में घुसकर शरीर को छलनी करता है ।
🌺

*12 नवंबर की महत्त्वपूर्ण घटनाएँ👉*

1781 - अंग्रेजो ने नागापट्टनम पर कब्जा किया।
1847 - ब्रिटेन के चिकित्सक सर जेम्स यंग सिंप्सन ने बेहोशी की दवा के रूप में पहली बार क्लोरोफार्म का प्रयाेग किया।
1918 - ऑस्ट्रिया एक गणतंत्र बना।
1930 - लंदन में पहली बार गोलमेज सम्मेलन की शुरुअात इसमें 56 भारतीय और 23 ब्रिटिश प्रतिनिधियों ने हिस्सा लिया लेकिन भारतीय राष्ट्रीय कांग्रेस का कोई सदस्य शामिल नहीं हुआ।
1936 - केरल के मंदिर सभी हिंदुओं के लिए खुले।
1953 - इजराइल के प्रधानमंत्री डेविड बेन गुरियन ने अपने पद से इस्तीफा दिया।
1956 - मोरक्को, सूडान और ट्यूनिशिया संयुक्त राष्ट्र में शामिल हुए।
1967 - इंदिरा गाँधी को प्रधानमंत्री पद पर रहते हुए पार्टी से निष्कासित कर दिया।
1969 - प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी को कांग्रेस की प्राथमिक सदस्यता से अलग करने की घोषणा की गई थी।
2005 - ढाका में 13वाँ दक्षेस शिखर सम्मेलन प्रारम्भ।
**भारतीय प्रधानमंत्री ने दक्षेस शिखर सम्मेलन के दौरान आतंकवाद को समाप्त करने का आह्वान किया।
2007 - सऊदी के राजकुमार अलवलीद सुपरजंबो एयर बस ए-380 के पहले ख़रीददार बने।
2008 - भारतीय रिजर्व बैंक ने महाराष्ट्र के अदलपुर अर्बन कोआपरेटिव बैंक का लाइसेंस रद्द किया।
**परमाणु हथियार ले जाने में सक्षम के-15 का बालासोर से सफल परीक्षण किया गया।
**देश का पहला मानव रहित अंतरिक्ष यान-1 चन्द्रमा की अन्तिम कक्षा में स्थापित हुआ।
2009 - भारत में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए केंद्र सरकार के 'अतुल्य भारत' अभियान को वल्ड ट्रेवल अवार्ड-2009 से नवाजा गया।

*12 नवंबर को जन्मे व्यक्ति👉*

1896 - सालिम अली, भारतीय पक्षी विज्ञानी और प्रकृतिवादी1940 - अमजद ख़ान, प्रसिद्ध अभिनेता।

*12 नवंबर को हुए निधन👉*

1946 - मदनमोहन मालवीय - महान् स्वतंत्रता सेनानी, राजनीतिज्ञ, शिक्षाविद और एक बड़े समाज सुधारक भी थे।

*12 नवंबर के महत्त्वपूर्ण अवसर एवं उत्सव👉*

🔅राष्ट्रीय पक्षी दिवस (सलीम अली का जन्म दिवस)।
🔅श्री मदनमोहन मालवीय पुण्य दिवस ।
🔅राष्ट्रीय लोक सेवा प्रसारण दिवस ।
🔅 विश्व निमोनिया दिवस ।

💐आपका दिन *मंगलमय* हो ।💐

⚜⚜ 🌴 💎 🌴⚜⚜

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर
Harcharan Pahwa May 9, 2020

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 14 शेयर

+37 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 23 शेयर

+454 प्रतिक्रिया 63 कॉमेंट्स • 88 शेयर

+37 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 8 शेयर
RANJAN ADHIKARI May 9, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 9 शेयर

+567 प्रतिक्रिया 64 कॉमेंट्स • 140 शेयर
b singh May 8, 2020

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर
Uma Sood May 10, 2020

+9 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 16 शेयर
Swami Lokeshanand May 10, 2020

इधर भरतजी ननिहाल में हैं, उधर अयोध्या में सुमंत्र जी भगवान को वन पहुँचाकर वापिस लौटे। संध्या हो रही है, हल्का प्रकाश है, सुमंत्र जी नगर के बाहर ही रुक गए। जीवनधन लूट गया, अब क्या मुंह लेकर नगर में प्रवेश करूं? अयोध्यावासी बाट देखते होंगे। महाराज पूछेंगे तो क्या उत्तर दूंगा? अभी नगर में प्रवेश करना ठीक नहीं, रात्रि हो जाने पर ही चलूँगा। अयोध्या में आज पूर्ण अमावस हो गई है। रघुकुल का सूर्य दशरथजी अस्त होने को ही है, चन्द्र रामचन्द्रजी भी नहीं हैं, प्रकाश कैसे हो? सामान्यतः पूर्णिमा चौदह दिन बाद होती है, पर अब तो पूर्णिमा चौदह वर्ष बाद भगवान के आने पर ही होगी। दशरथजी कौशल्याजी के महल में हैं, जानते हैं कि राम लौटने वालों में से नहीं, पर शायद!!! उम्मीद की किरण अभी मरी नहीं। सुमंत्रजी आए, कौशल्याजी ने देखकर भी नहीं देखा, जो होना था हो चुका, अब देखना क्या रहा? दशरथजी की दृष्टि में एक प्रश्न है, उत्तर सुमंत्रजी की झुकी गर्दन ने दे दिया। महाराज पथरा गए। बोले- "कौशल्या देखो वे दोनों आ गए" -कौन आ गए महाराज ? कोई नहीं आया। -तुम देखती नहीं हो, वे आ रहे हैं। इतने में वशिष्ठजी भी पहुँच गए। -गुरुजी, कौशल्या तो अंधी हो गई है, आप तो देख रहे हैं, वे दोनों आ गए। -आप किन दो की बात कर रहे हैं, महाराज? -गुरुजी ये दोनों तपस्वी आ गए, मुझे लेने आए हैं, ये श्रवण के मातापिता आ गए। महाराज ने आँखें बंद की, लगे राम राम करने और वह शरीर शांत हो गया। विचार करें, ये चक्रवर्ती नरेश थे, इन्द्र इनके लिए आधा सिंहासन खाली करता था, इनके पास विद्वानों की सभा थी, बड़े बड़े कर्मकाण्डी थे। इनसे जीवन में एकबार कभी भूल हुई थी, इनके हाथों श्रवणकुमार मारा गया था, इतना समय बीत गया, उस कर्म के फल से बचने का कोई उपाय होता तो कर न लेते? यह जो आप दिन रात, उपाय उपाय करते, दरवाजे दरवाजे माथा पटकते फिरते हैं, आप समझते क्यों नहीं? आप को बुद्धि कब आएगी? अब विडियो देखें- दशरथ जी का देह त्याग https://youtu.be/qO3KqNYTVCU

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 20 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB